गोविन्द चन्द्र पाण्डे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोविन्द चन्द्र पाण्डे उत्तराखण्ड प्रान्त के मूल निवासी हैं। उनका जन्म १९२३ में प्रयाग (इलाहाबाद) में हुआ। वह एक लेखक और भारत के प्राचीन इतिहास के प्रमुख विद्वान हैं। उन्होंने वेदकाल और बौद्धकाल पर बहुत कार्य किया है, और इन विषयों पर कई ग्रन्थ लिखे हैं। वह इतिहास, संस्कृति और दर्शन के सुविख्यात चिन्तक हैं।

वह राजस्थान एवं इलाहाबाद विश्वविद्यालय में इतिहास के आचार्य और विश्वविद्यालय-कुलपति रह चुके हैं। वह इलाहाबाद संग्रहालय समिति और भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान शिमला के अध्यक्ष रहे हैं।

वैदिक संस्कृति, धर्म, दर्शन और विज्ञान की अधुनातन-सामग्री के विश्लेषण में आधुनिक पाश्चात्य एवं पारम्मपरिक दोनों प्रकार की व्याख्याओं की समन्वित समीक्षा वैदिक संस्कृति में की गयी है।

ग्रन्थ[संपादित करें]

  • बौद्ध धर्म के विकास का इतिहास
  • अपोहसिद्धि
  • न्यायबिन्दु
  • मूल्य मीमांसा
  • वैदिक संस्कृति
  • Studies in the Origins of Buddhism
  • The Meaning and Process of Culture
  • Life and Thought of Sankaracharya

सन्दर्भ[संपादित करें]


Crystal Clear app Login Manager.png यह जीवनचरित लेख अपनी प्रारम्भिक अवस्था में है, यानि कि एक आधार है। आप इसे बढ़ाकर विकिपीडिया की सहायता कर सकते है।