महर्षि गौतम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(गौतम ऋषि से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search


स्रोत त्रयम्बकेश्वर महादेव नाशिक

महर्षि गौतम सप्तर्षियों में से एक हैं। वे वैदिक काल के एक महर्षि एवं मन्त्रद्रष्टा थे। ऋग्वेद में उनके नाम से अनेक सूक्त हैं।

उनकी पत्नी का नाम अहिल्या था। जो प्रातःकाल स्मरणीय पंच कन्याओं मैं श्रेष्ठ हैं। अहिल्या ब्रह्मा की मानस पुत्री थी जो विश्व मे सुंदरता मैं अद्वितीय थी। हनुमान जी की माँ अंजनी माता गौतम ऋषी और अहिल्या की पुत्री थी। दैत्य गुरु शुक्राचार्य ने देवताओं द्वारा तिरस्कृत होने के बाद अपनी दीक्षा गौतम ऋषि से पूर्ण की थी। न्याय शास्त्र की रचना का श्रेय भी गौतम ऋषि को ही जाता है। ऋषिओं के इर्श्या वश गोहत्या का झूठा आरोप लगाने के बाद बारह ज्योतिर्लिंगों मैं महत्वपूर्ण त्रयम्बकेश्वर महादेव नाशिक भी गौतम ऋषि की कठोर तपस्या का फल है जहाँ गंगा माता गौतमी अथवा गोदावरी नाम से प्रकट हुईं। उत्तरप्रदेश की गोमती नदी भी ऋषि गौतम के ही नाम से विख्यात है।