भैयाथान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भैयाथान तहसील एवं विकासखण्‍ड सूरजपुर जिला से 22 किलोमिटर में स्थित है जो भारत के राज्‍य छत्‍तीसगढ में पडता है यह रेड नदी के किनारे पर बसा है इससे 23 किलोमिटर दूर देवी मॉ कुदरगढी पहाडों पर विराजमान है जहा दूर दूर से हर वर्ष लाखो श्रधालू देवी मॉ के दर्शन करने आते है ा यहा पहुचने के लिए रेल मार्ग सूरजपुर रोड 9 किलोमिटर एवं पक्‍की सडक नेशनल हाईवे 78 से 22 किलो दूर है ा

जनपद पंचायत भैयाथान कुल 61 ग्राम पंचायताें का प्रतिनिधित्‍व करता है, ग्राम पंचायत भैयाथान विकासशील ग्रामों में एक है जो रिहन्‍द नदी के किनारे बसा है यहा 1000 मेंगावाट का थर्मल पावर प्‍लांट बनाने की सरकार द्वारा घोषणा की गई है यह जिला सूरजपुर, छत्‍तीसगढ से 23 किलोमिटर उत्‍तर में स्‍ि‍थत है एक ओर पहाड और नदी यहा की सुन्‍दरता को चार चान्‍द लगाता है कुछ ही किलोमीटर की दुरी पर कुदरगढी माता पहाडो पर विराजमान है जहां रामनवमी के समय भारत के कोने कोने से लाखों भक्‍त दर्शन करने आते है ा यंहा खनिज सम्‍पदा का भण्‍डार है कोयला खदान के साथ साथ बाक्‍साइट का बडा भण्‍डार है ा

विभिन्न मोहल्ला[संपादित करें]

  • भैयाथान पुरानी बस्ती
  • हर्रापारा
  • दर्रीपारा
  • समौली
  • लखनपुर
  • अस्पताल कालोनी (न्यू मार्केट)
  • पासल
  • रजबहर
  • केवरा
  • सिरसी

ग्राम पंचायत - 61 नगर पंचायत - 1 विधानसथा क्षेञ - भटगांव (05) लोकसभा क्षेञ क्रमांक 01

भैयाथान में स्कूलों और कॉलेज[संपादित करें]

school ground
  • सरस्वती शिशु मंदिर
  • नेहरू बाल मंदिर
  • पंडित रविशंकर त्रिपाठी विश्विद्यालय

'इतिहास'

जल्दी 17 वीं सदी में, अग्‍नीकुल की दो चचेरे भाई चौहान राजा मैनपुरी, Dalthamban साही और Dharamel साही, एक तीर्थ यात्रा से लौट रहे थे जगन्नाथ पुरी . वे उनके साथ एक छोटी सी शक्ति थी। उनकी वापसी की यात्रा पर, वे राज्य के सरगुजा, राजधानी में रुका अंबिकापुर . वे जोडा तालाब (भैया बड़ा) जो अभी भी इस दिन के लिए मौजूद है के पास डेरे डाले. सरगुजा के महाराजा पूंजी से दूर था और कुछ बागी सरदारों राज्य के महल घिरा हुआ है। रानी को पता है कि चौहान भाइयों के पास डेरा डाले हुए थे आया Joda तालाब . वह परंपरागत राखी भेजा है। Dalthamban साही और Dharamel साही उसके बचाव के लिए आया था और दूर bagi सरदारों दिया. अपने बल का एक प्रमुख हिस्सा मुठभेड़ में मारा गया। महाराजा कुछ समय के बाद लौट आए. वह रानी बचाव के लिए चौहान भाइयों को धन्यवाद दिया और उन्हें पेशकश की Jagirdari क्षेत्र के रूप में जाना राज्य के उत्तरी भाग पर Jhilmili एस्टेट . यह बड़े भाई Dalthamban साही द्वारा स्वीकार कर लिया गया। Jhilmili क्षेत्र के एक भाग के नियंत्रण में था Baland राजाओं. चौहान भाइयों नदी उखड़ना Kaskela गांव के किनारे पर बसे. वे दूर कर दिया है की क्षेत्र से Baland की बलों और जबर्दस्ती Pakharias जो सदा सरगुजा राज्य के खिलाफ विद्रोह कर रहे थे। वे सरगुजा राज्य के लिए एक नाममात्र वार्षिक श्रद्धांजलि का भुगतान किया। भैया का शीर्षक परिवार पर महाराजा अमर सिंह द्वारा प्रदान किया गया। राखी के बांधने के बाद के बाद से, भाई रानी की bhaiyas बन था, (क्षेत्र) ईलाका भैयाथान के रूप में जाना जाता था