क्रिकेट का इतिहास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्रिकेट के खेल का इतिहास 16 वीं शताब्दी से आज तक अत्यन्त बिस्तृत रूप में विद्यमान है, अंतरराष्ट्रीय मैच1844 के बाद खेला गया, यद्यपि आधिकारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट (Test cricket) 1877 से प्रारम्भ हुए. इस समय से यह खेल मूल रूप से इंग्लैण्ड में विकसीत हुआ जो कि अब पेशेवर रूप में अधिकांस राष्ट्र मंडल देशो में खेला जाता है।

अनुक्रम

प्रारंभिक क्रिकेट[संपादित करें]

उत्पति[संपादित करें]

यह ज्ञात है कि क्रिकेट की शुरुआत २१ शताब्दी मे हुई,परिस्थितीजन्य साक्छाया के आधार पर निष्कर्ष निकलता है कि खेल की शुरुआत वील्ड (Weald) में रहने वाले बच्चों ने सक्सोन (Saxon) या नोर्मन (Norman) के दौरान, इंग्लैंड के दक्षिण-पूरब के घंने जंगलों में किया था जो कि केंट और सूसेक्स (Sussex) से लगा हुआ है। मध्ययुगीन काल में, वील्ड छोटे खेती और धातु के काम करने वाले समुदायों से बसा हुआ था। 17 वीं सदी की शुरुआत के आसपास वयस्कों के द्वारा शुरू करने से पहले, क्रिकेट कई शताब्दियों तक बच्चों के खेल के रूप में विद्यमान था।

यह मुम्कीन है कि क्रिकेट बच्चो के द्वारा ही ढूँड निकला गया और कई पीढ़ियों तक बच्चो के आवश्यक खेल के रूप में विद्यमान रहा. वयस्कों की भागीदारी 17 वीं शताब्दी से पूर्व अज्ञात है।संभवतः क्रिकेट लकड़ी के गेंद से उत्पन्न हुआ था, जो कि एक पुराने खेल, बल्लेबाज द्वारा गेंद को रोक कर जोर से मार कर अपने लक्ष्य तक पहुँचने के लिए किया गया।यह भेड़ के चारागाह या इसके किनारे खेला जाता था, भेड़ के ऊन के गोले (पत्थर या उलझे हुए उन के छोटे गोले) को गेंद के रूप में ; छड़ी या अंकुनी या अन्य कृषि औजार को बल्ले के रूप में तथा स्टूल या पेड़ स्टंप (जैसे, विकेट फाटक)[1] आदि इस खेल के मूल उपकरण थे।

"क्रिकेट" के नाम की व्युत्पत्ति[संपादित करें]

कई शब्दों को क्रिकेट पद के संभावित श्रोत माना जाता है क्रिकेट है, जिसे बल्ले या विकेट का उल्लेख कर सकते हैं।पुराने में फ़्रेंच, शब्द criquet क्लब का एक प्रकार है जो शायद अपना नाम croquet (croquet) दे दिया .कुछ लोग क्रिकेट और croquet को एक ही मूल का मानते है।Flemish (Flemish) में, krick (e) मतलब एक छड़ी और पुराने अंग्रेज़ी (Old English) में इसका मतलब, cricc या cryce बैसाखी या स्टाफ का अर्थ है (हालांकि यह उंच "k" ध्वनि दक्षिण पूर्व के बजाय उत्तर या पूर्वोत्तर midlands की ओर इशारा करते है, जहां संभवतः क्रिकेट की शुरुआत हुआ हैं).

वैकल्पिक रूप से, जाहिरा तौरपर फ्रेंच भाषा में criquet इसी Flemish शब्द से आया है krickstoelहै, जिसका मतलब एक छोटा और लंबा स्टूल है जिस पर चर्च में घुटने टेकते हैं।यह दो स्टांप वाले लम्बी निची विकेट या पुरवर्ती स्टूल के स्तूल्बाल (stoolball) की भांति प्रतीत होता है। स्टूल शब्द प्राचीन बोलचाल में पेड़ के विकेट के लिए प्रयोग होता था परन्तु प्राचीन समय में स्टूल (stoolball) बाल milking-stool का प्रयोग विकेट के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

Stoolball (Stoolball) क्रिकेट के समान ही एक प्राचीन खेल है, अभी भी इंग्लैंड के दक्षिणी counties, विशेष रूप से ससेक्स में खेला जाता है, राउंडर्स (rounders) और बेसबॉल. क्रिकेट के अग्रदूत के रूप में मान्य है।

प्रथम निश्चित संदर्भ[संपादित करें]

कई पूर्व के सुझाव दिए गए संदर्भों के बावजूद, इस खेल का प्रथम निश्चित संदर्भ 1597 एक अदालत के मामले में स्कूल के एक भूखंड के स्वामित्व पर विवाद के विषय में पाया जाता है।एक 59 वर्षीय कोरोनर, जॉन डेरिक ने गवाही दिया था कि वह और उसके स्कूल के दोस्तों ने इस स्थान पर पचास साल पहले kreckett . को खेला था। रॉयल व्याकरण स्कूल, Guildford (Royal Grammar School, Guildford) और श्री डेरिक के खाते निःसंदेह साबित करते हैं कि यह खेल सरी c.1550 में खेला जा रहा था।

प्रथम संदर्भ 1611 में एक वयस्क खेल के रूप में हुआ, जब ससेक्स में दो पुरुषों को रविवार के दिन चर्च में जाने के बजाय क्रिकेट खेलने के लिए गिराफ्तार किया गया।इसी साल, एक शब्दकोष ने क्रिकेट को बच्चो के खेल के रूप में परिभाषित किया जों यह साबित करता है कि क्रिकेट में वयस्कों की भागीदारी हाल ही में हुआ है।

प्रारंभिक सत्रहवाँ सदी[संपादित करें]

अंग्रेज़ी गृहयुद्ध के कई संदर्भ मिलते हैं जो कि संकेत करते है कि पारिश टीमों के मध्य यह वयस्क खेल खेला गया, परन्तु इस समय तक काउंटी टीमों के संदर्भ में कोई ठोस सबूत नहीं है।समान रूप से, वहाँ के अनियंत्रित छोटे जुआ (gambling) ही 18 वीं शताब्दी (18th century) खेल के खूबी के सबूत है।यह आम तौर पर विदित है कि 17 वीं सदी के मध्य तक "गाँव का क्रिकेट" का विकास हो चुका था।लेकिन काउंटी क्रिकेट का प्रारम्भ हुआ था न ही इस खेल में निवेश किया था।

राष्ट्रमंडल[संपादित करें]

सिविल युद्ध के 1648 में समाप्त होने के बाद, नए नैतिकतावादी सरकार ने "अवैध असेंबलियों" विशेष तौर पर अत्यधिक अधिक उचाट फुटबॉल (football).जैसे खेल पर नियंत्रण किया उनके कानूनों को पहले कि अपेक्छा अत्यधिक कड़ाई से छुट्टी के दिन भी पालन करने की मांग की.क्रिकेट की लोकप्रियता राष्ट्रमंडल (Commonwealth). के दौरान घटी क्योंकि छुट्टी का दिन ही निचले वर्गों के लिए खाली समय के रूप में उपलब्ध थी,Winchester (Winchester) और सेंट पॉल (St Paul's) जैसे सार्वजनिक शुल्क वाले विद्यालायें ने इसे पनपने दिया हैकोई वास्तविक प्रमाण नही है कि ऑलिवर क्रॉमवेल के शासन के दौरान क्रिकेट पर प्रतिबंध लगा था और ऐसे प्रमाण है कि अराजक काल (interregnum) के दौरान अधिकारिओ को यह स्वीकार्य था बशर्ते सब्त के दिन का उल्लंघन नही हो.

जुआ और प्रेस कवरेज[संपादित करें]

क्रिकेट का विकास निश्चित रूप से पुनः निर्माण (Restoration) के बाद 1660 में हुआ और माना जाता है कि पहले बड़े दांव लगाने वाले gamblers आकर्षित हुए . "स्वाभाविक" संसद ने १६६४ में एक जुआ अधिनियम पारित किया जिसमें 100 पाउंड के दांव तक सीमित था 17 वीं सदी के अंत तक क्रिकेट निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण जुआ का खेल बन गया था।हम एक "महान मैच" के बारे में जानते है, यह मैच 1697 में 11 ब्यक्तियो के एक पक्छ के साथ और 50 गिनी (guineas) के उच्च दांव के लिए ससेक्स में खेला गया था।

इस खेल की हमारी जानकारी और ब्रिधि हुई क्योंकि पिछले वर्ष प्रेस की स्वतंत्रता (freedom of the press) प्रदान की गई जिससे समाचार पत्रों में क्रिकेट की सूचनाए प्रकाशित होने लगी. परन्तु समाचार पत्रों में व्यापक स्थान काफी लंबे समय के बाद इस खेल को प्रदान किया।18 वीं सदी की पहली छमाही के दौरान, प्रेस खेल के बदलेहुए शर्तो के रिपोर्टों पर ध्यान केंद्रित करते थे।

अठारहवें शताब्दी का क्रिकेट[संपादित करें]

संरक्षण और खिलाड़ी[संपादित करें]

जुआ को पहला संरक्षक मिला क्योंकि कुछ जुअरियो ने अपनी टीम बनकर अपने दावे को मजबूत किया, इस तरह पुनःस्थापन के बाद पहले "काउंटी टीम" का गठन हुआ। काउंटी के नाम का इस्तेमाल सबसे पहले इस खेल में टीम के लिए 1709 में हुआ परन्तु इसमें संदेह है कि इससे पहले ऐसी विवरणिका व्यवस्था थी।1697 में मैच अच्छी तरह से ससेक्स बनाम काउंटी हो सके थे।

सबसे प्रारंभिक संरक्षक के उल्लेख 1725 में अभिजात वर्गीय और व्यापारियों के समूह थे उनके ज्यादा सक्रियता से प्रेस कवरेज अत्यन्त नियमित रूप से होने लगी.इन लोगों में चार्ल्स Lennox, द्वितीय ड्यूक रिकमंड (Charles Lennox, 2nd Duke of Richmond), सर विलियम गेज, 7 वीं Baronet (Sir William Gage, 7th Baronet), एलन Brodrick (Alan Brodrick) और एडवर्ड बजाए (Edward Stead). शामील थे पहली बार, प्रेस हमें व्यक्तिगत खिलाड़ियों जैसे कि थॉमस वाय्मार्क (Thomas Waymark). के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

सबसे पुराना क्रिकेट का बल्ला (cricket bat) जो अभी भी अस्तित्व में है 1729 से प्रचलित है। बल्ले के आकार पर ध्यान दें. तो पता चलता है कि यह आज के आधुनिक क्रिकेट के बल्ले

से ज्यादा आधुनिक हॉकी की छड़ी जैसा प्रतीत होता है।

इंग्लैंड से बाहर क्रिकेट के कदम[संपादित करें]

क्रिकेट उत्तरी अमेरिका 17 वीं शताब्दी में अंग्रेजी कालोनियों के माध्यम से पहुँचा, शायद यह इंग्लैंड के उत्तर से पहले पहुँचा .18 वीं शताब्दी में यह दुनिया के अन्य भागों में पहुँचा .कोलोनिस्ट्स द्वारा इसकी शुरुआत वेस्ट इंडीज (West Indies) में हुई और भारत में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के नाविकों द्वारा इस सदी के पहली छमाही में हुआ 1788 में ऑस्ट्रेलिया जैसे ही उपनिवेश के प्रारम्भ के साथ ही हुआ।न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका में 19 वीं सदी (19th century) के प्रारंभिक वर्षों में पहुचा।

कानून का विकास[संपादित करें]

क्रिकेट का बुनियादी नियम जैसे बल्ले और गेंद,  विकेट, पिच आयामों,ओवरों,  आउट के तरीके  इत्यादि आदि काल से ही अस्तित्व में है।1728 में,  सबसे पहले  एक खास खेल के लिए   "समझौते का आलेख"  के रूप कुछ कोड निर्धारित किए  गए जो बाद में सामान्य विशेस्यांग बन गया, विशेषतः  जुए के खेल के पुरस्कार और पैसे के भुगतान में महत्वपूर्ण हो गया। 1744 में, क्रिकेट का कानून (Laws of Cricket) पहली बार संहिताबद्ध किया गया और 1774 में   lbw,  मध्य स्टंप और अधिकतम बल्ले  की चौड़ाई जैसे नवाचारों के आने के बाद  संशोधन  किए गए।इन कानूनों के अनुसार  'प्रिंसिपल  दो ऐसे सज्जनों का अंपायर के रूप में  चुनाव करेंगे जो  सभी विवादों के  निर्णय करेंगे' इस कोड  की स्थापना  तथाकथित "स्टार और गार्टर क्लब" के  द्वारा तैयार किया  गया जिसके सदस्यों ने अंततः 1787 में. लॉर्ड्स (Lord's) पर  एमसीसी (MCC) की स्थापना की. इस तरह एमसीसी कानून के संरक्षक के रूप में  स्थापित हुआ और बाद में आवधिक संशोधन और  recodifications  करने लगा 

इंग्लैंड में निरंतर विस्तार[संपादित करें]

इस खेल का इंग्लैंड भर में प्रसार हुआ और 1751 में, यॉर्कशायर (Yorkshire) पहले स्थल के रूप में उल्लेख किया गया।मूल रूप से गेंदबाजी (bowling) (IE जमीन के साथ गेंद रोलिंग कटोरे (bowls) जैसे) 1760 के बाद जब गेंदबाजों ने गेंद की pich, लाइन, लम्बाई और गति के अध्यन शुरू किया तो इसे रोक दिया गया।Scorecards 1772 से नियमित आधार पर रखा जाने लगा और उसी समय से खेल के विकास की तस्वीर तेजी से स्पष्ट होती गई।

क्रिकेट के बल्ले के कलाकृति इतिहास का चित्रण.(बड़ी छवि के लिए प्रतिबिम्ब पर क्लिक करें)

प्रारंभिक 18 वीं सदी में लन्दन (London) और Dartford (Dartford) प्रथम प्रसिद्ध क्लब थे।लन्दन अपने मैच प्रसिद्ध आर्टिलरी ग्राउंड (Artillery Ground) पर खेलते थे जो अभी वहीँ है।दूसरो ने अनुशरण किया,विशेषतः Slindon (Slindon) ससेक्स में खेलते थे जो ड्यूक रिकमंड द्वारा समर्थित था जिसमें स्टार खिलाड़ी रिचर्ड Newland (Richard Newland) मौजूद थे। वहां Hornchurch, Maidstone, सेवेनोअक्स,ब्रॉमली (Bromley), Addington (Addington), Hadlow (Hadlow) और Chertsey (Chertsey) अन्य प्रमुख क्लब थे।

लेकिन दूर दूर तक प्रारंभिक क्लबों में सबसे प्रसिद्ध Hambledon (Hambledon) हैम्पशायर ही था इसकी शुरुआत पारिश संगठन के रूप में हुआ और पहली बार 1756 में विशिष्ठता हासिल की .इस क्लब ने 1760 के दशक में स्वयं को स्थापित किया और 1787 में एमसीसी (MCC) के बनने और लॉर्ड्स के क्रिकेट का मैदान (Lord's Cricket Ground) के खुलने तक खेल के केन्द्र बिन्दु के रूप में तीस वर्षों तक विद्यमान रहा .Hambledon ने मास्टर बल्लेबाज जॉन लघु (John Small) और पहले महान तेज गेंदबाज थॉमस ब्रेट (Thomas Brett). सहित कई उत्कृष्ट खिलाड़ियों दिए.उनकी सबसे उल्लेखनीय प्रतिद्वंद्वी Chertsey और सरी गेंदबाज एडवर्ड "Lumpy" Stevens (Edward "Lumpy" Stevens) थे, जो कि flighted डिलीवरी के मुख्य प्रस्तावक है।

सीधे बल्ले के प्रयोग से उछलती, पटकी हुई गेंदों का जबाब दिया गया। पुराने "हॉकी के छड़ी" नुमा बल्ले ही trundled और भूमि के सहारे स्किम्ड जैसे गेंदों को खेलने में कारगर थे

क्रिकेट और संकट[संपादित करें]

18 वीं शताब्दी में क्रिकेट को असली संकट का सामना करना पड़ा जब सात साल के युद्ध (Seven Years War) के दौरान प्रमुख मैच बंद हो गए। इसके मुख्य कारण निवेश न होना और खिलाडियो की कमी थे।परन्तु खेल अपने को बचाने में सफल रहा और 1760 के दशक के मध्य "Hambledon काल" शुरू हुआ

19 वीं सदी की शुरुआत में क्रिकेट को एक और बड़े संकट का सामना करना पड़ा जब नपोलियन का युद्ध (Napoleonic Wars). के चरम अवधि के दौरान प्रमुख मैच नही हुए .इस बार भी मुख्य कारण निवेश न होना और खिलाडियो की कमी ही था।लेकिन, 1760 की भांति खेल बच गया और 1815 में धीरे धीरे आगे बढा.

एमसीसी स्वयं रीजेंसी अवधि में यहोवा फ्रेडरिक Beauclerk (Lord Frederick Beauclerk) और जॉर्ज Osbaldeston (George Osbaldeston). के दुश्मनी के कारण विवाद का केंद्र बन गया, 1817 में, उनकी साज़िश और जलन के वजह से मैच फिक्सिंग घोटाले हुए जिसमे विलियम Lambert (William Lambert) जैसे बड़े खिलाड़ी आजीवन प्रतिबंधित हो गए।17 वीं सदी से. ही क्रिकेट में जुआ घोटाले हो रहे थे।

1820 में, क्रिकेट को स्वयं एक बड़े संकट का सामना करना पड़ा,जब तेज गति की roundarm गेंदबाजी (roundarm bowling) करने की अनुमति दे दिया गया।

उन्नीसवीं सदी में क्रिकेट[संपादित करें]

1820 में

Darnall, शेफील्ड पर एक क्रिकेट मैच.

इस खेल में काउंटी क्लबों के पहली बार गठन के साथ ही संगठनात्मक बुनियादी बदलाव आए.19 वीं सदी के दौरान सभी आधुनिक काउंटी क्लबों ससेक्स (Sussex) आदि की स्थापना हुई.

पहली काउंटी क्लबों की स्थापना के साथ ही उन्हें "player action" का सामना करना पड़ा जैसे 1846 में विलियम क्लार्क (William Clarke) ऑल इंग्लैंड ग्यारह (All-England Eleven) की यात्रा किया।हालांकियह  एक वाणिज्यिक उद्यम था, इस टीम ने उन   जिलों में इस खेल को लोकप्रिय बनाया जहाँ किसी  उच्च श्रेणी के क्रिकेट खिलाड़ियों ने  कभी  दौरा नही किया अन्य ऐसी  टीमों के गठन हुए जिनकी  शोहरत  तीस वर्षों तक रही.लेकिन काउंटियों और एमसीसी प्रबल रहे .

19 वीं सदी के मध्य और अंत में रेलवे नेटवर्क के विकास ने क्रिकेट के विकास में भी योगदान दिया. पहली बार, लंबी दूरी के टीमों के मध्य बिना समय बर्बाद करने वाली लम्बी यात्रा के बगैर मैच हो सके दर्शक मैचों के लिए लम्बी दूरी की यात्रा कर सके जिससे मैचों में दर्शको की तादाद बढ़ी.

1864 में, एक और गेंदबाजी क्रांति के परिणामस्वरूप overarm (overarm) की वैधता हुई और इसी वर्ष पहले Wisden क्रिकेटरों 'Almanack (Wisden Cricketers' Almanack) प्रकाशित किया गया।1865 में "महान क्रिकेट खिलाड़ी", विंग ग्रेस (W G Grace), ने अपने प्रथम श्रेणी (first-class) क्रिकेट में प्रवेश किया। उन्होंने क्रिकेट की लोकप्रियता बढ़ाने के लिए काफी प्रयास किया।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का प्रारम्भ[संपादित करें]

पहले ऑस्ट्रेलियाई दौरे वाली टीम (1878) का चित्रण Niagara Falls

पर किया गया, 1844 में सबसे पहला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच (first ever international cricket game) संयुक्त राज्य अमरीका (USA) और कनाडा (Canada) के मध्य हुआ।.यह मैच Elysian fields, Hoboken, नई Jersey (Elysian Fields, Hoboken, New Jersey) में खेला गया।

1859 में, पहली बार प्रमुख अंग्रेज़ी पेशेवरों की टीम विदेश दौरे पर रवाना हुई और 1862 में, पहली अंग्रेज़ी टीम ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया।

1877 में,इंग्लैंड पर्यटन टीम ने पूर्ण ऑस्ट्रेलियाई एकादश के खिलाफ दो मैच ऑस्ट्रेलिया में खेला, इसी से टेस्ट मैचों (Test matches).का उदघाटन माना जाता है अगले ही वर्ष, ऑस्ट्रेलिया ने पहली बार इंग्लैंड का दौरा किया जो शानदार सफल हुआ।इस दौरे पर हालाँकि कोई टेस्ट मैच नही हुआ परन्तु 1882 में शीघ्र ही अब तक का सबसे प्रसिद्ध मैच ओवल (The Oval) पर खेला गया जिससे The Ashes (The Ashes) श्रृंखला की शुरुआत हुई .1889 में दक्षिण अफ्रीका टेस्ट क्रिकेट खेलने वाला राष्ट्र बन गया।

काउंटी चैम्पियनशिप[संपादित करें]

एक महत्वपुर्ण घटना 1890 में हुई जब पहली बार काउंटी क्रिकेट चैम्पियनशिप (County Cricket Championship) का औपचारिक रूप से गठन किया गया 1890 से प्रथम विश्व युद्ध का काल विशेष रूप से गृह प्रेम और उपरी दिखावे से पूर्ण हो गया क्योंकि क्रिकेट "खेल की भावना" से खेला जाने लगा इस युग को "क्रिकेट का सुनहरा समय" (Golden Age of cricket) के नाम से जाना जाता है और इस युग में क्रिकेट के महान खिलाड़ी जैसे कि Wilfred रोड्स (Wilfred Rhodes), C B Fry (C B Fry), के एस रंन्जीत सिंह जी (K S Ranjitsinhji) और विक्टर Trumper (Victor Trumper) का नाम विशेष रुप से उल्लेखनीय है

गेंद प्रति ओवर[संपादित करें]

1889 में पुरातन चार गेंद प्रति ओवर को पाँच गेंद प्रति ओवर में बदल दिया गया और1900 में आधुनिक छह गेंद प्रति ओवर में परिवर्तित कर दिया गया .बाद में, कुछ देशों ने आठ गेंदों प्रति ओवर का भी प्रयोग किया।1922 में,ऑस्ट्रेलिया में गेंदों की संख्या प्रति ओवर छह से आठ कर दिया गया।आठ गेंद प्रति ओवर का प्रचलन 1924 में न्यूजीलैंड और 1937 में दक्षिण अफ्रीका तक बढ़ गया .इंग्लैंड में, आठ गेंद वाले ओवर को, प्रायोगिक तौर पर 1939 के सीजन के लिए किया गया, 1940 तक प्रयोग जारी रखने का इरादा था परन्तु प्रथम श्रेणी क्रिकेट द्वितीय विश्व युद्ध के कारण निलंबित कर दिया गया था और जब इंग्लिश क्रिकेट दुबारा शुरू हुआ तो छह गेंद वाला ओवर पुनः बहाल हो गया।1947 में क्रिकेट के कानून ने छह या आठ गेंदें खेलने की शर्तों के आधार पर अनुमति देदी.1979/80 के ऑस्ट्रेलियाई और न्यूजीलैंड सीजन से, छह गेंद वाले ओवर का प्रयोग विश्व भर में हुआ और 2000 में कानून का सबसे हाल ही के संस्करण ने छह गेंद वाले ओवर की ही अनुमति दी है।

बीसवीं शताब्दी का क्रिकेट[संपादित करें]

टेस्ट क्रिकेट का विकास[संपादित करें]

जब इंपीरियल क्रिकेट कॉन्फ्रेंस (जो मूल रूप से बुलाया जाता था) की स्थापना 1909 हुआ तो सिर्फ इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका इसके सदस्य थे।परन्तु यह जल्द ही बदला गया, द्वितीय विश्व युद्ध से पहले भारत, वेस्ट इंडीज और न्यूजीलैंड टेस्ट खलने वाले देश हो गए और शीघ्र ही पाकिस्तान (Pakistan) भी इसमें शामिल हो गया।अंतरराष्ट्रीय खेल में कई "सहबद्ध देश " शामिल और 20 वीं सदी के समापन के वर्षों में, तीन और देश श्रीलंका (Sri Lanka), ज़िम्बाब्वे और बांगलादेश. भी टेस्ट खेलने वाले देश बन गए।

20 वीं सदी के दौरान टेस्ट क्रिकेट सबसे लोकप्रिय खेलो में रहा परन्तु इसमें कई समस्याये भी आई, जब 1932/33 कुख्यात "Bodyline (Bodyline) सीरीज" हुई, जिसमें इंग्लैंड के डगलस Jardine (Douglas Jardine) ने तथाकथित "पैर के सिद्धांत" का इस्तेमाल ऑस्ट्रेलिया के डॉन ब्रेडमैन के रन स्कोरिंग की प्रतिभा को बेअसर करने के लिएउपयोग किया।

दक्षिण अफ्रीका का निलंबन (1970-1991)[संपादित करें]

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को सबसे बड़ा संकट रंगभेद की, दक्षिण अफ्रीकी की नस्लीय अलगाव वाली नीति के कारण हुआ।यह स्थिति 1961 में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रमंडल देशों के समूह छोड़ने से विकेन्द्रित हुआ। इसी कारण उसे क्रिकेट बोर्ड को नियमों के तहत अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सम्मेलन (आईसीसी). को छोड़ना पड़ा.1968 में क्रिकेट का रंगभेद का विरोध और तेज हो गया जब दक्षिण अफ्रीकी अधिकारियों ने इंग्लैंड के दौरे को रद्द कर दिया, क्योंकि तुलसी d'Oliveira (Basil D'Oliveira) नामक नस्लीय खिलाड़ी को इंग्लैंड टीम में शामिल कर लिया था।1970 में, आईसीसी के सदस्यों ने दक्षिण अफ्रीका को अनिश्चितकाल के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रतियोगिता से निलंबित करने के लिए मतदान किया।विडंबना यह है कि उस समय दक्षिण अफ्रीकी शायद विश्व में सबसे ताकतवर टीम थी।

दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड ने ज्यादा धन दे कर अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को अलग टीम बना कर "विद्रोही पर्यटन" के रूप में अपने देश का दौरा करने के लिए प्रेरित किया ताकि अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के प्रतियोगिता की इच्छा को पुरा कर सके.आईसीसी ने उन खिलाडियों को विद्रोही खिलाड़ियों की काली सूची में डाल दिया, जो दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए सहमत हुए थे और अधिकारिक तौर पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से प्रतिबंधित कर दिया .जैसा कि 1970 में खिलाड़ियों का पारितोषिक कम था, कई खिलाड़ियों ने दक्षिण अफ्रीका दौरे के प्रस्ताव स्वीकार कर लिया, विशेष रूप से इसमें वो खिलाड़ी शामिल थे जो करियर के आखिरी पडाव पर थे, जो प्रतिबन्ध से जयादा प्रभावित नही थे।

विद्रोही पर्यटन 1980 के दशक तक जारी रहा परन्तु दक्षिण अफ्रीका की राजनीति में प्रगति हुई और रंगभेद को समाप्त किया गयादक्षिण अफ्रीका, नेल्सन मंडेला के नेत्रितव में "Rainbow राष्ट्र" के अंतर्गत 1991 में अंतरराष्ट्रीय खेल में वापस स्वागत किया गया .

विश्व क्रिकेट श्रृंखला[संपादित करें]

शीर्ष क्रिकेटरों के पैसे की समस्या भी क्रिकेट के संकट का मूल कारण था, जब 1977 में ऑस्ट्रेलियाई मीडिया के बादशाह केरी पैकर (Kerry Packer) ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड के साथ टीवी अधिकारों के करार में विवाद के कारण बहार हो गए।खिलाड़ियों के कम पारिश्रमिक भुगतान का लाभ लेते हुए पैकर ने दुनिया के सबसे अच्छे खिलाडियों के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के ढांचे के बाहर निजी क्रिकेट लीग के लिए करार कर लिया।विश्व क्रिकेट सीरीज ने कुछ प्रतिबंधित दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों को किराए पर ले लिया और उन्हें दूसरे विश्व स्तर के खिलाड़ियों के विरुद्ध अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपने कौशल दिखाने के लिए अनुमति भी दे दी.हालाँकि यह विद्रोह 1979 तक ही चला और विद्रोही खिलाड़ियों को पुनः अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की अनुमति दी गई, हालांकि कई राष्ट्रीय टीम उनके बिना ही बाहर खेलने के लिय गए।लंबे समय के विश्व क्रिकेट सीरीज के परिणाम सामने आए, खिलाडियों के वेतन बढोतरी तथा अन्य नए परिवर्तन हुए जिनमे रंगीन किट और रात के खेल की शुरुआत शामिल हैं।

सीमित ओवरों का क्रिकेट[संपादित करें]

1960 के दशक में, अंग्रेज़ी काउंटी टीमों ने क्रिकेट के अलग संस्करण की शुरुआत की जिसमें प्रत्येक खेल में एक-एक ही पारी होगी तथा प्रत्येक पारी में ओवारो की अधिकतम संख्या निश्चित कर दी गई।1963 में नोकोउट प्रतियोगिता की शुरुआत हुई, सीमित ओवरों के क्रिकेट की लोकप्रियता में वृद्धि हुई और 1969 में राष्ट्रीय लीग की स्थापना हुई जिसके फलस्वरूप काउंटी चैम्पियनशिप में मैचों की संख्या में कमी हुई.

हालांकि कई "पारंपरिक" क्रिकेट प्रेमियों ने खेल के इस लघु रूप पर आपत्ति की, सीमित ओवरों के क्रिकेट में दर्शकों को एक ही दिन के भीतर परिणाम मिल जाने का लाभ था जिसने छोटे या व्यस्त लोगों के क्रिकेट की चाह को और बढ़ा दिया और यह व्यावसायिक दृष्टी से भी सफल साबित हुआ।

सर्व प्रथम सीमित ओवर का अंतरराष्ट्रीय मैच मेलबोर्न क्रिकेट मैदान पर हुआ, यह 1971 के टेस्ट मैच के पूरक के रूप में हुआ जो भारी बारिश की वजह से उद्घाटन के बाद छोड़ दिया गया था।यह मैच केवल प्रयोग के रूप में खिलाड़ियों को कुछ व्यायाम करने के उदेश्य से हुआ, लेकिन यह बेहद लोकप्रिय साबित हुआ।सीमित अंतरराष्ट्रीय ओवर (Limited overs internationals) (LOIs या एकदिवसीय मैचों, इसके बाद एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय) खेल का एक व्यापक लोकप्रिय रूप बन गया, विशेष रूप से उन व्यस्त लोगों के लिए जो एक ही दिन में सम्पूर्ण मैच देखना चाहते थे।अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की प्रतिक्रिया आई, उसने इसके विकास के लिये 1975 में इंग्लैंड में क्रिकेट वर्ल्ड कप का आयोजन किया, जिसमें टेस्ट खेलने वाले सभी देशो ने भाग लिया।

21 वीं शताब्दी का क्रिकेट[संपादित करें]

क्रिकेट अब तार्किक रूप से दुनिया की दूसरी सबसे लोकप्रिय खेल है।[2][3][4][5][6][7][8][9]

अब तक की कहानी[संपादित करें]

आईसीसी ने जून 2001 में "टेस्ट चैम्पियनशिप तालिका" और, अक्तूबर 2002 में एक "एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय चैम्पियनशिप तालिका" की शुरुआत की.ऑस्ट्रेलिया ने  लगातार (2007 के अंत तक) दोनों तालिकाओं में शीर्ष स्थान प्राप्त किया।

क्रिकेट दुनिया में एक प्रमुख खेल के रूप में विद्यमान है और यह भारतीय उपमहाद्वीप (Indian subcontinent). में दर्शकों का सबसे लोकप्रिय खेल है।आईसीसी ने अपने विकास कार्यकर्म को आगे बढाते हुए, टेस्ट के स्तर पर, प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम राष्ट्रीय टीमों को आगेलाने का प्रयास कर रही है।विकास के प्रयासों में अफ्रीकी, एशियाई और संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) जैसे राष्ट्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं,.2004 के आईसीसी अंतरमहाद्वीपीय कप (ICC Intercontinental Cup) में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पहली बार 12 राष्ट्रों को लाया गया .

क्रिकेट के खेल का सबसे नया प्रयास है ट्वेंटी 20 (Twenty20), मूलतः एक शाम मनोरंजन.इसे अब तक भारी लोकप्रियता मिली है और दर्शकों बड़ी उपस्थिति ध्यान अपनी ओर खींचा है और साथ ही टीवी दर्शकों को भी अपने ओर आकर्षित किया है।यह उद्घाटन आइसीसी ट्वेंटी 20 विश्व कप (inaugural ICC Twenty20 World Cup) टूर्नामेंट 2007 में आयोजित की गई थी, भारत ने पाकिस्तान को कांटे की टक्कर में पाँच रनों से हराकर पहला चैंपियन बनने का गौरव प्राप्त किया। भारत में ट्वेंटी 20 लीग का गठन - अनौपचारिक भारतीय क्रिकेट लीग (Indian Cricket League) जो 2007 में शुरू हुआ और, आधिकारिक भारतीय प्रीमियर लीग (Indian Premier League) 2008 में प्रारम्भ हुआ - जिससे क्रिकेट के भविष्य पर इसके प्रभाव के बारे में क्रिकेट की प्रेस में बहुत सारी अटकलें उठी[10][11][12][13]

भविष्य[संपादित करें]

अमेरिका को लंबे समय से क्रिकेट के एक आशाजनक बाजार के रूप में देखा गया है, लेकिन यह खेल जनता पर कोई प्रभाव छोड़ने में कामयाब नही हुई जो की इस खेल से अनभिज्ञ है।क्रिकेट समर्थक (Pro Cricket) पेशेवर लीग की स्थापना अमेरिका में 2004 में हुई जिसने आखरी सीमा रेखा पर करने का प्रयास किया हालांकि इस खेल का विकास आप्रवासी समूहों के माध्यम से जारी है।उदाहरण के लिए, क्रिकेट हाल ही में न्यूयॉर्क शहर के स्कूल प्रणाली की लीग खेल में जुडा है, इस में 600 से अधिक उच्च विद्यालय के छात्रों की 14 टीमों 12 सप्ताह प्रतियोगिता[14] में भाग ले रहीं हैं।चीन भी भविष्य में क्रिकेट के विकास का एक स्रोत है, 2004 में चीन सरकार ने खेल के विकास के लिये कार्यकर्म की घोषणा किया है, जिससे चीनी लोग अनभिज्ञ है, जिसमे 2019 में विश्व कप के योग्य बनना तथा टेस्ट राष्ट्र का दर्जा प्राप्त करने जैसे महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखे गए हैं।

इस असंगत प्रचार (कम से कम क्रिकेट प्रेस में) के बावजूद संयुक्त राज्य अमेरिका में क्रिकेट का विकास हुआ, अगले नये आने वाले प्रमुख देशों में दक्षिण एशिया से आने की संभावना है। यह खेल पहले से ही नेपाल और अफगानिस्तान में बहुत लोकप्रिय है और अंडर 18 विश्व कप और एसीसी ट्रॉफी के तहत प्रतियोगिताओं के परिणामों से यह साबित होता है की इनमें प्राकृतिक प्रतिभा की कोई कमी नहीं हैं

दूसरे, आईसीसी क्रिकेट के काननों की धारा 24.3 की ब्याख्या एवं समीक्षाएँ कर रहा है, उचित गें करने की की परिभाषा है - भुजा, Biomechanical निष्कर्षों के आने से यह पत्ता चला है के श्रीलंका के स्पिनर Muttiah मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) हाथ की भुजा के विस्तार के लिए दिशा निर्देशों का उल्लंघन दूसरा (doosra).गेंद करते समय करते हैं।संदिग्ध भुजा के प्रयोग करने पर मुरलीधरन की रिपोर्टिंग मैच रेफरी (match referee)क्रिस ब्रॉड (Chris Broad) के पास कार्यवाही करने के लिये हुई और बाद में अध्ययन से निष्कर्ष निकला कि वर्तमान दिशा निर्देश इसके लिए अपर्याप्त हैं अतः इसे लागू नही किया जा सकता है।इसका मतलब यह हुआ कि क्रिकेट के कानून पर आगे गौर करने कि जरुरत है

अंत में, ट्वेंटी 20 का विकास कैसे होता है, यह आगे देखना है।पहले से ही इसे लंबे सीज़न काल प्रतियोगिता के रूप में अमेरिकी बेसबॉल के पर्याय के रूप में लागू करने कि मांग हो रही है, यह मूलतः एक शाम के मनोरंजन का खेल है।

इन्हें भी देखे

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी स्रोतों[संपादित करें]

आगे का अध्ययन[संपादित करें]

  • क्रिकेट का इतिहास (1914 तक के लिए) हैरी Altham (Harry Altham) के द्वारा
  • अंग्रेज़ी क्रिकेट का सामाजिक इतिहास डेरेक Birley (Derek Birley) के द्वारा
  • क्रिकेट: की अपनी विस्तार और विकास का इतिहास Rowland Bowen (Rowland Bowen) के द्वारा
  • Wisden क्रिकेटरों Almanack (वार्षिक): विभिन्न संस्करण

विज्डन क्रिकेटर्स अल्मनैक

  1. डेरेक Birley (Derek Birley), अंग्रेज़ी क्रिकेट का सामाजिक इतिहास, Aurum १९९९
  2. कैसे IPL क्रिकेट में परिवर्तन करेंगे ? बीबीसी समाचार 17 अप्रैल 2008
  3. क्रिकेट के नए आदेश बीबीसी समाचार 29 फरवरी 2008
  4. सितारें बैंगलोर में क्रिकेट की दुनिया देखने के लिये आंखों के रूप में बाहर आए गार्जियन (The Guardian) अप्रैल 18, 2008
  5. टेस्ट खेलने वाले देश खिलाड़ियों से हाथ धोये या कार्रवाई करें ऑस्ट्रेलियाई (The Australian) अप्रैल 18, 2008
  6. "गेंद और बल्ले के साथ एक खेल खेलना जिसमे पिचर नही ", न्यूयॉर्क टाइम्स, 3 अप्रैल, 2008