फ़ॉकलैंड द्वीपसमूह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
फ़ाकलैंड द्वीप-समूह
फ़ाकलैंड द्वीप का ध्वज फ़ाकलैंड द्वीप का कुल चिन्ह
ध्वज कुल चिन्ह
राष्ट्रवाक्य: "अधिकार की करो चाहत"
राष्ट्रगान: "गॉड सेव द क्वीन"
फ़ाकलैंड द्वीप की स्थिति
राजधानी
(और सबसे बड़ा शहर)
स्टनेली
51°42′ S 57°51′ O
राजभाषा(एँ) अंग्रेजी
सरकार ब्रिटिश ओवरसीज टेरेटरी
 - राज्य प्रमुख महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
 - राज्यपाल निगेल हय्वूद
 - मुख्य कार्यकारी टिम थोरोगुड
ब्रिटिश ओवरसीज टेरेटेरी  
 - स्वतंत्रता दिवस 14 जून 1982 
क्षेत्रफल
 - कुल 12,173 वर्ग किमी (162वां)
4,700 वर्ग मील
 - जल(%) 0
जनसंख्या
 - जुलाई 2008 अनुमान 3,140 (217वां)
 - जन घनत्व 0.26/वर्ग किमी (240वां)
0.65/वर्ग मील
सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) (पीपीपी) 2005 अनुमान
 - कुल $75 मिलियन (223वां)
 - प्रति व्यक्ति $25,000 (2002 अनुमान) (-)
मुद्रा फ़ाकलैंड द्वीप पाउंड1 (FKP)
समय मंडल (यूटीसी -4)
 - ग्रीष्म (DST) (यूटीसी -3)
इंटरनेट टीएलडी .fk
दूरभाष कोड +500
1 पाउंड स्टर्लिंग (GBP).

फ़ॉकलैंड द्वीप-समूह दक्षिण अटलांटिक महासागर में अर्जेन्टीना की तट से लगा एक द्वीपसमूह हैं। इसके पूर्व में शैग रॉक्स (दक्षिण जॉर्जिया) और दक्षिण में ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र है। इस द्वीपसमूह में दो मुख्य द्वीप हैं, पूर्व फ़ॉकलैंड और पश्चिम फ़ॉकलैंड, इनके साथ ही ७७६ छोटे द्वीप हैं। पूर्व फ़ॉकलैंड में स्थित स्टेनली देश की राजधानी है। यह द्वीपसमूह यूनाईटेड किंगडम का स्वशासी प्रवासी क्षेत्र है। १८३३ में ब्रिटिश शासन की पुनर्स्थापना के बाद अर्जेन्टीना ने इस पर अपनी प्रभुता का दावा किया है।

अर्जेन्टीना द्वारा जताए गए अधिकार को द्वीपवासियों द्वारा खारिज किए जाने के बाद अर्जेन्टीना ने १९८२ में फ़ॉकलैंड द्वीप पर आक्रमण किया। तदोपरांत अर्जेटीना और यूनाइटेड किंगडम के बीच चले दो महीने के लंबे अघोषित युद्ध में हार के बाद अर्जेण्टीनी बलों ने वापसी कर ली। युद्ध के बाद से इस स्वसाशी क्षेत्र ने मत्स्य पालन और पर्यटन के क्षेत्र में मजबूत आर्थिक वृद्धि की है।

नाम[संपादित करें]

इस द्वीपसमूह को अंग्रेजी में "फ़ॉकलैंड द्वीप" कहा जाता है, यह नाम वर्ष १६९० में अपने अभियान के दौरान जॉन स्ट्रांग ने अपने संरक्षक एंथोनी केरी, ५ वां विस्काउंट फ़ॉकलैंड पर रखा था।

इतिहास[संपादित करें]

फ़ॉकलैंड द्वीप के खोज के बाद से एक जटिल इतिहास का तानाबाना बना हुआ है। फ्रांस, ब्रिटेन, स्पेन और अर्जेटीना ने कभी न कभी इस द्वीप पर अपना दावा किया है और इस द्वीप पर बस्तियां बनाई और छोड़ी हैं। १७७० में फ़ॉकलैंड संकट की वजह से फ्रेंको-स्पेनिश गठबंधन और ब्रिटेन युद्ध के कगार पर थे। स्पेन के सरकार के दावे के बाद अर्जेटीना ने १८१६ में स्पेन से स्वतंत्रता प्राप्ति और १८१७ में स्वतंत्रता के युद्ध के बाद द्वीपसमूह पर दावे को जारी रखा। अमेरिकी नौसेना के यूएसएसलेक्सिंग्टन द्वारा २८ दिसम्बर १८३१ को प्यर्टो लुइस में अर्जेण्टीनी बसाहट को तबाह किए जाने के बाद १८३३ में यूनाईटेड किंगडम ने द्वीप पर वापस की।