भवेश सान्याल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भवेश सान्याल भारत के महान चित्रकार माने जाते हैं। भावेश चंद्र सान्याल को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये मध्य प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.असम में जन्मे भावेश सान्याल ने कोलकाता स्कूल ऑफ आर्ट से कला शिक्षा प्राप्त की तथा लाहौर को अपना सृजन केंद्र बनाया चित्रकार के साथ-साथ वह मूर्तिकार भी थे किंतु चित्रकार के लिए अधिक ख्याति प्राप्त हुई वह गांधी जी से जुड़कर असहयोग आंदोलन में भी सक्रिय रूप से भाग लिया तथा 1929 में लाहौर अधिवेशन में लाला लाजपत राय की एक मूर्ति का भी निर्माण किया वह लाहौर के स्कूल ऑफ आर्ट के प्राचार्य भी रहे तथा वहीं पर स्वयं का कला स्टूडियो बनाया जो सान्याल स्टूडियों के नाम से जाना गया

    स्वतंत्रता के पश्चात सान्याल जी दिल्ली आकर बस गए उन्होंने दिल्ली के पॉलिटेक्निक स्कूल के अध्यक्ष पद पर कार्य किया कुछ समय के लिए नेपाल के शिक्षा सलाहकार भी रहे राज्य ललित कला अकादमी के सचिव पद पर भी कार्य किया इनके अमूल्य योगदान के लिए भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार से नवाजा इसके अतिरिक्त अवनी गगन ललित कला अकादमी द्वारा लाईफ टाईम अचीवमेंट एवं  असम सरकार द्वारा संकरदेव आदि पुरस्कारों से सम्मानित किया गया

     भावेश सान्याल ने अपने चित्रों में अधिकांश  नारी आकृतियों का अंकन किया है जो निराशा एवं व्यथा के विविध पक्षों को दर्शाती हैं भारत विभाजन की विभीषिका का प्रभाव इनके चित्रों पर स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है इन्होंने चित्रकला जगत के लिए अपने जीवन का सर्वस्व न्यौछावर करते हुए अपने आवास तथा निजी स्टूडियो को गैलरी 26 के नाम से परिवर्तित कर दिया भावेश सान्याल ने अपने चित्रों पर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म द डांस ऑफ विंड 1997 में निर्मित की तथा 2000 में भारत सरकार द्वारा इनके ऊपर डाक टिकट जारी किया गया

      बीसी सान्याल ने एक साक्षात्कार में अपने सृजन के विषय में प्रकाश डालते हुए कहा "जब मैं सृजन के लिए बैठता हूं तो पूर्व निश्चित कोई योजना नहीं होती परंतु जैसे ही कार्य करने लगता हूं वैसे ही पहाड़ियों पर्वतों बादलों वृक्षों खेतों और पगडंडियों के आकार जन्म लेने लगते हैं और जल्दी ही तूलिका के तीव्र आग हाथों से वास्तविक दृश्य चित्र फलक पर उभर आते हैं" सान्याल साहब ने उम्र के अंतिम समय में अपने अनुभव को साझा करते हुए बताया की "मैंने आखिरकार 95 साल की उम्र में तूलिका पकड़ना सीख लिया मैं अब इसे तलवार की तरह इस्तेमाल कर सकता हूं"

  भावेश सान्याल  के  प्रमुख चित्र

  गोल मार्केट के भिखारी, आश्रय हीन लड़की, कोलकाता की एक सड़क, पूर्वाभास, शांति मर्म,  तिब्बत की यात्रा पर आधारित धौलापर्वत श्रंखला, स्नान , संगीतज्ञ,  जाति बहिष्कृत, बाल वधू, नारी और पक्षी, निजामुद्दीन के मेले में, हेड आफ शिवा ,


प्रमुख चित्र[संपादित करें]

गोल मार्केट के भिखारी, आश्रय हीन लड़की, कोलकाता की एक सड़क, पूर्वाभास, शांति मर्म,  तिब्बत की यात्रा पर आधारित धौलापर्वत श्रंखला, स्नान , संगीतज्ञ,  जाति बहिष्कृत, बाल वधू, नारी और पक्षी, निजामुद्दीन के मेले में, हेड आफ शिवा

  नोट - हेड ऑफ शिवा को नंदलाल और सान्याल दोनों ने बनाया

मृत्यु[संपादित करें]

2003

बाहरी कडियां[संपादित करें]