दिल्ली विश्‍वविद्यालय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दिल्ली विश्वविद्यालय
दिल्ली विश्वविद्यालय
दिल्ली विश्वविद्यालय

आदर्श वाक्य: निष्ठा धृति: सत्यम्
स्थापित १९२२
प्रकार: सार्वजनिक
मान्यता/सम्बन्धता: यूजीसी
कुलाधिपति: भारत के उपराष्ट्रपति
शिक्षक: १४[1]
विद्यार्थी: २,२०,०००[1]
स्थिति: दिल्ली, भारत
परिसर: शहरी
उप-कुलपति: दीपक पेन्टल
जालपृष्ठ: www.du.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय (अंग्रेजी:University of Delhi), भारत सरकार द्वारा वित्तपोषित एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय है। भारत की राजधानी दिल्ली स्थित यह विश्वविद्यालय 1922 में स्थापित हुआ था। यह स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर पाठ्यक्रम उपलब्ध कराता है। भारत के उपराष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी विश्वविद्यालय के वर्तमान कुलाधिपति हैं। THES-QS की विश्व के विश्वविद्यालयों की रैंकिंग के अनुसार यह भारत का शीर्ष गैर-आईआईटी विश्वविद्यालय है।

दिल्ली विश्वविद्यालय के दो परिसर हैं जो दिल्ली के उत्तरी और दक्षिणी भाग में स्थित हैं। इन्हें क्रमश: उत्तरी परिसर और दक्षिणी परिसर कहा जाता है। दिल्ली विश्वविद्यालय का उत्तरी परिसर में दिल्ली मेट्रो की पीली लाइन के साथ सुनियोजित ढंग से जुड़ा हुआ है और मेट्रो स्टेशन का नाम 'विश्वविद्यालय' है। उत्तरी परिसर दिल्ली विधान सभा से 2.5 किमी और अंतरराज्यीय बस अड्डे से 7.0 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इतिहास[संपादित करें]

दिल्ली विश्वविद्यालय भारत के सबसे प्रमुख शिक्षण संस्थानों में से एक है और अपने उच्च स्तरीय शिक्षण और शोध के लिये देश विदेश के छात्रों को आकृष्ट करता है। इसकी स्थापना सन 1922 में एक एकात्मक, शिक्षण आवासीय विश्वविद्यालय के रूप में केन्द्रीय विधायिका द्वारा हुई थी। तब इस विश्वविद्यालय में सिर्फ तीन कॉलेज/महाविद्यालय : सेंट स्टीफेंस कॉलेज, हिन्दू कॉलेज और रामजस कॉलेज हुआ करते थे और 750 विद्यार्थियों के साथ इसकी शुरुआत हुई थी। लेकिन आज छात्रों के नामांकन की दृष्टि से यह दुनिया के सबसे बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है। हरि सिंह गौड़ इस विश्वविद्यालय के पहले उपकुलपति बने। और शुरुआती दौर में ही चोटी के विद्वानों जैसे डॉ॰डी.एस. कोठारी, टी.आर. शेषाद्री, पी.महेश्वरी और एम.एल. भाटिया इत्यादि इस विश्वविद्यालय में आये। आज ७९ कालेज इस विश्वविद्यालय से संबद्ध हैं।

कुलाधिपतियों की सूची[संपादित करें]

क्र. कुलपति कार्यकाल
1 सर्वपल्ली राधाकृष्णन 13 मई 1952 - 12 मई 1962
2 ज़ाकिर हुसैन 13 मई 1962 - 12 मई 1967
3 वी.वी.गिरी 13 मई 1967 - 3 मई 1969
4 गोपाल स्वरूप पाठक 31 अगस्त 1969 - 30 अगस्त 1974
5 बासप्पा दनप्पा जत्ती 31 अगस्त 1974 - 30 अगस्त 1979
6 मुहम्मद हिदायतुल्लाह 31 अगस्त 1979 - 30 अगस्त 1984
7 रामास्वामी वेंकटरमण 31 अगस्त 1984 - 27 जुलाई 1987
8 शंकर दयाल शर्मा 3 सितम्बर 1987 - 24 जुलाई 1992
9 के.आर. नारायणन 21 अगस्त 1992 - 24 जुलाई 1997
10 कृष्ण कांत 21 अगस्त 1997 - 27 जुलाई 2002
11 भैरों सिंह शेखावत 19 अगस्त 2002 - 21 जुलाई 2007
12 मोहम्मद हामिद अंसारी 11 अगस्त 2007 – आज तक

कुलपतियों की सूची[संपादित करें]

क्र.सं. नाम कार्यकाल
1. हरी सिंह गौड़ 1922-26
2. मोती सागर 1926-30
3. अब्दुर रहमान 1930-34
4. राम किशोर 1934-38
5. मॉरिस ग्वायर 1938-50
6. एस.एन.सेन 1950-53
7. जी.एस.महाजनी 1953-57
8. वी.के.आर.वी.राव 1957-60
9. एन.के.सिधांत 1960-61
10. सी. डी. देशमुख 1962-67
11. बी.एन. गांगुली 1967-69
12. के.एन. राज 1969-70
13. सरूप सिंह 1971-74
14. आर.सी. मेहरोत्रा 1974-79
15. गुरबख्श सिंह 1980-85
16. मूनिस रज़ा 1985-90
17. उपेन्द्र बक्शी 1990-94
18. वी.आर. मेहता 1995–2000
19. दीपक नैयर 2000–2005
20. दीपक पेंटल 2005-2010
20. दिनेश सिंह 2010-

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रमुख महाविद्यालय[संपादित करें]

उत्तरी परिसर[संपादित करें]

कला संकाय[संपादित करें]

हिन्दी विभाग

हिन्दी विभाग के संस्थापक अध्यक्ष डॉ॰ नगेन्द्र थे। वे दो दशक से भी ज्यादा अध्यक्ष पद पर रहे। वे हिन्दी को एक ज्ञानानुशासन के रुप में विकसित और स्थापित करनेवाले विद्वान के रुप में जाने जाते हैं। उन्होंने हिन्दी को संस्कृत से स्वतंत्र एक अलग ज्ञान विभाग के रुप में प्रतिष्ठा दी। साहित्य और भाषा के तौर पर हिन्दी की पीढ़ी के साथ-साथ अनुवाद और जीवन के अन्य क्षेत्रों में हिन्दी के अन्य उपयोगों में प्रशिक्षण की भी व्यवस्था उन्होंने आरंभ की।

आज हिन्दी विभाग में हर वर्ष अलग-अलग पाठ्यक्रम में प्रवेश लेनेवाले छात्र-छात्राओं की कुल संख्या लगभग एक हजार की होती है। यहाँ भाषा, अनुवाद, पत्रकारिता के विविध पाठ्यक्रम संचालित होते हैं।

प्रमुख पाठ्यक्रम-

  • पीएच.डी
  • एम.फिल.
  • एम. ए.
  • पी.जी. डिप्लोमा अनुवाद
  • भाषा शिक्षण
  • पी.जी. डिप्लोमा हिन्दी पत्रकारिता, सर्टिफिकेट कोर्स

महाविद्यालय:

  1. सेंट स्टीफेंस कॉलेज
  2. रामजस कॉलेज
  3. हिन्दू कॉलेज
  4. हंसराज कॉलेज
  5. किरोड़ीमल कॉलेज
  6. खालसा कॉलेज
  7. मिरांडा हाउस
  8. श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स
  9. इन्द्रप्रस्थ कॉलेज
  10. दौलतराम कॉलेज
  11. स्वामी श्रद्धानन्द कॉलेज

दक्षिणी परिसर[संपादित करें]

अन्य शिक्षा संस्थान[संपादित करें]

परिसर[संपादित करें]

छात्रावास[संपादित करें]

मेट्रो स्टेशन व चौक[संपादित करें]

यहां दिल्ली मेट्रो रेल की येलो लाइन शाखा का एक स्टेशन भी है। दिल्ली विश्वविद्यालय दिल्ली के रिंग मार्ग पर पड़ने वाला एक चौराहा है, जिसे गुरु तेगबहादुर मार्ग काटता है।

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:मुद्रिका मार्ग