उदय प्रकाश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
उदय प्रकाश

जन्म 1 जनवरी, 1952
गाँव- सीतापुर, अनूपपुर ज़िला, मध्य प्रदेश
व्यवसाय कवि, कथाकार, पत्रकार और फ़िल्मकार
राष्ट्रीयता भारतीय
उल्लेखनीय कार्य मोहनदास (कहानी), सुनो क़ारीगर, अबूतर कबूतर (दोनो कविता)

उदय प्रकाश (जन्म : १ जनवरी १९५२) चर्चित कवि, कथाकार, पत्रकार और फिल्मकार हैं। आपकी कुछ कृतियों के अंग्रेज़ी, जर्मन, जापानी एवं अन्य अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में अनुवाद भी उपलब्ध हैं। लगभग समस्त भारतीय भाषाओं में रचनाएं अनूदित हैं। इनकी कई कहानियों के नाट्यरूपंतर और सफल मंचन हुए हैं। 'उपरांत' और 'मोहन दास' के नाम से इनकी कहानियों पर फीचर फिल्में भी बन चुकी हैं, जिसे अंतरराष्ट्रीय सम्मान मिल चुके हैं। उदय प्रकाश स्वयं भी कई टी.वी.धारावाहिकों के निर्देशक-पटकथाकार रहे हैं। सुप्रसिद्ध राजस्थानी कथाकार विजयदान देथा की कहानियों पर बहु चर्चित लघु फिल्में प्रसार भारती के लिए निर्देशित-निर्मित की हैं। भारतीय कृषि का इतिहास पर महत्वपूर्ण पंद्रह कड़ियों का सीरियल 'कृषि-कथा' राष्ट्रीय चैनल के लिए निर्देशित कर चुके हैं।

निजी जीवन[संपादित करें]

भूमिका[संपादित करें]

प्रकाश का जन्म १ जनवरी सन् १९५२ में भारत के मध्य प्रदेश में स्थित शहडोल जिले के सीतापुर गाँव में हुआ। इनका बालपन और प्राथमिक शिक्षा यहीं पूर्ण हुई। इन्होने विज्ञान में स्नातक डिग्री तथा स्वर्ण पदक सहित सौगर विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में मास्टर्स डिग्री प्राप्त की।  १९७५ से १९७६ तक वे जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में एक अन्वेषण छात्र रहे।  इन्हें कम्युनिस्ट पार्टी को समर्थन देने के जुर्म के लिए कैद किया गया और अंततः इनकी राजनीति में रूचि न रही।

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

कविता संग्रह :

  • सुनो कारीगर,
  • अबूतर कबूतर,
  • रात में हारमोनियम
  • एक भाषा हुआ करती है
  • कवि ने कहा

कथा साहित्य:

  • दरियायी घोड़ा,
  • तिरिछ,
  • दत्तात्रेय के दुख
  • पॉलगोमरा का स्कूटर
  • अरेबा
  • परेबा
  • मोहन दास
  • मैंगोसिल
  • पीली छतरीवाली लड़की

निबंध और आलोचना संग्रह

  • ईश्वर की आंख
  • नयी सदी का पंचतंत्र

अनुवाद

  • इंदिरा गांधी की आखिरी लड़ाई,
  • कला अनुभव,
  • लाल घास पर नीले घोड़े
  • रोम्यां रोलां का भारत
  • इतालो काल्विनो, नेरूदा, येहुदा अमिचाई, फर्नांदो पसोवा, कवाफ़ी, लोर्का, ताद्युश रोज़ेविच, ज़ेग्जेव्येस्की, अलेक्सांद्र ब्लाक आदि रचनाकारों के अनुवाद

अन्य भाषाओं में अनुवाद

  • Short Shorts Long Shots, (Translated by Robert A. Hueckstedt, Publisher Katha, नई दिल्ली)
  • Rage Revelry and Romance(Translated by Robert A. Hueckstedt, Publisher, Srishti, नई दिल्ली)
  • The Girl with Golden Parasol, (Translated by Jason Grunebaum, Publisher, Penguin India)
  • Mohan Das (Translated by Pratik Kanjilal, Publisher, Little Magazine, नई दिल्ली)
  • Das Maedchen mit dem gelben Schirm : (Translated by Ines Fornell, Heinz Werner Wessler and Reinhald Schein)
  • Und am Ende ein Gebet :(Translated by Andre Penz)
  • Der golden Gurtel : (Translated by Lothar Lutze)

कृतियो का मंचन[संपादित करें]

  • तिरिछ -प्रथम मन्चन - रा ना वि के प्रसन्ना के निर्देशन में।
  • लाल घास पर नीले घोड़े (अनुवाद) - प्रथम मन्चन - प्रसन्ना के निर्देशन में।
  • वॉरेन हेस्टिंग्स का सान्ड् पर नाटक - प्रथम मन्चन -अरविन्द गौड़ के निर्देशन में,अस्मिता नाटय संस्था द्वारा। यह नाटक रा ना वि के भारत रंग महोत्सव व इन्डिया हैबिटैट सेन्टर में भी आयोजित हुआ है। २००१ से अब तक ८० प्रदर्शन।।[1]
  • और अंत में प्रार्थना- प्रथम मन्चन- अरुण पाण्डेय के निदेशन में।

मोहनदास का मन्चन {वैश्विक षडयन्त्रो के केन्द्र मे मोहन दास}

सम्मान[संपादित करें]

  • भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार,
  • ओम प्रकाश सम्मान,
  • श्रीकांत वर्मा पुरस्कार,
  • मुक्तिबोध सम्मान
  • द्विजदेव सम्मान
  • वनमाली सम्मान
  • पहल सम्मान
  • रूस का प्रतिष्ठित अन्तराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान
  • SAARC Writers Award
  • PEN Grant for the translation of The Girl with the Golden Parasol, Trans. Jason Grunebaum
  • कृष्णबलदेव वैद सम्मान
  • महाराष्ट्र फाउंडेशन पुरस्कार, 'तिरिछ अणि इतर कथा' अनु. जयप्रकाश सावंत
  • 2010 का साहित्य अकादमी पुरस्कार, ('मोहन दास' के लिये)

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]