मानेसर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

thumb|340px|दिल्ली-एनसीआर का मानचित्र मानेसर भारत के हरियाणा राज्य के गुड़गांव जिले का एक तेजी से उभरता औद्योगिक शहर है, साथ ही यह दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एनसीआर (NCR) का एक हिस्सा भी है। यह एक सुशुप्त गाँव से भारत के एक सर्वाधिक तेजी से उभरते टाउनशिप में परिवर्तित हो चुका है। यह एनसीआर (NCR) से एक शीघ्र जुड़नेवाला क्षेत्र है। कुछ विकासकों ने मानेसर के साथ एक नया उपनाम जोड़कर इसे 'नया गुड़गांव' का नाम दिया है।[1] राजनीतिक संवेदनशीलता के केन्द्र - दिल्ली से इसकी निकटता के कारण सरकार ने यहाँ राष्ट्रीय महत्त्व के कुछ संस्थानों जैसे राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (और इसका प्रशिक्षण केंद्र), राष्ट्रीय बम डेटा केंद्र और राष्ट्रीय मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र के मुख्यालयों की स्थापना की स्थापना की है। आसपास के स्थानों से 100,000 से अधिक लोग काम करने के लिए मानेसर जाते हैं। गुड़गांव-मानेसर मास्टर प्लान के अनुमान के अनुसार 2021 तक यहाँ की जनसंख्या 37,00,000 हो जाएगी.[2] यहाँ कई कारखाने, कार्यालय, होटल और शैक्षणिक संस्थान मौजूद हैं। इस क्षेत्र के आस-पास कई दर्शनीय खेल परिसर स्थित हैं, जिनमें कई गुड़गांव से जुड़े हुए हैं।

शब्द व्युत्पत्ति[संपादित करें]

मानेसर का नाम हिंदू पौराणिक कथाओं में उल्लेखित है। संस्कृत से अनुवाद किए जाने पर मानेसर का अर्थ "मस्तिष्क के देवता की भूमि" या भगवान शिव की भूमि होता है।

इतिहास[संपादित करें]

मूल मानेसर गाँव दिल्ली जयपुर राजमार्ग (एनएच-8 (NH-8)) पर स्थित तकरीबन 1000 घरों वाला एक सुशुप्त गाँव था, लेकिन नब्बे के दशक के उत्तरार्द्ध से यह एक तेजी से उन्नति करने वाले शहर में बदल गया है जहाँ कई विश्वस्तरीय-ब्रांडों ने अपनी फैक्ट्रियाँ स्थापित की हैं। इसकी उन्नति में फैक्ट्रियों को दिल्ली से बाहर करने के सरकार के कदम के साथ-साथ गुड़गांव शहर (15 मिनट की दूरी पर स्थित) के तीव्र विकास और दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से निकटता (तकरीबन 40 मिनट की दूरी) से काफी मदद मिली है। मूल मानेसर गाँव में विभिन्न समुदायों के लोग रहते हैं लेकिन यहाँ के 80% निवासी यादव हैं (जो अपने सर्वाधिक प्रसिद्ध पूर्वज भगवान कृष्ण के लिए कहीं अधिक लोकप्रिय हैं) और इनका मुख्य पेशा खेती है। हालांकि आज यह दुनिया भर से आए लोगों से भर गया है और आधुनिक भारत में जिस किसी भी पेशे के बारे में आप सोच सकते हैं, वह यहाँ मौजूद है।

यातायात[संपादित करें]

मानेसर राष्ट्रीय राजमार्ग 8 पर स्थित है और इस मार्ग पर स्थानीय बसों की सेवा उपलब्ध है। निकटतम रेलवे स्टेशन गुड़गांव स्टेशन है।

हरियाणा मेट्रो रेल निगम

हरियाणा अपनी मेट्रो रेल सेवा का विस्तार हरियाणा में पड़ने वाले राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) (NCR) के इलाकों में करने के लिए स्वयं का मेट्रो निगम स्थापित करने जा रही है, साथ ही यह मेट्रो रेल को मानेसर शहर तक बढ़ाने की योजना भी बना रही है।[3][4]

मानेसर तक प्रस्तावित दिल्ली मेट्रो लिंक

दिल्ली मेट्रो, दिल्ली मेट्रो रेल निगम लिमिटेड द्वारा संचालित,

आईटी (IT) और आईटीईएस (ITeS) क्षेत्र से निरंतर बढ़ती माँग ने गुड़गांव जिले में आईएमटी (IMT), मानेसर के सेक्टर 8 को एक उभरते हुए "अगली पीढ़ी के आईटी-आईटीईएस (IT-ITeS) गंतव्य" के रूप में तब्दील कर दिया है। बुनियादी ढाँचे में महत्वपूर्ण सुधार का कार्य मानेसर में प्रगति पर है। दिल्ली - जयपुर एक्सप्रेस मार्ग ने दिल्ली से मानेसर तक के सफ़र का समय 90 मिनट से घटाकर 30 मिनट कर दिया है। सार्वजनिक परिवहन में आगे सुधार के लिए, दिल्ली मेट्रो का विस्तार मानेसर तक करने की योजनाएं बनायी गयी हैं।[4][5]

कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस मार्ग

135.6 किलोमीटर लंबे दिल्ली पश्चिमी परिधीय एक्सप्रेस मार्ग, जिसे कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस मार्ग के रूप में भी जाना जाता है, के निर्माण का कार्य अत्यंत तीव्र गति से चल रहा है। कुंडली-मानेसर-पलवल (KMP) एक्सप्रेस मार्ग के जून 2009 तक चालू हो जाने की योजना बनाई गयी थी लेकिन यह 2010 से पहले तैयार नहीं हो सकता है। इसके कारण दिल्ली को रात के भारी ट्रैफिक की भीड़ से राहत मिल जाएगी. एक्सप्रेस मार्ग रात्रि वाहनों के लिए एक बाईपास के रूप में कार्य करेगा। [5]

हरियाणा में 135-किमी लंबे कुंडली-मानेसर-पलवल (KMP) एक्सप्रेस मार्ग, जिसे पश्चिमी परिधीय एक्सप्रेस मार्ग के रूप में भी जाना जाता है, इसे प्रत्येक 45 किलोमीटर के तीन संकुलों में विभाजित किया गया है। कुंडली, मानेसर और पलवल में तीन प्रमुख कैम्प स्थापित किये गए हैं, जो जसौरी खेरी, बादली और ताओरू में मौजूद तीन सहायक कैम्पों द्वारा समर्थित हैं। चार फ्लाईओवर उन स्थानों पर प्रस्तावित किये गए हैं जहाँ एक्सप्रेस मार्ग, एनएच-1 (NH-1), एनएच-10 (NH-10), एनएच-8 (NH-8) और एनएच-57 (NH-57) नामक राष्ट्रीय राजमार्गों को पार करेंगे। राज्य के राजमार्गों की क्रॉसिंग और जिले के प्रमुख सड़कों पर सोलह ओवरपास (उपरिगामी मार्ग) और अंडरपास (भूमिगत मार्ग); गाँव की सडकों की क्रॉसिंग पर सात ओवरपास, नौ अंडरपास और 27 अंडरपास; और 33 कृषि वाहनों के अंडरपास, 31 पशुओं के क्रॉसिंग वाले मार्ग, 61 पैदल यात्री क्रॉसिंग मार्ग, चार रेलवे ओवरब्रिज, 18 बड़े और छोटे पुल, 292 स्थानों पर मल-जल निकासी मार्ग (क्रॉस ड्रेनेज वर्क्स) (कलवर्ट) और दो ट्रक पार्किंग एवं बसों के चार जमावडों का भी निर्माण किया जाएगा.[6]

रियल एस्टेट[संपादित करें]

रियल एस्टेट में हाल के निष्कर्षों के अनुसार, मानेसर भारत के सर्वोत्तम भविष्योन्मुखी निवेश स्थानों में शामिल है। हालांकि, मानेसर में आवासीय संपत्ति अभी तक निर्माणाधीन अवस्था में है, मानेसर की व्यावसायिक संपत्ति में अत्याधुनिक ऑफिस योग्य स्थान उपलब्ध हैं। आईएमटी (IMT) मानेसर में सेक्टर 1 को एचएसआईआईडीसी (HSIIDC) द्वारा आवासीय क्षेत्र के रूप में विकसित किया गया है जहाँ 550 से अधिक व्यक्तिगत आवासीय भूखंड और 50 सामूहिक आवासीय भूखंड उपलब्ध हैं, जिन्हें 2006 में आईएमटी (IMT) मानेसर के व्यावसायिक संस्थानों में कार्यरत कर्मचारियों के सामूहिक आवासीय समितियों के लिए आवंटित किया गया था। इसके अलावा कई सबसे अग्रणी विश्वस्तरीय ब्रांड जैसे टोयोटा, मित्सुबिशी, होंडा, सुजुकी और इसी तरह के अन्य ब्रांड पहले से ही यहाँ मौजूद हैं, जो मानेसर के रियल एस्टेट में भारी निवेश कर रहे हैं। साथ ही जयपुर तक के लिए एक एक्सप्रेस मार्ग का प्रस्ताव मानेसर रियल एस्टेट के महत्त्व को बढाने वाला एक अन्य आकर्षक पहलू है। भारत के अधिकाँश शीर्ष स्तरीय बिल्डरों जैसे रिलायंस, डीएलएफ, यूनिटेक, रहेजा, वाटिका आदि ने इस खंड पर अभूतपूर्व टाउनशिप विकसित करने के लिए पहले से ही अपना स्थान सुरक्षित कर लिया है।

मानेसर ग्रामीण इलाके में स्थित एक साधारण से गाँव से पूरी तरह बदलकर एक भव्य औद्योगिक और वाणिज्यिक व्यापार केंद्र बन गया है। विशेषकर आईएमटी (IMT) मानेसर औद्योगिक क्षेत्र के विकास के बाद, मानेसर में हुए व्यावसायीकरण ने विकास का आदर्श उदाहरण प्रस्तुत किया है। मानेसर रियल एस्टेट की क्षमता को स्वीकार करते हुए कई बड़ी कंपनियाँ और उद्योग अपनी योजनाओं को अमल में लाने के लिए यहाँ अपना ध्यान केंद्रित कर रही हैं।

मानेसर अभी भी रूपांतरण की अवस्था में है और वह दिन दूर नहीं जब यह एक अच्छी तरह विकसित शहर में बदल जाएगा जहाँ सभी बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ कहीं अधिक जटिल और आधुनिकतम चीजें हाथ की दूरी में मौजूद होंगी. रियल एस्टेट में हाल के निष्कर्षों के अनुसार, मानेसर का नाम भारत के शीर्षस्थ संभावित निवेश स्थानों की सूची में अंकित है। मारुति सुजुकी मानेसर में लाखों डॉलर के निवेश से अपना एक प्रमुख आर एंड डी केंद्र स्थापित करने की योजना बना रही है, जो 2010 में पूरा हो जाने के लिए प्रस्तावित है।

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

Maruti Old Logo.JPG

Mitsubishi logo.svg Samsung Logo.svg 2008 सुजुकी स्पलैश Honda-logo.svg

मानेसर की लोकप्रियता के कारणों को खोजना मुश्किल नहीं है। "यह मुख्य जयपुर-दिल्ली राजमार्ग पर अहीरवाल पट्टी पर स्थित है और दिल्ली से बहुत अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा यहाँ से सिर्फ 32 किलोमीटर दूर है, जबकि कनॉट प्लेस की दूरी 45 किमी है। यहाँ से कनॉट प्लेस तक पहुँचने में करीब डेढ़ घंटे का समय लगता है।"

"लोकेशन के अलावा, मानेसर की अन्य आकर्षक विशेषता यह है कि इसके पास सबसे अच्छा बुनियादी ढांचा मौजूद है और इस संदर्भ में यह अन्य औद्योगिक टाउनशिप से कहीं आगे हैं। कोइ भी निवेशक जो इस स्थान को देखने के लिए आता है, वह यहाँ मौजूद व्यवस्थाओं को देखकर अत्यंत प्रभावित हो जाता है। अन्य राज्य निगमों के विपरीत, जो बुनियादी ढांचे के विकास का कार्य अपने ही स्वयं के सरकारी निकायों को देती है, हमने यहाँ हर चीज के लिए विश्वस्तरीय निविदाएं जारी की हैं। उद्योग से जुड़े सर्वश्रेष्ठ नाम इनके लिए बोली लगाते हैं और इसके परिणाम स्वरुप आज हमारे पास विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचा मौजूद है।" सेक्टर-1 में तकरीबन 250 एकड़ (1.0 कि॰मी2) की जमीन उपलब्ध है, जो राष्ट्रीय राजमार्ग-8 के बांयी और स्थित है जबकि गुड़गांव से जयपुर की ओर जाते हुए क्षेत्र को औद्योगिक आवास के लिए चिह्नित किया गया है, जो प्रबंधकीय आवास और गैर-प्रबंधकीय आवास, दोनों प्रकार की आवश्यकताओं के लिए उपयुक्त है। गैर-प्रबंधकीय आवास को सामूहिक आवास के मानदंडों के अनुसार विकसित करने की योजना है। इस परिसर में आवासीय सुविधाओं के साथ सुविधाजनक शॉपिंग, विद्यालय और स्वास्थ्य सुविधाओं सहित अन्य आवश्यक सामाजिक बुनियादी सुविधाएं मौजूद हैं।

मानेसर वास्तव में एक शहर बनने की स्थिति में है। जब से एचएसआईडीसी (HSIDC) ने जून, 1997 में इस परियोजना को हाथ में लिया है, यह काम अत्यंत तीव्र रफ़्तार से आगे बढ़ रहा है। हर तरह का बुनियादी ढांचा यहाँ मौजूद और सक्रिय है साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कंपनियों जैसे होंडा स्कूटर्स एंड मोटरसाइकिल्स, ड़ेंसो, नॉरकूल, मित्सुबिशी इलेक्ट्रिकल्स, वीडियोकॉन, मोटोरोला, जॉनसन मैथे (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, बक्स्टर इंडिया और भारत के प्रतिष्ठित ऑटोमोबाइल रिसर्च एसोसिएशन ने पहले से ही अपनी गतिविधियाँ यहाँ शुरू कर दी हैं।

अच्छी तरह से व्यवस्थित सड़कें (न्यूनतम चौड़ाई: 15 मीटर), सीवरेज उपचार और निपटान संयंत्र, अत्याधुनिक बिजली घर और जल आपूर्ति प्रणालियों के साथ-साथ प्रोडक्शन हाउस की सुन्दर इमारतें और प्राकृतिक दृश्यों से परिपूर्ण उद्यान न केवल आँखों को सुकून देते हैं बल्कि एक ऐसी सुनियोजित व्यवस्था का प्रतिबिम्ब हैं जो अरावली की लगभग बंजर पहाड़ियों वाली बस्ती के एक टाउनशिप में तब्दील होने की दास्तान सुनाते हैं। वास्तव में, पहली छोटी सी पहाड़ी जिसपर मैदानी क्षेत्र के विस्तार के अंत में ऊँचाई पर एक प्राचीन मंदिर स्थित है एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। "मानेसर को जितना हरा-भरा बनाया जा सकता है, हम उसके लिए एक व्यापक प्रयास कर रहे हैं। विभिन्न किस्मों के 40 से अधिक पौधों को यहाँ वृक्षारोपण के लिए चुन लिया गया है और वृक्षारोपण का अधिकाँश कार्य पूर्ण होने की स्थिति में हैं। यह वास्तव में एक हरा-भरा औद्योगिक क्षेत्र हो जाएगा," यह कहना है एचएसआईडीसी (HSIDC) के महाप्रबंधक का, "इसके अलावा", वे कहते हैं, "हमने राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ 50-मीटर-विस्तार वाली एक हरित पट्टी छोड़ी है और यह इस औद्योगिक शहर के फेफड़ों के रूप में कार्य करेगा। एचएसआईडीसी (HSIDC) ने मानेसर में औद्योगिक मॉडल टाउनशिप स्थापित करने के लिए 1,736 एकड़ (7.03 कि॰मी2) जमीन का अधिग्रहण कर लिया है। इस जमीन पर कब्जा प्राप्त कर लेने के बाद, एचएसआईडीसी (HSIDC) ने सेक्टर-3 में एमयूएल (MUL), गुड़गांव एवं अन्य वेंडरों को 110 एकड़ (0.45 कि॰मी2) जमीन आवंटित कर दी है। वेंडर अपनी औद्योगिक इकाइयों का निर्माण शुरू करने की प्रक्रिया में हैं। एचएसआईडीसी (HSIDC) ने इन आवंटित भूखंडों पर आवश्यक भौतिकीय बुनियादी ढांचे के विकास का काम एक सीमित पैमाने पर पहले से ही शुरू कर दिया है।

लक्ष्य किए गए व्यापक स्तर के सेगमेंट की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तककरीबन 1,750 एकड़ (7.1 कि॰मी2) जमीन को पूरी तरह विकसित कर लिया गया है और स्थलों का आवंटन भी पूरा हो गया है। विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों जैसे कि उच्चस्तरीय तकनीकी इकाइयों, उच्चस्तरीय परिशुद्धता इकाइयों और गैर-प्रदूषणकारी इकाइयों पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित कर अलग-अलग जोन बनाए गए हैं। प्रत्येक जोन को विशिष्ट आश्रित किरायेदारों के आस-पास तैयार किया गया है- जिनमें से कुछ पहले से ही मानेसर के आसपास के क्षेत्र में मौजूद हैं। उदाहरण के लिए, उन इकाइयों को प्राथमिकता दी गयी है जो गुड़गांव की सबसे बड़ी फैक्ट्री, मारुति उद्योग के लिए सहायक आपूर्तिकर्ता हैं।

मिश्रित भूखंड में प्रत्येक जोन के अन्दर छोटे और बड़े आकार के भूखंड हैं और इन्हें इनकी मातृ इकाइयों, सहायक इकाइयों और उप-सहायक इकाइयों के लिए डिजाइन किया गया है। इसके लिए एक क्लस्टर-योजना निर्माण के दृष्टिकोण को अपनाया गया है। इसके अलावा, लघु-सूचीबद्ध उद्योग, जिनमें ऑटो और ऑटो कम्पोनेंट्स, उच्चस्तरीय परिशुद्धता उद्योग, वस्त्र, फार्मास्यूटिकल्स, सॉफ्टवेयर और सफेद वस्तु शामिल हैं, आईएमटी (IMT) के लिए महत्त्वपूर्ण सेगमेंट हैं और इनके लिए आधारभूत आंतरिक बुनियादी सुविधाएं अनुकूलित की गयी हैं।

एक औद्योगिक टाउनशिप के रूप में अपनी प्राथमिक कार्यप्रणाली के बावजूद, आईएमटी (IMT) शहर की समस्त सुविधाएं प्रदान करने की प्रक्रिया में है। एक नौ-कोर्स के एक गोल्फ कोर्स के साथ क्लब हाउस पूरा होने की स्थिति में है। कंपनी के शीर्ष प्रबंधकीय अधिकारियों को शीघ्र स्थानांतरण की सुविधा प्रदान करने के लिए इसके निकट एक हेलिपैड तैयार किया जाएगा. इसके अतिरिक्त कर्मचारियों के लिए अन्य मनोरंजक सुविधाएं पूरा होने की प्रक्रिया में हैं।

मानेसर का एक अन्य विशिष्ट पहलू है प्रबंधकीय और गैर-प्रबंधकीय कर्मचारियों के लिए आवासीय परिसरों का एक साथ विकास. एचएसआईडीसी (HSIDC) ने राष्ट्रीय राजमार्ग के आस-पास 250 एकड़ (1.0 कि॰मी2) अधिगृहित किया है और इसे यहाँ कर्मचारियों के क्वार्टर निर्माण के लिए विभिन्न इकाइयों को आवंटित किया है। राजमार्ग पर भीड़ को कम करने के लिए आवासीय परिसर को एक ओवरब्रिज के माध्यम से औद्योगिक क्षेत्र से जोड़ा जाएगा. आवासीय परिसर में एक छोटे शहर की सभी बुनियादी सुविधाएं मौजूद होंगी.

कुंडली-मानेसर-पलवल या दिल्ली पश्चिमी परिधीय एक्सप्रेस मार्ग का निर्माण कार्य तीव्र गति से चल रहा है। इस एक्सप्रेस मार्ग की लंबाई 135.6 किलोमीटर है और आशा की जाती है कि यह जून 2009 तक चालू हो जाएगा. इस एक्सप्रेस मार्ग को प्रत्येक 45 किलोमीटर के तीन संकुलों में विभाजित किया गया है। यह आश्चर्य की बात नहीं है कि क्यों जापान, फ्रांस और ब्रिटेन के निवेशकों ने पहले से ही मानेसर में लगभग 450 औद्योगिक इकाइयाँ स्थापित कर ली हैं।

गुड़गांव-मानेसर योजना के अंतर्गत आवासीय क्षेत्रों में बोर्डिंग हाउस, सामाजिक, सामुदायिक, मनोरंजक और धार्मिक भवन, शैक्षणिक भवन, स्वास्थ्य संस्थान, सिनेमा, वाणिज्यिक और व्यावसायिक कार्यालय, खुदरा दुकानें और रेस्तराएं, स्थानीय सेवा उद्योग, पेट्रोल/सीएनजी स्टेशन, बस स्टॉप, टैक्सियां, स्कूटर और रिक्शा स्टैंड, नर्सरी और ग्रीन हाउस, होटल, साइबर और आईटी पार्क और "आवासीय उपयोग में सहायक कोई भी अन्य आवश्यकता" के विकास की संभावनाएं शामिल हैं। यह राष्ट्रीय राजमार्ग आठ पर गुड़गांव (मिलेनियम सिटी) से लेकर जयपुर तक अहीर वाल पट्टी में स्थित है। तीव्र आर्थिक विकास के शुरू होने से पहले मानेसर भारतीय सेना को समर्पित अपने अनेकों सैनिकों के लिए प्रसिद्ध था। अब तक लगभग हर परिवार ने अपने एक बेटे को भारतीय सेना में भेजा है। मानेसर और इसके आस-पास रहने वाले लोग आमतौर पर लंबे और मजबूत डील-डौल के होते हैं जो इन्हें उत्कृष्ट सैनिक बनाते हैं। मानेसर के पास एक बड़ा सैनिक स्कूल भी है। मानेसर और इसके आसपास के ग्रामीणों को आज भी अपने विस्तृत खेतों में काम करते देखा जा सकता है। ये लोग बहुत ही दोस्ताना आचरण रखते हैं लेकिन केवल कुछ ही लोग अंग्रेजी बोलते हैं। हालांकि मानेसर में सार्वजनिक स्कूलों और कॉलेजों के बढ़ने से नई पीढ़ी सूचना प्रौद्योगिकी में सक्रिय रूप से दाखिला ले रही है और ये अंग्रेजी बोलते हैं।

औद्योगिक इकाइयाँ

मानेसर में कार्यरत औद्योगिक इकाइयों में से कुछ हैं:

  • अल्काटेल-ल्यूसेंट इंडिया लिमिटेड
  • होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर्स इंडिया.
  • हीरो मोटर्स लिमिटेड
  • एनएचके (NHK) नैपिनो ऑटो.
  • सैमसंग टेलीकम्युनिकेशंस.
  • ड़ेंसो हरियाणा.
  • मारुति सुजुकी मेटल.
  • फ्रीगो ग्लास.
  • बक्सटर इंडिया.
  • जॉनसन मैथे
  • बंडी इंडिया.
  • मुंजाल शोवा.
  • मित्सुबिशी इलेक्ट्रिकल्स.

इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, नई दिल्ली तक ड्राइव करने में तकरीबन 20-25 मिनट का समय लगता है। 5 सितारा होटल, गोल्फ कोर्स, व्यावसायिक सम्मेलन की सुविधाएं, सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, हैलीपैड और कई अन्य सुविधाएं शीघ्र ही यहाँ उपलब्ध होने जा रही है।

आईएमटी (IMT) मानेसर का व्यावसायिक माहौल

औद्योगिक मॉडल टाउनशिप (आईएमटी) एक 1,750-एकड़ (7.1 कि॰मी2) अत्याधुनिक एकीकृत औद्योगिक पार्क है जिसकी योजना शुरुआत में केंद्र, हरियाणा सरकार और एक जापानी कंपनी के एक संयुक्त उद्यम के रूप में बनी थी। लेकिन अंततः 1997 में इसे एचएसआईडीसी (HSIDC) द्वारा विशिष्ट रूप से एक औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित करने के लिए हासिल कर लिया गया। आईएमटी (IMT) रणनीतिक तौर पर राष्ट्रीय राजमार्ग 8 के साथ दिल्ली और जयपुर को जोड़ते हुए गुड़गांव से केवल 23 किलोमीटर दूर स्थित है। यह देश में अपनी तरह का एक विशेष स्थान है और ऐसी ऐसी सेवाएं और सुविधाएं प्रदान करने के लिए प्राप्त किया गया था जो प्रदेश को औद्योगिक प्रतिस्पर्धा के एक वैश्विक मानचित्र पर स्थापित कर दे।

मानेसर को चार चरणों में विकसित किया गया है। एचएसआईडीसी (HSIDC) ने पहले चरण में 1,750 एकड़ (7.1 कि॰मी2) भूमि विकसित की है, जबकि दूसरे चरण (180 एकड़) और चौथे चरण (650 एकड़) का कार्य प्रगति पर है। एचएसआईडीसी (HSIDC) ने तीसरे चरण (600 एकड़) का कार्य मारुति उद्योग लिमिटेड को उनकी विस्तार परियोजना के लिए आवंटित किया है। मानेसर एक एकीकृत और स्वतंत्र औद्योगिक शहर है जहाँ क्षेत्र के औद्योगिकीकरण को सुनिश्चित करने के लिए समस्त आधारभूत बुनियादी ढांचे मौजूद हैं।

सुविधाओं में हाई-टेक दूरसंचार प्रणाली, 220KV सबस्टेशन, जल आपूर्ति, सीवरेज निपटान, हैलीपैड, शौपिंग आर्केड, स्वास्थ्य केन्द्र, स्कूल, चौड़ी मेटालिक सड़कें, गोल्फ कोर्स और क्लब शामिल हैं। इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय (IGI) हवाई अड्डे से 32 किमी और कनॉट प्लेस से 45 किमी दूर मानेसर, गुड़गांव और दिल्ली में अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मानेसर उद्यमियों और यहाँ काम करने वाले कर्मचारियों, दोनों के लिए एक स्वाभाविक विकल्प है।

औद्योगिक इकाइयों में हजारों लोगों को रोजगार मिलाने के कारण, यहाँ आवासीय परियोजनाओं के लिए खरीदारों की कमी नहीं है। इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, नई दिल्ली तक ड्राइव करने में यहाँ से तकरीबन 20-25 मिनट का समय लगता है। 5 सितारा होटल, गोल्फ कोर्स, व्यावसायिक सम्मेलन की सुविधाएं, सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, हैलीपैड और कई अन्य चीजें जल्द ही यहाँ उपलब्ध हो जाएंगी.

अधिकारियों द्वारा गुड़गांव के अंदर सड़कों की हालत की निगरानी के लिए राइट्स (RITES) को अपने सलाहकार के रूप में हायर किया है, जिससे सड़कों की गुणवत्ता में सिर्फ सुधार की उम्मीद की जाती है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि सड़कें बनाते समय आवश्यक मानकों का पालन किया गया है या नहीं, राइट्स (RITES) गुणवत्ता नियंत्रण परीक्षण का कार्य पूरा करेगी। गुणवत्ता नियंत्रण परीक्षणों पर साफ-सुथरे होकर निकल आने के बाद ही ठेकेदारों को पैसे जारी किए जाएंगे. अभी तक उनके अपने इंजीनियरों और तकनीकी स्टाफ ने जाँच कर ली है और इन्हें भुगतानों की मंजूरी दे दी है। तीसरे पक्ष (राइट्स) (RITES) से हरी झंडी मिलने का कार्य अभी प्रगति पर है, इसीलिए सड़कों की हालत में सिर्फ सुधार हो सकता है। विश्व की प्रमुख मापन कंपनी और दूरसंचार प्रौद्योगिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स, जीव विज्ञान और रासायनिक विश्लेषण के क्षेत्र की अग्रणी कंपनी एगिलेंट टेक्नोलॉजीज इंक ने मानेसर में अपना नया कैंपस खोलकर देश में अपनी उपस्थिति को मजबूती प्रदान की है। एगिलेंट ने इस सुविधा में 40 मिलियन डॉलर का निवेश किया है।[7]

मानेसर में 250 बिस्तरों वाले एक मल्टी-स्पेशियलिटी अस्पताल का निर्माण किया जा रहा है। यह सामान्य आबादी को सभी प्रकार की ओपीडी (OPD) और आपातकालीन सेवाएं, जीवन रक्षक, चिकित्सीय और उपचारात्मक द्वितीयक देखभाल की सुविधाएं प्रदान करेगा और तृतीयक देखभाल की सुविधा को जरूरत के अनुसार जोड़ा जाएगा. शुरुआत में दिल्ली का रॉकलैंड अस्पताल तृतीयक देखभाल के लिए अपने विशेषज्ञ बैकअप की सेवा प्रदान करेगा। चूंकि यह सुविधा एनएच-8 (NH-8) से सटी हुई है, यहाँ की मुख्य विशेषताओं में क्रिटिकल केयर और ट्रॉमा शामिल होंगी.[2]

यह अस्पताल 2010 तक चालू हो जाएगा. तत्काल प्रभाव के साथ, समूह ने मुख्य अस्पताल के स्थान पर एक क्लिनिक तैयार किया है।[2]

दिल्ली मुम्बई औद्योगिक गलियारा परियोजना[संपादित करें]

दिल्ली मुम्बई औद्योगिक गलियारा परियोजना भारत सरकार की एक राज्य-प्रायोजित औद्योगिक विकास परियोजना है। यह एक महत्वाकांक्षी परियोजना है जिसका लक्ष्य भारत के छह राज्यों में फैले एक औद्योगिक जोन को विकसित करना है। इस परियोजना में बुनियादी सुविधा और उद्योग का व्यापक विस्तार होगा - जिसमें औद्योगिक क्लस्टर और रेल, सड़क, बंदरगाह, हवाई संपर्क शामिल हैं - जो इन राज्यों में गलियारे के मार्ग के साथ स्थित होगा। भारत और जापान द्वारा एक परियोजना विकास कोष की स्थापना के समझौते पर हस्ताक्षर करने से महत्वाकांक्षी दिल्ली मुम्बई औद्योगिक गलियारा (डीएमआईसी) (DMIC) को काफी बढ़ावा मिला है। इस कोष का शुरुआती आकार 1,000 करोड़ रुपये (लगभग 212 मिलियन डॉलर) होगा। जापानी और भारतीय सरकार, दोनों बराबर का योगदान करेगी।

इस गलियारे में 200 वर्ग किलोमीटर के प्रत्येक छः व्यापक निवेश क्षेत्र होंगे और सात राज्यों से होकर गुजरेंगे, जिनमें शामिल हैं दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दक्षिणी हरियाणा, पूर्वी राजस्थान, पूर्वी गुजरात, पश्चिमी महाराष्ट्र और[8] मानेसर-बावल ऐसा ही एक निवेश क्षेत्र है जिसे महत्वाकांक्षी दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे के पहले चरण में विकसित करने के लिए चुना गया है। हरियाणा के क्षेत्र का 60 प्रतिशत से अधिक हिस्सा इस महत्वाकांक्षी डीएमआईसी (DMIC) परियोजना के परियोजना क्षेत्र के अंतर्गत आता है, जो दिल्ली-मुंबई डेडिकेटिड फ्रेट कॉरीडोर के संरेखण के दोनों किनारों पर 150 किलोमीटर तक फैला हुआ है। इससे संपूर्ण एनएच-8 (NH-8), एनएच-2 (NH-2), एनएच-1 (NH-1) और एनएच-10 (NH-10) पर सार्वजनिक-निजी प्रयासों के माध्यम से औद्योगिक, शहरी और सहायक बुनियादी ढांचे के विकास के लिए अवसरों के भंडार खुल जाएंगे, इस गलियारे के साथ सात निवेश क्षेत्रों और 13 औद्योगिक क्षेत्रों की योजना बनाई गई है और मानेसर-बावल ऐसा ही एक निवेश क्षेत्र है जो पहले चरण में विकास के लिए चयनित क्षेत्रों में से एक है। विकास का केंद्र बावल एक व्यापक औद्योगिक केंद्र के रूप में उभरकर सामने आया है और बड़ी संख्या में बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने अपने उत्पादन आधार के रूप में बावल को चुना है।

पिछले तीन वर्षों के दौरान, एचएसआईआईडीसी (HSIIDC) ने प्रतिष्ठित श्रेणी के अंतर्गत माध्यम और बड़े पैमाने की परियोजनाओं के लिए तकरीबन 1.18 बिलियन अमेरिकी डॉलर की पूँजी निवेश के साथ बावल में 78 औद्योगिक भूखंड आवंटित किए हैं।[9]

शिक्षा[संपादित करें]

सरकारी पॉलिटेक्निक मानेसर (गुड़गांव) छात्रों को कैरियर उन्मुख शिक्षा प्रदान कर रही है जिससे कि उन्हें अपेक्षित, योग्यता और प्रशिक्षण से परिपूर्ण किया जा सके। इससे उन्हें या तो एक लाभकारी रोजगार लेने में मदद मिलेगी या वे अपना स्वयं का उद्यम शुरू करेंगे और आत्मनिर्भर बन सकेंगे। यह संस्थान शहर के केंद्र में स्थित है। इसके पास अपने यहाँ उपलब्ध पाठ्यक्रमों की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ एक संपूर्ण पुस्तकालय और कंप्यूटर लैब मौजूद है। संस्थान वर्तमान में विभिन्न प्रकार के डिप्लोमा कार्यक्रम और विभिन्न अवधि के हॉबी कोर्स चल रहा है। ये पाठ्यक्रम भारत सरकार से प्रमाणन / मान्यता प्राप्त हैं। कुछ और पाठ्यक्रमों की मान्यता / प्रमाणन प्राप्त करने के प्रयास जारी हैं। अब तक की उपलब्धियाँ, हमारी प्रबंधन समिति के एक प्रेरणादायक और सुयोग्य नेतृत्व के कारण संभव हुई हैं, जिनमें उच्च स्तरीय सुशिक्षित सफल पेशेवर और उद्यमी शामिल शामिल हैं। [10]

विश्वस्तरीय विद्यालय और विश्वविद्यालय[संपादित करें]

  • एमिटी बिजनेस स्कूल
  • बाल भारती पब्लिक स्कूल
  • एडामास इंटरनेशनल स्कूल
  • आर्मी पब्लिक स्कूल
  • स्टारेक्स इंटरनेशनल स्कूल
  • चैल सैनिक स्कूल
  • केन्द्रीय विद्यालय

पर्यटन[संपादित करें]

मानेसर हरियाणा राज्य के गुड़गांव जिले में स्थित है और यह राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का एक हिस्सा है। गर्मियों में, यहाँ के तापमान में 18 से 45 डिग्री सेल्सियस और सर्दियों में 4 से 33 डिग्री सेल्सियस तक की भिन्नता होती है। इस स्थान में बोली जाने वाली आधिकारिक भाषाएं हैं अंगरेजी, हिंदी और हरियाणवी मानेसर में कई शैक्षणिक संस्थान, होटल, कार्यालय और फैक्ट्रियाँ मौजूद हैं।

होटल[संपादित करें]

  • हेरिटेज विलेज-मानेसर एक लक्जरी पाँच सितारा होटल है
  • रिजॉर्ट कंट्री क्लब
  • सुरजीवन रिज़ॉर्ट
  • रैडिसन होटल मानेसर
  • क्वींस अपार्टमेंट्स
  • स्वांसो पैलेस

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (भारत)
  • गुड़गांव
  • भिवाड़ी
  • कुंडली-मानेसर पलवल एक्सप्रेस मार्ग
  • राष्ट्रीय राजमार्ग 8 (भारत)
  • राव तुला राम
  • पटौदी
  • धारुहेरा
  • बावल
  • बेहरोर

सन्दर्भ[संपादित करें]