सदस्य:Shypoetess/स्वशिक्षा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अनुक्रम

विकिपीडिया लेख-सम्पादन स्वशिक्षा[संपादित करें]

विकिपीडिया कई सदस्यों के सहयोग से बना एक मुक्त ज्ञानकोश है जिसमें आप अपना योगदान आसानी से दे सकते हैं। यह पाठ आपको एक विकिपीडिया योगदानकर्ता बनने में सहायता करेगा।

इस पाठ के पन्ने आपको विकिपीडिया के लेख लिखने के उचित तौर-तरीकों से अवगत करेंगे, यानी लेख कैसे लिखे जाने चाहिए और क्या सामग्री उचित-अनुचित है। यह पाठ आपको विकिपीडिया सदस्य-समाज, नीतियों और व्यवहार के बारे में भी बताएगा।

यह एक आधारिक पाठ है, और इसमें बारीक़ विषयों पर विस्तृत जानकारी नहीं है। ऐसी चीज़ों पर ज्ञान आपको अन्य पृष्ठों पर मिलेगा जिनके लिए स्थान-स्थान पर जोड़ (लिंक) दिए गए हैं। उन्हें पढ़ने के लिए, आप उन्हें अपने ब्राउज़र पर अन्य टैबों में खोल सकते हैं।

सीखते-सीखते आप प्रयोगस्थल ("सैण्डबॉक्स") पन्नों पर प्रयोग कर सकते हैं। इनमें आप मनचाहे फेर-बदल कीजिए और जैसे चाहे प्रयोग कीजिए! कोई रोकेगा-टोकेगा नहीं, और इनमें चाहे आप जितनी ही उलटी-सीधी खिचड़ी पकाएँ, किसी को कोई आपत्ति नहीं होगी और कोई बुरा नहीं मानेगा।

आइए, सम्पादन के बारे में सीखें! दृष्टिबाधित साथी विकिपीडिया पृष्ठों को पढ़ने एवं सम्पादित करने सम्बन्धी सहायता के लिए दृष्टिबाधितार्थ पृष्ठ देख सकते हैं।

सम्पादन कैसे करें[संपादित करें]

"सम्पादन" टैब पर क्लिक करके आप एक लेख को संपादित कर सकते है।

कुछ सुरक्षित पन्नो के अलावा हर पृष्ठ में एक "सम्पादन" टैब होता है जिस से आप उस पृष्ठ में बदलाव ला सकते हैं। यह संपादन करने की सक्षमता विकिपीडिया का सबसे बुनियादी लक्षण है, और आपको पृष्ठ में संशोधन करने और उसमें तथ्य डालने की अनुमति देता है। अगर आप तथ्य डालते है तो कृपया संदर्भ देना न भूले, क्योकि असंदर्भित तथ्य हटाए जा सकते हैं।

सम्पादन करने के अभ्यास के लिए प्रयोगस्थल पर जाकर "सम्पादन" टैब पर क्लिक करें। जब आप "सम्पादन" टैब पर क्लिक करेगे, एक संपादन खिड़की खुल जाएगी जिसमें उस पृष्ठ का मूलपाठ होगा। उसमें कुछ मजेदार या दिलचस्प लिखे, या शब्दो को हटा कर अपना पाठ लिखे। फिर "पृष्ठ सहेजे" पर क्लिक करे और देखें कि क्या होता है!

संपादन का सारांश[संपादित करें]

आपके इस पहले संपादन के अभ्यास से दो चीज़ें बाहर छोड़ दी गई जो वास्तव में करे गए लेख-संपादन में की जानी चाहियें। चलिए फिर से "संपादन" का टैब दबाएँ, कुछ और लिखें और फिर इन दो ज़रूरी चीज़ों को भी करें।

प्रथम, जब भी आप किसी लेख को सम्पादित करते हैं तो विकि-शिष्टता के नियमों के अनुसार यह अच्छी बात मानी जाती है कि आप अपने बदलाव के बारे में कुछ "सारांश" के डब्बे में लिख दें। इसमें आप यह लिख सकते हैं के आपने किस कारण से यह बदलाव किया या आपका बदलाव किस तरह का है, जैसे "देश का नाम ठीक किया" या "फल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी डाली"। अगर आपका बदलाव छोटा-सा है तो "यह एक छोटा बदलाव है" नामक डब्बे में आप चिन्ह लगा सकते हैं (यह डब्बा केवल पंजीकृत सदस्यों को उपलब्ध है - आप स्वयं को आसानी से पंजीकृत कर सकते हैं और यह स्वशिक्षा लेख आपको आगे चलकर पंजीकरण के बारे में सिखाएगा)।

पूर्वावलोकन[संपादित करें]

पूर्वावलोकन का बटन लेख सहेजें के बटन से ठीक दाएँ में है और सारांश के डब्बे के नीचे है

दूसरा, आप को हमेशा "पूर्वावलोकन" वाले बटन का प्रयोग करना चाहिए। प्रयोगस्थल में बदलाव करने के बाद "लेख सहेजे" वाले बटन की बजाए "पूर्वावलोकन" वाला बटन दबाएँ। अब आपको वही दिखेगा जो आपको लेख सहेजने के बाद नज़र आता, लेकिन आपके बदलाव अभी सहेजे नहीं गए हैं। हम सभी समय-समय पर ग़लतियाँ करते हैं, और पूर्वावलोकन के प्रयोग से हम लेख सहेजने से पहले अपनी ग़लतियाँ पकड़कर उन्हें सुधार सकते हैं। हाँ, पूर्वावलोकन करने के बाद अपने लेख को सहेजना न भूलें!

लेख सहेजें[संपादित करें]

पूर्वावलोकन का प्रयोग करके ग़लतियाँ सुधार लीं? संपादन का सारांश लिख लिया? तो फिर आप लेख सहेजने के लिए तैयार हैं। "लेख सहेजें" वाला बटन दबाइए!

रूपरंग[संपादित करें]

किसी विकिपीडिया के लेख की लिखाई के रूपरंग को निर्धारित करने का तरीक़ा ज़्यादातर मिलने वाले शब्द संसाधकों (वर्ड प्रोसैसरों) से अलग है। विकिपीडिया पर देखो सो पाओ (यानी विज़ीविग या WYSIWYG) प्रणाली का इस्तेमाल नहीं होता। इसमें किसी पन्ने पर अक्षर गाढ़े-तिरछे करने के लिए और शीर्षकों को दर्शाने के लिए विशेष चिह्नों और शब्दों का प्रयोग होता है। इन चिह्नों और शब्दों की भाषा को "विकि मार्कअप" या "विकीटॅक्स्ट" भाषा कहते हैं। सुनने में यह भले ही कठिन लगे लेकिन वास्तव में इस भाषा का प्रयोग बहुत ही आसान है।

गाढ़ी और तिरछी लिखाई[संपादित करें]

सब से ज़्यादा प्रयोग होने वाले चिह्न गाढ़े अक्षरों (यानी बोल्ड) और तिरछे अक्षरों (यानी आईटैलिक्स) के चिह्न होते हैं। किसी शब्द, वाक्यांश या वाक्य को गाढ़ा या तिरछा उसके इर्द-गिर्द वर्ण-लोपों (यानी अपॉस्ट्रॉफ़ीयों) के चिह्न (') के प्रयोग से होता है:

अगर आपने लिखा तो आपको मिलेगा
''तिरछा'' तिरछा
'''गाढ़ा''' गाढ़ा
'''''गाढ़ा और तिरछा''''' गाढ़ा और तिरछा

विकिपीडिया का दस्तूर है कि किसी भी लेख का नाम जब प्रथम दफ़ा लेख में आता है तो उसे गाढ़े अक्षरों में लिखा जाता है। मिसाल के लिए, आयो (उपग्रह) का लेख इस तरह आरम्भ होता है:

आयो हमारे सौर मण्डल के पाँचवे ग्रह बृहस्पति का तीसरा सब से बड़ा उपग्रह है और यह पूरे सौर मंडल का चौथा ...

तिरछे अक्षरों का प्रयोग अक्सर किताबों, फ़िल्मों, कंप्यूटर खेलों, इत्यादि के शीर्षकों के लिए होता है। अगर लेख का विषय ही किसी फ़िल्म या पुस्तक का शीर्षक है तो गाढ़े और तिरछे अक्षरों का प्रयोग किया जा सकता है।

बिना किसी वजह के गाढ़े या तिरछे अक्षरों का प्रयोग करने से परहेज़ करें क्योंकि इस से साधारण पाठकों को लेख पढ़ने में कठिनाइयाँ होती हैं, और वे अक्सर ऐसे लेखों को जल्दी से देखकर अन्य किसी पन्ने कि ओर चले जाते हैं।

शीर्षक और उपशीर्षक[संपादित करें]

किसी भी लेख की व्यवस्था को अच्छा बनाने के लिए शीर्षकों और उपशीर्षकों से बड़ा फायदा होता है। अगर आप देखते हैं के किसी लेख में दो या उस से अधिक विषयों पर बात हो रही है और हर विषय पर एक-दो से अधिक अनुच्छेद हैं, तो प्रत्येक विषय के लिए शीर्षक डालने से (यानि हर विषय का अलग उपभाग बनाने से) लेख अधिक पढ़ने के लायक़ हो जाता है। शीर्षक और उपशीर्षक ऐसे बनाए जाते हैं:

अगर आपने लिखा तो आपको मिलेगा
==शीर्षक==

शीर्षक[संपादित करें]

===उपशीर्षक===

उपशीर्षक[संपादित करें]

ध्यान रखिये के बिना किसी सामग्री के शीर्षक और उपशीर्षक बनाने से लेख पढ़ना मुश्किल हो जाता है। ऐसे लेख ऐसे लगते हैं जैसे किसी समाचारपत्र में सुर्ख़ियाँ ही सुर्ख़ियाँ हो और उनके नीचे कोई ख़बर न लिखी हो।

अगर किसी लेख में चार या उस से अधिक शीर्षक हैं, तो उसमें अपने-आप ही एक अनुक्रम सूची बन जाती है। आइये, इस पन्ने के प्रयोगस्थल में कुछ शीर्षक और उपशीर्षक बनाकर देखिये!

एच टी ऍम ऍल[संपादित करें]

विकिपीडिया के लेखों के रंगरूप निर्धारित करने के लिए एच.टी.एम.एल. जानने की बिलकुल कोई आवश्यकता नहीं है। केवल विकि मार्कअप का प्रयोग ही काफ़ी है। फिर भी अगर आप पृष्ठों या अनुच्छेदों के अकार, अक्षरों के रंगों, इत्यादि में बारीक़ फेर-बदल करना चाहते हैं तो इसमें एच.टी.एम.एल. की जानकारी सहायक होगी।

जोड़[संपादित करें]

विकिपीडिया के लेखों को एक-दूसरे से जोड़ना बहुत ही ज़रूरी है, क्योंकि इन जोड़ों के द्वारा पढ़ने वाले तेज़ी से एक लेख की जानकारी से दूसरी लेख की सम्बंधित जानकारी तक पहुँच पाते हैं। इस से विकिपीडिया उपयोगिता कई गुना बढ़ जाती है।

जोड़ कैसे बनाएँ[संपादित करें]

किसी लेख में किसी अन्य विकिपीडिया लेख के लिए जोड़ बनाने ले लिए उसके इर्द-गिर्द दोहरे चकोर ब्रैकेट लगे दें, कुछ इस तरह:

[[प्रयोगस्थल]]

जो आपके संपादन के बाद पाठक को ऐसे दिखेगा: प्रयोगस्थल

अगर आप जोड़ तो डालना चाहते हैं, लेकिन चाहते हैं के जुड़े हुए लेख के नाम की बजाए कुछ और शब्द नज़र आएँ, तो नली के चिह्न "|" से यह आसानी से किया जा सकता है। यह अंग्रेज़ी के कुंजीबोर्ड (कीबोर्ड) में SHIFT+BACKSLASH (SHIFT+\) से आसानी से लिखा जाता है, और ध्यान दीजिये कि यह विराम ("।") के चिह्न से अलग है। देखिये, नली-चिह्न के इस्तेमाल से अगर हम लिखें:

[[लाल किला|दिल्ली वाला ऐतिहासिक लाल रंग का किला]]

तो यह ऐसा दिखेगा: दिल्ली वाला ऐतिहासिक लाल रंग का किला

आप किसी लेख के विभाग के लिए भी सीधा जोड़ डाल सकते हैं:

[[लाल किला#दीवान-ए-आम|लाल किले का सभाघर]]

तो दर्शाया गया जोड़ दिखने में ऐसा दिखेगा: लाल किले का सभाघर

अगर आप चाहते हैं के दर्शाया गया जोड़ गाढ़े या तिरछे अक्षरों में हो तो दोहरे चकोर ब्रैकेटों के इर्द-गिर्द वर्ण-लोपों (यानी अपॉस्ट्रॉफ़ीयों) के चिन्ह (') डाल दें:

''[[आषाढ़ का एक दिन]]''

जो दिखने में ऐसा लगेगा: आषाढ़ का एक दिन

जोड़ डालते हुए यह हमेशा पक्का कर लें के जोड़ सही लेख को ही पड़ रहा है। उदाहरण के लिए दूरदर्शन टेलिविज़न के उपकरण के लेख के लिए जोड़ है जबकि दूरदर्शन (चैनल) भारतीय सरकारी चैनल के लिए लेख है। अक्सर ऐसी स्थितियों के लिए "बहुविकल्पी" पन्ने बनाए जाते हैं जो स्वयं लेख नहीं होते बल्कि एक जैसे नामों वाले लेखों के लिए जोड़ों की सूची होते हैं। उदहारण के लिए नील(बहुविकल्पी) एक ऐसा पृष्ठ है। जब एक-से नाम वाले कई लेख हों, तो नली के चिन्ह का प्रयोग काफ़ी काम की चीज़ है, क्योंकि पाठक के लिए "शेख़ूपुर की बस्ती उत्तर प्रदेश के हमीरपुर ज़िले में है" आसान है जबकि "शेख़ूपुर की बस्ती उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिला, उत्तर प्रदेश में है" पढ़ने में अजीब-सा लगता है हालांकि दोनों ही जोड़ पाठक को उसी एक लेख पर ले जाते हैं।

ध्यान रहे के अगर जोड़ किसी ऐसे लेख के लिए है जो अभी लिखा ही नहीं गया, तो उस जोड़ का रंग लाल होगा, जैसे की:

[[मंगल ग्रह पर मानवों की पाँचवी बस्ती]]

जो पाठक को ऐसा दिखेगा: मंगल ग्रह पर मानवों की पाँचवी बस्ती

जोड़ कब डालें[संपादित करें]

लेखों के लिए जोड़ डालना किसी भी पन्ने को अधिक उपयोगी बनता है, लेकिन बहुत ज़्यादा जोड़ होने से आँख बहकने से लेख को पढ़ना मुश्किल हो जाता है। बहुत अधिक जोड़ों की स्थिति से बचने के लिए, किसी लेख के लिए जोड़ केवल तभी डालें जब उसके नाम का ज़िक्र किसी पन्ने में प्रथम बार हो रहा हो। "विश्व" जैसे अत्यधिक साधारण शब्दों के लिए जोड़ ना डालें।

विकिपीडिया में कुछ अन्य अच्छे लेखों को देखकर आप सीख सकते हैं के कब जोड़ डाले जाने चाहिए और कब नहीं। कुछ अच्छे लेख आपको उत्तम लेखों की सूची में मिलेंगे।

श्रेणियाँ[संपादित करें]

आप लेखों को उचित श्रेणियों में डाल सकते हैं। अगर किसी सम्बंधित लेख की श्रेणी देखकर आपको किसी लेख के लिए उचित श्रेणी या श्रेणियाँ पता हैं, जो लेख के अंत के आस-पास [[श्रेणी:]] लिखें, और श्रेणी का नाम द्विबिंदु (कोलन, ":" का चिन्ह) और ब्रैकेटों के बीच डाल दें।

यह बहुत ज़रूरी है के आप लेखों पर सही श्रेणियाँ लगाएँ ताकि अन्य लोग आसानी से आपके बनाए लेख ढूंढ पाएँ। यह करने का सब से अच्छा तरीक़ा अपने लेख से सम्बंधित अन्य लेखों को ढूंढकर उनकी श्रेणियों को अपने लेख के लिए भी प्रयोग करना है। अगर आप किसी फल पर लिख रहें हैं तो उसी की तरह के अन्य फलों पर लेख ढूँढने का प्रयास करें जिस से आपको कुछ उचित श्रेणियाँ मिल सकें।

इन सीखों को प्रयोगस्थल में आज़माइए।

सन्दर्भ और स्त्रोत[संपादित करें]

विकिपीडिया की नीति है कि "अगर आप किसी लेख में जानकारी जोड़ते हैं या अन्य कोई भी नईं जानकारी देते हैं,तो उसमें अपने स्रोतों का उल्लेख अवश्य करें, क्योंकि असन्दर्भित जानकारी को यहाँ से हटाया जा सकता है"। सन्दर्भों को सम्मिलित करने का सबसे अच्छा तरीका है उन्हें लेख लिखने में उचित स्थान पर शामिल करें, यानि कि "इनलाइन स्रोत" बना लेना। इससे कोई संपादक और पाठक आपके द्वारा लिखे गए तथ्य की स्वयं जाँच कर सकता या सकती है। पक्का कर लें कि जो स्रोत आपने प्रयोग किये हैं, या किया है, वह विश्वसनीय और प्रामाणिक है। आपका स्वयं या किसी संस्था द्वारा पक्षपात (या संभावित पक्षपाती) की भावना से या व्यक्ति द्वारा पक्षपात की भावना से लिखा गया स्रोत विकिपीडिया पर मान्य नहीं है।

चरण-टिप्पणी (पाद-टिप्पणी)[संपादित करें]

चरण-टिप्पणी वह होती है जो पन्ने के नीचे (यानि पृष्ठ-चरण में) नज़र आये। ऐसे सन्दर्भ आप अपने स्रोत के इर्द-गिर्द "ref" के टीके लगाकर आसानी से लिख सकते हैं। कुछ इस तरह:

<ref>आपका स्रोत</ref>

अगर आप चरण-टिप्पणी डाल रहे हैं तो विकिपीडिया के सॉफ्टवेयर को यह बताने की ज़रूरत है ताकि वह लेख के अंत में सन्दर्भों की सूची बना सके। इसके लिए लेख के अंतिम हिस्सों में इनमें से एक चीज़ लिख दें:

== सन्दर्भ == {{टिप्पणीसूची}}

यह पाठ "इन्हें भी देखें" वाले भाग से नीचे और "बाहरी कड़ियाँ" वाले भाग से ऊपर होनी चाहिए। यह पाठ सॉफ़्टवेयर द्वारा स्वचालित रूप से सभी इनलाइन स्रोतों की सन्दर्भ-सूची में परिवर्तित कर दिया जाता है।

जब आप अपना संपादन सहेज लेंगे तो "ref" वाले टीके आपके स्रोत को एक चरण-टिप्पणी में बदल देंगे (जो एक छोटी सी संख्या की तरह आपकी लिखाई में ऊपर नज़र आएगा, बिलकुल इस तरह[1]) और स्रोत की जगह जो भी लिखा होगा वह नीचे सन्दर्भों वाले भाग की सूची में सम्मिलित हो जाएगा।

अगर जो स्रोत आप डाल रहे हैं वह किसी बाहरी वेबसाईट के लिए एक कड़ी (लिंक) है, तो उस वेबसाईट का पता (URL) एक-एक चौकोर ब्रैकेट के बीच उसके शीर्षक के साथ डाल दें। पढ़ने में यह एक कड़ी की तरह दिखेगा, जैसे:

<ref>[http://www.webdunia.com/newslocation.html वेबदुनिया में एक ख़बर]</ref>

हालांकि यह अनिवार्य नहीं है, किसी चरण-टिप्पणी में URL पते के अलावा और भी जानकारी देना अच्छा होता है। यह चरण-टिप्पणी को पूर्ण बनाता है एवं स्रोत के URL के बदल जाने की स्थिति में नया URL ढूँढने में मदद भी करता है:

<ref>ख़बर के लेखक का नाम, [http://www.webdunia.com/newslocation.html "ख़बर का शीर्षक"], ''वेबदुनिया'', तिथि</ref>

क्योंकि वेबसाइटें अपने लिंक में फेर-बदल करती रहती हैं, इसलिए किसी चरण-टिप्पणी में बिना शीर्षक के केवल URL पता न लिखें। अगर पता बदल गया और शीर्षक व अन्य जानकारी है तो अन्य संपादक उसका नया पता ढूँढ लेंगे। अगर केवल URL पता ही है और वह बदल जाए तो आपकी चरण-टिप्पणी बेकार हो जाएगी और हटानी पड़ सकती है। ध्यान रखें कि ब्लॉग और सामाजिक नेटवर्क जैसी वेबसाइट जिस पर कोई कुछ भी लिख सकता है, विश्वसनीय स्रोत नहीं हैं। यह भी ध्यान रखें कि यह बिलकुल ज़रूरी नहीं है कि आपका स्रोत कोई वेबसाइट हो। यह कोई छपी हुई पुस्तक, पत्रिका, ग्रन्थ या फ़िल्म भी हो सकती है। अगर ऐसा है तो "ref" टीकों के बीच उसके बारे में जानकारी दें, जैसे:

<ref>डॉ॰ सतीश गोयल, ''कैंसर: कारण और निवारण'', पृष्ठ 51-53, डायमण्ड पॉकेट बुक्स (प्रा.) लि., 2004</ref>

बाहरी कड़ियाँ(अन्य वेबसाइट लिंक)[संपादित करें]

विकिपीडिया में कई लेखों में एक "बाहरी कड़ियाँ" या "बाह्य सूत्र" या "अन्य वेबसाइट लिंक" नाम का विभाग भी होता है। इसमें कुछ चुनी हुई वेबसाइटों के लिए जोड़ या सहायक सामग्री लिंक या अन्य रूप में होनी चाहिए जिसमें लेख के विषय से सम्बंधित दिलचस्प और उच्च-कोटि की मूल्यसंवर्द्धित जानकारी मिले जो लेख में पहले से नहीं हो। उदाहरण के लिए:

[http://www.example.com/ औपचारिक वेबसाईट]

जो पढ़ने में ऐसी दिखेगी:

औपचारिक वेबसाईट

यह एक लम्बी सूची नहीं होनी चाहिए और कुछ चुनी हुई कड़ियाँ(वेबसाइट लिंक) ही हों तो अच्छा है। इसमें कोई पाक्षिक वेबसाईट का लिंक देने का प्रयत्न न करें। यहाँ किसी व्यापारिक या निजी फ़ायदे की वेबसाईट के लिए कोई लिंक या जोड़ या सहायक सामग्री डालना सख़्त वर्जित है। प्रयोगस्थल में सन्दर्भ बनाने की बेझिझक कोशिश कीजिये।

संवाद पृष्ठ[संपादित करें]

संवाद पृष्ठ विकिपीडिया का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग हैं और लेखकों को आपस में बातचीत, राय-मशवरा करने का मंच देते हैं। यहाँ विकीसदस्य आपस के मतभेद भी सुलझाते हैं। याद रखें के यह गपशप करने, उपदेश और भाषण देने, आपस में जंग लड़ने और विषय पर इधर-उधर की असंबंधित बातचीत करने का मंच नहीं है।

अगर किसी लेख के बारे में आपको कोई प्रश्न, चिंता, आपत्ति या सुझाव है, तो उसे लेख के संवाद पन्ने पर डालें, स्वयं लेख में नहीं। इसके लिए लेख के ऊपर "संवाद" के टैब पर जाएँ। अगर संवाद का जोड़ (लिंक) लाल रंग में है, इसका मतलब है के संवाद पृष्ठ अभी ख़ाली है। यह कोई चिंता की बात नहीं - वहाँ क्लिक कर के जाएँ और नया पृष्ठ आरम्भ कर दें।

अगर संवाद पृष्ठ में पहले से किसी ने कुछ लिखा हुआ है जिसका जवाब आप दे रहें हैं, तो उनके कथन के नीचे अपनी बात लिखें। पढ़ने में आसानी रखने के लिए अपनी लिखाई को "इंडेंट" करें (यानि ज़रा दाएं की ओर करें) - यह ":" (द्विबिंदु या कोलन) के इस्तेमाल से आसानी से किया जाता है और यहीं नीचे समझाया जाएगा। अगर आप किसी की प्रतिक्रिया का उत्तर नहीं दे रहें, तो संवाद पृष्ठ पर ऊपर "विषय जोड़ें" के टैब पर क्लिक कर के नया विषय आरम्भ कर सकते हैं, जो सीधा संवाद पन्ने के अंत से शुरू होगा।

जब भी आप संवाद पृष्ठ पर कुछ लिखते हैं तो हमेशा अपने कथन के बाद ~~~~ लिखें (यानि एक-साथ चार बार ~ का चिन्ह)। इस से आपका विकिनाम और लिखाई का समय आपके कथन के पीछे एक हस्ताक्षर की तरह जुड़ जाएगा। अगर आप पंजीकृत सदस्य नहीं हैं या आपने लॉग-इन (login) नहीं किया हुआ, तो आपके विकिनाम के बजाए आपका आई॰पी॰ (IP) पता लिखा जाएगा। याद रखें की आप हस्ताक्षर करें या न करें, किसी भी विकिपीडिया के पन्ने पर बदलाव करने से आपके कंप्यूटर का आई॰पी॰ पता उस पन्ने के इतिहास में दर्ज हो जाता है और उसे विश्व में कोई भी देख सकता है। अगर आप नहीं चाहते के आपका आई॰पी॰ पता देखा जाए तो पंजीकृत सदस्य बनकर एक मनपसंद विकिनाम चुन लीजिये। यह पूरी तरह से मुफ़्त भी है।

सदस्य वार्ता पृष्ठ[संपादित करें]

विकिपीडिया पर हर पंजीकृत सदस्य का एक वार्ता पृष्ठ होता है जहाँ अन्य सदस्य उसके लिए संदेश छोड़ सकते हैं। ग़ैर-पंजीकृत सदस्य भी यहाँ संदेश छोड़ सकते हैं। अगर किसी ने आपके लिए नया संदेश छोड़ा है तो विकिपीडिया आपको ऊपर की तरफ़ एक "आपके लिए एक नया संदेश है" की घोषणा देगा जिसमें आपके वार्ता पृष्ठ के लिए एक कड़ी होगी।

अपने लिए छोड़े गए संदेशों का आप दो तरह से उत्तर दे सकते हैं: या तो अपने ही वार्ता पन्ने पर जहाँ वह संदेश छोड़ा गया है, या फिर संदेश छोड़ने वाले सदस्य के वार्ता पृष्ठ पर। सदस्यगण दोनों ही करते हैं, लेकिन ध्यान रखना होगा कि अगर आप अपने पेज़" पर जवाब देते हैं और जिसने आपको संदेश छोड़ा था वह बार-बार आपके वार्ता पन्ने को देख नहीं रहा तो उसे पता भी नहीं चलेगा के आपने उसको उत्तर दे दिया है। अगर आप यही तरीक़ा प्रयोग करने वाले हैं तो अपने वार्ता पन्ने पर ऊपर लोगों को बता दें कि संदेश छोड़ने वाले आपके वार्ता पन्ने पर जवाब देखते रहें क्योंकि आप उनके पृष्ठों पर कोई जवाबी संदेश नहीं छोड़ने वाले।

इंडेंट (खिसकाव)[संपादित करें]

जब किसी विषय पर बहुत सी बातचीत चल रही हो तो लिखाई में दाएँ-बाएँ खिसकाव करने से आसानी से पढ़ा जा सकता है के किसने क्या कहा है, वरना सभी कुछ एक गुत्थी-सा लगता है। साधारण नियम है कि किसी का जवाब देते समय अपनी लिखाई को एक स्तर दाएँ की ओर खिसका दीजिये।

विकिपीडिया पर लिखाई खिसकने के कई तरीक़े हैं:

साधारण खिसकाव[संपादित करें]

खिसकने का सबसे सरल तरीक़ा है के किसी पंक्ति के बिलकुल शुरू में एक द्विबिंदु (: का चिन्ह, जिसे कोलन भी बोलते हैं) लिखें। आप जितने द्विबिंदु लिखेंगे, लिखाई उतनी ही दाएँ की ओर खिसक जाएगी। अगर आपने नई पंक्ति शुरू की (Enter या Return दबाकर), तो उसके बाद लिखाई के लिए यह खिसकाव अंत हो जाता है।

मसलन, यह:

यह पूरा बाएँ की ओर है।
: यह थोड़ा सा खिसका हुआ है।
:: यह थोड़ा और भी खिसका हुआ है।

देखने में ऐसा लगता है:

यह पूरा बाएँ की ओर है।
यह थोड़ा सा खिसका हुआ है।
यह थोड़ा और भी खिसका हुआ है।

नुक्ते (बिन्दु)[संपादित करें]

आप नुक्तों (बिन्दु/बुलेट पॉइंट्स) का भी उपयोग कर सकते हैं जो अक्सर सूचियों के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं। नुक्ता जोड़ने के लिए तारे (*) के चिन्ह का प्रयोग करें। खिसकाव की ही तरह, आप जितने तारे डालेंगे, आपकी लिखाई उस नुक्ते में उतनी ही दाएँ को खिसकी हुई होगी।

एक छोटा सा उदाहरण:

* सूची का प्रथम नुक्ता
* सूची का दूसरा नुक्ता
** दूसरे नुक्ते के नीचे उपसूची का एक नुक्ता
* सूची का तीसरा नुक्ता

जो पढ़ने में ऐसा लगेगा:

  • सूची का प्रथम नुक्ता
  • सूची का दूसरा नुक्ता
    • दूसरे नुक्ते के नीचे उपसूची का एक नुक्ता
  • सूची का तीसरा नुक्ता

अंकों वाली सूची[संपादित करें]

आप ऐसी सूचियाँ भी बना सकते हैं जिसमें अंक हों। इसके लिए अंक वाले चिन्ह (#) का प्रयोग किया जाता है। पहले की ही तरह, आप जितने # के चिन्ह डालेंगे, उतना ही खिसकाव होगा।

उदाहरण:

# पहली बात
# दूसरी बात
## दूसरी बात के नीचे एक बात
# तीसरी बात

यह ऐसा दिखेगा:

  1. पहली बात
  2. दूसरी बात
    1. दूसरी बात के नीचे एक बात
  3. तीसरी बात

बातचीत का उदाहरण[संपादित करें]

यह खिसकाव के सही प्रयोग से आसानी से पढ़े जाने वाली बातचीत की एक मिसाल है:

नमस्ते. मुझे इस लेख के बारे में एक प्रशन है. इसमें कहा गया है कि हरियाणा में लाल मगरमच्छ मिलते हैं लेकिन मुझे पक्का विशवास है कि लाल मगरमच्छ केवल बिहार में ही मिलते हैं! तीव्रबुद्धि_५५ 02:49, 10 Dec 2003 (UTC)

ऐसा नहीं है, जब मैं पिछली दफ़ा बिहार गया तो सारे मगरमच्छ हरे रंग के थे. — सर्वसहायकसिंह 17:28, 11 Dec 2003 (UTC)
सर्वसहायक जी, ज़रूर देखे होंगे, लेकिन विकिपीडिया पर केवल वह सामग्री डाली जा सकती है जिसके लिए प्रमाणिक स्रोत हो. मूल शोध पूरी तरह वर्जित है. शक्की मिज़ाज 20:53, 11 Dec 2003 (UTC)
ऐसी बात है तो देखिये, मगरमच्छ के बारे में यह पत्रिकाएँ मुझसे सहमत हैं:
  • विश्व मगरमच्छीय समाचार
  • रक्तिम मगरमच्छ साप्ताहिक
अब क्या कहते हैं? — सर्वसहायकसिंह 19:09, 12 Dec 2003 (UTC)
मैं दक्षिण अफ्रीका में रहता हूँ, और यहाँ मगरमच्छ बिलकुल शुतुरमुर्ग जैसे लगते हैं! निम्नलिखित सदस्य सब मुझ से सहमत हैं: भोपालमेंबचपन_केपटाउनमेंजवानी 17:28, 14 Dec 2003 (UTC)
  1. मगरहीमगर 01:22, 15 Dec 2003 (UTC)
  2. समुद्रीभेड़िया 05:41, 15 Dec 2003 (UTC)
  3. गेहूँकुमार 18:39, 27 Jan 2004 (UTC)

ध्यान रहे कि अगर आप अपनी प्रतिक्रिया में सूची बनाना चाहते हैं, तो हर नुक्ते से पहले द्विबिंदु (:) लगाना न भूलें, जैसे:

::: ऐसी बात है तो देखिये, मगरमच्छ के बारे में यह पत्रिकाएँ मुझसे सहमत हैं:
::: * ''विश्व मगरमच्छीय समाचार''
::: * ''रक्तिम मगरमच्छ साप्ताहिक''
::: ~~~~

जैसा कि पहले कहा गया था, अपनी प्रतिक्रिया पर हस्ताक्षर ऐसा किया जाता है:

अगर आप चाहें तो केवल विकिनाम या केवल समय भी डाल सकते हैं, लेकिन लोग ऐसा बहुत कम करते हैं:

  • ~~~ लिखने से केवल विकीनाम आएगा (सर्वसहायकसिंह)
  • ~~~~~ लिखने से केवल समय और तिथि आएगी (19:09, 12 Dec 2003 (UTC)).

आज़माइए[संपादित करें]

अब आप स्वयं संवाद में कुछ लिखने का अनुभव करिए। इसी लेख के संवाद पृष्ठ पर कुछ लिखिए। याद से अपनी लिखाई के बाद हस्ताक्षर लगाइए। आप पहले से मौजूद किसी टिपण्णी का उत्तर भी दे सकते हैं। याद रखिये, अपनी लिखाई सहेजने से पहले आप "पूर्वावलोकन" करके देख सकते हैं के जो आपने लिखा है वह पढ़ने में कैसा लगेगा।

इसी पृष्ठ के संवाद पृष्ठ पर कुछ लिखिए।

ध्यान रखने योग्य बातें[संपादित करें]

विकिपीडिया पर संपादन करते हुए कुछ बातों को सदैव ध्यान में रखें

संपादन नीति[संपादित करें]

विषय सामग्री[संपादित करें]

विकिपीडिया नियमित नई जानकारियों से समृद्ध होता एक ज्ञानकोश है। इसमें लेख उल्लेखनीय विषयों पर ही होने चाहिए। क्या उल्लेखनीय है और क्या नहीं, इसको लेकर विकिपीडिया पर हमेशा बहस जारी रहती है लेकिन यह बात स्पष्ट है कि पृथ्वी पर हर व्यक्ति के लिए लेख नहीं होना चाहिए। न ही हर कंपनी पर, न ही हर शहर की हर सड़क पर। ऐसे विषयों का स्थान अक्सर विकिपीडिया की किसी साथी परियोजना में होता है।

उदाहरण के लिए ज्ञानकोश के लेख किसी विषय के बारे में होते हैं, शब्दों के अर्थों के बारे में नहीं। ऐसा लेख जो किसी शब्द के अर्थ की परिभाषा करता हो, शब्दकोश में होना चाहिए, विकिपीडिया पर नहीं। इसे विकिशब्दकोश (उर्फ़ विक्शनरी) में डालिए।

किसी मुद्राधिकार-मुक्त (यानि पब्लिक डोमेन) किताब या लेख को आप विकिपीडिया में न डालें। अगर आप चाहते हैं कि यह सामग्री पूर्ण और मुक्त रूप से सभी को मिले तो इसे विकिस्रोत पर डाल सकतें हैं। अगर आप किसी विषय पर कोई किताब लिखकर उसे विश्व को मुफ़्त पहुँचाना चाहते हैं तो उसे विकिताब पर डाल सकते हैं। विकिमीडिया फाउंडेशन, जो विकिपीडिया को चलने वाली संस्था है, ऐसी कई और परियोजनाएँ भी चलाती है। अगर आप कोई तस्वीर खींचते हैं जो आपको लगता है कि अभी या भविष्य में किसी लेख के लिए उपयोगी होगा, तो उसे विकिमीडिया कोमन्ज़ पर अच्छे वर्णन और श्रेणी के साथ डाल दें।

विकिपीडिया पर मूल शोध वर्जित है। इसका अर्थ है कि विकिपीडिया पर ऐसा कोई तथ्य नहीं होना चाहिए जो पहले ही किसी अन्य, विकिपीडिया से असम्बंधित, प्रमाणित और विश्वसनीय स्रोत में न हो।

लेखकों को अपने बारे में और अपनी उपलब्धियों के बारे में लेख न लिखने की चेतावनी दी जाती है, क्योंकि यह एक "स्वार्थ संघर्ष" (कॉन्फ़्लिक्ट ऑफ़ इन्ट्रॅस्ट) की स्थिति बना देता है। अगर आपके कारनामें वास्तव में उल्लेखनीय हैं, तो धीरज रखिये। कभी न कभी, कोई न कोई आप पर लेख बना ही देगा - कृपया स्वयं न बनाए।

निष्पक्ष दृष्टिकोण[संपादित करें]

विकिपीडिया की नीति है कि सारे लेख "निष्पक्ष दृष्टिकोण" से लिखे हों। इसे छोटे रूप में "NPOV" (अंग्रेज़ी के "न्यूट्रल पॉइंट ऑफ़ वियू" के लिए संक्षेप) लिखा जाता है। इस नीति का अर्थ है कि किसी भी मुद्दे पर हम सभी मुख्य दृष्टिकोणों को मान्यता देते हैं। किसी एक पक्ष को प्रस्तुत करने कि बजाए हम हर मुख्य पक्ष को प्रस्तुत करते हैं और उनमें किसी एक को सही नहीं ठहराते। विकिपीडिया का उद्देश्य केवल जानकारी बाँटना है, किसी बात या पक्ष को मनवाना नहीं।

लेखों में किसी मुद्दे पर मतों का वर्णन लिखना ठीक है, लेकिन वह लेखक के मत के रूप में प्रस्तुत नहीं किया जा सकता। विश्वसनीय और प्रमाणित स्रोतों के साथ यह ज़रूर लिखा जा सकता है कि "यह गुट कहता है कि ..." या "प्रसिद्ध वैज्ञानिक फ़लाना-फ़लाना का कहना है कि ...."। यही वजह है कि कुछ भावात्मक शब्दों का प्रयोग लेखों में नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा कहना कि "दुर्भाग्य से भ्रष्टाचार बढ़ गया" विकिपीडिया में सही नहीं है क्योंकि इसमें आपका पक्ष आ जाता है। केवल इतना ही लिखें कि "भ्रष्टाचार बढ़ गया" या "प्रसिद्ध आर्थशास्त्री जोहर तीव्रबुद्धि का कहना है कि भ्रष्टाचार का बढ़ना दुर्भाग्यपूर्ण है"।

आप कभी-कभी विकिसदस्यों को किसी लेख में "POV" या "पक्ष" की समस्या होने की बात करते देखेंगे। इसका यही अर्थ है कि उनकी राय में वह लेख किसी एक पक्ष को लेकर लिखा गया है। अगर किसी लेख में इश्तेहारनुमा भाषा का प्रयोग है, किसी एक राजनैतिक या धार्मिक पक्ष को सत्य और सही के रूप में पेश किया जा रहा है, या किसी व्यक्ति की केवल बढ़ाई ही लिखी है, जो वह इस "पक्ष की समस्या" की श्रेणी में आता है। ऐसा भी हो सकता है के किसी लेख में हर पक्ष प्रस्तुत तो हो लेकिन किसी एक पक्ष को अनुचित स्थान या मान्यता दी गई हो - यह भी इसी समस्या की श्रेणी में आता है। पृथ्वी के लेख में अगर इस पक्ष को उतना ही स्थान दिया जाए जो कहता है के पृथ्वी गोल नहीं है बल्कि एक चपटा क्षेत्र है जितना की गोलाकार पृथ्वी को दिया जा रहा है, तो यह भी पक्षपात दिखता है क्योंकि एक ग़ैर-मुख्य पक्ष को उसकी वैज्ञानिक मान्यता से कहीं ज़्यादा स्थान दिया जा रहा है।

अगर आप राजनीति, भाषा-पहचान और धर्म जैसे संवेदनशील विषयों पर समय लगाने वाले हैं, तो निष्पक्ष दृष्टिकोण पर बहुत ध्यान दें। ऐसे विषयों में झड़पों से बचने के लिए मतभेद में स्वयं को शांत रखने पर भी विशेष ध्यान दें। अगर गणित और विज्ञान जैसे कम संवेदनशील विषयों पर लेख लिखने वाले हैं, तो यह कम चिंता का कारण है लेकिन फिर भी निष्पक्षता की नीतियों का पालन कीजिये।

स्रोत और सन्दर्भ[संपादित करें]

विकिपीडिया पर ज़रूरी है के जो जानकारी आप प्रस्तुत कर रहें हैं उसके लिए आप विश्वसनीय और प्रमाणित स्रोतों का भी उल्लेख करें। सन्दर्भों से हमारे पाठकों के लिए आपकी लिखाई को जाँचना आसान हो जाता है और उन्हें अधिक जानकारी के लिए स्रोत भी मिल जाते हैं।

अगर कोई विकिपीडिया से बाहर की वेबसाईट किसी विषय के पाठकों के लिए दिलचस्पी रखेगी तो उसे "बाहरी कड़ियाँ" नाम के विभाग में शामिल करें। अगर कोई पुस्तकें या पत्रिकाएँ उनके काम की होंगी और वे स्रोतों में शामिल नहीं हैं, तो उन्हें एक "विषय-रूचि की पुस्तकें" नाम के विभाग में भी डाला जा सकता है।

मुद्राधिकार (कॉपीराईट)[संपादित करें]

विकिपीडिया में किसी भी सूरत में मुद्राधिकार द्वारा सुरक्षित कोई भी सामग्री न डालें। जब आप लेखों में जानकारी डाल रहें हों, यह ध्यान रखें के शब्द आपके अपने होने चाहिए। याद रखिये के इन्टरनेट पर मिलने वाली सभी सामग्री (लिखाई, चित्र, इत्यादि) मुद्राधिकार से सुरक्षित होते हैं। केवल वही सामग्री मुद्राधिकार-मुक्त है जिसमे साफ़-साफ़ शब्दों में यह कहा गया हो कि वह मुद्राधिकार से बाहर है।

भाषा और शब्द[संपादित करें]

किसी भी शब्द के सामान्य रूप से इस्तेमाल होने वाले शब्दों को विकिपीडिया पर प्रयोग किया जा सकता है। संक्षेप में नीति यह है कि:

  1. किसी लेख को केवल इसलिए सम्पादित न करें क्योंकि किसी शब्द का रूप आपकी पसन्द का नहीं है। उदाहरण के लिए "किये" और "किए" दोनों ठीक हैं।
  2. हिन्दी और उर्दू के शब्दों के सम्बन्ध में फेर-बदल करने से पहले लेख के संवाद पृष्ठ पर, लेखक के वार्ता पृष्ठ पर या चौपाल में विचार-विमर्श करें। कुछ-एक शब्दों के लिए अपनी और औरों की उर्जा बेकार न करें। लेख-से-लेख भटककर इक्के-दुक्के शब्दों को अपने पसन्द के शब्दों में परिवर्तित करने पर ज़ोर न लगाएँ।
  3. हिन्दी एक बड़े भूक्षेत्र में विभिन्न समुदायों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है। संभव है कि किसी अन्य लेखक की शैली आप से थोड़ी भिन्न हो। किसी एक लेख के अन्दर एक ही शैली होनी चाहिए ताकि यह अटपटी न लगे, लेकिन अगर शैली किसी साधारण हिंदीभाषी द्वारा सरलता से पढ़ी जा सकती है तो उसे अपनी पसन्द की शैली में परिवर्तित करने पर ज़ोर न लगाएँ।
  4. अंग्रेज़ी और अन्य भाषाओँ से हिन्दी में लिप्यन्तरण करते हुए ध्वनी और प्रथा दोनों का ध्यान रखें। "America" को ध्वनी के अनुसार "अमॅरिका" लिखा जाएगा, लेकिन प्रथानुसार इसे "अमरीका" या "अमेरिका" लिखा जाता है। अगर प्रथा के बारे में असमंजस हो तो इन्टरनेट पर खोज कर के सब से अधिक प्रयोग होने वाला लिप्यन्तरण ढूँढा जा सकता है। जहाँ कोई शब्द बहुत ही कम लिप्यन्तरित हुआ हो, वहाँ सही ध्वनी दर्शाने का प्रयास करें।
  5. नुक्ते (बिंदु) वाले शब्दों में नुक्तों के होने या न होने पर ज़ोर ना दें। हिन्दी में "अफ़्ग़ानिस्तान" को "अफ्गानिस्तान", "अफ़्गानिस्तान", "अफ्ग़ानिस्तान" और "अफ़्ग़ानिस्तान" सभी रूपों में लिखा जाता है। इसी तरह "Tethys" का लिप्यन्तरण "टॅथ़िस" या "टॅथिस" हो सकता है। सही ध्वनी "थ़" की ध्वनी है लेकिन दोनों रूप विकिपीडिया पर मान्य हैं। इनमें फेर-बदल करने के लिए संपादन न करें।

व्यवहार[संपादित करें]

विकिपीडिया पर एक मित्रता और खुलेपन का वातावरण रखने का प्रयास किया जाता है। यह बात सच है के कभी-कभी मतभेद होते हैं और जहाँ-तहाँ गरम बहस भी छिड़ जाती है, लेकिन सदस्य-समाज के हर सदस्य से शिष्टता की अपेक्षा की जाती है।

यह बहुत ही ज़रूरी है कि आप हमेशा यह मान के चलें कि अन्य लेखक विकिपीडिया में सच्चे हृदय से योगदान देना चाहते हैं। जहाँ तक संभव हो यह ना सोचे कि कोई दूसरा सदस्य द्वेष या शत्रुता की भावना से कुछ कर रहा है। अगर आपको किसी की करी या कही बात अजीब लगे तो बहुत नम्रता से उसके वार्ता पृष्ठ पर या सम्बंधित लेख के संवाद पृष्ठ पर उस से पूछे के उसने ऐसा क्यों किया। ऐसा करने से बहुत सी ग़लतफ़हमियों और बेकार की झड़पों से बचा जा सकता है।

नए लेखों का निर्माण[संपादित करें]

विकिपीडिया में नए लेख बनाते हुए इस स्वशिक्षा में दी गई सलाह को ध्यान में रखें, जैसे की निष्पक्षता की नीति। स्रोतों के प्रयोग से प्रमाणित करें की लेख का विषय उल्लेखनीय है (यानि विकिपीडिया में सम्मिलित होने के योग्य है) और किसी भी पाठक द्वारा जाँचा जा सकता है। नए लेख बनाने के लिए आपका पंजीकृत होना आवश्यक है।

नाम स्थानान्तरण[संपादित करें]

अगर आपको कोई ऐसा लेख मिलता है जिसका शीर्षक आपको ग़लत लगे, तो उसकी सामग्री काट के नए नाम के लेख में न चिपकाएँ। इस से लेख में किये गए सारे बदलावों के इतिहास की धारा खंडित हो जाती है। मुद्रधिकारों की दृष्टि से भी इस धारा का एक होना आवश्यक है। लेख का नाम बदलने का सही तरीक़ा है उसका स्थानांतरण करना। उसके लिए आपका पंजीकृत होना ज़रूरी है। किसी लेख को स्थानांतरित करने से पहले स्थानांतरण पृष्ठ पर लिखी चेतावनियाँ ध्यान से पढ़ लें। ग़लत स्थानांतरण से जोड़ टूट सकते हैं और बेकार की बहस आरम्भ हो सकती है। अगर आपको ज़रा भी खटका है कि नाम बदलने से कठिनाइयाँ या मतभेद हो सकता है तो पहले उस लेख के संवाद पृष्ठ पर अपना नामांतरण का सुझाव डाल कर लोगों के मतों को देखें।

सीखी गई बातें प्रयोगस्थल पर आज़माइए।

विकिपीडिया पर हिंदी भाषा में कैसे लिखें[संपादित करें]

विकिपीडिया की इनपुट प्रणाली युनिवर्सल लैंग्वेज सिलेक्टर (अंग्रेज़ी: Universal Language Selector) नामक एक मीडियाविकि एक्सटेंशन द्वारा प्रदान की जाती है। इसके द्वारा मिलने वाली इनपुट प्रणालियों का विकास नारायम नामक एक्सटेंशन में किया गया था। इनपुट प्रणालियाँ जावास्क्रिप्ट पर आधारित हैं और अनेक भाषाओं में टाइप करने की सुविधा प्रदान करते हैं। यह प्रणाली हिन्दी में टाइप करने के पाँच तरीके उपलब्ध कराती है:

  • इनस्क्रिप्ट
  • लिप्यंतरण
  • बोलनागरी
  • फोनेटिक
  • इनस्क्रिप्ट २

सक्षम करना[संपादित करें]

इस चित्र में बाईं ओर दिख रहा गियर का आइकन भाषा विकल्पों का आइकन है।

इनपुट प्रणाली को सक्षम करने के लिए:

  • पृष्ठ के बाईं और पार्श्वपट्टी (sidebar) में अन्य भाषाएँ के साथ में बने आइकन पर क्लिक करें
  • जो मेन्यू खुलता है उसमें Input पर क्लिक करें
  • अपनी पसंद से इनपुट प्रणाली चुनें
खोज खाने में से इनपुट प्रणाली सक्षम करना एवं बदलना

यदि आप चाहें तो इसके बजाए इसका कीबोर्ड शॉर्टकट प्रयोग कर सकते हैं। कीबोर्ड शॉर्टकट का प्रयोग करने के लिए किसी भी इनपुट खाने में जाकर Ctrl + M दबाएँ।

इससे डिफ़ॉल्ट रूप से हिन्दी लिप्यंतरण (ट्रांस्लिटरेशन) प्रणाली सक्षम होगी। अगर आप किसी अन्य प्रणाली द्वारा टाइप करना चाहते हैं या हिन्दी के अतिरिक्त कोई अन्य भाषा टाइप करना चाहते हैं तो इनपुट खाने में नीचे दाईं ओर दिख रहे कीबोर्ड के आइकन पर क्लिक कर के कोई अन्य उपयुक्त इनपुट विधि चुनें। आप पार्श्वपट्टी में बने आइकन पर क्लिक कर के मेन्यू में से या फिरसे Ctrl + M का प्रयोग कर के इनपुट विधि को अक्षम कर सकते हैं।

इनस्क्रिप्ट कीबोर्ड[संपादित करें]

InscriptForHindi.png

लिप्यंतरण (ट्रांस्लिटरेशन)[संपादित करें]

ट्रांस्लिटरेशन प्रणाली case-specific है, अर्थात a और A से समान इनपुट नहीं आती है। नीचे दिये गए नियमों में ये बात ध्यान रखें।

स्वर[संपादित करें]

स्वर
अं अः
a A aa i I ii u U uu e ai E o au O aM aH R

व्यंजन[संपादित करें]

नोट:नीचे दी सारणी के अनुसार टाइप किये गए अक्षरों में नीचे हलंत लगा होगा। इनको पूरा करने के लिये इनके आगे a टाइप करें। उदाहरण: ka से बनेगा जबकि k से क् बनेगा।

नोट: शब्दों के अन्त में a दबाने की आवश्यक्ता नहीं है, अगली कुंजी दबाने पर व्यंजन स्वयं ही पूरा हो जाता है। उदाहरण:raam<space> से राम<space> बनता है। यदि अंत में हलंत लगाना हो तो शब्द के अन्त पर और कोई कुंजी दबाने से पेहले हलंत के लिये ~ दबाएँ। उदाहरण: raameshvaram~<space> से रामेश्वरम्<space> बनता है।

व्यंजन
कंठ्य क् ख् ग् घ् ङ्
k kh g gh ng
तालव्य च् छ् ज् झ् ञ्
c ch j jh nj Y
मूर्धन्य ट् ठ् ड् ढ् ण्
T Th D Dh N
दंत्य त् थ् द् ध् न्
t th d dh n
ओष्ठ्य प् फ् ब् भ् म्
p ph b bh m
अन्तस्थ य् र् ल् व्
y r l v w
ऊष्म श् ष् स् ह्
S sh Sh shh s h
अन्य अक्षर
क्ष् त्र् ज्ञ् श्र् शृ ड़ ढ़
x X tr gY jY shr shR D`a Dh`a

नोट:शृ का सही दिखना फॉन्ट पर निर्भर करता है, इनपुट प्रणाली पर नहीं। इसे सही देखने के लिए आप वेबफॉण्ट को ऊपर दिये "फॉण्ट चुनें" वाले बटन से सक्षम कर सकते हैं।

नुक़ता लगाने के लिये किसी भी अक्षर के बाद ` दबाया जा सकता है, पर निम्न नुक़ते वाले अक्षर सीधे इनपुट किये जा सकते हैं:

नुक़ते वाले अक्षर
इनपुट q F z
आउटपुट क़् फ़् ज़्

मात्राएँ एवं अन्य चिन्ह[संपादित करें]

मात्राएँ
ि
मूल व्यंजन के बाद इनपुट aa A i I ii ee u U uu oo e ai E o au O M Mm MM M^ H ~ R `
उदाहरण
इनपुट kaa kA ki kI kii kee ku kU kuu koo ke kai kE ko kau kO kaM kaMm kaMM kaM^ kaH ka~ kR ka`
आउटपुट का कि की कु कू के कै कॅ को कौ कॉ कं कँ कः क् कृ क़
अन्य चिन्ह
इनपुट AUM . .. // Z
आउटपुट .

अंक[संपादित करें]

अंक
इनपुट 0 1 2 3 4 5 6 7 8 9
आउटपुट

नोट: 0123... प्रकार के अंक टाइप करने के लिये हिन्दी ट्रांस्लिटरेशन को अक्षम करें।

अन्य सीधी इनपुट[संपादित करें]

इनपुट B C G J K L P V W
आउटपुट ब्ब् क्क् ग्ग् ज्ज् क्क् ळ् प्प् व्व्

बोलनागरी[संपादित करें]

यह इनपुट प्रणाली अभी प्रयोगात्मक है और संभव है कि सभी ब्राउज़रों में ठीक से काम ना करे।

फोनेटिक[संपादित करें]

फोनेटिक प्रणाली case-specific है, अर्थात a और A से समान इनपुट नहीं आती है। नीचे दिये गए नियमों में ये बात ध्यान रखें।

स्वर[संपादित करें]

स्वर
अं अः
F A ; : \ " / ? ! ~ q Q # | FM FH ]

व्यंजन[संपादित करें]

व्यंजन
कंठ्य
k K g G z
तालव्य
c C j J %
मूर्धन्य
w W [ { N
दंत्य
t T d D n
ओष्ठ्य
p P b B m
अन्तस्थ
y r l v
ऊष्म
S x s h
अन्य अक्षर
क्ष त्र ज्ञ श्र शृ ड़ ढ़
X tfr ^ * SR [> {> L

किसी अक्षर के बाद > दबाकर नुक़ता इनपुट किया जा सकता है, और निम्न नुक़ते वाले अक्षर सीधे भी इनपुट किये जा सकते हैं:

नुक़ते वाले अक्षर
इनपुट < Y } V
आउटपुट य़

मात्राएँ एवं अन्य चिन्ह[संपादित करें]

मात्राएँ एवं अन्य चिन्ह
ि
मूल व्यंजन के बाद इनपुट a i I u U e E @ o \ O $ M Z H f R > .
उदाहरण
इनपुट ka ki kI ku kU ke kE k@ ko k\ kO k$ kM kZ kH kf kR k> k.
आउटपुट का कि की कु कू के कै कॅ को कौ कॉ कं कँ कः क् कृ क़ क।

अंक[संपादित करें]

अंक
इनपुट 0 1 2 3 4 5 6 7 8 9
आउटपुट

नोट: 0123... प्रकार के अंक टाइप करने के लिये हिन्दी फोनेटिक प्रणाली को अक्षम करें।