ईंट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
शीर्षों और चौखटों के वैकल्‍पिक विधियों के साथ रखा गया अंग्रेजी बंध पत्र में पुरानी ईंट की दीवार
ऐतिहासिक नत्चितोचेस, लुइसियाना में ईंट से निर्मिति केन नदी के साथ सामने की गली

चिनाई के कार्य में उपयोग किया जाने वाला ईंट मिट्टी का ब्लॉक है, जिन्हें सामान्‍यत: विभिन्‍न प्रकार के गारे का उपयोग कर चिना जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

ट्रिएर, जर्मनी में कोंस्‍टेनटाइन I के लिए दर्शक हॉल के रूप में अग्‍निरोधी ईंटों से 4थी शताब्‍दी में बनाया गया रोमन कोन्‍स्‍टेनटाइन बासिलिका

10,000 साल पुरानी ईंटें मध्‍य पूर्व में पाई गई थीं और ईंट निर्माण का सबसे पुराना उल्‍लेख बाइबल (उत्‍पत्ति 11:3 के अतिरिक्त, हमें ईंट बनाने दो और उन्‍हें पूरी तरह जलाने दो और उनके लिए ईंट पत्‍थर थे और गारा के लिए चूना था) पलायन में 1:14; 5:4-19.[1]

और उन्‍होंने अपने जीवन को गारे, ईंटों और मैदान में सभी प्रकार की सेवाओं से मुश्किल बंधन के साथ कठिन कर दिया: उनकी सभी सेवा, चाहे उन्‍होंने अपनी सेवा के लिए बनाया हो श्रम से बना था ) केजेवी (KJV)-पलायन 1:14
ये लोगों को ईंटों को बनाने के लिए और अधिक भूसे नहीं देगें: उन्हें जाने दो और खुद के लिए पुआल इकट्ठा करने दो. और ईंटों की कहानी, जिसे उन्‍होंने बनाया, आप उन्‍हीं को सुनाना, आप उनके आदर्शों को समाप्‍त नहीं करेंगे, इसलिए वे चिल्‍लाएंगे, कहेंगे कि हमें जाने दो और हमारे ईश्‍वर के लिए त्‍याग करने दो. ... और ईजरायल के बच्‍चों के अधिकारी, जिन्‍हें फिरोह के टास्‍कमास्‍टर ने उन पर स्थित किया है, पीटे गए थे और मांग किए गए थे, जबकि क्‍या आपने अपने कार्य को कल और आज ईंटों के निर्माण का पूरा नहीं किया है, इसलिए? ... कोई भूसा आपके सेवकों को नहीं दिया गया है, और वे हमसे कहते हैं, कि ईंट बनाओ और देखते हैं, उनके सेवक पीटे जाते हैं लकिन गलती हमारे लोगों में है. ... ' ' इसलिए अब जाओ, और काम करो, उसके लिए तुम्‍हें भूंसा नहीं दिया जाएगा फिर भी आपको ईंटों की कहानी बताई जाएगी. ... ओर इजरायल के बच्चों और अधिकारियों ने देखा कि वे बरी स्‍थिति में थे, इसके बाद यह कहा गया कि, आप अपने दैनिक कार्य में से ईंट निर्माण को नहीं निकाल सकते. केजेवी (KJV)-पलायन 05:07 ~ 8, 14, 16, 18 ~ 19

इन अभिलेखों ने दिखाया कि इजरायलियों ने अपने मिस्री शासकों के लिए धरती और भूसे से ईंटों को बनाया.[1]

सभ्‍यता के उदाहरण ने, जिन्‍होंने कींचड़ ईंट को बनाया, प्राचीन मिस्रवासी[2] और सिंधु घाटी सभ्‍यता के थे, जहां यह विशेष रूप से उपयोग किया गया. विशेष रूप से, यह बुहेन, मोहन जोदड़ो और हड़प्पा के खंडहरों से स्पष्ट है.

धूप में सुखाई गई प्रथम ईंटों को मेसोपोटामिया (जो अब इराक है) के प्राचीन शहर उर में करीब 4000 ईसा पूर्व में बनाया गया, हालांकि ईंटों को सुखाने वाला चाप वास्‍तव में नहीं मिला.[2]

चित्र:JetawanaStupa1.JPG
श्रीलंका के अनुराधापुरा में प्राचीन जेतावनरम्‍य स्तूप, विश्‍व में ईंटों का सबसे लंबा निर्माण में से एक है.
लैंडशट, जर्मनी में ईंटो से निर्मित दुनिया का सबसे ऊंचा सेंट मार्टिन चर्च का टावर 1500 में पूरा हुआ
मल्बोर्क कैसल, ट्यूटनिक क्रम का पूर्व औरडेन्‍सबर्ग- दुनिया में सबसे बड़ा ईंटों का महल

सुमेरियाई काल में अस्‍थि देवता को खाद्य और पेय प्रस्तुत किए गए थे जो रस्‍म में प्रथम ईंट के रूप में प्रतिनिधित्‍व किया गया है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अभी हाल ही में, इस्तांबुल में हगिया सोफिया की नींव के लिए गारा प्रत्‍येक 12 ईंटों के बीच रखा गया था जो प्रार्थना[तथ्य वांछित] के लिए था.[कृपया उद्धरण जोड़ें]रोमनों ने पहली बार आग में निर्मित ईंटों का उपयोग किया, और रोमन फौजों ने, जिन्‍होंने चलायमान भटठों को संचालित किया, साम्राज्य के कई भागों के लिए ईंटों से परिचित कराया. रोमन ईंट प्राय: सेना के चिन्‍ह से मुद्रित रहती थी जो उनके उत्‍पादन की निगरानी करते थे. पश्चिमी और दक्षिणी जर्मनी में ईंटों का इस्तेमाल, उदाहरण के लिए, रोमन वास्तुकार विट्रूवियस द्वारा पहले से वर्णित परंपराओं में पता लगाया जा सकता है.

पूर्व आधुनिक चीन में, ईंट निर्माण निम्‍न और अकुशल कारीगरों का कार्य था लेकिन भट्ठा मालिक का इसके स्‍तर उपर सम्‍मानित था.[3] ईंटों की प्रारंभिक निशानियां शियान में 2009 में करीब 3800 साल पुराने ध्‍वंसावशेषों में पाया गया है. इस खोज के पहले, यह व्‍यापक रूप से माना जाता है कि ईंट 3000 साल पहले पश्चिमी झोउ राजवंश में दिखा था क्‍योंकि प्राचीनतम ईंट पश्‍चिमी झोउ राजवंश के खंडहरों में पाई गयी थीं.[4][5][6] ये ईंटें पता लगाई गई प्राचीनतम ईंटें थीं जो आग की प्रक्रिया द्वारा बनाई गई थीं.[7] उत्पादन प्रक्रिया और ईंटों के लिए उपयोग किए गए की और चमक तकनीकों की ईंटों का प्रारंभिक विवरण 1103 में सांग राजवंश के सरकारी अधिकारी ली जु द्वारा प्रकाशित मैनुअल यींगजो फाशी में मिलता है, जो केंद्र सरकार के निर्माण ऐजेंसी के लिए सार्वजनिक कार्यों की देखरेख का प्रभारी था. इतिहासकार टिमोथी ब्रुक मिंग राजवंश के चीन में उत्‍पादन प्रक्रिया पर लिखते हैं ( 1637 में प्रकाशित विश्‍वकोष टियांगोंग काइवू से विजुअल दृश्‍यों की सहायता प्राप्त):

इरान में ईंटों से निर्मित शेबेली टॉवर 12वीं शताब्‍दी के शिल्‍प कौशल को प्रदर्शित करता है

... भटठे के मालिक को यह सुनिश्चित करना होता था कि भट्ठा के अंदर का तापमान एक स्तर पर स्‍थिर रहे जो मिट्टी को तरल सोने या चांदी के रंग के साथ टिमटिमाने का कारण बने. उन्हें यह भी जानना होता था कि कब पानी के साथ भट्ठा बुझाना है ताकि सतह की चमक को उत्‍पन्‍न किया जा सके. अज्ञात मजदूर ईंट निर्माण के निम्‍न कुशलता के चरणों को महसूस करते हैं: गारे और पानी का मिश्रण, गहरे पेस्‍ट में इसे करने के लिए मिश्रण पर बैलों को हांकना, पेस्‍ट को मानकीकृत लकड़ी के फ्रेम में (कुल मिलाकर 42 सेमी लंबा, 20 सेमी चौड़ा, और 10 सेमी मोटा) भरना, एक धनुषाकार तार के साथ सतहों को समलत करना, उन्हें फ्रेम से हटाना, सामने और पीछे की ओर टिकटों को मुद्रण करना जो संकत करते थे कि ईंट कहां से आया है और इसे कहां जाना है, भट्ठे में ईंधन (कोयला की जगह उपयुक्त लकड़ी ) , भट्ठे में ईंटों को रखना, उन्‍हें ठंडे स्‍थानों पर ले जाना, हालांकि भट्ठे तब भी गर्म रहते थे और परिवहन के लिए उनहें बंडलों में तैयार करना. यह गर्म और गंदा काम था.[8]

ईंटरें के सामने के भाग पर श्रमिक का नाम और जन्‍म तिथि और इसके निर्माण स्‍थल का नाम लिखने का विचार मिंग युग के लिए नया नहीं था और यह केवल प्रदर्शन था.[9] किन राजवंश (221 ईसा पूर्व -206 ईसा पूर्व तक) सरकार में केवल लोहारों और हथियार निर्माताओं को उनके हथियारों को वापस खोज पाने के लिए अपने नामों को खोदना आवश्‍यक था, ताकि उनके हथियार सरकार के लिए आवश्‍यक मानक गुणवत्‍ता से कम गुणवत्‍ता के साबित न हों.[10]

12 वीं शताब्दी में, उत्‍तरी-पश्‍चिमी इटली से ईंटों को उत्तरी-जर्मनी में पुनः विकसित की गई, जहां एक स्‍वतंत्र परंपरा शामिल थी. इसने तथाकथित ईंट गोथिक को उत्‍पन्‍न किया जो गोथिक वास्‍तुशिल्प का निम्‍न शैली थी जो उत्‍तरी यूरोप में विकसित हुई, विशेषरूप से बाल्‍टिक सागर के आसपास के क्षेत्र में, जहां बिना प्राकृतिक चट्टान के संसाधन हैं. ईंट गोथिक भवन, जो लगभग केवल ईंटों से बनाए जाते थे, डेनमार्क, जर्मनी, पोलैंड और रूस में पाए जाते हैं.

नवजागरण और अलंकार के दौरान, दृश्‍यमान ईंट की दीवारें अलोकप्रिय थीं और ईंट का कार्य अक्‍सर प्लास्टर के साथ कवर किया गया था. यह केवली 18 वीं सदी के मध्‍य के दौरान ही था कि दृश्‍यमान ईंट की दीवारें लोकप्रियता की कुछ उंचाई पर थीं, जैसा कि उदाहरण के लिए, पॉट्सडैम के डच क्वार्टर के रूप में रेखांकित.

हैम्बर्ग, जर्मनी में चिली घर

लंबी दूरी के लिए ईंटों के समान भवन सामग्री को भारी मात्रा में भेजना नहरों, रेलवे, सड़क और भारी वाहनें के युग से दुर्लभ था. इस समय के पहले ईंटें सामान्‍यत: अपने उपयोग किए जाने के स्‍थान के पास बनती थीं. यह अनुमान[by whom?] लगाया गया है कि इंगलैंड में अठारहवीं शताब्‍दी में घोड़ों और गाड़ियों द्वारा ईंटो की ढुलाई खराब सड़क पर दस मील (16 किमी) था जो उनकी कीमत का दोगुना था.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

गति और अर्थव्‍यवस्‍था के कारण ईंटों को अक्सर उन क्षेत्रों में उपयोग किया जाता था जहां पत्थर उपलब्ध थे. ब्रिटेन में औद्योगिक क्रांति के भवन व्‍यापक रूप से ईंट और लकड़ी से मांग के कारण बनाए गए थे. इस कारण से उदाहरण के लिए, बोस्‍टन और न्‍यूयार्क के समुद्र तटीय शहरों में उन्‍नीसवी सदी के भवन निर्माण क्रांति के दौरान, भूरे पत्‍थरों की प्रधानता की जगह स्‍थानीय निर्मित ईंटें न्‍यूजर्सी और कनेक्‍टीकट में अक्‍सर उपयोग किए गए.

19वीं शताब्‍दी में प्रारंभ हुई कार्यालयों के लिए उंचे भवनों के निर्माण की प्रवृति ने सांचे और रॉट आयरन और बाद में स्‍टील और कंक्रीट के कारण ईंट को विस्‍थापित कर दिया. कुछ प्रारंभिक उंची इमारतों की चिनाई की गई और उन्‍होंने सामग्री की सीमाओं को दर्शाया - उदाहरण के लिए, शिकागो का मोनाडनॉक भवन (1896 में खोला गया) चिनाई से बना है और यह मात्र सत्रह तल उंचा है, सतह की दीवारें लगभग6 फ़ुट (1.8 मी) मोटी हैं, स्‍पष्‍ट रूप से अधिक उंचा भवन बनाना निम्‍न तल पर आंतरिक सतह क्षेत्र के अधिकतम क्षति की ओर उन्‍मुख होगा. स्‍विस फेडरल इंस्‍टीच्‍यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी और वॉटफोर्ड यूके में बिल्डिंग रिसर्च इस्‍टैबलिशमेंट का अनुसरण कर 1950 के दशक में उंचे भवनों में ईंटो का प्रयोग पुन: प्रारंभ हुआ.इस पद्धति ने वहन करने वाली दीवार के एकल ईंट (150-225 मिमी) से अधिक मोटी नहीं अठारह तलों की संरचनाओं को उत्‍पन्‍न किया. यह संभावना भवन में अन्‍य सामग्री के साथ आसानी और गति के कारण पूरी तरह विकिसित नहीं हो सकी, 20वीं सदी के अंत में मध्‍यम या निम्‍न संरचनाओं तक सिमट गया या कंक्रीट और स्‍टील के भवनो के उपर पतले सजावटी आवरण या आंतरिक भार हीन दीवारों तक सिमट गई.

निर्माण के तरीके[संपादित करें]

20वीं सदी के शुरुआत में ईंट निर्माण का प्रारंभ.

ईंटों को मिट्टी, एक प्रकार की शीस्ट, मुलायम स्लेट, कैल्शियम सिलिकेट कंक्रीट या उत्खनित पत्थर के आकार से बनाया जा सकता है.

मिट्टी ही सबसे सामान्‍य सामग्री आधुनिक मिट्टी की ईंटो को बनाने की है जो तीन में से एक प्रक्रिया है - नरम मिट्टी, सूखा दबाया हुआ, या निस्रावित.

मिट्टी की ईंटें[संपादित करें]

नरम मिट्टी की विधि सबसे आम है, क्योंकि यह सबसे किफायती है. यह कच्ची मिट्टी के साथ शुरू होता है, जो अधिमानतः 25-30% रेत के साथ दबाव को कम करने के लिए मिश्रित किया जाता है. मिट्टी को पहले जमीन पर रखकर इच्छित स्थिरता के लिए पानी के साथ मिश्रित किया जाता है. तब मिट्टी को स्‍टील के सांचों में हाइड्रोलिक दबाव से दबाया जाता है. आकारित मिट्टी तब ('पकाना') शक्‍ति प्राप्‍त करने के लिए 900-1000 डिग्री सेल्‍सियस पर जलाई जाती है.

रेल भट्ठे[संपादित करें]

2007 में पूर्व ट्रांस्‍केई में नकोबा के निकट भटठा में जोआ ईंट निर्माता.

आधुनिक ईंट निर्माण में, यह सामान्‍यत: निरंतर जलते आग के सुरंगनुमा भट्ठों में किया जाता है, जिसमें ईंटों को भट्ठों के कन्‍वेयर, रेल या भटठा कार में सभी ईंटों को शक्‍ति प्राप्त करने के लिए ले जाया जाता है. ईंटों में अक्‍सर चूना, राख और जैविक सामग्री को पकाने की गति तेज करने के लिए मिलाया जाता है.

बैल की गर्त भट्टों[संपादित करें]

भारत में ईंट बनाने की प्रक्रिया आम तौर पर एक मानवीय प्रक्रिया है. उपयोग में सर्वाधिक सामान्‍य प्रकार का ईंट भट्ठा बुल्‍स ट्रेंच क्‍लिन (BTK) है जो एक उन्‍नीसवीं सदी के अंत में एक ब्रिटिश इंजिनियर डब्‍ल्‍यू. बुल द्वारा विकसित किया गया था.

एक अंडाकार या गोलकार खाई, 6-9 मीटर चौड़ी, 2-2.5 मीटर गहरी और 100-150 मीटर की परिधि में खोदी जाती है. एक लंबा निकास चिमनी को बीच में निर्मित किया जाता है. आधी या आधी से अधिक खाई "हरी" (बिना पकी) ईंटों से भरी जाती है जो एक खुले जालक पद्धति में एयरफ्लो को अनुमति देने के लिए इकट्ठा की जाती है. जाली को पक चुकी ईंटों की एक परतदार छत से बंद किया जाता है.

कार्यवाही में, नई हरी ईंटें, पाटन ईंटों के साथ, ईंट एक छोर पर ईंट के साथ इकट्ठा की जाती हैं, शीतल पकी हुई ईंटें अन्‍य छोर से परिवहन के लिए हटा दी जाती हैं. बीच में ईंट के श्रमिक ईंधन (कोयला, [लकड़ी], तेल, मलवा) के द्वारा ट्रेंच के उपर छत पर छेदों में पहुंचते हैं.

रोसकिल्डे, डेनमार्क में कैथेड्रल रॉसकिले का पश्चिम भाग.

BTK डिजाइन का लाभ यह है कि यह क्‍लैंप या स्‍कोव भट्ठों की तुलना में अधिक उर्जा का बचत करता है. शीट धातु या बोर्ड ईंट की जाली के माध्‍यम से एयरफ्लो को रास्‍ता देने के लिए उपयोग किया जाता है ताकि ताजी हवा सबसे पहले नई पकी ईंटों को मिले, हवा को गर्म कर सक्रिय अग्‍नि क्षेत्र में प्रवेश करे. हवा हरी ईंट के क्षेत्र (पकाने के पूर्व और तब सूखने पर) में बहती रहती है और अंतत: चिमनी से बाहर हो जाती है जहां उठने वाली गैसों का केंद्र चूषण प्रणाली के माध्‍यम से हवा को खींचती है. गर्म हवा का पुर्नउपयोग ईंधन लागत को कम करता है.

उपरोक्त रेल प्रक्रिया के साथ, BTK प्रक्रिया जारी रहती है. चौबीसों घंटे कार्यरत करीब आधा दर्जन मजदूर लगभग 15000-25000 ईटों को एक दिन में पका सकते हैं. रेल की प्रक्रिया के विपरीत, BTK प्रक्रिया में ईंटों को ले नहीं जाता है. इसके बजाय, जिन स्थानों पर ईंटो को लोड किया, पकाया और अनलोंड किया जाता है वह धीरे धीरे खाई के माध्‍यम से घूमाए जाते हैं.[11]

सूखी प्रक्रिया की ईंटें[संपादित करें]

सूखी प्रक्रिया पद्धति कीचड़ ईंट के समान है लेकिन एक अधिक मोटी मिट्टी के पेस्‍ट के मिश्रण से प्रारंभ होती है, इसलिए यह अधिक सुनिश्‍चित, तीखे किनारों वाली ईंटों को बनाती है. दबाव में अधिक बल और अधिक समय तक पकाना इस प्रक्रिया को अधिक खर्चीली बनाती है.

नि:स्रावित ईंटें[संपादित करें]

नि:स्रावित ईंटों के साथ मिट्टी को 10-15 प्रतिशत पानी (कड़े स्राव के लिए) या 25 प्रतिशत पानी (मुलायम स्राव के लिए) को मिलाया जाता है. यह उचित चौड़ाई और गहराई वाली सामग्री के लंबे केबल को बनाने के लिए एक डाई के माध्‍यम से दबाया जाता है. यह तब तारों की दीवार से इच्‍छित लंबाई की ईंटों में काटा जाता है. सर्वाधिक संरचित ईंटें इस पद्धति से बनाई जाती है क्‍योंकि कड़े घनत्‍व वाली ईंटें और छिद्र या अन्‍य कार्य इस डाई के द्वारा उत्‍पन्‍न किए जा सकते हैं. छिद्रों का प्रारंभ, लागत में परिणामी कमी के साथ, पूरी प्रक्रिया के माध्‍यम से मिट्टी की आवश्‍यक मात्रा को कम करता है. ईंटें हल्‍की और संभालने में आसान होती हैं और ठोस ईंटो की तुलना में भिन्‍न तापीय गुण होते हैं. कटी ईंटें पकाने के पहले 50-150 डिग्री सेल्‍सियस पर 20 से 40 घंटो के लिए सुखा कर कड़ी की जाती हैं. सुखाने के लिए ताप अक्‍सर भटठे की बेकार हुई ताप होती है.

कैल्शियम सिलिकेट ईंटें[संपादित करें]

कैल्शियम सिलिकेट ईंटों के लिए कच्‍चे मालों में चूना मिश्रित क्वार्ट्ज, चकमक पत्‍थर या तोड़ा गया सिलिसियस चट्टान एक साथ खनीजीय कलरेंट शामिल किया जाता है. सामग्रियां मिलाई जाती हैं और तब तक छोड़ दी जाती हैं जब तक चूना पूरी तरह जलयोजित न हो जाए, मिश्रण तब सांचे में दबाया जाता है ओर रासानिक कड़ेपन को तेज करने के लिए दो से तीन घंटों के लिए एक ऑटोक्‍लेव में उपचारित किया जाता है. निर्मित ईंटें बहुत परिशुद्ध और समान होती हैं, हालांकि तीखे किनारों को क्षति से बचाने के लिए सावधानी पूर्वक देखभाल करने की आवश्‍यकता होती है. ईंटों को कई रंगों में बनाया जा सकता है, सफेद रंग सामान्‍य है लेकिन पेस्‍टल रंग भी प्राप्‍त किया जा सकता है.

यह स्‍वीडेन में बहुत सामान्‍य है, विशेषरूप से 70 के दशक में निर्मित घरों या इसके पुननिर्माण में. यहाँ इसे "मैक्‍सीटेंगल (Mexitegel)" (यानि: Mexi [सकना] ईंट कर सकते हैं [) के रूप में संदर्भित किया जाता है.

भारत में इसे फ्लाई ऐश ईंटों के रूप में जाना जाता है, जो फ्लैग प्रक्रिया के द्वारा बनाया जाता है.

पकी ईंटों पर प्रभाव[संपादित करें]

मिट्टी की ईंटों पर पक्‍क्‍े रंगो का प्रभाव कच्‍ची सामग्री के रसायन और खनिज सामग्री, पकने का तापमान और भट्ठे के पर्यावरण पर होता है. उदाहरण के लिए, गुलाबी रंगों वाली ईंटें अधिक आयरन सामग्री का परिणाम होती हैं, सफेद या पीली ईंटों में उच्‍च चूने की सामग्री होती है. अधिकांश ईंटें विभिन्‍न प्रकार के लाल रंग में पकाई जाती हैं, यदि तापमान बढ़ता है तो रंग गहरे लाल, बैंगनी और तब भूरा या धूसर हो जाता है.1,300 °से (2,372 °फ़ै) . कैल्शियम सिलिकेट की ईंटों के पास, उपयोग किए गए रंग वर्णकों के आधार पर रंगों और छायाओं की व्‍यापक श्रृंखला है. ईंटों के नाम उनकी उत्‍पत्ति और रंग में दिखाई दे सकते हैं, जैसे, लंदन स्‍टॉक ब्रिक और कैंब्रिजशायर व्‍हाइट.

कंक्रीट से बनी ईंटें सामान्‍यत: ब्‍लॉक कही जाती हैं और विशेषरूप से रंग में पीले रंग की होती हैं. वे एक सूखी, एकीकृत कंक्रीट से बनाए जाते हैं जो कंपन और संघनन द्वारा स्‍टील के सांचे में या तो एगलेयर या स्‍थिर मशीन में बनाए जाते हैं. निर्मित ईंटें निम्‍न-दाब के वाष्‍प का उपयोग कर पकाने के बजाय देखभाल की जाती हैं. कंक्रीट के ब्‍लॉक मिट्टी की ईंटों की तुलना में अधिक व्‍यापक आकारों और आकृतियों में बनाई जाती हैं और व्‍यापक प्रकार की श्रेणी के अग्रभाग के रूप में उपलब्‍ध हैं - जिनमें से अधिकांश मिट्टी के ईंटों के प्रकटन का नकल करने के लिए हैं .

एक अभेद्य और अलंकृत सतह ईंटों पर या तो नमक के मिश्रण, जिसमें नमक को पकाने की प्रक्रिया के दौरान मिलाया जाता है, या स्‍लिप के उपयोग से, जो एक चमक बढ़ाने की सामग्री है जिसमें ईंटों को डुबाया जाता है, से बनाया जाता है. परिणामत: भट्ठों में पुन: पकाना स्‍लिप को ईंट की सतह के साथ एकीकृत सतह पर मिश्रित हो जाता है.

प्राकृतिक पत्थर ईंटें अपने व्‍यापक तुलनात्‍मक भार, परिणामी नींव की आवश्‍यकताएं और अधिक समय लेने वाली और उनके निर्माण और विस्‍तारण में प्रशिक्षित श्रम के कारण सीमित आधुनिक उपयोगिता में हैं. वे कुछ लोगों के द्वारा मिट्टी की ईंटों की तुलना में बहुत टिकाउ और अधिक सुंदर मानी जाती हैं. केवल कुछ ही पत्‍थर ईंटों के लिए उपयुक्‍त माने जाते हैं. सामान्‍य सामग्री ग्रेनाइट, चूना पत्थर और बालू के चट्टान हैं. अन्य पत्थरों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है (जैसे संगमरमर, स्लेट, क्वार्टजाइट, आदि), लेकिन ये सब विशेष इलाकों मे ही सीमित माने जाते हैं.

उत्‍कृष्‍ट आयाम, विशेषताएं और शक्ति[संपादित करें]

सामान्‍य ईंटें

कुशल रखरखाव और विस्‍तारण के लिए ईंटों को पर्याप्‍त छोटा और हल्‍का होना आवश्‍यक है ताकि वे एक हाथ से ही उठाए जा सकें (अन्य हाथ को करणी चलाने के लिए खाली छोड़कर). ईंटे सामान्‍यत: सपाट रखी जाती हैं और ईंटों की चौड़ाई सीमित होने के परिणामस्‍वरूप इसे एक हाथ के अंगूठे और उंगलियों के बीच पकड़ा जा सकता है, सामान्‍यत: करीब चार इंच(लगभग 100 मिमी). अधिकांश मामलों में, ईंट की लंबाई चौड़ाई से दोगुनी होती है करीब आठ इंच (करीब 200 मिमी) या थोड़ी अधिक. यह ईंटों को इसकी स्‍थिरता और शक्‍ति को बढ़ाने के लिए एक बांडेड सांचे में रखने की अनुमति देता है (उदाहरण के लिए, इंग्‍लिश बांड में रखे गए ईंटों के रेखांकण को इसके शीर्ष पर देखें). यह दीवार लंबी और खड़ी और समानांतर रखी गई वैकल्‍पिक लंब का उपयोग कर बनाई गई है. शीर्ष दीवार को एक साथ इसकी चौड़ाई से जोड़ते हैं.

चित्र:Loosebrickslyingwithoutcement.jpg
एक भारतीय शहर में सीमेंट या मिट्टी का उपयोग किए बिना एक बेकार ईंटों से निर्मित दीवार. सिर्फ सतही प्रकार के ईंटों का भारत में उपयोग किया जाता है. इस तरह के निर्माण अक्सर जोखिम भरे होते हैं

एक बड़ी ईंट एक मोटी दीवार (और इस प्रकार और अधिक आवारण के लिए) बनाता है. ऐतिहासिक रूप से, इसका मतलब है कि बड़े ईंटें आवश्‍यक रूप से ठंडे जलवायु में होती हैं ( उदाहरण के लिए थोड़ी बड़ी रूसी ईंटों को तालिका में देखें),जबकि छोटी ईंटें गर्म क्षेत्रों में पर्याप्‍त और अधिक किफायती होती हैं. इस सहसबंध का उल्‍लेखनीय उदाहरण आयातित डच ईंटों से 1571 में निर्मित जीनास्‍क में निर्मित ग्रीन गेट है, जो इसकी ठंडी जलवायु के लिए बहुत छोटा है, यह ठिठुराने वाले और हवादार आवास के लिए कुख्‍यात था. आजकल अब यह समस्‍या नहीं है, क्‍योंकि आधुनिक दीवारें विशेषरूप से विशेषीकृत इंसुलेशन सामग्री से बनाई जाती हैं..

एक काम के लिए सही ईंट रंग, सतह, बनावट, घनत्व, भार, अवशोषण और संरचना, ताप विशेषताओं, ताप और नमी की गति अग्‍नि प्रतिरोधकता से चुना जा सकता है.

ईंट का अग्रभाग ("घरेलू ईंट") आकार, [12] (वर्णानुक्रम)
मानक शाही मीट्रिक
Flag of Australia.svg ऑस्ट्रेलिया 9 × 4⅓ × 3 इंच 230 × 110 × 76 मिमी
Flag of India.svg भारत 9 × 4¼ × 2¾ इंच 228 × 107 × 69 मिमी
Flag of Russia.svg रूस 250 × 120 × 65 मिमी
Flag of South Africa.svg दक्षिण अफ्रीका 8¾ × 4 × 3 इंच 222 × 106 × 73 मिमी
Flag of Sweden.svg स्वीडन 250 × 120 × 62 मिमी
Flag of the United Kingdom.svg UK 8½ × 4 × 2½ इंच 215 × 65 मिमी × 102.5
Flag of the United States.svg संयुक्त राज्य अमेरिका 8 × 4 × 2¼ इंच 203 × 102 × 57 मिमी

इंग्लैंड में, सामान्‍य ईंटों की लंबाई और चौड़ाई सदियों से के निरंतर समान बनी रही है, लेकिन आधुनिक समय में, गहराई में करीब ढ़ाई इंच (लगभग 63 मिमी) का अंतर हाल में आया है. संयुक्त राज्य अमेरिका में, आधुनिक ईंटें आमतौर पर लगभग 8 × 4 × 2.25 इंच (203 × 102 × 57 मिमी) की हैं. यूनाइटेड किंगडम में, सामान्‍यत: ("काम") आधुनिक ईंट का आकार 215 × 65 मिमी × 102.5 (करीब 8.5 × 4 × 2.5 इंच) है, जो न्‍यूनतम 10 मिमी गारा के जोड़ के साथ एक "समन्वय" या 225 × 112.5 मिमी × 75मिमी, 06:03:02 के अनुपात के लिए बनाते हैं.

कुछ ईंट निर्माता प्‍लास्‍टर (इसलिए दृश्‍यमान नहीं) के लिए उपयोग करने के लिए अभिनव आकार और आकृति के ईंटों को बनाते हैं जहां उनकी निहित यांत्रिक गुण दृश्‍यमान की तुलना में अधिक है.[13] ये ईंटें आमतौर पर थोड़ी बड़ी होती हैं, लेकिन ब्लॉक के रूप में बड़ा नहीं और निम्न लाभ की पेशकश करती हैं:

  • एक थोड़ी बड़ी ईंट को कम गारा और रखरखाव (कम ईंटों) की आवश्‍यकता होती है जो लागत को कम कर देती है
  • धारीदार बाहरी एड्स पलास्‍टर
  • शक्‍ति को बनाए रखने के दौरान, अधिक जटिल आंतरिक छिद्र बेहतर रोधन की अनुमति देते हैं.

ब्लॉकों के पास आकारों की व्‍यापक श्रृंखला है. लंबाई और ऊंचाई में समन्वय मानक आकार (मिमी) में शामिल हैं 400 × 200, 450 × 150, 450 × 200, 450 × 225, 450 × 300, 600 × 150, 600 × 200, और 600 × 225; गहराई (काम आकार, मिमी) 60, 75, 90, 100, 115, 140, 150, 190, 200, 225 और 250. वे इस श्रृंखला में प्रयोग करने योग्य हैं क्योंकि वे मिट्टी की ईंटों की तुलना में हल्का रहे हैं. ठोस मिट्टी की ईंटों का घनत्व 2,000 किलो/m³ के आसपास है, यह दादुरी, खोखली ईंटों आदि से कम है, लेकिन वातित, स्‍वत:छिद्रित और ठोस ईंट, ठोस ईंट के समान, 450–850 kg/m³ की श्रेणी में हो सकती हैं.

ईंटों को ठोस (आयतन में 25 प्रतिशत से कम छेदों की कतार, हालांकि ईंट "दादुरी" हो सकती हैं, छोटे अग्रभाग के निशान के साथ), छिद्रित (25 प्रतिशत से कम आयतन को निकालते हुए छोटी छिद्रों वालो प्रतिमान), सेलुलर (20 प्रतिशत से अधिक आयतन को निकालते हुए छिद्रो के प्रतिमान सहित) या (खोखले (ईंट के आयतन के 25 प्रतिशत से अधिक को निकाल कर बड़े छिद्रों को शामिल करने वाला प्रतिमान). ब्लॉक ठोस, सेलुलर या खोखले हो सकते है

ईंट के एक बिस्तर पर इंडेंटेशन के लिए शब्द "melfrog जो अक्सर अपने मूल रूप में जिज्ञासा उत्तेजित करता है. सबसे अधिक संभावित विवरण है कि ईंट निर्माता भी कहते हैं, कि ब्लॉक एक मेढ़क को छिद्रित करने के लिए सांचे के आकार में रखा जाता है. आधुनिक ईंटनिर्माता सामान्‍यत: प्‍लास्‍टिक के मेढ़क का उपयोग करते हैं लेकिन पहले लकड़ी के बनाए जाते थे. जब वे भीग जाते थे और उन पर मिट्टी रखी जाती थी तो वे एम्‍फीबिया प्रकार के मेढ़क दिखते थे और इसी से इनाक नामकरण हुआ. समय इस शब्द का उपयोग भी उनके द्वारा छोड़ गए निशान के संदर्भ मे होता है. मैथ्यू 2006]

रोमन स्नान में स्नान का बोल्‍ट- इंग्लैंड
पुराने डिक्सी राजमार्ग, संयुक्त राज्य अमेरिका के ईंट का एक अनुभाग

संयुक्त राज्य अमेरिका में निर्मित ईंटों की दाबी ताकत 1000 lbf/in² से लेकर 15,000 lbf/in² (7-105 MPA या N/mm²) है, जो उपयोग करने पर भिन्‍न रही है जिस पर ईंटें रखी जाती हैं. इग्‍लैंड में मिट्टी की ईंटों की ताकत 100MPA तक हो सकती है, हालांकि एक सामान्‍य घर की ईंटें संभवत: 20-40MPA दिखती हैं.

उपयोग[संपादित करें]

ईंटों का उपयोग भवनों और फुटपाथ के निर्माण के लिए किया जाता है. संयुक्त राज्य अमेरिका में, ईंटों के फुटपाथ को भारी यातायात के लिए अयोग्य पाया गया था, लेकिन यह यातायात में सुधार या पैदल यात्री के परिसर के सतह की सजावटी उपयोग के रूप में वापस आ रही एक पद्धति है. उदाहरण के लिए, 1900 के प्रारंभ में, मिशिगन के ग्रांड रैपिड्स के शहर की अधिकांश गलियां ईंटों से पक्‍की की गई थीं. आज, वहां केवल करीब 20 प्रतिशत ईंट के ब्‍लॉक से पक्‍की गलियां शेष हैं (शहर के सभी गलियों की 0.5 प्रतिशत से भी कम की कुल मात्रा).[14]

ईंटें धातुकर्म ओर अस्तर भट्ठी के लिए कांच उद्योग के लिए भी उपयोग किया जाता है. इनके कई उपयोग हैं, विशेष रूप से सिलिका, मैग्निशिया, कैमौटे और तटस्‍थ (क्रोमोमैग्‍नेसाइट) दुर्दम्‍य ईंटें. ईंट का प्रकार अच्‍छा ताप प्रतिरोधी, भार के अंदर दुर्दम्‍य, उच्‍च गलन बिंदु और संतोषप्रद और संतोषजनक संरंध्र वाला होना आवश्‍यक है. यूनाइटेड किंगडम, जापान और संयुक्त राज्य में विशेष रूप से दुर्दम्‍य ईंट उद्योग हैं.

यूनाइटेड किंगडम में, ईंटों का उपयोग सदियों से निर्माण के लिए किया जाता रहा है. हाल तक करीब सभी घर संपूर्ण रूप से बनाए गए थे. हालांकि यूके में कई घर अब कंक्रीट ब्‍लॉक और अन्‍य सामग्रियों के मिश्रण से बन रहे हैं, कई घर आकर्षक अपील के लिए ईंटों की परत से ढंके जाते हैं.

ब्रिटेन में रेडब्रिक विश्वविद्यालय की स्थापना विक्टोरियन युग में तकनीकी कॉलेज के रूप में की गई थी. यह शब्‍द अधिक पुराने, अधिक क्‍लासिक-आधारित विश्‍वविद्यालयों से भेद करने में किया जाता है.

गैलरी[संपादित करें]

यह भी देंखे[संपादित करें]

  • ईंट रंगाई
  • ईंट कार्य
  • ईंट का भटठा
  • चीनी मिट्टी
  • ठोस चिनाई इकाई (राख ब्लॉक)
  • अग्निरोधी ईंट
  • चिनाई
  • मिलवॉल ईंट
  • गारा
  • कीचड़ ईंट
  • रोमन ईंट
  • टाइल
  • विनबर्जर

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. [3] ^ ब्रिक- हिस्‍ट्री
  2. [5] ^ हिस्‍ट्री ऑफ ब्रिकमेकिंग
  3. [10] ^ ब्रुक, 19-20
  4. [11] ^ अरलिएस्‍ट चाइनीज बिल्‍डिंग ब्रिक एपियर्ड इन जियान(中国最早砖类建材在西安现身)
  5. [12] ^ चाइनाज अरलिएस्‍ट बिल्‍िडिंग मटेरियल
  6. [13] ^ चाइनाज फर्स्ट ब्रिक, पॉसिबल अरलिएस्‍ट ब्रिक इन चाइना (蓝田出土"中华第一砖的砖"最早疑似我国")
  7. [14] ^ अरलिएस्‍ट फायर्ड ब्रिक डिस्‍कवर्ड इन जियान (西安发现全球最早烧制砖)
  8. [15] ^ ब्रुक, 20-21.
  9. [16] ^ ब्रुक, 22.
  10. [17] ^ ब्रुक, 22-23.
  11. [21] ^ पाकिस्तान एनवायरनमेंटल प्रोटेक्‍शन ऐजेंसी, ब्रिक इल्‍न यूनिट्स (पीडीएफ फाइल)
  12. [23] ^ http://www.crammix.co.za/export_info.htm Crammix, निर्यात सूचना - उत्पाद विकल्प
  13. [31] ^ सिरामिक्‍स मैक्‍सीलाइट मैक्‍सीलाइट
  14. [32] ^ मिशिगन | सक्‍सेस स्‍टोरीज | प्रिजर्व अमेरिका । ऑफिस ऑफ द सेक्रेटी ऑफ ट्रांसपोर्टेशन । यूएस डिपार्टमेंट ऑफ ट्रांसर्पोटेशन

सन्दर्भ[संपादित करें]

अतिरिक्त पाठ[संपादित करें]

  • Dobson, E. A. (1850) (2 pt.), Rudimentary Treatise on the Manufacture of Bricks and Tiles, London: John Weale 
  • हडसन, केनेथ (1972) बिल्‍डिंग मेटेरियल्‍स , अध्‍याय. : 3 ब्रिक एंड टाइल्‍स. लंदन: लांगमैन, पीपी 28-42.
  • Lloyd, N. (1925) History of English Brickwork. London: H. Greville Montgomery 

बाह्य कड़ियाँ[संपादित करें]