ठानाले गुफाएँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ठानाले गुफाएँ
Stoop at Thanale Caves.jpg
जानकारी
देश भारत


ठाणाले गुफाएं प्राचीन बौद्ध गुफाएं हैं जिन्हें 'नाडसूर गुफाएं' नाम से भी जाना जाता है। यह गुफाएं महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में पाली नामक गांव के पास १८ कि.मी. पर स्थित है। यहाँ कुल २३ गुफाएँ हैं। [1]

ठाणाले गुफा दृश्य

प्राचीनता[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि ये ईसा पूर्व पहले शतक में बनी गुफाएँ हैं। दो चैत्य, दो स्तूप और अन्य विहार यहां दिखाई देते हैं। बौद्ध स्थापत्यकला का विशेष प्रभाव इन गुफाओ में पाया जाता है।[2]

शोध[संपादित करें]

तत्कालीन सुप्रसिद्ध पुरातत्त्वज्ञ हेन्री कझिन्स ने इन गुफाओं पर शोधकार्य किया है। १९११ साल में उन्होंने इन गुफाओं पर आधारित एक पुस्तक प्रकाशित की थी।

ऐतिहासिक महत्व[संपादित करें]

स्वातंत्र्य संग्राम के दौरान ब्रिटिश राज से छुटकारा पाने के लिए क्रांतिकारी वासुदेव बलवन्त फड़के ने इन गुफाओं का आश्रय लिया था और वह यहां भूमिगत होकर रहे थे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ठाणाळे लेणी". ५. ११. २०१४. मूल से 23 सितंबर 2018 को पुरालेखित. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. Ahir, D. C. (2003). Buddhist sites and shrines in India : history, art, and architecture (1. आवृत्ती.). Delhi: Sri Satguru Publ. pp. 201–201. आय.एस.बी.एन. 8170307740.