इस्लामी संस्कृति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
TajMahalbyAmalMongia.jpg
पर एक शृंखला का भाग

इसलामी संस्कृति

वास्तुकला

अरबी · अज़ेरी
हिन्दुस्तानी · Iwan · मलय
दलदल · मोरक्कन · मुग़ल
तुर्क · फ़ारसी · सोमाली

कला

सुलेख · लघु · आसनों

वस्त्र

अबाया · अगल · बौबौ
बुर्का · चदोर · जेल्लाबिया
निक़ाब · सलवार कमीज़
ताकियः · कुफ़्फ़ियाह · थावाब
जिल्बाब · हिजाब

त्योहार

अशुरा · अरबाईंन · अल्-गादीर
चाँद रात · अल्-फ़ित्र · अल्-अधा
इमामत दिवस · अल्-कधिम
नया साल · इस्रा और मिरआज
अल्-क़द्र · मव्लिद · रमज़ान
मुग्हम · मिड-शआबाण
अल्-तय्यब

साहित्य

अरबी · अज़ेरी · अंगाली
इन्डोनेशियाई · जावानीस · कश्मीरी
कुर्द · मलय · फ़ारसी · पंजाबी · सिंधी
सोमाली · हिन्दी · तुर्की · उर्दू

मार्शल कला

सिलाठ · सिलठ मेलेयु · कुरश

संगीत
दस्त्गाह · ग़ज़ल · मदिः नबवी

मक़ाम · मुगाम · नशीद
कव्वाली

थिएटर

कारागऑज़ और हसिवत
ताज़िह् · व्यंग
IslamSymbolAllahCompWhite.PNG

इस्लाम प्रवेशद्वार

दुनिया भर के मुसलमानों में पाए जाने वाले आम ऐतिहासिक रीति रवाजों को व्यक्त करने वाली शब्द ही इस्लामी संस्कृति 'है। इस्लामी संस्कृति, संयुक्त रूप से अरबी, ईरानी, तुर्की, मंगोलिया, भारत, मलाईयाई और इंडोनेशियन संस्कृतियों का मरकि है।

शब्द असहमति[संपादित करें]

चूंकि मुसलमान दुनिया के विभिन्न इलाक़े, मालिक़ और बाजार में बसे हैं और जो संस्कृति पाई जाती है वह क्षेत्रीय है न कि इस्लामी। लेकिन सच्चाई यह है कि चाहे मुसलमान किसी भी क्षेत्र में क्यों न हो वह धार्मिक आधार पर है। दुनिया के मुसलमान सांस्कृतिक आधार पर एक दूसरे को अलग महसूस नहीं करते।

धार्मिक परंपराओं और विश्वासों[संपादित करें]

धर्मं इस्लामी जो आम परंपरा है सभी इस्लामी संस्कृति में पाई जाती हैं। इसमें कुराआन जैसे प्रार्थना और गैर कुरान जैसे इस्लामी समाज में समुदाय देखे जा सकते हैं।

भाषा और साहित्य[संपादित करें]

अरबी[संपादित करें]

बोकत उगता इस्लाम, शहर मदीना में मुहम्मद और सहाबा के भाषा चूंकि अरबी थी, उसी भाषा को इस्लामी भाषा का दर्जा दिया गया। कुरआन, हदीसों, सीरत और अन्य ज्ञान सभी अरबी भाषा से संबंध रखते हैं। और यही अरबी मुस्लिम समाज की भाषा साबित हुईं।

बनु उमय्या के दौर में भी यही भाषा हर खास और आम में चालू थी। और दूर की भाषा में गैर धार्मिक परंपराओं भी चालू हुए। जैसे किताब क लीलह जो दुनिया हर मुस्लिम समाज में ख्याति है, लिखी गई। अरब समाज के अलावा गैर अरब क्षेत्रों में भी अरबी भाषा सीखी जाने लगी।

फ़ारसी[संपादित करें]

खिलाफ़त अब्बासिया के दौर में फ़ारसी आम हुई और इस्लामी सुनहरी दौर की सरकारी भाषा भी मानी जाने लगी. इस दौर में फ़ारसी बाम चरम पर रही। फ़ारसी साहित्य फला फूला। मौलाना रूम की शायरी और फरीद अलदीन इआर की तर्क आटियीर इस दौर की काफी प्रसिद्ध किताबें हैं।

बंगाली[संपादित करें]

बंगाल में शुरू हुई ''बोल'' रिवाज, जो लोक संगीत थी, धीरे धीरे सूफी तरीके में एकीकृत हो गईं।

उर्दू[संपादित करें]

उर्दू साहित्य विशेष रूप से कसीदह सुानियां इस्लामी संस्कृति के रूप में आज भी जीवित हैं। विशेषकर, स्तुति, नित और मनकबत धार्मिक रंग हैं, कविता, गज़ल और अन्य आसनाफ सुख़न गैर धार्मिक हैं, लेकिन मुस्लिम समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुकी हैं।

आधुनिक[संपादित करें]

आधुनिक दौर में इस्लामी समाज कई भाषाओं शामिल है। कहीं अरबी, कहीं तुर्की, कहीं फ़ारसी, कहीं उर्दू, बंगाली, मिलाया और अन्य भाषाएं इस्लामी संस्कृति का हिस्सा बन एईं। और अंग्रेज़ी भी इस्लामी संस्कृति के गोद में धीरे धीरे आने लगी है।

ईद[संपादित करें]

शादी[संपादित करें]

इस्लाम में शादी या शादी या शादी बहुत ही महत्व रखती है। मुहम्मद का इरशाद है कि शादी आधी धर्म है। कई हदीसों से शादी और परिवार की महत्व का पता चलता है। इस्लाम में शादी, पुरुष और महिला के बीच एक धार्मिक समझौता है।

कला[संपादित करें]

"वीआँग कलयत, इंडोनेशियन कला।
"सूफी की नसीहत" 16 वीं सदी की एक तस्वीर, जो तेहरान, गलस्तान महल में है।

इस्लामी कला, इस्लामी शिक्षाओं से जुड़े होए हैं, इस बात की पुष्टि इतिहास है। इस्लामी कला में बेजान सामग्री के फोटो ही देखने को मिलते हैं। सुशनमाई के लिए उन्हें वस्तुओं के [मानचित्र|नक्शे]] देखे जा सकते हैं। खाटिय, बेल बूटे, गुल और गनचों की मानचित्र अंगारियां, हर निर्माता में पाए जाते हैं। अन्य धर्मों में मानव प्रकार की तदरें मिलती हैं। इस्लामी कला में मुख्य भूमिका अल्लाह को लिया जाता है और तस्वीरें से परहेज़ किया जाता है। इसलिए प्रकृति के दृश्य, प्रकृति की कोई और अंगारियां ही इस्लामी कला की भूमिका है।

सुलेख[संपादित करें]

क्योंकि रूपरेखा हनन चित्रकारी हुक्म है, इसलिए कलाकार अपने कला को बेजान चीजों को अन्य बनाकर अपना जौहर पेश किया। इस क्रम में कुरआन आयतें को नकाशी में इस्तेमाल करने लगे। इस्लामी एक्सप्रेस अरबी सुलेख को बढ़ावा देने लगे. यह अरबी भाषा सुलेख धीरे धीरे अन्य भाषाओं में भी जगह बना ली। फ़ारसी, उर्दू, तुर्की, सिन्धी और अन्य भाषाओं में इस कला का जौहर देखा जा सकता है।

सैनिक कला[संपादित करें]

स्थापत्य[संपादित करें]

आलहमरा ला कलि, स्पेन में इस्लामी संस्कृति केंद्र।
इस्तांबुल में स्थित सुल्तान अहमद मस्जिद जो १६१६ ई. में पूरा पाईं।

अरब रिवाज रआभ कला[संपादित करें]

  • अरबी कला सुलेख
  • गनबदों निर्माण
  • वुज़ू बॉक्स
  • तेज रंगों का प्रयोग
  • निर्माण के आंतरिक भागों की सुशनमाई भांति बाहरी
  • मेनारों निर्माण
  • निर्माण में अरबी पत्र की नकाशी
  • निर्माण में आंतरिक सौंदर्य का महत्व
  • व्यापक सहनों निर्माण

संगीत[संपादित करें]

शब्द इस्लामी संगीत एक विवाद से भरा शब्द है। जबकि इस्लाम में संगीत हुक्म है, तो शब्द इस्लामी संगीत का अस्तित्व ही मबहम है। मगर इस्लाम में संगीत निर्माता जिनका उपयोग अनिवार्य किया गया है (जैसे: दफ़) की आधार पर छाँटे गए संगीत अस्तित्व में आई, फिर धीरे धीरे क्षेत्रीय विचार के आधार पर इस्लामी समाज में जगह बना गईं।

ज़्यादा देखिये[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]