छत्तीसगढ़ के जिले

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

भारत के एक राज्य छत्तीसगढ़ में 33 प्रशासनिक जिले हैं।  मध्य प्रदेश से अलग होने के समय, छत्तीसगढ़ में मूल रूप से 16 जिले थे।  दो नए जिले: बीजापुर और नारायणपुर को 11 मई, 2007 को और 9 नए जिलों को 1 जनवरी, 2012 को बनाया गया था। नए जिलों को अधिक लक्षित, केंद्रित और करीबी प्रशासन की सुविधा के लिए मौजूदा जिलों को तोड़कर कर बनाया गया है।  इन जिलों के नाम सुकमा, कोंडागांव, बालोद, बेमेतरा, बलौदा बाजार, गरियाबंद, मुंगेली, सूरजपुर और बलरामपुर हैं।  गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले का उद्घाटन 10 फरवरी 2020 को किया गया था। 15 अगस्त 2021 को चार और नए जिलों- मनेंद्रगढ़, मानपुर-मोहला, शक्ति और सारंगढ़-बिलाईगढ़ की घोषणा की गई थी। नव जिला खैरागढ़-छुईखदान-गंडई की घोषणा 17 अप्रैल 2022 को की गई[1]

छ्त्तीसगढ़ का मानचित्र व ज़िले


यह सूची छत्तीसगढ़ के जिलों की है:- जिलों की संख्या [33].

जल्द ही एक अन्य जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही ज़िला बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है।[2]

सन्दर्भ 27[संपादित करें]


  1. "छत्तीसगढ़ का 33वां जिला होगा खैरागढ़-छुईखदान-गंडई, CM भूपेश ने जीत के 3 घंटे बाद ही पूरा किया चुनावी वादा"".
  2. "गौरेला-पेंड्रा-मरवाही अब प्रदेश में नया जिला, 25 नई तहसीलों का भी किया ऐलान". दैनिक भास्कर. 15 अगस्त 2019. मूल से 1 नवंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 नवंबर 2019.