रामसर अभिसमय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(रामसर सम्मेलन से अनुप्रेषित)
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
Ramsar logo.svg

रामसर अभिसमय अंतर्राष्ट्रीय महत्व की आर्द्रभूमियों, विशेषकर जलप्रवाही पशु पक्षियों के प्राकृतिक आवास, से संबंधित एक अभिसमय (convention) है।[1] यह आर्द्रभूमियों के धारणीय प्रयोग और संरक्षण को सुनिश्चित करने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय संधि है।[2]


पूरी दुनिया में 2 फरवरी को विश्व आर्द्रभूमि दिवस (World Wetland Day) के रूप में मनाया गया। गौरतलब है कि आर्द्रभूमि दिवस का आयोजन लोगों और हमारे ग्रह के लिये आर्द्रभूमि की महत्त्वपूर्ण भूमिका के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाने के लिये किया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय महत्व के आर्द्रभूमियों की सूची[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय महत्व की आर्द्रभूमि की सूची में मई 2018 में 2,331 रामसर स्थल शामिल हैं[3], जो 2.1 मिलियन वर्ग किलोमीटर (810,000 वर्ग मील) से अधिक को कवर करते हैं। सबसे अधिक साइटों वाले देश 175 के साथ यूनाइटेड किंगडम और 142 के साथ मेक्सिको हैं। सूचीबद्ध आर्द्रभूमि का सबसे बड़ा क्षेत्र बोलीविया है, जिसमें लगभग 148,000 वर्ग किलोमीटर (57,000 वर्ग मील) है।[4]

रामसर साइट सूचना सेवा (आरएसआईएस) एक खोज योग्य डेटाबेस है जो प्रत्येक रामसर साइट पर जानकारी प्रदान करता है। [5]

इतिहास[संपादित करें]

ईरान के शहर रामसर में २ फरवरी सन् १९७१ को हुए सम्मेलन में प्रतिभागी राष्ट्रों द्वारा आर्द्रभूमियों के संरक्षण से संबंधित अभिसमय पर हस्ताक्षर किया गया। यह समझौता रामसर अभिसमय के नाम से विख्यात हुआ। इसके द्वारा वैश्विक स्तर पर जैवविविधता में हो रहे परिवर्तन का सम्मिलित समावेशी प्रयासों द्वारा प्रबंधन और नियमन करने के लिए इच्छाशक्ति का प्रदर्शन किया गया। यह २१ दिसंबर १९७५ से प्रभाव में आया। अभिसमय की मेजबानी ईरान के पर्यावरण विभाग द्वारा की गयी।[6]

पानी से संतृप्त (सचुरेटेड) भूभाग को आर्द्रभूमि (wetland) कहते हैं। रामसर अभिसमय में स्वीकार की गयी परिभाषा के अनुसार आर्द्रभूमि ऐसा स्थान है जहाँ वर्ष में कम से कम आठ माह पानी भरा रहता है। वैश्विक स्तर पर वर्तमान में कुल १९२९ से अधिक आर्द्रभूमियाँ हैं। संयुक्त राज्य के फोरिडा का इवरग्लैडस सबसे बड़ा आर्द्रभूमि है। जैवविविधता की दृष्टि से आर्द्रभूमियाँ अत्यन्त संवेदनशील होती हैं। विशेष प्रकार की वनस्पतियाँ ही आर्द्रभूमि पर उगने और फलने-फूलने के लिये अनुकूलित होती हैं।

भारत के 49 रामसर स्थल[संपादित करें]

1. कोलेरु झील (आंध्र प्रदेश)

2. गहरा बील (असम)

3. नालसरोवर पक्षी अभयारण्य (गुजरात)

4. चंदेरटल वेटलैंड (हिमाचल प्रदेश)

5. पौंग बांध झील (हिमाचल प्रदेश)

6. रेणुका वेटलैंड (हिमाचल प्रदेश)

7. होकेरा वेटलैंड (जम्मू और कश्मीर)

8. सूरिंसार-मानसर झीलें (जम्मू-कश्मीर)

9. त्सो-मोरीरी (लद्धाख)

10. वुलर झील (जम्मू-कश्मीर)

11. अष्टमुडी वेटलैंड (केरल)

12. सस्थमकोट्टा झील (केरल)

13. वेम्बनाड-कोल वेटलैंड( केरल)

14. भोज वेटलैंड, भोपाल, ( मध्य प्रदेश)

15. लोकतक झील ( मणिपुर)

16. भितरकनिका मैंग्रोव (ओडिशा)

17. चिल्का झील (ओडिशा)

18. हरिके झील (पंजाब)

19. कंजली झील (पंजाब)

20. रोपड़ (पंजाब)

21. सांभर झील (राजस्थान)

22. केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान( राजस्थान)

23. प्वाइंट कैलिमेरे वन्यजीव और पक्षी अभयारण्य (तमिलनाडु)

24. रुद्रसागर झील (त्रिपुरा)

25. ऊपरी गंगा नदी ,ब्रजघाट से नरौरा खिंचाव (उत्तर प्रदेश)

26. पूर्व कलकत्ता वेटलैंड्स (पश्चिम बंगाल)

27. सुंदर वन डेल्टा (पश्चिम बंगाल)

28. नंदूर मधमेश्वर ,नासिक (महाराष्ट्र)

29. केशोपुर मिआनी कम्युनिटी रिजर्व ( पंजाब)

30. व्यास संरक्षण रिजर्व (पंजाब)

31. नांगल वन्यजीव अभयारण्य,रूपनगर ( पंजाब)

32. साण्डी पक्षी अभयारण्य ,हरदोई ( उत्तर प्रदेश)

33. समसपुर पक्षी अभयारण्य,रायबरेली (उत्तर प्रदेश)

34. नवाबगंज पक्षी अभयारण्य, उन्नाव (उत्तर प्रदेश)

35. समन पक्षी अभयारण्य ,मैनपुरी (उत्तर प्रदेश)

36. पार्वती अरगा पक्षी अभयारण्य , गोंडा (उत्तर प्रदेश)

37. सरसई नावर झील , इटावा (उत्तर प्रदेश)

38. आसान रिजर्व (उत्तराखंड)

39. कबर तल (बिहार)

40.लोनार झील (महारष्ट्र)

41.सुर सरोबर (आगरा)

42.त्सो कर लेक (लद्दाख)

इस वर्ष 2021 शामिल किए गए 5

क्षेत्र

43.भिंडावास वन्यजीव अभयारण्य (हरियाणा)

44.सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान (हरियाणा)

45.थोल झील वन्यजीव अभयारण्य (गुजरात)

46.वाधवाना आर्द्रभूमि (गुजरात) 47.हैदरपूर वेटलॅड (उत्तरप्रदेश) 48. खिजाड़िया पक्षी अभ्यारण्य (गुजरात) 49. बखीरा वन्यजीव अभ्यारण्य (उत्तर प्रदेश)

टिप्पणी :- 2019 से पहले 26 रामसर क्षेत्र थे। 2019 में सुंदर वन डेल्टा (पश्चिम बंगाल) को शामिल कर लेने से इनकी संख्या 27 हो गई थी, और इस वर्ष (2020) में 15 और क्षेत्रों के इसमें शामिल हो जाने से भारत में रामसर क्षेत्र की संख्या बढ़ कर 42 हो गई है, साथ ही इस वर्ष (2021) में 5 नए रामसर क्षेत्र इसमें शामिल हुए और इस वर्ष 2022 में 2 फरवरी को 2 और क्षेत्रों को शामिल करने से अब इनकी संख्या 49 हो गई है ।।

सम्मिलित पार्टियां[संपादित करें]

अल्बानिया, अल्जीरिया, अर्जेंटीना, आर्मेनिया, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, अजर्बैजान, बहामास, बहरीन, बांग्लादेश, बेलारूस, Belgium, Belize, Benin, Bermuda, Bolivia, Bosnia and Herzegovina, Botswana, Brazil, Bulgaria, Burkina Faso, Burundi, Cambodia, Canada, Chad, Chile, China, Colombia, Comoros, Republic of the Congo, Costa Rica, Côte d'Ivoire, Croatia, Cuba, Cyprus, Czech Republic, Democratic Republic of the Congo, Denmark, Djibouti, Dominican Republic, Ecuador, Egypt, El Salvador, Equatorial Guinea, Estonia, Finland, France, Gabon, The Gambia, Georgia, Germany, Ghana, Greece, Guatemala, Guinea, Guinea-Bissau, Honduras, Hungary, Hong Kong, Iceland, भारत, Indonesia, Iran, Ireland, Israel, Italy, Jamaica, Japan, Jordan, Kenya, Kyrgyz Republic, Latvia, Lebanon, Liberia, Libya, Liechtenstein, Lithuania, Luxembourg, Madagascar, Malawi, Malaysia, Mali, Malta, Mauritania, Mauritius, Mexico, Moldova, Monaco, Mongolia, Morocco, Namibia, Nepal, Netherlands, New Zealand, Nicaragua, Niger, Nigeria, Norway, Pakistan, Palau, Panama, Papua New Guinea, Paraguay, Peru, Philippines, Poland, Portugal, Republic of Macedonia, Romania, Russia, Saint Lucia, Senegal, Serbia, Sierra Leone, Slovakia, Slovenia, South Africa, South Korea, Spain, Sri Lanka, Suriname, Sweden, Switzerland, Syria, Tajikistan, Tanzania, Thailand, Togo, Trinidad and Tobago, Tunisia, Turkey, Turkmenistan, Uganda, Ukraine, United Kingdom, United States, Uruguay, Uzbekistan, Venezuela, Vietnam, Zambia, former USSR.

नयी पार्टियां

Antigua and Barbuda (02.10.05), Cape Verde (18.11.05), Central African Republic (05.04.06), Iraq (17.02.08), Kazakhstan (15.01.07), Lesotho (01.11.04), Marshall Islands (13.11.04), Montenegro (succ. 03.06.06), Mozambique (03.12.04), Myanmar (17.03.05), Rwanda (01.04.06), Samoa (06.02.05), Seychelles (22.03.05), Sudan (07.05.05), Turkmenistan (03.07.09), United Arab Emirates (29.12.07), Yemen (08.02.08)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "on Wetlands of International Importance especially as Waterfowl Habitat". मूल से 7 सितंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 जुलाई 2012.
  2. "Ramsar Convention on Wetlands". मूल से 7 अक्तूबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मई 2012.
  3. "रामसर साइट्स इन इंडिया" (अंग्रेज़ी में). 2022-05-24. अभिगमन तिथि 2022-05-29.
  4. "Ramsar Sites around the World | Ramsar". www.ramsar.org. अभिगमन तिथि 2022-05-29.
  5. "Using the Ramsar Sites Information Service"
  6. "the Ramsar Convention". मूल से 14 जून 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 जुलाई 2012.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]