गुरेज़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
गुरेज़
Gurez
گورأى
गोराई
हब्बा खातून पर्वत
हब्बा खातून पर्वत
गुरेज़ is located in जम्मू और कश्मीर
गुरेज़
गुरेज़
जम्मू और कश्मीर में स्थिति
निर्देशांक: 34°37′59″N 74°49′59″E / 34.633°N 74.833°E / 34.633; 74.833निर्देशांक: 34°37′59″N 74°49′59″E / 34.633°N 74.833°E / 34.633; 74.833
देश भारत
प्रान्तजम्मू और कश्मीर
ज़िलाअनन्तनाग ज़िला
तहसीलगुरेज़
ऊँचाई2580 मी (8,460 फीट)
जनसंख्या (2011)
 • कुल37,992
भाषा
 • प्रचलितशीना
समय मण्डलभामस (यूटीसी+5:30)
पिनकोड193503
वाहन पंजीकरणJK-15

गुरेज़ (Gurez) या गुरेइस (Gurais), जिसे स्थानीय शीना भाषा में गोराई (Guráai) कहते हैं, भारत के जम्मू और कश्मीर प्रदेश के बांडीपूर ज़िले में स्थित एक शहर है। लगभग ८,००० फ़ुट की ऊँचाई पर बसा यह शहर बर्फ़-ढकी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह उत्तरी कश्मीर का भाग है और यहाँ बसने वाले लोग कश्मीरी भाषा बोलने की बजाय शीना भाषा बोलते हैं जो कश्मीरी की तरह एक अन्य दार्दी भाषा है।[1] यहाँ बसने वाले नियंत्रण रेखा के पार गिलगित-बल्तिस्तान क्षेत्र के अस्तोर ज़िले में बसने वाले लोगों से मिलते-जुलते हैं।[2] सर्दियों में यहाँ भारी बर्फ़बारी होने से यातायात काफ़ी हद तक ठप्प रहता है। श्रीनगर को गिलगित से जोड़ने वाला ऐतिहसिक मार्ग यहीं से निकलकर उत्तर में बुरज़िल दर्रे से होता हुआ जाता है।

इतिहास में उल्लेख[संपादित करें]

कुछ इतिहासकार मानते हैं कि शायद गुरेज़ वही बस्ती है जिसका ज़िक्र प्रसिद्ध कश्मीरी इतिहासकार कल्हण ने अपनी राजतरंगिणी में 'दरतपुर' यानि 'दर्द (जाति के) लोगों का शहर' के नाम से किया था। गुरेज़ पहाड़ों से घिरा हुआ है इसलिये सम्भव है कि इसी को 'गिरिगुप्त' कहा गया हो।[3]

दरदों की प्राचीन राजधानी, डावर, गुरेज़ घाटी में स्थित है और एक महत्वपूर्ण पुरातात्विक स्थल है। घाटी में महत्वपूर्ण अन्य पुरातात्विक स्थलों में कंजलवान शामिल है, जहां माना जाता है कि बौद्ध धर्म की अंतिम परिषद आयोजित की गई थी और आगे की ओर, प्राचीन शारदा विश्वविद्यालय के खंडहर किशनगंगा / नीलम नदी के किनारे संरक्षित हैं।

कश्मीर के विभाजन से पहले, गुरेज फ्रैंकलिन डेलानो रूज़वेल्ट सहित विदेशी पर्यटकों के लिए एक गंतव्य था, जो अमेरिकी राष्ट्रपति बनने से कुछ समय पहले यहां आए थे।[4] औपनिवेशिक काल के दौरान, ट्रेकर्स द्वारा अक्सर गुरेज का दौरा किया जाता था। नेहरू और इंदिरा गांधी, शेख अब्दुल्ला के साथ, 1940 के दशक में क्षेत्र का दौरा करने वालों में से थे, नारनग में ट्राउट के लिए मछली पकड़ने, घाटी के ऊपर पहाड़ों में झीलों में से एक।[5]

गुरेज़ के कुछ नज़ारे[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Encyclopaedia of Indian Literature: sasay to zorgot Archived 2016-07-23 at the Wayback Machine, Mohan Lal, pp. 4386, Sahitya Akademi, 1992, ISBN 9788126012213, ... The Shina languages of the Dard group are spoken in Gilgit, Gurez, Chilas, Kargil, Dras, Swat Kohistan and the Indus valley ...
  2. "A Journey to Kashmir's Gurez Valley".
  3. Kalhana's Rajatarangini: A Chronicle of the Kings of Kashmir Archived 2014-06-30 at the Wayback Machine, Kalhana, pp. 339, Elibron.com, 2001, ISBN 9781402173486, ... After passing the winter in the town of the Darads (Daratpura), he (Vijayamalla) precipitately started on an expedition in the month of Caitra ... perhaps, meant the modern Gurez ... The epithet girigupta, 'hidden in the mountains,' would well apply to that place ...
  4. "Hidden paradise". 6 December 2008.
  5. "GUREZ: KASHMIR: FIRST-HAND REPORT". 27 August 2007.