मन (फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मन (1999 फ़िल्म) से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
मन
मन.jpg
मन का पोस्टर
निर्देशक इन्द्र कुमार
निर्माता इन्द्र कुमार
अशोक ठकेरिया
लेखक आतिश कपाड़िया (संवाद)
पटकथा आतिश कपाड़िया
अभिनेता आमिर ख़ान,
मनीषा कोइराला,
शर्मिला टैगोर,
अनिल कपूर
संगीतकार संजीव-दर्शन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 22 जून, 1999
देश भारत
भाषा हिन्दी

मन 1999 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य फिल्म है। इसका निर्देशन इन्द्र कुमार ने किया और इसमें आमिर ख़ान, मनीषा कोइराला और अनिल कपूर प्रमुख चरित्रों का निर्वाहन करते हैं। रानी मुखर्जी भी विशेष उपस्थिति में दिखाई दी हैं। यह अकेले हम अकेले तुम (1995) के बाद आमिर और मनीषा की एक साथ दूसरी फिल्म है। कहानी मूल रूप से भीगी रात (1965) से अनुकूलित की गई है।

संक्षेप[संपादित करें]

देव करन सिंह (आमिर खान) एक बहुत बड़ा चित्रकार बनना चाहते रहता है, पर कर्ज़ में दबा हुआ होता है और इस कारण वो अमीर व्यापारी, सिंघानिया (दलीप ताहिल) की बेटी, अनीता (दीप्ति भटनागर) से शादी के लिए मान जाता है। वहीं प्रिया (मनीषा कोइराला) बच्चों को संगीत सिखाते रहती है और उसकी सगाई राज (अनिल कपूर) से हुई होती है और जल्द ही वो उससे शादी करने वाली होती है, क्योंकि उसने उसकी जरूरत के समय काफी मदद किया था। प्रिया और देव की मुलाक़ात क्रुज़ जहाज में होती है। दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते हैं। पर उन दोनों की किसी और से सगाई कर लिए होते हैं, वे लोग अपनी ओर से सारी कोशिश कर 6 महीने बाद मिलना तय करते हैं।

इन 6 महीनों में देव अपनी सगाई अनीता के साथ तोड़ देता है और काफी मेहनत करना शुरू कर देता है। वो कई सारी खूबसूरत तस्वीरें बनाने लगता है और उसके बिक्री होने से वो काफी सफल चित्रकार बन जाता है। वहीं प्रिया को लगता है कि राज को छोड़ना गलत होगा, इस कारण वो देव को खत में सारी बात बता देती है, पर वो खत राज को मिल जाता है और वो प्रिया को देव से मिलने के लिए राजी करता है। जब प्रिया देव से मिलने जाते रहती है, तभी एक कार उसे टक्कर मार देता है और प्रिया का पैर टूट जाता है। देव सारी रात प्रिया का इंतजार करते रहता है, पर वो नहीं आती तो उसे लगता है कि प्रिया उसे पसंद नहीं करती है। प्रिया इस हादसे और उसके बारे में देव को बताने से राज को मना कर देती है। हालांकि दोनों ही एक दूसरे से प्यार करते रहते हैं।

दिल टूटने के बाद भी देव अपने करियर पर ध्यान देते रहता है और काफी प्रसिद्ध चित्रकार बन जाता है। एक दिन प्रिया उसके कला प्रदर्शनी में आती है और एक चित्र को खरीदने की सोचती है। वो चित्र देव की अपनी प्यारी दादी से बात करते हुए की एक भावुक तस्वीर होती है। देव को पता चलता है कि कोई उस तस्वीर को खरीदना चाहता है, पर देव साफ साफ मना कर देता है कि ये तस्वीर सिर्फ प्रिया के लिए है। पर उसे जब पता चलता है कि उस तस्वीर के पीछे की भावनाओं को वो समझती है और अपंग है, तो वो उस चित्र को बिना पैसे के ही दे देने बोलता है।

एक दिन देव अपनी दादी, जिनकी हाल ही में मौत हो गई थी, की इच्छा के अनुसार प्रिया को पायल देने आता है। देव की नजर दूसरे कमरे के तस्वीर पर पड़ती है और उसे सच्चाई का एहसास होता है कि प्रिया अब भी उससे प्यार करती है। दोनों आंसुओं के साथ एक दूसरे से मिलते हैं और वो प्रिया से कहता है कि चाहे कुछ भी हो जाये, वो उससे प्यार करता ही रहेगा। इसके बाद देव और प्रिया की शादी हो जाती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत संजीव-दर्शन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."चाहा है तुझको चाहूँगा हर दम"उदित नारायण, अनुराधा पौडवाल4:41
2."मेरा मन क्यों तुम्हें चाहे"उदित नारायण, अलका याज्ञिक4:35
3."नशा ये प्यार का नशा है"उदित नारायण5:16
4."तिनक तिन ताना"उदित नारायण, अलका याज्ञिक4:15
5."काली नागिन के जैसी"उदित नारायण, कविता कृष्णमूर्ति4:43
6."खुशियाँ और गम सहती है"अनुराधा पौडवाल, उदित नारायण5:15
7."कहना है तुमसे"उदित नारायण, हेमा सरदेसाई4:42
8."क्यों छुपाते हो मन की बात"उदित नारायण, अनुराधा पौडवाल4:58
9."डांस म्यूज़िक" (वाद्य रचना)N/A2:45
10."तुम्हारे बगैर जीना क्या" (संवाद)आमिर ख़ान1:48
कुल अवधि:42:58

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "शमा सिकंदर: कभी आमिर खान संग के साथ किया था काम, आज टीवी शो तक नहीं मिल रहा". जनसत्ता. 31 मार्च 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]