विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी बोर्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Brit iaea h.jpg

विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी बोर्ड (BRIT/ब्रिट) भारत के परमाणु ऊर्जा विभाग की ईकाई है, जिसका गठन रेडियो-आइसोटोप अनुप्रयोगों तथा विकिरण तकनीकी द्वारा स्वास्थ्यरक्षा, उद्योग, कृषि एवं अनुसन्धान क्षेत्रों में व्यापक लाभ की दृष्टि को ध्यान मे रखकर मार्च 1989 में किया गया था। इसका मुख्यालय नवी मुंबई में है। इसके अतिरिक्त ब्रिट के 6 क्षेत्रीय केंद्र बेंगलुरु, दिल्ली, डिब्रूगढ़, हैदराबाद, कोलकाता और कोटा में स्थित हैं। सीलबंद स्त्रोत विभाग तथा मैडिकल सॉइक्लोट्रॉन सुविधा मुंबई में स्थित हैं। [1]

Animated BRIT.gif

प ऊ वि की मुख्य धारा से जुड़े विभिन्न कार्यक्रमों से उपलब्ध ज्ञान-संहिता, ऊदाहरण स्वरूप, भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के विविध अनुसंधान एवं विकास कार्यक्रम और एन पी सी आई ऍल के नाभिकीय विद्युत संयंत्रों द्वारा बिजली उत्पादन क्षमता के अतिरिक्त अपने अमूल्य योगदान के बल पर ब्रिट ने भी समाज में अपने लिये एक विशिष्ट स्थान बना लिया है । उद्योग-जगत, स्वास्थ्यरक्षा, कृषि और अनुसंधान में बहु-उपयोगी विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी के विविधता पूर्ण उत्पाद ], अनुप्रयोगों और सेवायें उपलब्ध कराने या प्रदान करने के फलस्वरुप परमाणु ऊर्जा उत्पादन के अतिरिक्त परमाणु विज्ञान के शांतिमय उपायों और उपयोगों के प्रचार प्रसार में ब्रिट अग्रणी और अहम भूमिका निभा रहा है ।

मुख्य कार्यकारी प्रदीप मुखर्जी

सामाजिक हित की दृष्टि और राष्ट्रीय विकास में रेडियोआइसोटोप्स की भूमिका के महत्व को समझते हुये परमाणु ऊर्जा विभाग ने, गत कई वर्षों से इनके उत्पादन और अनुप्रयोगों को अमल में लाने की दिशा में मूलभूत सुविधाओं का निर्माण किया है और अन्य आवश्यक ठोस कदम उठाते हुये विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी बोर्ड का गठन किया । ब्रिट मानवता के प्रति अपने इस उद्देश्य में उपयोग कर्ताओं को श्रेष्ठतम सेवायें और उत्पादों को उपलब्ध कराने की दिशा में निरन्तर गतिशील है। फिर वह चाहे नाभिकीय औषध से संबद्ध हो, विकिरण आधारित उपकरण की उपलब्धता से जुड़ा हो, या फिर विकिरण संसाधन सेवाओं, आइसोटोप अनुप्रयोगों अथवा रेडियोवैश्लेष्णिक सेवाओं का विषय हो, ब्रिट ने इन सभी दिशाओं में बहुमूल्य योगदान प्रदान किया है । [2] [3]

ब्रिट की रेडियोफार्मस्युटिकल्स और आर आई ए प्रयोगशालाएँ, चिह्नित यौगिक, मसालो एवं संबद्ध उत्पादों हेतु विकिरण संसाधन संयंत्र, विकिरण उपकरण निर्माण सुविधायें, कॉलम जॅनेरेटर संयंत्र, रेडियोवैश्लेष्णिक और आइसोटोप अनुप्रयोग सेवायें अदि विभिन्न सेवा-सुविधायें ब्रिट के नवी मुंबई स्थित मुख्यालय के परिसर में उपस्थित हैं ।

प्रदीप मुखर्जी 1 अगस्त 2019 से ब्रिट के मुख्य कार्यकारी का पद संभाल रहे हैं । श्री प्रदीप मुखर्जी पश्चिम बंगाल स्थित भारतीय इंजीनियरिंग विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (IIEST, पूर्वकाल में 'बंगाल इंजीनियरिंग महाविद्यालय') के सन 1987 के मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक हैं। [4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी बोर्ड". अभिगमन तिथि 14 सितम्बर 2019.
  2. "उत्पाद". अभिगमन तिथि 14 सितम्बर 2019.
  3. "सेवायें". अभिगमन तिथि 14 सितम्बर 2019.
  4. "मुख्य कार्यकारी". अभिगमन तिथि 14 सितम्बर 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]