अश्विनी कुमार पंकज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अश्विनी कुमार पंकज
जन्मअश्विनी कुमार
9 अगस्त 1965 (1965-08-09) (आयु 53)
सोनी, ओबरा, औरंगाबाद, बिहार, भारत
व्यवसायशिक्षा, लेखक और राजनीति
राष्ट्रीयताभारतीय
विधानाट्य, कविता, दर्शन, इतिहास, कथा, भाषा-संस्कृति] जीवनी और कविता
विषयसाहित्य
साहित्यिक आन्दोलनझारखंड आंदोलन
जीवनसाथीवंदना टेटे
सन्तानआयुध पंकज और अटूट संतोष
सम्बन्धीरोज केरकेट्टा, प्यारा केरकेट्टा
जालस्थल
http://rangvarta.com


अश्विनी कुमार पंकज (जन्मः 9 अगस्त 1965) एक भारतीय कवि, कथाकार, उपन्यासकार, पत्रकार, नाटककार, रंगकर्मी और आंदोलनकारी संस्कृतिकर्मी हैं। वे हिन्दी और झारखंड की देशज भाषा नागपुरी में लिखते हैं और रंगमंच एवं प्रदर्श्यकारी कलाओं की त्रैमासिक पत्रिका ‘रंगवार्ता’ और नागपुरी मासिक पत्रिका ‘जोहार सहिया’ का संपादन तथा बहुभाषिक आदिवासी-देशज समाचार पत्र पाक्षिक ‘जोहार दिसुम खबर’ के प्रकाशक-संपादक हैं।

मूलतः बिहार के रहने वाले पंकज बचपन से रांची में रहते हैं और आरंभिक एवं माध्यमिक शिक्षा रांची में प्राप्त की है तथा रांची विश्वविद्यालय, रांची से ही हिन्दी में स्नातकोत्तर किया है। डॉ॰ एम. एस. ‘अवधेश’ और दिवंगत कमला देवी के सात संतानों में से एक। आदिवासी जीवन, समाज, भाषा-संस्कृति, इतिहास और पर्यावरण पर थियेटर, फिल्म और साहित्यिक माध्यमों में विशेष कार्य। नब्बे के शुरुआती दशक में जन संस्कृति मंच एवं उलगुलान संगीत नाट्य दल, राँची के संस्थापक संगठक सदस्य। 1987 में ‘विदेसिया’ का संपादन-प्रकाशन। 90 के दशक में आदिवासी भाषाओं में रंग-आंदोलन की पहल। 28 पूर्णकालिक और 126 मुक्ताकाशी नाटकों का लेखन-निर्देशन। देश भर में सात हजार से अधिक रंगप्रस्तुतियां। मीडिया और थियेटर के लगभग 60 से अधिक कार्यशालाओं का निर्देशन। देश के पहले दलित-आदिवासी नाट्य समारोह 2012 के परिकल्पक एवं निर्देशक।

प्रकाशित कृतियां[संपादित करें]

कथा संग्रह[संपादित करें]

  1. पेनाल्टी कॉर्नर
  2. इसी सदी के असुर
  3. सालो
  4. अथ दुड़गम असुर हत्या कथा

कविता संग्रह[संपादित करें]

  1. जो मिट्टी की नमी जानते हैं
  2. खामोशी का अर्थ पराजय नहीं होता
  3. युद्ध और प्रेम (लंबी कविता)
  4. भाषा कर रही है दावा (लंबी कविता)

उपन्यास[संपादित करें]

  1. माटी माटी अरकाटी
  2. खाँटी किकटिया (मगही उपन्यास)

नाटक[संपादित करें]

  1. रिक्शावाला@विकास.कॉम

आलोचना/विचार[संपादित करें]

  1. एक अराष्ट्रीय वक्तव्य (वैचारिक लेखों का संग्रह)

जीवनी[संपादित करें]

  1. मरङ गोमके जयपाल सिंह मुंडा

संपादित पुस्तकें[संपादित करें]

  1. रंग-बिदेसिया (भिखारी ठाकुर पर केन्द्रित)
  2. उपनिवेशवाद और आदिवासी संघर्ष (हेरॉल्ड एस. तोपनो के लेखों का संग्रह)
  3. शून्यकाल में आदिवासी
  4. आदिवासियत (जयपाल सिंह मुंडा के लेखों का संग्रह)

भाषानुवाद[संपादित करें]

  1. नागपुरी साहित कर इतिहास
  2. अब हामर हक बनेला (हिंदी कविताओं का नागपुरी अनुवाद)
  3. छाँइह में रउद (दुष्यंत की गजलों का नागपुरी अनुवाद)

अंग्रेजी पुस्तक[संपादित करें]

  1. ADIVASIDOM : Selected Writings & Speeches Of Jaipal Singh Munda (Edited)

सहलेखन[संपादित करें]

  1. झारखंड: एक अंतहीन समरगाथा (वंदना टेटे के साथ)
  2. आदिवासी दर्शन कथाएं (वंदना टेटे के साथ)

शीघ्र प्रकाश्य[संपादित करें]

  1. आदिवासी प्रेम कहानियां
  2. आदिवासी सौंदर्यविश्व (दर्शन)
  3. झारखंडी साहित्य का इतिहास (वंदना टेटे के साथ सहलेखन)
  4. जोहार जयपाल (नाटक)
  5. पहला गुरिल्ला : जंगल संताल की कहानी (उपन्यास)


सन्दर्भ[संपादित करें]