इंग्लैंड क्रिकेट टीम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इंग्लैंड और वेल्स
England Cricket Cap Insignia.png
इंग्लैंड क्रिकेट क्रेस्ट
टेस्ट मान्यता प्राप्त 1877
पहला टेस्ट मैच वि ऑस्ट्रेलिया मेलबोर्न क्रिकेट मैदान, मेलबॉर्न, में 15–19 मार्च 1877
टेस्ट के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस
वनडे के कप्तान अलस्टेयर कुक
ट्वेंटी-20 के कप्तान स्टुअर्ट ब्रॉड
कोच एंडी फ्लार
आधिकारिक आईसीसी टेस्ट और ओडीआई रैंकिंग प्रथम (टेस्ट), चौथी (ओडीआई)
टेस्ट मैच
– इस वर्ष
915
8
अंतिम टेस्ट मैच वि भारत
जीत/हार
– इस वर्ष
326/261
6/0
23 अगस्त 2011 तक

इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट टीम एक क्रिकेट टीम है जो इंग्लैंड और वेल्स का प्रतिनिधित्व करती है। 1992 तक यह स्कॉटलैंड का भी प्रतिनिधित्व करती थी। 1 जनवरी 1997 के बाद से टीम को इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) संचालित करती है, इससे पूर्व यह 1903 से 1996 के अन्त तक मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब के द्वारा नियंत्रित कि जाती थी।

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया सबसे पहली टीम थी जिन्हे 15 मार्च 1877 में सर्वप्रथम टेस्ट क्रिकेट का दर्जा मिला था, और 15 जून 1909 को इन्हे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) कि पूर्ण सदस्यता प्राप्त हुई। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ने ही 5 जनवरी 1971 को सबसे पहला एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय खेला था, और इंग्लैंड का सबसे पहला ट्वेन्टी20 मैच भी ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध 13 जून 2005 को खेला गया था।

23 अगस्त 2011 तक, इंग्लैंड अपने खेले गये 915 टेस्ट मैचों में से 326 में विजयी रहा है तथा उसके 328 मैच ड्रा रहें हैं। इंग्लैंड के एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय के रिकॉर्ड में शामिल हैं तीन क्रिकेट विश्व कप (1979, 1987 और 1992) में उपविजेता के रूप में परिष्करण तथा 2004 की आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफ़ी में उपविजेता।

इंग्लैंड टीम मौजूदा आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी-20 चैंपियन हैं, जो पद उसे 2010 आईसीसी विश्व ट्वेंटी20 जीतने के बाद मिला था। इंग्लैंड वर्तमान समय में द एशेज की धारक हैं, जो कि इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली टेस्ट मैच श्रृंखला हैं, और जो 1882–83 ऑस्ट्रेलियाई श्रृंखला के बाद से खेली जा रही हैं। टीम वर्तमान समय में आईसीसी एक दिवसीय चैम्पियनशिप में चौथे स्थान पर हैं और, अगस्त 2011 तक, विश्व की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट पक्ष हैं

इतिहास[संपादित करें]

सबसे पहली दर्ज घटना जिसमे किसी टीम ने इंग्लैंड के प्रतिनिधित्व का दावा किया हो 9 जुलाई 1739 में हुई जब "ऑल इंग्लैंड" टीम (अखिल इंग्लैंड टीम), जिसमे केंट को छोड के सम्पूर्ण इंग्लैंड से 11 भद्रपुस्र्ष शामिल हुए, ने "अजेय काउंटी" केंट के विरुद्ध मैच खेला और सिर्फ थोडे अन्तर से पराजित हुए।

सन् 1846 में विलियम क्लार्क ने ऑल-इंग्लैंड ग्यारह का गठन किया। इस दस्ते में यकीनन उस समय के सर्वश्रेष्ठ अंग्रेज पेशेवर खिलाड़ियों शामिल थे, इसके साथ-साथ इसमे दो नाममात्र "शौकिया" क्रिकेटर अल्फ्रेड मेन्न और निकोलस फेलिक्स भी थे।[1][2] ऑल-इंग्लैंड ग्यारह खेलने के आमंत्रणों से प्लावित थी, और इसके लिए उसे अपनी प्रतिद्वंद्वी टीमों द्वारा भुगतान भी किया जाता था (जो इसके बदले दर्शकों की बड़ी उपस्थिति कि आशा करती थीं)।[1] बाद के वर्षों के दौरान रेलवे के विकास कि मदद के कारण टीम ने नियमित रूप से ग्रेट ब्रिटेन का दौरा किया, जिसके फलस्वरुप खेल उन क्षेत्रों में भी लोकप्रियता पाने लगा जहां पहले कभी उच्च श्रेणी क्रिकेट नहीं देखा गया था।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. बिरले 1999, प॰ 85.
  2. मेजर 2007, प॰ 178.
  3. बिरले 1999, प॰ 86–87.

ग्रंथवृत्त[संपादित करें]