ताश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
साइकिल ब्रांड के कुछ विशिष्ट अंग्रेज़-अमेरिकी ताश के पत्ते

ताश मोटे-भारी कागज़, पतले गत्ते, या पतले प्लास्टिक से विशेष रूप से बनी होती है; जिसमें पहचान के लिए अलग रूपांकन बने होते हैं और उनका इस्तेमाल ताश के खेल के लिए एक सेट के रूप में किया जाता है. खेल में सुविधा के लिए आमतौर पर ताश के पत्ते हथेली के आकार के होते हैं.

ताश के एक पूरे सेट को पैक या डेक कहते हैं और एक खेल के दौरान एक बार में एक खिलाड़ी द्वारा उठाये गए पत्तों के सबसेट को सामान्यतः हैण्ड कहा जाता है. ताश के एक डेक से अनेक प्रकार के पत्ते के खेल खेले जा सकते हैं, उनमें से कुछ जुआ में भी शामिल हो सकते हैं. चूंकि ताश मानकीकृत हो चुके हैं और आम तौर पर उपलब्ध हैं, सो उनका अन्य इस्तेमाल भी होने लगा है, जैसे कि हाथ की सफाई, भविष्यवाणी, गूढ़लेखन, बोर्ड गेम, या ताश के घर बनाना.

प्रत्येक पत्ते के सामने (या "फेस") की ओर चिह्नांकन होते हैं, जो डेक के अन्य पत्तों से उन्हें अलग करते हैं और खेले जा रहे खेल विशेष के नियमों के तहत उनके इस्तेमाल का निर्धारण करते हैं. प्रत्येक विशेष डेक के पीछे की ओर ताश के हरेक पत्ते एक जैसे ही होता हैं, आम तौर पर एक ही रंग और डिजाइन के. ताश के पिछले हिस्से का उपयोग कभी-कभी विज्ञापन के लिए किया जाता है. अधिकांश खेलों में, पत्ते एक डेक में इकट्ठे होते हैं, और फेंटने के जरिये बेतरतीबी से उनके क्रम तय होते हैं.

इतिहास[संपादित करें]

प्रारंभिक इतिहास[संपादित करें]

एक चीनी ताश का पत्ता जो लगभग1400 ई., मिंग राजवंश, की है जो तुर्पन के पास पाया गया था लम्बाई 9.5 और चौड़ाई 3.5 सेमी है

शुरुआती 9वीं सदी में तांग राजवंश (618-907) के दौरान चीन में ताश के खेल पाए गये, जब एक राजकुमारी के रिश्तेदार एक "लीफ गेम" (पत्तियों का खेल) खेला करते थे.[1][2][3] तांग लेखक सु ई (885 में जिन्शी उपाधि प्राप्त) ने कहा है कि तांग के सम्राट यीजोंग(860-874) की बेटी राजकुमारी तोंगचांग (?–870) समय काटने के लिए वेई कुल के सदस्यों के साथ लीफ गेम खेला करती थी.[4] सांग राजवंश (960-1279) के विद्वान ओउयांग क्सिऊ (1007-1072) के अनुसार ताश का खेल मध्य तांग राजवंश के समय से अस्तित्व में है और अपने इस आविष्कार के साथ उन्होंने कागज़ के रोल के स्थान पर पृष्ठों के उपयोग के समकालिक विकास को भी जोड़ दिया.[4][5] येज़ी गेक्सी नामक पुस्तक कथित तौर पर एक तांग युग की महिला द्वारा लिखी गयी है, और और बाद के राजवंशों के लेखकों द्वारा उस टिप्पणी की गयी है.[5]

प्राचीन चीनी "मनी कार्ड्स" (money cards) में चार "सुट्स" (suits) होते हैं: सिक्के (या नकद), सिक्के के तार (अपरिष्कृत चित्र के कारण जिसे छड़ी के रूप में गलत अर्थ निकाला जा सकता है), मिरिअड अर्थात दस सहस्र (सिक्कों या तार के) और लाख सहस्र (एक मिरिअड दस सहस्र का होता है). चित्रलिपि के जरिये इनका प्रतिनिधित्व हुआ करता था, प्रथम तीन सुट्स में 2-9 के अंक होते और "लाख सहस्र" में 1-9 के अंक. विल्किंसन का कहना है कि पहले ताश वास्तविक कागज़ करेंसी हुए हो सकते हैं, जो खेल और उन पर लगे दांव दोनों के उपकरण रहे होंगे,[6] जैसा कि व्यापारिक कार्ड खेल में होता है. आधुनिक माहजोंग टाइल्स की डिजाइन आरंभिक ताश पत्तों से विकसित की गयी हो सकती है. हालांकि, यह हो सकता है कि ताश का डेक जब कभी भी मुद्रित हुआ होगा वो एक चीनी डोमिनो डेक होगा, जिनके पत्तों में हम पांसों की एक जोडी के सभी 21 संयोजनों को देख सकते हैं. 11वीं सदी में संशोधित चीनी मूलग्रंथ कुएई-तिएन-लू में हम पते हैं कि तांग राजवंश के दौरान डोमिनो कार्ड मुद्रित हुए, जो पुस्तक के प्रथम मुद्रण का समकालीन है. चीनी शब्द पाई (牌) का प्रयोग पेपर कार्ड और गेमिंग टाइल्स के वर्णन के लिए किया जाता है.

यूरोप में प्रारंभ[संपादित करें]

14वीं सदी के उत्तरार्द्ध के पहले से यूरोप में ताश खेलने के तथाकथित सबूत व्यापक रूप से[by whom?] जाली माने जाते हैं: वोरसेस्टर परिषद के 38वें अधिनियम (1240)[7] को अक्सर ही 13वीं सदी के मध्य में इंग्लैण्ड में ताश खेले जाने के सबूत के तौर पर उद्धृत किया जाता है, लेकिन वहां जिस डी रेगे एट रेजिना (राजा और रानी के लिए) खेल का उल्लेख है, उस बारे में अब सोचा गया कि वो बहुत संभव शतरंज के सिलसिले में है. 11वीं सदी के एक वस्त्र की पृष्ठभूमि में पान, चिड़ी, ईंट और हुकुम की आकृति दिखाई देती है. इसे "बिशप गुन्थर्स श्राउड़" (Bishop Gunther’s shroud) के रूप में जाना जाता है, जिसे कॉन्स्टेंटिनोपल में बनाया गया, और अब यह बम्बर्ग कैथेड्रल में है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अगर ताश को आम तौर पर 1278 के प्रारंभ में जाना जाता तो यह बहुत ही विचारयोग्य है कि पेट्रार्क ने अपने लेखन डी रेमेडीस युत्रिउस्के फोर्चुने (De remediis utriusque fortunae) (अच्छे/बुरे भाग्य के उपचार पर) में एक बार भी उनका उल्लेख नहीं किया, जबकि यह कार्य जुआ के व्यवहार पर है.

राजा के साथ ताश खेलते दरबारियों का एक लघुचित्र रोमन डु रॉय मेलियाडस लियोनोयस (Roman du Roy Meliadus de Leonnoys) (ई.1352) में पाया जा सकता है, जिसे नेपल्स के किंग लुईस द्वितीय के लिए बनाया गया था.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

14वीं सदी के अंत में ताश के खेल ने यूरोप में प्रवेश किया, संभवतः मामलुक मिस्र से, जिसके सूट (suits) तलवार, बल्लम, प्याले और सिक्के (डिस्क और पैनटैकल के नाम से भी ज्ञात) सूट जैसे थे, और पारंपरिक इतालवी स्पेनी और पुर्तगाली डेक में अब भी इस्तेमाल होते हैं.[8] पहला दस्तावेजी सबूत है 1367 में बर्न, स्विट्जरलैंड में इनके उपयोग पर प्रतिबंध. कुछ निश्चितता के साथ, यूरोप में व्यापक रूप से ताश के इस्तेमाल का पता 1377 से लगाया जा सकता है.[9]

मामेलुक डेक में चार सूट के साथ 52 पत्ते होते हैं: पोलो स्टीक, सिक्के, तलवार, और प्याले के चार सूट. प्रत्येक सूट में दस "स्पॉट" कार्ड होते हैं (सूट प्रतीकों या दिखाए गये "पिप्स" के अंकों द्वारा पत्तों की पहचान होती है) और तीन "कोर्ट" कार्ड होते हैं, मलिक (राजा), नाइब मलिक (वायसराय या उपराजा), और थानी नाइब (द्वितीय या उप-अधीनस्थ). मामेलुक कोर्ट कार्ड में अमूर्त डिजाइन होते रहे, जिनमे व्यक्तियों के चित्र नहीं होतें (कम से कम बचे हुए नमूनों में तो नहीं हैं), हालांकि उनमें सैन्य अधिकारियों के नाम हुआ करते.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

मामेलुक ताश का एक पूरा पैक 1939 में इस्तांबुल के टोपकापी महल में लिओ मेयर द्वारा खोजा गया[10]; ख़ास यह संपूर्ण पैक ई. सं. 1400 से पहले नहीं बना था, लेकिन 12वीं या 13वीं सदी के एक निजी टुकड़े से यह मेल खाता है. अपने आपमें यह पूरा डेक नहीं है, लेकिन उनमें एक ही शैली के तीन पैक के पत्ते हैं.[11]

यह ज्ञात नहीं है कि इन पत्तों ने गंजीफा खेल में इस्तेमाल किये जानेवाले भारतीय पत्तों की डिजाइन को प्रभावित किया, या फिर भारतीय पत्तों ने इन्हें प्रभावित किया. खैर, भारतीय ताश में अनेक भिन्न विशेषताएं होती है: वे गोल होते हैं, आम तौर पर जटिल डिजाइन के साथ हाथ से चित्रित होते हैं, और उनमें चार से अधिक सूट होते हैं (अक्सर अधिकतम बत्तीस सूट, जैसा कि 18वीं और 19वीं सदी के बीच राजस्थान के मेवाड़ शहर के द्वेस्चेस स्पिलकार्तें-संग्रहालय (Deutsches Spielkarten-Museum) में की गयी एक डेक की पेंटिंग. आठ से बीस सूट तक खेलने के लिए डेक का इस्तेमाल होता).

यूरोप में प्रसार और प्रारंभिक डिजाइन में परिवर्तन[संपादित करें]

इतालवी ताश के पत्ते, संकाई की तरह का कटोरा, उत्तरी इटली, मध्य 15 वीं सदी.

14वीं शताब्दी के अंत में, पूरे यूरोप में ताश के इस्तेमाल का प्रसार बड़ी तेजी से हुआ. 1371 से स्पेन में, 1377 से स्विट्जरलैंड में, और 1380 से फ्लोरेंस तथापेरिस सहित अनेक स्थानों में ताश के दस्तावेजी उल्लेख हैं.[12][13] एक 1369 के पेरिस अध्यादेश [जुआ पर?] में ताश का उल्लेख नहीं है, लेकिन 1377 में इसके संशोधन में इसका जिक्र किया गया है. ब्राबंट की रानी जोहान्ना और लक्ज़मबर्ग के ड्यूक वेन्सेसलॉस प्रथम के खाते में 14 मई 1379 को दर्ज एक हिसाब में कहा गया है: "ताश का एक पैक खरीदने के लिए श्रीमान और मैडम को चार पीटर्स, दो फॉर्म, मूल्य आठ और एक आधा मोउटोंस दिया." फ्रांस के चार्ल्स चतुर्थ के खजांची चार्ल्स या चार्बोट पौपार्ट ने 1392 या 1393 में अपने हिसाब बही में ताशों के तीन सेट की पेंटिंग के लिए किये गये भुगतान का जिक्र किया है.[14]

शुरूआती ताश हाथ से बनाये जाते थे, जैसा कि चार्ल्स चतुर्थ के लिए डिजाइन किये हुए; ये बहुत ही महंगे होते. लकड़ी के सांचे से मुद्रित डेक 15वीं सदी में दिखाई दिए. ईसाई यूरोप में 1400 के आसपास कपडे को सजाने के लिए लकड़ी के सांचे के जरिये मुद्रण की तकनीक कागज़ पर मुद्रण में स्थानांतरित हुई, वहां कागज़ के पहले दर्ज उत्पादन के तुरंत बाद ही ऐसा हुआ, जबकि इस्लामिक स्पेन में यह बहुत पहले से जारी था. सबसे पहला लकड़ी का सांचा 1418 में आया. 1423 से पहले के मुद्रित ताशों का कोई उदाहरण नहीं बचा है. लेकिन उल्म, नुरेमबर्ग और औग्सबर्ग के व्यावसायिक ताश निर्माता लगभग 1418 से 1450[15] तक मुद्रित डेक बनाते रहे थे. इस अवधि में लकड़ी के सांचों का सबसे आम उपयोग होने के कारण ताश ने भक्ति प्रतिमाओं से भी प्रतिस्पर्धा की.

मुद्रण के बाद आरंभिक सभी प्रकार के अधिकांश लकड़ी के सांचों से बने ताशों को रंगा जाता, हाथ से या फिर, लगभग 1450 के बाद स्टेंसिल्स से. ये 15वीं सदी पत्ते संभवतः चित्रित किये गये हैं.

नक्काशी के मुद्रण तकनीक के नए आविष्कार से 1430 के दशक से जर्मनी में मास्टर ऑफ़ प्लेइंग कार्ड्स काम करने लगा. कई अन्य महत्वपूर्ण नक्काशीकारों ने भी ताश बनाये, इनमें मास्टर ईएस और मार्टिन शौनगौएर शामिल हैं. लकड़ी के सांचे की तुलना में नक्काशी या उत्कीर्णन अधिक महंगा था, और नक्काशीदार ताशों को जरुर ही अपेक्षाकृत असामान्य होना होता.

15वीं शताब्दी में यूरोप में, ताश के सूट विविध प्रकार के हुआ करते थे; ख़ास तौर पर एक डेक में चार सूट होते थे, हालांकि पांच सूट आम थे और अन्य स्वरुप भी हुआ करते. जर्मनी में, हार्ट्स अर्थात पान (Herz/Dolle/Rot), बेल्स (Schall), लीव्स (Grün), और एकोर्न्स (Eichel) मानक सूट बन गये थे और स्काट, शाफकोफ़,डोपेल्कोफ़ और अन्य खेलों में पूर्वी तथा दक्षिणपूर्वी जर्मन अभी भी इनका इस्तेमाल करते हैं. 15वीं सदी के इतालवी और स्पेनिश ताशों में तलवार, डंडा (या छड़ी), प्याले और सिक्के (या छल्ले) का उपयोग होता. टैरोट, जो अतिरिक्त तुरुप का पत्ता शामिल करता है, का आविष्कार 15वीं शताब्दी में इटली में किया गया था.

चार सूट दुनिया के अधिकांश भागों में अब इस्तेमाल किया जाता है - हुकुम, पान, ईंट और चिडी - इसका प्रारंभ लगभग 1480 में फ्रांस में हुआ. ट्रेफल (Trèfle) (क्लब अर्थात चिड़ी) शायद एकोर्न अर्थात शाहबलूत की नक़ल है और पिक (pique) (स्पेड अर्थात हुकुम) जर्मन सूट के लीफ से लिया गया है. हालांकि, "पिक" और "स्पेड" नाम इतालवी सूट के तलवार से लिए गए हो सकते हैं.[16] इंग्लैंड में, फ्रांसिसी सूट का अंततोगत्वा उपयोग किया गया, हालांकि शुरूआती डेक में इतालवी सूट होते थे [चट्टो (Chatto), लिंक प्रदान नहीं है].[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इसके अलावा 15वीं सदी में, यूरोपीयों ने यूरोपीय रॉयल्टी और सेवकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए कोर्ट कार्ड में बदलाव किया, शुरू में "किंग", "शेवलिर" ()नाईट), और "नैव" (या "गुलाम"). 1440 के दशक से एक जर्मन पैक में, दो सूट में सबसे बड़े पत्ते के रूप में रानियों ने राजाओं को अपदस्थ किया. छप्पन-पत्ते के डेक में एक राजा, रानी, नाईट और गुलाम (फ्रांसीसी टैरोट कोर्ट से) आम थे.

रूऑन के निर्माण केंद्र में 16वीं शताब्दी में डिजाइन किये गये कोर्ट कार्ड इंग्लैंड के मानक डिजाइन बन गये, जबकि फ्रांस में पेरिस डिजाइन मानक बना. पेरिस और रूऑन दोनों के कोर्ट कार्ड के नाम ऐतिहासिक और पौराणिक नायकों और नायिकाओं के नाम पर रखे गये. आधुनिक उपयोग में पेरिस के नाम अधिक आम हो गए, यहां तक कि रूऑन डिजाइन के कार्ड के साथ भी.

पारंपरिक पेरिस कोर्ट कार्ड के नाम
हुकुम का राजा डेविड
पान का राजा चार्ल्स (संभवतः शार्लमेयनी, या चार्ल्स VII, जबकि रशेल उनकी उपपत्नी अग्नेस सोरेल का छद्म नाम होगा)
ईंट का राजा जूलियस सीज़र
चिड़ी का राजा सिकंदर महान
हुकुम की रानी पलस
पान की रानी जूडिथ
ईंट की रानी रशेल (नीचे दिए लैंसलॉट से संबंधित, केल्टिक रैग्नेल के भ्रष्टाचार के रूप में या तो बाइबिल संबंधी, या फिर ऐतिहासिक (ऊपर देखें चार्ल्स), या पौराणिक)
चिड़ी की रानी अर्जिने (संभवतः रेजिना , जो रानी के लिए लैटिन का विपर्यय शब्द है, या शायद अर्गेया, पॉलीबस की पत्नी और अर्गस की मां)
हुकुम का गुलाम ऑजियर डेन/ होलगर डैनस्के (शार्लमेयनी का नाइट)
पान का गुलाम ला हिरे (जोन ऑफ आर्क का साथी, और चार्ल्स VII के दरबार का सदस्य
ईंट का गुलाम हेक्टर
चिड़ी का गुलाम जुडस मैकबस, या लैंसलॉट

बाद के डिजाइन परिवर्तन[संपादित करें]

1895 वैनिटी फेयर डेक का एक परिवर्तित ताश का पत्ता
ताश के पत्तों का इस्तेमाल राजनीतिक बयानबाजी के साधन के रूप में किया जाता है.यहां, स्वतंत्रता के पंथ और भाईचारे का प्रतीक फ़्रांसिसी क्रांति का ताश का एक पत्ता.

शुरुआती खेलों में राजा हमेशा ही सबसे बड़ा पत्ता हुआ करता था. हालांकि, 14वीं सदी के अंत में सबसे छोटे पत्ते, अब जिसे इक्का (एस) कहते हैं, को विशेष महत्व देना शुरू हुआ, सो यह कभी-कभी सबसे बड़ा पत्ता बन जाया करता है और दुक्की या दुग्गी सबसे छोटा होता है. 18वीं सदी के अंत में फ्रांसिसी क्रांति द्वारा यह विचार तेजी से पैदा हुआ हो सकता है, जहां सत्ता में राजशाही से अधिक निम्न वर्ग की शक्ति को दिखाने के प्रतीक के रूप में "एस हाई" (ace high) का खेल खेलना शुरू हुआ.[कृपया उद्धरण जोड़ें] "एस" शब्द एंग्लो-नोर्मन भाषा के डाइसिंग (dicing) से आया है, जबकि यह खुद भी लैटिन से (सिक्के की सबसे छोटी इकाई) के रूप में व्युत्पन्न है. ताश के खेल में कभी-कभी एक अन्य डाइसिंग शब्द ट्रे (trey) (3) दिख जाया करता है.

कोने और किनारे की सूचियों से लोगों को एक हाथ से अपने पत्ते एकदम करीब से पकड़ने में सुविधा हुई (जबकि पहले दोनों हाथ का इस्तेमाल करना पड़ता था). लैटिन सूट के पत्तों का पहला ज्ञात पैक डेक है जो इन्फिरेरा द्वारा 1693 में मुद्रित किया गया (इंटरनेशनल प्लेइंग कार्ड्स सोसायटी जर्नल 30- 1 पृष्ठ 34), लेकिन इसका आम इस्तेमाल 18वीं सदी के अंत में ही हो पाया. एंग्लो अमेरिकन डेक में सूचियों का प्रयोग 1875 से शुरू हुआ, जब न्यूयॉर्क समेकित कार्ड कंपनी ने स्क्वीजर्स का पेटेंट करवाया, सूचियों के साथ पहले ताश में एक बड़ा फैलाव तथा. हालांकि, इस नवरचना के साथ पहला डेक सलादी का पेटेंट था, जिसे 1864 में सामुएल हार्ट ने मुद्रित किया.

इससे पहले, एक इंग्लिश डेक के सबसे निचले कोर्ट कार्ड को आधिकारिक तौर पर नैव (Knave) कहा जाता, लेकिन संक्षिप्त नाम ("Kn") किंग के ("K")से बहुत अधिक मिलता-जुलता था, और इसलिए यह शब्द सूचियों में अच्छी तरह से अनुदित नहीं किया गया. बहरहाल, 1600 के दशक से नैव को अक्सर जैक (Jack) कहा जाने लगा, यह शब्द इंग्लिश नवजागरण ताश के खेल ऑल फोर्स (All Fours) से उधार लिया गया, जहां तुरुप के नैव का यह नाम है. ऑल फोर्स को निम्न वर्ग का खेल माना जाता था, सो जैक शब्द के प्रयोग को कभी अश्लील माना जाता था. हालांकि, सूचियों के उपयोग ने इंग्लिश डेक में नैव के स्थान पर जैक के औपचारिक परिवर्तन को प्रोत्साहित किया. गैर-इंग्लिश भाषाओं के डेक में यह द्वंद्व नहीं रहा; उदाहरण के लिए फ्रांसिसी टैरो डेक में सबसे निचले पत्ते को "वेलवेट" कहा गया, जो नाईट पत्ते का "स्क्वाइर" अर्थात सरदार हुआ (52 पत्ते के ताश में इसे नहीं देखा जाता) क्योंकि रानी की जोडी राजा के साथ है.

इसके बाद परिवर्तनीय कोर्ट कार्ड की नवरचना आयी. यह आविष्कार 1745 में एज़न के एक फ्रांसिसी ताश निर्माता ने किया. लेकिन ताश के डिजाइन पर नियंत्रण रखने वाली फ्रांस सरकार ने आविष्कार के साथ ताश के मुद्रण पर रोक लगा दी. 18वीं सदी के ऊत्तरार्ध के दौरान मध्य यूरोप (ट्रेपोला ताश), इटली (टैरोछिनो बोलोग्नीज) और स्पेन में इस नवरचना को अपनाया गया. ग्रेट ब्रिटेन में 1799 में परिवर्तनीय कोर्ट कार्ड को एडमंड लुडलो और एन विल्कोक्स ने पेटेंट करवाया. इस डिजाइन के एंग्लो-अमेरिकी पैक का मुद्रण 1802 के आसपास थॉमस व्हीलर द्वारा किया गया.[17] परिवर्तनीय कोर्ट कार्ड का अर्थ हुआ कि खिलाड़ी सीधे कोर्ट कार्ड को उल्टा करने की कोशिश नहीं करेंगे. इससे पहले, उलटी ओर से देखकर अन्य खिलाड़ियों को अक्सर दूसरे खिलाड़ियों के पत्तों के बारे में एक संकेत मिल जाया करता था. इस नवरचना से पहले के पूर्ण लंबाई के कोर्ट के कुछ डिजाइन तत्वों को छोड़ना आवश्यक हो गया.

फ्रांसीसी क्रांति के दौरान, राजा, रानी और जैक (गुलाम) के पारंपरिक डिजाइन स्वाधीनता, समानता और भाईचारा बन गये. 1793 और 1794 की कट्टरपंथी फ्रांसिसी सरकार ने अपने पुराने शासन को ढहते हुए देखा और एक अच्छा क्रांतिकारी राजाओं या रानियों के साथ नहीं खेल सकता था, बल्कि क्रांति के आदर्शों को प्रसारित करना उसका लक्ष्य था. आखिरकार इसे 1805 में नेपोलियन के उदय के साथ बदल दिया गया.

जोकर एक अमेरिकी आविष्कार है. यह यूक्रे (Euchre) के खेल से प्रकल्पित है, जो अमेरिकी क्रांतिकारी युद्ध के तुरंत बाद शुरू होकर यूरोप से लेकर अमेरिका तक फ़ैल गया और 1800 के मध्य में बहुत लोकप्रिय हुआ. यूक्रे में, तुरुप सूट का गुलाम सबसे बड़ा तुरुप का पत्ता होता है, जिसे राईट बोवर (right bower) कहा जाता है; जबकि दूसरे सबसे बड़े तुरुप को लेफ्ट बोवर (left bower) कहते हैं, जो उस सूट के उसी रंग का जैक अर्थात गुलाम होता है. १८७० में एक तीसरे तुरुप के पत्ते जोकर का इजाद हुआ, सर्वोत्तम बोवर , जो अन्य दो बोवर से भी बड़ा माना गया. माना जाता है कि यूक्रे के एक भिन्न नाम जुकर (juker) से इस पत्ते का नाम पड़ा.[18][19]

19वीं सदी में, परिवर्तन ताश (transformation playing card) के नाम से ज्ञात ताश का एक प्रकार यूरोप और अमेरिका में लोकप्रिय हो गया. इन पत्तों में, एक कलाकार ने एक कलात्मक डिजाइन में बिना चहरे के पत्तों में बिंदी डाल दी.

प्रतीकवाद[संपादित करें]

लोकप्रिय दंतकथा का मानना है कि ताशों के डेक की संरचना में धार्मिक, आध्यात्मिक, या खगोलीय महत्व है. इन कहानियों के संदर्भ कभी-कभी व्याख्या को एक मजाक बताने के लिए दिए जाते हैं, आम तौर पर ताश के डेक के साथ किसीके पकडे जाने पर उसके द्वारा यह तथाकथित सफाई देना कि उसका मकसद जुआ खेलना नहीं है.[20]

वर्तमान स्थिति[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Suit (cards)

एंग्लो-अमेरिकन[संपादित करें]

आज प्रचलित बावन पत्तों के प्राथमिक डेक में चार फ्रांसिसी सूट, परिवर्तनीय रुआन "कोर्ट" या फेस कार्ड्स सहित ईंट (साँचा:Diams), हुकुम (साँचा:Spades), पान (साँचा:Hearts), और चिड़ी (साँचा:Clubs) के प्रत्येक के तेरह रैंक होते हैं (हालांकि, कुछ आधुनिक फेस कार्ड डिजाइन से पारंपरिक परिवर्तनीय फिगर्स हटा दिए गये). प्रत्येक सूट में एक इक्का होता है, इसके सूट के एक एकल प्रतीक का चित्रण होता है; राजा, रानी और गुलाम के उनके सूट के अपने प्रतीक होते हैं; जबकि दो से लेकर दस तक के प्रत्येक पत्ते के लिए उनके सूट के अनेक प्रतीक (बिंदी या संकेत ) हुआ करते हैं. दो (कभी-कभी एक या चार) जोकर अक्सर एक दूसरे से अलग दिखते हैं, एक पत्ते का रंग दूसरे से कुछ अधिक रंगीन होता है, लेकिन ये किसी भी सूट के नहीं होते; इन्हें वाणिज्यिक डेक में शामिल किया जाता है, लेकिन अनेक लोग खेल से पहले एक या दोनों को हटा दिया करते हैं. आधुनिक खेल के ताशों में विपरीत कोनों में सूचकांक लेबल हुआ करते हैं (कभी-कभी चारों कोनों में), ताकि जब वे एक-दूसरे पर व्याप्त हो जाएं अर्थात ओवरलैप करें तो उन्हें पहचाना जा सके और सामने वाले को वे एक जैसे ही लगें.

विशिष्ट अंग्रेज़-अमेरिकी ताश के पत्ते.

फैंसी डिजाइन और इंग्लैंड के जेम्स प्रथम के शासनकाल में आम तौर पर हुकुम के इक्के पर निर्माता का प्रतीक चिह्न दर्शाने का चलन शुरू हुआ, उस समय एक क़ानून बना जिसके तहत ताश पर एक निशाँ लगाना जरुरी हो गया ताकि यह साबित हो कि ताश के स्थानीय निर्माता द्वारा कर का भुगतान कर दिया गया है. 4 अगस्त 1960 तक, यूनाइटेड किंगडम में ताश के डेक के मुद्रण और बिक्री पर कर लगा करता था और हुकुम के इक्के पर मुद्रक का नाम और कर चुका दिए जाने से संबंधित तथ्य का एक संकेत हुआ करता.[notes 1] सरकारी शुल्क आवरण से पैक सील किये हुए भी होते.

हालांकि कोर्ट कार्ड के विशिष्ट डिजाइनवाले तत्वों का कभी-कभी ही खेल में उपयोग किया जाता रहा और डिजाइनों के बीच बहुत अंतर थे, इनमें कुछ उल्लेखनीय हैं. हुकुम के गुलाम, पान के गुलाम, और ईंट के राजा के अर्द्धमुख दिखाए गये हैं, जबकि कोर्ट के बाक़ी को पूरे चहरे के साथ दिखाया गया है; इन पत्तों को आम तौर पर "वन-आईड" या काना भी कहा जाता है. कुछ खेलों में जब किसी पत्ते को वाइल्ड बनाने का निर्णय करना होता तो "एसे, ड्वेसे, वन-आईड जैक" (या ड्वेसेस, एसेस, वन-आईड फेसेस") के मुहावरे का प्रयोग होता, जिसका मतलब हुआ कि इक्के, दुक्की और काना गुलाम सभी वाइल्ड हैं. पान का राजा एकमात्र राजा है जिसकी मूंछें नहीं हैं, और साथ ही ख़ास ढंग से उसके सिर के पीछे एक तलवार दिखाया गया है, मानो वह खुद को ही चोट पहुंचा रहा हो. इस कारण उसका उपनाम "आत्महंता राजा" हो गया. हालांकि, यह भी माना जा सकता है कि वह अपने पीछे तलवार छुपा रहां है. इससे और उसकी लापता मूंछों के कारण उसका नाम "द फाल्स किंग" अर्थात नकली राजा पड़ गया. ईंट के राजा द्वारा पकड़ी हुई कुल्हाड़ी उसके सिर के पीछे है और उसकी धार उसकी ओर है. वह पारंपरिक रूप से एक कुल्हाड़ी से लैस है, जबकि अन्य तीन राजा तलवारों से लैस हैं, और इसीलिए ईंट के राजा का उल्लेख कभी-कभी "द मैन विद द ऐक्स" अर्थात कुल्हाड़ीधारी आदमी के रूप में भी किया जाता है. यह तुरुप का आधार है "काना गुलाम और कुल्हाड़ीधारी आदमी. ईंट का गुलाम कभी-कभी "लाफिंग ब्वॉय" अर्थात हंसमुख लडका के रूप में जाना जाता है.[21] हुकुम का इक्का, जो अद्वितीय रूप से बड़ा और अलंकृत हुकुम है, को कभी-कभी मृत्यु का पत्ता कहा जाता है, और कुछ खेल में इसे तुरुप बनाया जाता है. हुकुम की रानी आमतौर पर एक राजदंड रखती है और कभी-कभी "द बेडपोस्ट क्वीन" के रूप में जानी जाती है, हालांकि उसे अधिकतर "ब्लैक लेडी" कहा जाता है. कई डेक में चिडी की रानी एक फूल पकड़े होती है. इसीलिए उसे "फूलों की रानी" के रूप में जाना जाता है, (हालांकि जर्मनी और स्वीडेन के अनेक ताशों में उसे एक पंखे के साथ चित्रित किया गया है), हालांकि यह डिजाइन तत्व बहुत परिवर्तनीय है; मानक साइकिल पोकर डेक में सभी रानियों को उनके सूट के अनुसार एक फूल के साथ चित्रित किया गया है.

ताश के खेल कम्प्यूटरों की प्रायः मानक विशेषताएं हैं.

इस पर कई मत हैं कि कोर्ट कार्ड किनका प्रतिनिधित्व करते हैं. उदाहरण के लिए, कुछ लोगों का मानना है कि पान की रानी इंग्लैंड के राजा हेनरी सप्तम की राजमहिषी योर्क की एलिजाबेथ का प्रतिनिधित्व करती है, या कभी-कभी यह भी माना जाता है कि हेनरी अष्टम की दूसरी पत्नी एन्ने बोलेन का यह प्रतिनिधित्व करती है. अमेरिकी ताश कम्पनी की राय में, अतीत में, पान का राजा शार्लमेयनी, ईंट का राजा जुलियस सीजर , चिडी का राजा महान सिकंदर, और हुकुम का राजा बाइबिल किंग डेविड का था (देखें राजा (ताश)). बहरहाल, मानक एंग्लो-अमेरिकन ताश के राजा, रानी, और गुलाम आज इनमें से किसीका भी ख़ास तौर पर प्रतिनिधित्व नहीं करते. 1516 से पहले, और, 1540-67 तक, वे रुआन में निर्मित डिजाइन से उत्पन्न हुए हैं; कोर्ट कार्ड में उस समय की विशेष दरबारी वेशभूषा सहित ये रुआन डिजाइन अच्छी तरह से निष्पादित तस्वीरें दर्शाते हैं. इन आरंभिक पत्तों में, हुकुम का गुलाम, पान का गुलाम, और ईंट का राजा को पीछे से दिखाया गया, उनके सिर उनके कंधों से पीछे की ओर मुड़े हुए हैं, जिससे उनका अर्द्धमुख ही दिखता है; बहरहाल, इंग्लैंड में रुआन पत्तों की नकल ऎसी बुरी की गयी कि वर्तमान डिजाइन मूल रूप का एकदम से विरूपण है.

पान के राजा की मूंछें न होना जैसी कुछ विचित्रताओं का भी कोई महत्व नहीं. मूल रूप से पान के राजा की मूंछ हुआ करती थी, मगर मूल प्रति की खराब नकल के कारण यह गायब हो गयी.[कृपया उद्धरण जोड़ें] इसी तरह, कोर्ट कार्डों द्वारा थामी गयी वस्तुओं का भी कोई महत्व नहीं है. वे केवल एक-दूसरे कोर्ट कार्डों के बीच अंतर के लिए हैं, और समय के साथ विकृत हुए हैं.


ताश के लिए बहुत ही आम साइज है पोकर साइज (2½इंच × 3½इंच; 63 मिमी × 88 मिमी, या B8 साइज आईएसओ 216 के अनुसार) और ब्रिज का साइज (2¼इंच × 3½इंच, लगभग 56 मिमी × 88 मिमी); ब्रिज के पत्ते जरा संकरे होते हैं, और इसीलिए खेल के लिए अधिक अनुकूल होते हैं, क्योंकि ब्रिज जैसे खेल में बड़ी तादाद में पत्तों को हाथ में छिपाकर पकड़ना होता है. दिलचस्प बात है कि अधिकांश कैसीनो पोकर खेल में ब्रिज-आकार के पत्ते ही इस्तेमाल होते हैं;[कृपया उद्धरण जोड़ें] कम सामग्री का उपयोग का मतलब हुआ कि ब्रिज के डेक जरा सस्ते पड़े, और एक कैसिनो में रोजाना हजारों डेक इस्तेमाल हो सकते हैं, इससे एक बहुत ही छोटी बचत तो होती ही है. ताश अन्य आकारों में भी उपलब्ध हैं, जैसे कि सोलिटेयर के लिए एक छोटा आकार (आमतौर पर 1¾इंच × 2⅝इंच, लगभग 44 मिमी × 66 मिमी), यात्रा के लिए लंबा संकरा डिजाइन और ताश के जादू के लिए बड़ा आकार. एक औसत आकार के बी8 आकार के ताश का वजन 0.063 आउंस (1.8ग्राम), एक डेक का 3.3 आउंस (94 ग्राम) होता है.

कुछ डेक में अतिरिक्त डिजाइन तत्व शामिल होते हैं. कैसीनो ब्लैकजैक के डेक में पत्तों के रैंक की जांच करने के लिए चिह्नक शामिल हो सकते हैं, या फिर जटित दर्पण के माध्यम से एक मैनुअल जांच के लिए रैंक में बदलाव हो सकता है. कई कैसीनो डेक और सोलिटेयर डेक में सामान्य दो के बजाय चार सूचकांक होते हैं. अनेक डेक में बड़े सूचकांक होते हैं, मुख्यतः स्टड पोकर खेलों में इस्तेमाल के लिए, जहां जरा दूर से पत्तों को देख पाना फायदेमंद होता है और हाथ के आकार छोटे होते हैं. कुछ डेक अपने सूट के लिए चार रंगों का उपयोग करते हैं, ताकि उन्हें अलग से बताने में आसानी हो: रंगों का बहुत आम सेट है, काला (हुकुम), लाल (पान), नीला (iint)और हरा (चिड़ी). रंगों का एक अन्य आम सेट जर्मन सूट से लिया गया है, जिसमें लाल पान और काली चिड़ी के साथ हरा हुकुम और पीली ईंट का इस्तेमाल होता है (जैसे कि क्रमशः पत्तियां और घंटियां तुलनीय सूट हैं).

जब एक विशेष कार्ड का पूरा नाम लिखना होता है, तब सूट में पहला रैंक दिया जाता है, जैसे कि, "हुकुम का इक्का". आशुलिपि संकेतन में पहला रैंक "A♠" हो सकता है (पोकर में यह आम है) या सूट की सूची पहले "♠AKQ" आता है (जैसा कि ब्रिज की अनेक पत्तियों की सूची में आम है).

दस (टेन) का संक्षित नाम टी या फिर 10 भी लिखा जा सकता है.

ब्रिटेन में, सबसे अधिक उपलब्ध ताश का पैक है वडिंगटन्स नम्बर 1, जिसमें 52 मानक पत्ते होते हैं, इनके अलावा 4 अन्य पत्ते भी - रंगों के दो जोकर, एक कांट्रेक्ट ब्रिज स्कोरिंग कार्ड और एक विज्ञापन पत्ता.

पोकर और कई अन्य ताश के खेल में, 52 पत्तों का इस्तेमाल होता है; प्रत्येक सूट में 13 पत्ते:

  • चिड़ी
  • ईंट
  • पान
  • हुकुम
पोकर ताश के 52 पत्तों के सेट का उदाहरण
सूट इक्का 2 3 4 5 6 7 8 9 10 गुलाम रानी राजा
चिड़ी Ace of clubs 2 of clubs 3 of clubs 4 of clubs 5 of clubs 6 of clubs 7 of clubs 8 of clubs 9 of clubs 10 of clubs Jack of clubs Queen of clubs King of clubs
ईंट Ace of diamonds 2 of diamonds 3 of diamonds 4 of diamonds 5 of diamonds 6 of diamonds 7 of diamonds 8 of diamonds 9 of diamonds 10 of diamonds Jack of diamonds Queen of diamonds King of diamonds
पान Ace of hearts 2 of hearts 3 of hearts 4 of hearts 5 of hearts 6 of hearts 7 of hearts 8 of hearts 9 of hearts 10 of hearts Jack of hearts Queen of hearts King of hearts
हुकुम Ace of spades 2 of spades 3 of spades 4 of spades 5 of spades 6 of spades 7 of spades 8 of spades 9 of spades 10 of spades Jack of spades Queen of spades King of spades

पिकेट (ताश का एक दुपतिया खेल)[संपादित करें]

फ्रांसिसी-सूट के 52-पत्ती डेक का एक उपसेट है पिकेट डेक, जिसमें प्रत्येक हटाये गये सूट में कुल मूल्य 2 से 6 तक होता है. परिणामी 32-पत्तेवाला डेक विभिन्न प्रकार के खेलों में इस्तेमाल के लिए प्रसिद्ध है; 1300 की सदी से हाथ की सफाई के खेल पिकेट ने इसे बहुत आम नाम दिया, और बेलोट नामक खेल जो इन दिनों फ्रांस का सबसे अधिक लोकप्रिय ताश का खेल है, में भी यही डेक इस्तेमाल होता है. पश्चिम जर्मनी के खिलाड़ियों ने स्काट नामक खेल के लिए इस डेक को अपनाया (पारंपरिक स्काट डेक जर्मन सूट का इस्तेमाल करते हैं; नीचे देखें). ऐसे दो डेक बेजिक खेल में इस्तेमाल होते हैं.

पिनोकल/डोप्पेलकोफ़[संपादित करें]

फ्रांसिसी खेल बेजिक से विकसित पिनोकल के खेल में एंग्लो-अमेरिकन ताश की दो प्रतियों के मेल से बने एक डेक का इस्तेमाल किया जाता है, जिसके मूल्य 9 से लेकर राजा और इक्के के होते हैं. शीप्सहेड नामक खेल से व्युत्पन्न और स्काट से संबंधित बहुत ही लोकप्रिय जर्मन खेल डोप्पेलकोफ़ के लिए भी यूरोप में अलग ताश कलाकारिता के साथ उसी संयोजन के डेक उपलब्ध हैं.

टैरो[संपादित करें]

कुछ आधुनिक ऑस्ट्रियाई शैली के 40 पत्तों या 54 पत्तों वाले टैरोक कार्ड

यूरोपीय हाथ की सफाई के विभिन्न खेलों में 78-पत्तों के टैरो डेक और उसके उपसेट इस्तेमाल होते हैं. अधिकांश अन्य डेक से टैरो विख्यात है, जिसमें 21 पत्तों का एक अलग तुरुप सूट होता है, और एक फूल (मूर्ख) भी होता है, जिसकी भूमिका खेल विशेष के अनुसार बदलती रहती है. इसके अतिरिक्त, यह 52 पत्तों के डेक से अलग है, क्योंकि इसमें प्रत्येक सूट में एक अतिरिक्त कोर्ट कार्ड होता है, कैवेलिर या नाइट. यूरोप में, डेक को मुख्यतः एक ताश के डेक के रूप में जाना जाता है; अमेरिका में, डेक मुख्यतः इसके कार्टोमेंसी (ताश के जरिये भविष्य कथन) के इस्तेमाल के लिए जाना जाता है; बड़े अरकाना में तुरुप और मूर्ख होते हैं जबकि छोटे अरकाना में 56 सूट पत्ते होते हैं.


टैरो डेक का मूल इतालवीसमझा जाता है, 1400 की सदी के मध्य में मिलान में बचे हुए सबसे पुराने उदाहरण से इसका पता चलता है, जिसमें पारंपरिक लैटिन सूट में तलवार, प्याले, सिक्के और दंड हुआ करते थे (सामंती समाज के मुख्य चार वर्गों के प्रतिनिधि; सेना, पादरी, व्यापारी और कृषक). यह आम तौर पर समझा जाता है कि टैरो 1411 और 1425 के बीच आविष्कृत हुआ, एक डेक फोर्मेट में तुरुप का पत्ता जोड़कर इसकी रचना की गयी, जो फोर्मेट इस अवधि की इटली में पहले से ही लोकप्रिय हो चुका था, और 1300 की सदी में इसे उत्तरी अफ्रीका से लाया गया था. यह डेक इटली से लेकर जर्मनिक देशों में फैला हुआ था, जहां लैटिन सूट पत्तियों (या शील्ड), हार्ट्स (या गुलाब), घंटियों और शाहबलूत के सूट में और लैटिन तथा जर्मनिक सूट चित्रों और नामों के संयोजन में विकसित हुए, और बाद में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यताप्राप्त हुकुम, पान, ईंट और चिड़ी के फ्रांसिसी सूट में बदल गये. तुरुप का पत्ता हटाकर फ्रांसिसी सूट टैरो डेक का सरलीकरण करके इंग्लिश डेक बनाया गया, जिसे ब्रिटिश उपनिवेशवाद द्वारा लोकप्रिय किया गया और इसे कुलीन व्यक्तियों का खेल मानने की शेखी मारी जाने लगी. अंततः इंग्लिश डेक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यताप्राप्त 52 पत्तों का डेक बन गया.

तुरुप के 1 और 2 के जादूगरों से बड़ी पुजारिनों तक से लेकर सूर्य, दंडाज्ञा और सबसे आखिर में विश्व जैसी शक्ति की उत्पत्ति के चरित्रों और आदर्शों का तुरुप का पत्ता मूलतः प्रतिनिधित्व करता था. डेक के आरंभिक दिनों में प्रत्येक कार्ड के रूपकात्मक अर्थ हुआ करते थे, लेकिन 17वीं सदी के अंत में ही एंटोएन कोर्ट डी गेबेलिन के कार्यों से भविष्यसूचक प्रयोजनों के लिए लोकप्रिय टैरो डी मार्सिले के आधार पर डेक बना.

इस बिंदु से, कार्टोमेंसी (भविष्य कथन) के लिए और जुआ के लिए डेक के विकास की दिशा अलग हो गयी; "रीडिंग टैरो" टैरो डी मार्सिले के प्रतीकात्मक डिजाइन पर आधारित है (व्यापक रूप से ज्ञात राइडर-वेट डेक के निर्माण के लिए जिसमें हल्का-सा परिवर्तन किया गया), इसमें पुरानी शैली की पूरी-लंबाई की संप्रतीक कला, 21 तुरुपों के विशेष अर्थों और लैटिन सूट के इस्तेमाल को बनाये रखा गया (हालांकि आज के अधिकांश रीडिंग टैरो फ्रांसिसी टैरो डी मार्सिले से व्युत्पन्न हैं). दूसरी ओर, विशेष रूप से फ्रांस और जर्मनिक क्षेत्रों के "प्लेइंग टैरो" 18वीं सदी के अंत तक आ गये, जो आधुनिक ताश के सदृश विकसित हुए, जिनके कोने में सूचकांक होते और जिनके नंबर और कोर्ट कार्ड आसानी से पहचाने जा सकते. तुरुप के लिए परंपरागत विशेष पत्तों को अस्थिर दृश्यों के कारण बड़े पैमाने पर हटा दिया गया. प्लेइंग टैरो की वर्तमान शैली का एक उदाहरण है टैरो नोव्यू, हालांकि इस डेक की कलाकृति और डिजाइन के निशान 1890 के दशक में पाए जा सकते हैं. हालांकि, इतालवी और स्पेनिश तारोच्ची डेक ने मुख्य रूप से प्रत्येक तुरुप के पारंपरिक चरित्र पहचान को बनाये रखा है, साथ ही लैटिन सूट को भी, हालांकि इन डेक का इस्तेमाल लगभग पूरी तरह से जुआ खेलने के लिए किया जाता है. तरोक्को बोलोग्नीज और तरोक्को पिदमोंतीज इतालवी सूट प्लेइंग टैरो डेक के उदाहरण हैं.

56 पत्तों वाले टैरो ताश में प्रत्येक सूट में 14 पत्ते हुआ करते हैं

  • चिड़ी
  • ईंट
  • पान
  • हुकुम
56 पत्तों के टैरो ताश के सेट के उदाहरण

!1 !2 !3 !4 !5 !6 !7 !8 !9 !10 !गुलाम !नाइट !रानी !राजा |- !चिड़ी: | 01 of clubs 01.svg |02 of clubs.svg |03 of clubs.svg |04 of clubs.svg |05 of clubs.svg |06 of clubs.svg |07 of clubs.svg |08 of clubs.svg |09 of clubs.svg |10 of clubs.svg |Jack of clubs en.svg |Knight of clubs en.svg |Queen of clubs en.svg |King of clubs en.svg |- !ईंट: |01 of diamonds 01.svg |02 of diamonds.svg |03 of diamonds.svg |04 of diamonds.svg |05 of diamonds.svg |06 of diamonds.svg |07 of diamonds.svg |08 of diamonds.svg |09 of diamonds.svg |10 of diamonds.svg |Jack of diamonds en.svg |Knight of diamonds en.svg |Queen of diamonds en.svg |King of diamonds en.svg |- !पान: |01 of hearts 01.svg |02 of hearts.svg |03 of hearts.svg |04 of hearts.svg |05 of hearts.svg |06 of hearts.svg |07 of hearts.svg |08 of hearts.svg |09 of hearts.svg |10 of hearts.svg |Jack of hearts en.svg |Knight of hearts en.svg |Queen of hearts en.svg |King of hearts en.svg |- !हुकुम: |01 of spades 01.svg |02 of spades.svg |03 of spades.svg |04 of spades.svg |05 of spades.svg |06 of spades.svg |07 of spades.svg |08 of spades.svg |09 of spades.svg |10 of spades.svg |Jack of spades en.svg |Knight of spades en.svg |Queen of spades en.svg |King of spades en.svg |)

जर्मन[संपादित करें]

जर्मन सूट के अलग रूप हो सकते हैं. जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, कई पूर्वी और दक्षिणी जर्मन पान, घंटियां, पत्तियों और शाहबलूत (पान, ईंट, हुकुम और चिडी के बजाय) के डेक पसंद करते हैं. स्काट खेल में,पूर्वी जर्मन खिलाड़ी जर्मन डेक इस्तेमाल करते हैं, जबकि पश्चिमी जर्मन खिलाड़ी मुख्य रूप से फ्रांसिसी डेक इस्तेमाल किया करते है. एकीकरण के बाद आधिकारिक स्काट टूर्नामेंट के लिए एक मध्यमार्गी डेक बनाया गया, फ्रांसिसी प्रतीकों मगर जर्मन रंगों के साथ (हरे हुकुम और पीली ईंटें).[22]

मध्य यूरोपीय देश[संपादित करें]

हंगरी, ऑस्ट्रिया, स्लोवेनिया, चेक गणराज्य, उत्तरी क्रोएशिया, स्लोवाकिया, पश्चिमी रोमानिया, यूक्रेन में ट्रांसकारपथिया, सर्बिया में वोज्वोदिना और दक्षिणी टायरोल के ताश एक ही सूट का इस्तेमाल करते हैं (पान, घंटियां, पत्तियां, और शाहबलूत) दक्षिणी और पूर्वी जर्मनी के ताश की तरह. उनमें आमतौर पर 32 या 36 पत्तों का एक डेक होता है. नंबर में VII, VIII, IX, X, अंडर, ओवर, किंग और ऐस शामिल होते हैं. 36 कार्ड में कुछ बदलाव के साथ नंबर छः भी होता है. बेल्स या घंटियों में भी छः का काम कुछ खेलों में एक जोकर जैसा होता है और इसका नाम वेल्ली या वेली दिया गया है.

ये पत्ते एक विशेष तस्वीरों की श्रृंखला से चित्रित हैं जो 1848 की हगेरियाई क्रांति के पहले पैदा हुईं थीं, जब पूरे यूरोप में क्रांतिकारी आंदोलन पैदा हो रहे थे. इक्के चार मौसम दिखाते हैं: पान का इक्का बसंत, घंटियों का इक्का ग्रीष्म, पत्तियों का इक्का शरद और शाहबलूत का इक्का शीत. अंडर और ओवर पत्तों के चरित्र प्रसिद्ध स्विस स्वतंत्रता सेनानी विलियम टेल के नाटक से लिए गये, इस नाटक को 1804 में फ्रेडरिक शिलर ने लिखा था, जिसे 1827 में कोलोज्सवार में दिखाया गया था. यह लंबे समय से माना जाता रहा था कि विएना के फर्डिनांड पिअतनिक के कार्ड पेंटिंग वर्कशॉप में पत्ते का आविष्कार हुआ था, बहरहाल 1974 में एक इंग्लिश निजी संग्रह में बिलकुल पहला डेक पाया गया, और इसमें पत्ते के आविष्कारक और निर्माता जोज्सेफ़ शनाईडर का नाम दर्शाया हुआ है, जो पेस्ट के एक मास्टर कार्ड पेंटर थे, और उसके निर्माण की तारीख 1837 दिखाई गयी. उन्होंने शिल्लर के खेल के स्विस चरित्र को नहीं चुना होता, बल्कि हंगेरियाई नायकों या स्वतंत्रता सेनानियों को चुना होता, तो उनके ताश के डेक का कभी भी वितरण नहीं हो पाता, क्योंकि उस समय सरकार ने भारी सेंसरशिप लगा रखा था. दिलचस्प बात है, हालांकि पत्तों पर स्विस चरित्र रहे, लेकिन ये पत्ते स्विट्जरलैंड में अज्ञात हैं.

इस डेक से हंगरी में खेले जाने वाले खेलों में शामिल हैं स्काट, उल्टी, स्नैप्स्ज़र (या 66), ज्सीर अका विग ए हेटेस (ग्रीज या सेवेन वाइल्ड), फायर, प्रेफेरान्स्ज़, मकाओ, लोरम, पिरोस पक्सी (रेड पौ) और पिरोस पापुक्स (रेड स्लीपर). ताश के यह सेट बहुत अक्सर प्रेफेरान्स के खेल में भी इस्तेमाल किया जाता है. क्रोएशिया और स्लोवेनिया में भी सामान्यतः इन पत्तों का बेलोत नामक खेल में इस्तेमाल किया जाता है (बुल्गारिया और आर्मेनिया में भी लोकप्रिय). इन खेलों के स्पष्टीकरण द कार्ड गेम्स वेबसाईट में पाए जा सकते हैं.

चेक गणराज्य में इन पत्तों को मरिआस्की या मरीआसोवे कार्टी कहा जाता है (दोनों का अर्थ हुआ कार्ड्स फॉर मरिआस ), या कभी-कभी इसे पिकेटी भी कहते हैं. ये पत्ते चेक भूमि में लगभग सभी आम ताश खेलों में इस्तेमाल होते हैं, बहुत मशहूर मरिआस और पर्सी या ओको बेरे (ब्लैकजैक का जरा अलग चेक संस्करण) जैसे बहुत लोकप्रिय खेलों में भी.

पश्चिमी रोमानिया (ट्रांसिल्वेनिया और बनात) में बहुत आम खेला जाने वाला खेल है क्रस, जो स्नाप्स्ज़र का एक बदलाव है, जिसे बहुत आम तौर पर 2 जोड़ों में खेला जाता है, टीम के सदस्य एक-दुसरे के आमने-सामने होते हैं, इसी कारण इसका नाम क्रस पडा (क्रस = रोमानियाई भाषा में क्रॉस ).

रूस[संपादित करें]

रूस और पूर्व सोवियत संघ के कई देशों में, रूसी 36 पत्ते का डेक सबसे आम है. इसके नंबर में 6, 7 , 8, 9, 10, वैलेट (गुलाम), दामा (डेम), कोरोल (राजा) और तुज़ (इक्का) शामिल हैं. यह फ्रांसीसी सूट जैसा है. विभिन्न रूसी ताश खेल में इस डेक का प्रयोग किया जाता है, जैसे कि दुराक या ओच्को ब्लैकजैक का एक भिन्न रूप) में. एक अन्य आम रूसी डेक है प्रेफेरान्स डेक, इसका प्रयोग इसी नाम के खेल में होता है. यह सात से शुरू होता है और पिकेट डेक के जैसा है.

स्विटजरलैंड[संपादित करें]

स्विटजरलैंड में, राष्ट्रीय खेल जास्स है. यह 36 पत्ते के डेक के साथ खेला जाता है. ब्रुनिग-नप्फ़-रयूस लाइन के पश्चिम, एक फ्रांसिसी-शैली के 36-पत्तों का डेक प्रयोग में है, जिसके नंबर 6 से 10, गुलाम, रानी, राजा और इक्के होते हैं. ग्रौबुनदें और थुर्गाऊ के हिस्सों में इसी प्रकार का डेक प्रयोग किया जाता है.

सेंट्रल स्विट्जरलैंड, ज्यूरिख, शाफ्फहौसें और पूर्वी स्विट्जरलैंड में, 36 पत्तों के ताश के प्रचलित डेक में निम्नलिखित सूट होते हैं: गुलाब, घंटियां, शाहबलूत और शील्ड (जर्मन में; रोजेन, शेलेन, आइकेल अंड शिल्टन). वैकल्पिक डेक के रैंक, नीचे से ऊपर की ओर इस तरह हैं: 6, 7, 8, 9, 10 ("बैनर"), अंटर (निचला गुलाम), ओबर (उच्च गुलाम), राजा और इक्का.

इतालवी[संपादित करें]

कार्टे बर्गमश का एक सेट
पैसों के एक योद्धा का उदाहरण, कैवेलो डी डेनारी (सिक्कों का घोड़ा).कार्टे पियासेंटीन से.

इतालवी ताश में बहुत ही आम तौर पर एक डेक में 40 पत्ते होते हैं (4 सूट में 1 से 7 और 3 तस्वीर वाले पत्ते), और इनका इस्तेमाल स्कोपा या ब्रिस्कोला जैसे इतालवी क्षेत्रीय खेलों में होता है. 52 (या कभी-कभी 36) पत्तों के सेट उत्तर में पाए जाते हैं. चूंकि ये पत्ते 14वीं सदी के अंत में पहली बार तब दिखाई दिए जब इटली के प्रत्येक क्षेत्र पृथक शासित राज्य थे, इसीलिए कोई आधिकारिक इतालवी पैटर्न नहीं है. देश के विभिन्न हिस्सों में सोलह आधिकारिक क्षेत्रीय पैटर्न प्रयोग में हैं (लगभग हर क्षेत्र के लिए एक). ये सोलह पैटर्न चार क्षेत्रों में विभाजित हैं:

सूट में सिक्के (कभी-कभी सूर्य या बादल से निकलकर चमकते सूर्य की डिजाइन) (इतालवी में देनारी ), तलवारें (स्पेड ), प्याले (कोप्पे ) और चिड़ी (कभी-कभी बैटन बास्तोनी ) हैं, और हरेक सूट में एक इक्का (या एक), दो से सात नंबर, और तीन तस्वीर वाले पत्ते शामिल रहते हैं. तस्वीरों वाले पत्ते निम्नलिखित हैं:

  • रे (Re)(राजा ), उच्चतम मूल्य का - एक आदमी खड़ा है, एक मुकुट पहने है
  • कावाल्लो (शाब्दिक अर्थ-घोड़ा ) [इटैलो-स्पेनिश सूट] - एक व्यक्ति घोड़े पर सवार/ या दोन्ना (अर्थ- लैटिन दोमिना के लिए महिला = मिस्ट्रेस ) [फ्रांसीसी सूट] - एक मुकुट के साथ एक खडी महिला
  • फान्टे (अर्थ- पैदल सैनिक ) - बिना मुकुट के खड़ी एक छोटी आकृति

स्पेनिश-जैसे-सूट के नैव (फान्टे - सबसे निचला तस्वीर वाला पत्ता) को एक महिला के रूप में दर्शाया गया है, और कभी-कभी फ्रांसिसी-सूट डेक के अगले उच्च तस्वीर की तरह दोन्ना के रूप में निर्दिष्ट किया गया है; यह, जब फ्रांसिसी उपयोग के साथ युग्मित होता है, जो एक रानी रखता है, जिसे इतालवी में रेजिना (रानी) नहीं बल्कि दोन्ना (महिला) कहते हैं, जो एक मध्य-मूल्य तस्वीर-पत्ते के रूप में होता है, बहुत कभी-कभी ही फ्रांसिसी-सूट दोन्ना (या अंतर्राष्ट्रीय-कार्ड क्वीन के साथ बहुत कम) और नैव (या गुलाम) के साथ मूल्य का अदल-बदल कर सकता है.

एंग्लो-अमेरिकन ताश के असदृश, कुछ इतालवी ताशों में उनके मूल्य की पहचान के लिए कोई संख्या (या अक्षर) नहीं होते हैं. पत्ते के मूल्य चेहरे वाले पत्ते को पहचान कर या सूट संप्रतीकों की संख्या को गिनकर निर्धारित होते हैं.

स्पैनिश[संपादित करें]

पारंपरिक स्पेनिश डेक (स्पेनिश में बराज एस्पनोला रूप में उल्लेखित) लैटिन सूट प्रतीकों का उपयोग करता है. लैटिन-सूट डेक होने के कारण (इतालवी डेक की तरह), यह चार पालोस (सूट) में आयोजित होता है, जो इतालवी-सूट के टैरो डेक से बहुत ही निकटता से मिलता-जुलता है: ओरोस ("सोना" या सिक्के), कोपास (बीकर या प्याले), एस्पदस (तलवारें) और बास्तोस (डंडे या चिड़ी). कुछ डेक में दो "कोमोडाइन्स" (जोकर) होते हैं.

सभी पत्तों (स्पैनिश में कार्ट्स ) के नंबर होते हैं, लेकिन मानक एंग्लो-फ्रेंच डेक के असदृश , 10 नंबर का पत्ता कोर्ट कार्ड में पहला होता है (दस सिक्के/प्याले/तलवारें/डंडों के पत्तों के बजाय); सो प्रत्येक सूट में सिर्फ बाढ़ पत्ते ही होते हैं. प्रत्येक सूट में तीन कोर्ट या चेहरे वाले पत्ते निम्नलिखित हैं: ला सोटा ("नैव" या गुलाम, दसवां नंबर और एंग्लो-फ्रेंच कार्ड J के समकक्ष), एल कबाल्लो ("घोड़ा", घुड़सवार, नाइट या कैवेलियर, 11वां नंबर और एंग्लो-फ्रेंच कार्ड Q के बजाय इसका उपयोग; ध्यान रखें कि टैरो डेक के हरेक सूट में एक रानी और एक नाइट का प्रयोग होता है, जबकि एंग्लो-फ्रेंच डेक रानी का और स्पैनिश डेक नाइट का प्रयोग करते हैं), और अंत में एल रेय ("राजा", 12वां नंबर और एंग्लो-फ्रेंच कार्ड के K के समकक्ष). बहरहाल, अधिकांश स्पैनिश खेल चालीस पत्तों के डेक का प्रयोग करते हैं, 8 और 9 नंबर के पत्तों को हटाकर, जो इतालवी मानक डेक के समान है.

आकड़े के चारों ओर के बॉक्स में एक चिह्न होता है जिससे अपने सभी पत्तों को देखे बिना आप सूट में अंतर कर सकते हैं: प्यालों में एक व्यवधान होता है, तलवारों में दो, चिड़ी में तीन और सोने में कुछ नहीं होता. इस निशान को "ला पिंटा" कहते हैं और जो इस अभिव्यक्ति को जन्म देता है: "ले कोनोकी पोर ला पिंटा" (मैं उसे उसके निशान से जानता हूं).

कई लैटिन अमेरिकी देशों में बरजा को व्यापक रूप से तंत्र-मंत्र का हिस्सा माना जाता है, फिर भी उनका व्यापक रूप से ताश के खेलों और जुआ में इस्तेमाल होता है, विशेषकर स्पेन में, जो एंग्लो-फ्रेंच डेक का उपयोग नहीं करता. अन्य स्थानों में, बरजा वन हंड्रेड ईयर्स ऑफ़ सोलिट्युड़ तथा अन्य हिस्पानिक और लैटिन अमेरिकी साहित्य में दिखाई देता है. स्पेनिश डेक न सिर्फ स्पेन में प्रयोग किया जाता है, बल्कि उन अन्य देशों में भी जहां स्पेन ने प्रभाव बनाये रखा ( जैसे कि मेक्सिको), अर्जेंटीना, और अधिकांश हिस्पानिक अमेरिका, फिलीपींस और प्युर्टो रिको)1. इस डेक से खेले जाने वाले खेलों में शामिल हैं: एल मुस (बास्क मूल का एक बहुत ही लोकप्रिय और बहुत ही सम्मानित स्पर्धा खेल), ला ब्रिस्का , लापोचा , एल टूटे , (अनेक भिन्नताओं के साथ), एल गुइनोट , ला एस्कोबा डेल कुइंस (हाथ की सफाई का एक खेल), एल जुलेपे , एल सिन्क़ुइल्लो , लास सिएटे वाई मिडिया , ला मोना , एल ट्रुक (या ट्रुको ), एल कुआजो (फिलीपींस का एक मैचिंग खेल), एल जामोन , एल टोंटो , एल हिजोपुटा , एल मेंत्रीरोसो , एल कुको , लास परेजास और लास कुआरेंटा (एक मच्छीमार खेल, इक्वेडोर का राष्ट्रीय ताश खेल).

स्पेन में, एंग्लो-अमेरिकन मूल का खेल, जैसे कि पोकर और ब्लैकजैक, 52-पत्ते के डेक से खेले जाते हैं, जिसे बरजा डी पोकर कहा जाता है.

भारत[संपादित करें]

गंजिफा : प्राचीन भारत में सामन्यता ताश जैसे इस खेल का भी धार्मिक और नैतिक महत्व था। ताश की तरह के पत्ते गोलाकार शक्ल के होते थे, उन पर लाख के माध्यम से या किसी अन्य पदार्थ से चित्र बने होते थे। गरीब लोग कागज या कंजी लगे कड़क कपड़े के कार्ड भी प्रयोग करते थे। सामर्थवान लोग हाथी दांत, कछुए की हड्डी अथवा सीप के कार्ड प्रयोग करते थे। उस समय इस खेल में लगभग 12 कार्ड होते थे जिन पर पौराणिक चित्र बने होते थे। खेल के एक अन्य संस्करण ‘नवग्रह-गंजिफा’ में 108 कार्ड प्रयोग किए जाते थे। उनको 9 कार्ड की गड्डियों में रखा जाता था और प्रत्येक गड्डी सौर मण्डल के नव ग्रहों को दर्शाती थी। यही गंजिफा बाद में बन गया ताश का खेल।

पूर्व एशिया[संपादित करें]

मानक 52-पत्ता डेक ताइवान, जापान, चीन और दक्षिण कोरिया में आम तौर पर एक "पोकर" डेक के रूप में जाना जाता है. प्रकारांतरेण, जापान और कोरिया में उसी डेक का एक अधिक आम नाम है ट्रम्प (क्रमशः トランプ टोराम्पू, 트럼프 टयूरेओम्पू), जो ट्रम्प कार्ड शब्द से बने हैं. ये पत्ते सबसे अधिक कैसिनो में बक्कारत और ब्लैकजैक के लिए इस्तेमाल होते हैं, या खेल में क्रम के निर्णय लेने में या बिलियर्ड्स खेल में चुनौती के लिए उपयोग में आते हैं. खुद पोकर और अन्य पश्चिमी खेल अपेक्षाकृत अज्ञात हैं, हालांकि पूर्वी एशियाई खेलों में पोकर डेक का इस्तेमाल होता है, जैसे कि डैफुगो और दो-दस-गुलाम में. पूर्वी एशिया में घरेलू और ऑनलाइन ताश खेल में कोइ-कोइ और गो-स्टॉप जैसे खेल करुता का उपयोग करते हैं, जैसे कि जापान में हनाफुदा, उता-गरुता या कबुफुदा डेक, और कोरिया में समकक्ष हवातु डेक.

अभिगम्य ताश[संपादित करें]

नेत्रहीनों के लिए ताश को रूपांतरित किया गया है, इसके लिए बड़े-प्रिंट और/या ब्रेल अक्षरों को ताश में शामिल किया गया. मानक कार्ड डेक और विशेष तरह के खेलों के डेक दोनों को ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने सामान्यतः अनुकूलित किया है. बड़े प्रिंट कार्ड सामान्यतः बुजुर्गों द्वारा भी इस्तेमाल में लाया जाता है. सूत प्रतीकों और नामकरण सूत्र के आकार बढाने से बड़े प्रिंट के पत्ते आम तौर पर दृश्य जटिलता को कम करते हैं, इससे चित्रों को पहचानने में आसानी होती है. उन्होंने बिंदियों के पैटर्न को हटाकर उनकी जगह एक बड़ी बिंदी लगाना शुरू किया ताकि सूत को पहचानने में सुविधा हो. बड़े पत्तों का कभी-कभी इस्तेमाल होने लगा, मगर वे असामान्य बने रहे. ताश पकड़ने और बड़े सूत्र के मामले में इनसे सहायता मिल सकती है.

ब्रेल ताश के लिए कोई सार्वभौमिक मानक नहीं हैं. कई राष्ट्रीय और निर्माता भिन्नताएं हैं. ज्यादातर मामलों में एक ही स्थान में प्रत्येक कार्ड में सामान्य कोने के चिह्न के रूप में दो ब्रेल विशिष्टता होती है. दो संप्रतीक या चिह्न या तो अक्षरों में प्रकट हो सकते हैं या तो लम्बरूप (एक चिह्न के नीचे दूसरा) में हो सकते हैं या फिर क्षैतिज या पट अवस्था में (दो चिह्न अगल-बगल). किसी भी मामले में एक चिह्न कार्ड सूट की पहचान कराता है और दूसरा कार्ड के नम्बर या नाम को. इक्का के लिए 1, नंबर वाले पत्तों के लिए 2 से 9 तक, X या O अक्षर दस के लिए, J गुलाम के लिए, Q रानी और K राजा के लिए. सूट को विभिन्न प्रकार से चिह्नित किया जाता है, जैसे डायमंड (ईंट) के लिए D, स्पेड (हुकुम) के लिए S, क्लब (चिड़ी) के लिए K या X और हार्ट (पान) के लिए H या K का इस्तेमाल होता है.

यूनिकोड में प्रतीक[संपादित करें]

यूनिकोड मानक विविध प्रतीक ब्लॉक में कार्ड सूट के लिए 8 चिह्नों को परिभाषित करता है, U+2660 से U+2667 तक:

U+2660:दिसंबर: 9824 U+2661 दिसंबर: 9825 U+2662 दिसंबर: 9826 U+2663 दिसंबर: 9827
ब्लैक स्पेड सूट व्हाईट हार्ट सूट व्हाईट डायमंड सूट ब्लैक क्लब सूट






U+2664 दिसंबर: 9828 U+2665 दिसंबर: 9829 U+2666 दिसंबर: 9830 U+2667 दिसंबर: 9831
व्हाईट स्पेड सूट ब्लैक हार्ट सूट ब्लैक डायमंड सूट व्हाईट क्लब सूट






52 पत्ते के एंग्लो-अमेरिकन-फ्रेंच डेक को "प्लेइंग कार्ड बैक" के चिह्न और अन्य एक जोकर के लिए एक साथ इनकोड करने का 18 मई 2004 को माइकल एवरसन ने एक प्रस्ताव भी दिया है.[23]

निर्माण तकनीक[संपादित करें]

एक नये डेक के लिए विशिष्ट निर्माण प्रक्रिया सबसे अधिक उपयुक्त सामग्री की पसंद के बीच चयन के साथ शुरू हुई: कार्ड स्टॉक या प्लास्टिक.

विशिष्ट प्रकार के कागज़ या शीट पर पत्ते छापे जाने लगे, ताश के पत्तों पर छपे रंगों की कांति और चमक को बढाने के लिए वार्निश की प्रक्रिया चलने लगी, साथ ही उनके स्थायित्व को भी बढ़ाया गया.

वर्तमान बाजार में, कुछ उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद उपलब्ध हैं. पत्तों की सतह पर कुछ ख़ास उपचार किये गये, जैसे कि कैलेंडरिंग और लिनेन परिष्करण, जो पेशेवर या घरेलू उपयोग में अच्छे प्रदर्शन की गारंटी करते हैं.

पत्ते शीत पर छापे जाते हैं, जिन्हें काटा और एक साथ व्यवस्थित (लंबवत धारियों में) किया जाता है, उसके बाद एक-एक पत्ते को काटकर अलग करने का काम शुरू होता है. नये डेक कोडांतरण के बाद, उन्हें कोने की गोलाई प्रक्रिया से गुजारा जाता है,जो अंतिम रूपरेखा प्रदान करती है: ठेठ आयताकार ताश का आकार.

अंत में, प्रत्येक डेक को सेलोफेन में लपेटा जाता है, इसे इसके डिब्बे में डाला जाता है और यह वितरण के लिए तैयार हो जाता है.

इन्हें भी देंखे[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. स्टैम्प एक्ट 1765 ने प्लेइंग कार्ड्स पर टैक्स लगाया.

सन्दर्भ[संपादित करें]

पॉल सिज़ेन - द कार्ड प्लेयर्स, 1895
  1. Needham 2004, पृष्ठ 131–132
  2. Needham 2004, पृष्ठ 328"यह भी अब अच्छी तरह से स्थापित हो गया है कि डोमिनो और ताश के पत्तों का विकास मूल रूप से चीनी पासे से हुआ था."
  3. Needham 2004, पृष्ठ 334"अंकीय पासा, जो प्राचीनकाल में बहुत ज्यादा विस्तृत था, इसी तरह के विकास की रेखा पर था जिसने डोमिनो और ताश के पत्तों को जन्म दिया (+9वीं सदी चीन)."
  4. लो (2000), पी. 390.
  5. Needham 2004, पृष्ठ 132
  6. Wilkinson 1895
  7. सिंगर, पी. 4
  8. डोनाल्ड लेकॉक, स्केप्टिकल - ए हैन्डबुक ऑफ़ स्यूडोसाइंस एण्ड द पैरानॉर्मल में, एड डोनाल्ड लेकॉक, डेविड वेर्नन, कॉलिन ग्रोवेस, साइमन ब्राउन, इमेजक्राफ्ट, कैनबरा, 1989, ISBN 0-7316-5794-2, पृष्ठ 67
  9. Banzhaf, Hajo (1994) (Italian में), Il Grande Libro dei Tarocchi, Roma: Hermes Edizioni, प॰ 16, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8-8793-8047-8 
  10. Mayer, Leo Ary (1939), Le Bulletin de l’Institut français d’archéologie orientale, 38, प॰ 113–118, http://www.ifao.egnet.net/bifao/38/, अभिगमन तिथि: 2008-09-08. 
  11. इंटरनैशनल प्लेइंग कार्ड्स सोसाइटी जर्नल, 30-3, पृष्ठ 139
  12. [1]
  13. [2].
  14. ओलमर्ट, माइकल (1996). मिल्टंस टीथ एण्ड ओविड्स अम्ब्रेला: क्युरियसर एण्ड क्युरियसर एडवेंचर्स इन हिस्ट्री , पृष्ठ 48-49. सिमोन एण्ड शुस्टर, न्यूयॉर्क. ISBN 0-684-80164-7.
  15. जर्मनी, ऑस्ट्रिया और फ्लैंडर्न (14 वीं और 15 वीं सदी) के शुरूआती कार्ड पेंटर और प्रिंटर
  16. [3]
  17. इंटरनैशनल प्लेइंग कार्ड्स सोसाइटी जर्नल XXVII-5 पृष्ठ 186 और इंटरनैशनल प्लेइंग कार्ड्स सोसाइटी जर्नल 31-1 पृष्ठ 22
  18. US Playing Card Co. - A Brief History of Playing Cards (archive.org mirror)
  19. बेयाल, जॉर्ज. प्लेइंग कार्ड्स एण्ड देयर स्टोरी. 1975. न्यूयॉर्क: आर्को पब्लिशिंग कंपनी इंक. पृष्ठ 58
  20. अर्बन लेजन्ड्स रेफरेंस पेज्स आर्टिकल
  21. गेम्स << ए कैशे ऑफ़ रैंडम ट्रिविया
  22. एंडी के ताश के पत्ते - आकार, आकृति और रंग
  23. [4]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
playing card को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
Wikisource-logo.svg
विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:

साँचा:Tarot Cards