इस्लाम की आलोचना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस्लाम के जन्म से ही उसकी आलोचना होती रही है। सबसे पहले सन् १००० ई में भी पहले ईसाइयों के द्वारा इसकी आलोचना शुरू हुई। वो इस्लाम को इसाईयत का एक परिवर्तित रूप या नया सम्प्रदाय के रूप में मानते थे।[1] बाद में मुस्लिम-विश्व से भी आलोचना के स्वर निकलने लगे और साथ ही साथ यहूदी लेखक एवं चर्च से जुड़े इसाई इसकी आलोचना करते पाये गये।[2][3][4] आधुनिक काल में हिन्दू, सिख, जैन, नास्तिक तथा इस्लाम के अन्दर और बाहर के लोग विविध मुद्दों को लेकर इसकी आलोचना करते हैं।

आलोचना के मुख्य बिन्दु[संपादित करें]

इस्लाम की आचोलना अनेकानेक विषयों पर होती है। कुछ विषय हैं -

  • इस्लाम द्वारा आलोचना को सहन न करना,
  • इस्लाम में काफिरों के प्रति दुर्व्यवहार की व्यवस्था,
  • इस्लाम के नये सम्प्रदायों के प्रति नीति
  • इस्लाम के पैगम्बर मुहम्मद साहब के जीवन के अनैतिक पक्षों की भी बहुत आलोचना होती रहती है। यह अनैतिकता उनके नीजी व

सार्वजनिक दोनो जीवन में देखने को मिलती है।[4][5]

  • मुसलमानों की धार्मिक पुस्तक कुरान की विश्वसनीयता एवं नैतिकता को लेकर भी सवाल खड़े किये जाते हैं।[6][7]
  • आधुनिक इस्लामी राष्ट्रों में मानव अधिकारों के हनन को लेकर भी आलोचबा होती है।
  • इस्लाम में महिलाओं की स्थिति पर भी इस्लाम आलोचना का शिकार होता है।[8][9]
  • हाल के दिनों में इस बात के लिये इस्लाम की आलोचना हुई है कि मुसलमान पश्चिमी देशों के समाज में घुल-मिल पाने में अक्षम रहे हैं।[10]
  • इस्लाम को आतंकवादी मजहब कहा जाता है और सांख्यिकीय आधार पर इसके अनुयायी अधिक संख्या में आतंकवादी एवं हिंसक कार्यवाहियों में लिप्त पाये गये हैं।
  • कहा जाता है कि मुसलमान जब अल्पमत में होते हैं तो अशान्त (turbulent) होते हैं तथा बहुमत में होने पर असहनशील (intolerant).

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ^ De Haeresibus by John of Damascus. See Migne. Patrologia Graeca, vol. 94, 1864, cols 763-73. An English translation by the Reverend John W Voorhis appeared in THE MOSLEM WORLD for October 1954, pp. 392–398.
  2. ^ a b Warraq, Ibn (2003). Leaving Islam: Apostates Speak Out. Prometheus Books. p. 67. ISBN 1-59102-068-9.
  3. ^ a b Ibn Kammuna, Examination of the Three Faiths, trans. Moshe Perlmann (Berkeley and Los Angeles, 1971), pp. 148–49
  4. ^ a b c d Mohammed and Mohammedanism, by Gabriel Oussani, Catholic Encyclopedia, retrieved April 16, 2006
  5. ^ a b Ibn Warraq, The Quest for Historical Muhammad (Amherst, Mass.:Prometheus, 2000), 103.
  6. ^ a b c Bible in Mohammedian Literature., by Kaufmann Kohler Duncan B. McDonald, Jewish Encyclopedia, retrieved April 22, 2006
  7. ^ Robert Spencer, "Islam Unveiled", pp. 22, 63, 2003, Encounter Books, ISBN 1-893554-77-5
  8. ^ a b http://www.freedomhouse.org/template.cfm?page=22&year=2005&country=6825. See also Timothy Garton Ash (2006-10-05). "Islam in Europe". The New York Review of Books. http://www.nybooks.com/articles/19371.
  9. ^ a b Timothy Garton Ash (2006-10-05). "Islam in Europe". The New York Review of Books. http://www.nybooks.com/articles/19371.
  10. ^ a b Tariq Modood (2006-04-06). Multiculturalism, Muslims and Citizenship: A European Approach (1st ed.). Routledge. p. 29. ISBN 978-0-415-35515-5.