रायलसीमा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रायलसीमा भारत का एक "अनाधिकारिक" भौगोलिक क्षेत्र है जो आंध्र प्रदेश प्रान्त का एक हिस्सा है, इस क्षेत्र में मुख्य रुप से आंध्र प्रदेश के कर्नूल, कुडप्पा, अनंतपुर, चित्तूर और नेल्लोर जिले आते हैं।

रायलसीमा का अधिकांश हिस्सा तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के अन्य तटीय इलाकों के मुक़ाबले अविकसित या अर्धविकसित है। तेलंगाना के अलग राज्य के रुप में माँग की जोर पकड़ने के कारण रायलसीमा के दु:खों पर केन्द्रित कई आंदोलन भी खड़े हुये हैं। इन सारे आंदोलनों का प्रमुख ध्येय रायलसीमा की समस्याओं पर ध्यान आकर्षित करना होता है। खासकर कृष्णा नदी और गोदावरी के पानी इनकी सबसे बड़ी समस्या है जिसके न होने से यहाँ हर साल लगभग अकाल जैसी स्थिति होती है। इस ईलाके के ज्यादातर लोग तेलंगाना की तर्ज पर अलग प्रान्त की माँग, या आंध्र प्रदेश की राजधानी को रायलसीमा में स्थानांतरित करने की माँग पर सहमत दिखते हैं।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सांसद कोटला सूर्यप्रकाश रेड्डी इस क्षेत्र की जनता को एकजुट करने की मुहिम में जुटे हैं। वे आंधर प्रदेश तटीय शह्र नेल्लोर, प्रकाशम, कर्नूल और कर्नाटक के बेल्लारी को शामिल कर एक अलग रायलसीमा प्रान्त के गठन के लिये एक मुहिम खड़ी करने की कोशिश में हैं।