अभियान्त्रिकी में स्नातक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (सामान्यतः संक्षिप्ताक्षर में BE या BEng) एक पूर्वस्नातक की शैक्षिक डिग्री है जिससे ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, कनाडा, चीन, डेनमार्क, मिस्र, फिनलैंड, जर्मनी, हांगकांग,भारत, इंडोनेशिया, आयरलैंड, जॉर्डन, कोरिया, लेबनान, मलेशिया, नेपाल, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, नाइजीरिया, नार्वे, पाकिस्तान, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, स्वीडन, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, वियतनाम, ज़ाम्बिया और जिम्बाब्वे के इंजीनियरिंग विश्वविद्यालयों में[कृपया उद्धरण जोड़ें]अध्ययनरत छात्रों को तीन से पांच साल के अध्ययन के बाद सम्मानित किया जाता है. विश्व भर में योग्यता का स्वरुप बदलता रहता है अतः, यह पेशेवर डिग्री हो भी सकती है और नहीं भी हो सकती है और इसमें इंजीनियरिंग काम का उपक्रम शामिल हो सकता है अथवा नहीं भी हो सकता है. यह पाठ्यक्रम एक राष्ट्रीय पेशेवर संस्था द्वारा मान्यता प्राप्त हो भी सकता हैं या नहीं भी.

कुछ संस्थान बैचलर ऑफ साइंस (बीएससी), बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग साइंस (BESc), बैचलर ऑफ साइंस इन इंजीनियरिंग(BSE), या (बैचलर ऑफ एप्लाइड साइंस (BASc) के स्नातक की डिग्री इंजीनियरिंग के पूर्वस्नातक छात्रों को प्रदान करते हैं. उदाहरण के लिए, कनाडा एकमात्र देश है जो स्नातक कर रहे इंजीनियरों को ही BASc की डिग्री प्रदान करता है.

बैचलर इन द आर्ट ऑफ़ इंजीनियरिंग का लैटिन नाम Baccalaureus in Arte Ingeniaria (BAI) (बीएआई) एक आम किस्म की स्नातक डिग्री है.[1] यह आयरलैंड, के डबलिन विश्वविद्यालय के द्वारा प्रदान किया जाता है और अधिक सामान्यतः बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग के रूप में संदर्भित किया जाता है, दक्षिण अफ्रीकी विश्वविद्यालयों में इंजीनियरिंग की डिग्री को बीआईएनजी B.Ing. के रूप में उल्लिखित किया जाता है.(Baccalaureus) Ingeniaria )

कार्यक्षेत्र[संपादित करें]

इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री आमतौर पर इंजीनियरिंग के किसी एक क्षेत्र में ली जाती है, जो कभी कभी स्नातकोत्तर नामधारक (postnominal) के एक के रूप में उल्लिखित होती है जैसा बीइ(एयरो) BE(Aero) या बीइंग(इलेक) BEng(Elec) में होता है. इंजीनियरिंग की स्नातक डिग्री के सामान्य क्षेत्रों में निम्नलिखित क्षेत्र अंतर्भुक्त हैं:[कृपया उद्धरण जोड़ें]:

  • एयरोस्पेस इंजीनियरिंग (अंतरिक्ष अभियान्त्रिकी)
  • आटोमोटिव इंजीनियरिंग (स्वचालित अभियान्त्रिकी)
  • जैविक/रासायनिक अभियांत्रिकी: जिसमे जैव रासायनिक (बायोकैमिकल,) जैव चिकित्सा (बायोमेडिकल), जैवप्रणाली (बायोसिस्टम्स), जैवआणविक बायोमोलिकुलर, और केमिकल इंजीनियरिंग शामिल हैं.
  • रासायनिक अभियांत्रिकी: रूपों में कच्चे मालों या रसायनों को अधिक उपयोगी या मूल्यवान वस्तुओं में रूपायन करने की प्रक्रिया से जुडी है.
  • कम्प्यूटर इंजीनियरिंग
  • सिविल इंजीनियरिंग (लोक-निर्माण अभियांत्रिकी): यह एक व्यापक नियंत्रण-क्षेत्र है जिसमे भवन-निर्माण अभियांत्रिकी, सिविल इंजीनियरिंग, विनिर्माण अभियांत्रिकी, औद्योगिक, उत्पादन, यांत्रिक, पदार्थ और कण्ट्रोल इंजीनियरिंग (नियंत्रण अभियांत्रिकी) भी शामिल हैं.
  • बिजली और कम्प्यूटर इंजीनियरिंग/इलेक्ट्रॉनिक अभियांत्रिकी: बहुत विविधताओं से भरा क्षेत्र है जिसमे , इलेक्ट्रिकल प्रौद्योगिकी सहित कंप्यूटर इंजीनियरिंग, संचार/संचार प्रणाली इंजीनियरिंग, सूचना टेक्नोलोजी, इलेक्टिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग, माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग, नैनो टेक्नोलोजी, मेकाट्रोनिक्स, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, प्रणाली, वायरलेस और दूरसंचार,फोटोवोल्टिक और पॉवर इंजीनियरिंग शामिल हैं.
  • विद्युत नियंत्रण अभियांत्रिकी: इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंग का नया और अपेक्षाकृत अधिक विशिष्ट सब डीसीप्लीन(अनुवर्ती शिक्षा-क्षेत्र) है जोकि विद्युत नियंत्रण समेकित और अपने प्रोग्रामिंग पर केंद्रित है.
  • इंजीनियरिंग प्रबंधन: जो योजना बनाने और औद्योगिक तथा निर्माण कार्यों के परिचालन प्रबंधन के लिए इंजीनियरिंग सिद्धांतों का अनुप्रयोग है
  • पर्यावरण अभियांत्रिकी: में पर्यावरणीय, भूगर्भीय, भौगोलिकी, खनन, सामुद्रिकी, और महासागरीय अभियांत्रिकी जैसे क्षेत्र शामिल हैं.
  • जिओमेंटिक्स इंजीनियरिंग (भौगोलिकी अभियांत्रिकी): अधिग्रहण, मॉडलिंग, विश्लेषण और स्थानिक आंकड़ों के प्रबंधन. भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस (GIS)) उपग्रह की अवस्थिति, दूरसंवेदी, भूमि सर्वेक्षण, वायरलेस अवस्थान और भौगोलिक सूचना पर केंद्रित है.[2]
  • औद्योगिक अभियांत्रिकी: योजना, उत्पादन प्रबंधन, सांख्यिकीय गुणवत्ता नियंत्रण, आदि के अध्ययन की सुविधा प्रदान करती है.
  • इंस्ट्रुमेंटेशन इंजीनियरिंग मापयंत्रण अभियांत्रिकी इंजीनियरिंग की वह शाखा जो मापन के एक साथ सम्बंधित है.
  • मैनुफैक्चरिंग इंजीनियरिंग(विनिर्माण अभियांत्रिकी): संचालन प्रबंधन और उत्पादन प्रबंधन शामिल हैं
  • मेंटेरिअल्स इंजीनियरिंग(पदार्थीय अभियांत्रिकी): धातुविज्ञान, पॉलीमर (बहुलक) और सिरेमिक (मृत्तिका) इंजीनियरिंग शामिल हैं
  • मेकेनिकल इंजीनियरिंग(यांत्रिक अभियांत्रिकी): मशीनॉ और इंजनॉ की इंजीनियरिंग शामिल हैं
  • मेंकेट्रोनिक्स इंजीनियरिंग मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग, और कंप्यूटर इंजीनियरिंग का एक संयोजन है.
  • नेवल इंजीनियरिंग (नौसेना अभियांत्रिकी): नौसेना वास्तुकला और पोत निर्माण शामिल हैं
  • न्यूक्लियर इंजीनियरिंग (नाभिकीय अभियांत्रिकी): नाभिकीय (आणविक) और रेडियोधर्मी इंजीनियरिंग शामिल हैं

अंतरराष्ट्रीय विविधताएं[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया में, इंजीनियरिंग साइंस (बीई) एक चार वर्षीय पूर्व स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम और एक पेशेवर योग्यता है. यह भी एक छह वर्षीय सैंडविच (सुसंहत) पाठ्यक्रम उपलब्ध है (जिसमे छात्रों को डिग्री के एक भाग के रूप में पेशेवर नियुक्ति की अवधि पूरी करनी आवश्यक होती है) या कुछ विश्वविद्यालयों के माध्यम से एक आठ वर्षीय अंशकालिक पाठ्यक्रम उपलब्ध है. द इंस्टीट्युशन ऑफ़ इंजीनियर्स, ऑस्ट्रेलिया (इंजीनियर्स ऑस्ट्रेलिया) डिग्री पाठ्यक्रमों को और मान्यता प्राप्त पाठ्यक्रमों के स्नातकों को संस्थान की सदस्यता की योग्यता की मान्यता प्रदान करता हैं. इंजीनियरिंग के स्नातक, स्नातक होने पर एक स्नातक पेशेवर इंजीनियर के रूप में काम शुरू कर सकते हैं, हालांकि वे कुछ आगे के अध्ययन के लिए मास्टर या डॉक्टरेट की डिग्री का चुनाव भी कर सकते हैं. चार्टर्ड प्रोफेशनल इंजीनियर (CPEng) का ओहदा या विभिन्न राज्य पंजीकरण आवश्यकताओं को आमतौर पर बाद के वर्षों में प्राप्त किया जाता है. ऑस्ट्रेलिया में इंजीनियरिंग की औपचारिक योग्यता के साथ स्नाताकों को अक्सर व्यावसायिक इंजीनियर्स के रूप में पेश किया जाता है ताकि अन्य पेशों से अलग उनकी पहचान हो सके जिसमे "इंजीनियर" ("अभियंता") शब्द का शिथिल प्रयोग किया जाता है.

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा में, डिग्री के लिए एक मान्यता प्राप्त पूर्वस्नातक इंजीनियरिंग की पढ़ाई के कार्यक्रम को या तो बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (B. Eng. या फ्रेंच में B.Ing.) या समतुल्य रूप से, बैचलर ऑफ एप्लाइड साइंस अथवा बैचलर ऑफ साइंस के नाम से जाना जाता है. एक मान्यता प्राप्त कार्यक्रम से स्नातकत्व, जिसमे सामान्य रूप से चार वर्ष का अध्ययन शामिल है, पेशेवर इंजीनियर बनने की दिशा में एक आवश्यक पहला कदम है. विनियमन और मान्यता एक स्व-शासी निकाय के माध्यम से संपन्न की जाती है (जिसका नाम एक प्रांत से अन्य प्रांत में भिन्न होता है) जिसे अधिनियम द्वारा इंजीनियरों को पंजीकृत और अनुशासित करने के लिए, साथ ही साथ अलग-अलग प्रांतों में इंजीनियरिंग के क्षेत्र को विनियमित करने के लिए क्षमता प्रदान की गयी है.

जर्मनी[संपादित करें]

जर्मनी में, बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग को बोलोग्ना (Bologna) प्रक्रिया के कार्यान्वयन के एक हिस्से के रूप में शुरू किया गया था. हालांकि, यह डिग्री वास्तव में जर्मन फ़ाछोशुले (Fachhochschule) इंस्टीटियुशंस युनिवर्सिटीज ऑफ़ एप्लाइड साइंसेज द्वारा ज्यादातर दी जाती है. जर्मन तकनीकी विश्वविद्यालय इंजीनियरिंग में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (BEng)की डिग्री की बजाय बैचलर ऑफ साइंस (विज्ञान में स्नातक) की डिग्री प्रदान करते हैं.

फिनलैण्ड[संपादित करें]

फिनलैंड में स्थिति जर्मनी जैसी ही है. वोकेशनल युनिवर्सिटीज (व्यावसायिक विश्वविद्यालय) (ammattikorkeakoulu) पेशेवर स्नातक की डिग्री (insinööri (amk) को मंजूरी प्रदान करते हैं. यह डिग्री पारंपरिक तौर पर और आगे के अध्ययन के लिए तैयार नहीं करता है, लेकिन बोलोग्ना प्रक्रिया के कारण, उन इंजीनियरों के लिए पूरी तरह से एक नई डिग्री ylempi insinööri (amk) की शुरूआत उन लोगों के लिए की गयी है जो काम करने के कुछ अनुभव के बाद अध्ययन जारी रखना चाहते हैं. 2005 से पहले, शैक्षणिक विश्वविद्यालयों ने (फिनलैंड में शिक्षा देखें) स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर अध्ययनों के मध्य प्रशासनिक भेदभाव नहीं किया और स्नातकोत्तर स्तर की diplomi-insinööri प्राप्त होने वाली पहली डिग्री थी. बोलोग्ना(Bologna) प्रक्रिया के कारण, एक मध्यवर्ती " बैचलर ऑफ साइंस इन इंजीनियरिंग" '(tekniikan kandidaatti) की डिग्री शुरू की गयी है. हालांकि, आज भी, शैक्षिक विश्वविद्यालय, AMK की डिग्री को शैक्षणिक डिग्री के साथ समतुल्य नहीं स्वीकार करते और क्रेडिट के केवल आधे (180 ECTS में से 90) की भरपाई पर विचार करते हैं.

नीदरलैंड्स[संपादित करें]

जर्मनी की ही तरह बोलोग्ना प्रक्रिया लागू करने के भाग के रूप में, नीदरलैंड्स में भी बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (इंजीनियरिंग में स्नातक) कार्यान्वित किया गया. यह डिग्री केवल डच होगेस्कूल-संस्थानों द्वारा ही दी जाती है और डच इंजीनियर की डिग्री "ingenieur" (ing.) के समतुल्य है. एक डच BEng के लिए चार कठोर वर्षों का अध्ययन शामिल है और यह केवल एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, या विद्युत इंजीनियरिंग के क्षेत्र में है दिया जाता है. एक डच इंजीनियर के अध्ययन को पूरा करने के क्षेत्र में बैचलर ऑफ एप्लाइड साइंस (व्यवहारिक विज्ञान में स्नातक) की डिग्री के साथ जैव रासायन जैव चिकित्सा इंजीनियरिंग, रसायन इंजीनियरिंग, पर्यावरण इंजीनियरिंग, द्रव्यात्मक इंजीनियरिंग की उपाधियां भी दी जाती हैं. डच तकनीकी विश्वविद्यालय बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (BEng) की डिग्री के बजाय बैचलर ऑफ साइंस इन इंजीनियरिंग (BScEng) की डिग्री प्रदान करते हैं.

भारत[संपादित करें]

भारत में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (B.E) एक ऐसी डिग्री है जो कई सार्वजनिक और निजी विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान की जाती है. बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री एक छात्र को इंजीनियरिंग का पाठ्यक्रम चार वर्षों (आठ सेमेस्टर्स) में पूरा कर लेने पर दिया जाता है. बी.ई. (B.E) में प्रविष्टि पाने के लिए 10+2 की स्कूली शिक्षा अथवा प्राक विश्वविद्यालय पाठ्यक्रम (PUC) पूरा करना आवश्यक होता है. इंजीनियरिंग में डिप्लोमा धारक भी इंजीनियरिंग में पार्श्विक प्रवेश (लेटरल एंट्री) के द्वारा प्रवेश के पात्र है, जो विषयों के अध्ययन में कुछ रियायतें देता है. भारत में कुछ विश्वविद्यालय उसी इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम के लिए बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (B.E) के बजाय BTech यानी बैचलर ऑफ़ टेक्नोलोजी (प्रौद्योगिकी में स्नातक) प्रदान करते हैं. ऐसा कहा जाता है कि B.E की तुलना में बी टेक. (B.Tech.) में प्रयोग पर विशेष बल दिया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] यह एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में भी प्रदान की जाती है.भारत में कुछ विश्वविद्यालय भी एक ही कोर्स के लिए बीएससी (इंजीनियरिंग) देते हैं, यह BE या B Tech.जैसा ही एक समान है. बी आर अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, विनोबा भावे विश्वविद्यालय और मगध विश्वविद्यालय आदि इसके उदाहरण हैं.जबकि बी आर अम्बेडकर बिहार और विनोबा भावे विश्वविद्यालय ने अपनी डिग्री को बी टेक (B Tech.) में बदल दिया है, मगध विश्वविद्यालय अभी भी बीएससी (इंजीनियरिंग) की डिग्री प्रदान करता है. बी एससी.(B Sc.)(इंजीनियरिंग) बी ई (BE) या बी टेक (B Tech) समतुल्य हैं और एम एससी (इंजीनियरिंग) एम्इ (ME) या एम टेक(M Tech.) के समतुल्य है.

पाकिस्तान[संपादित करें]

पाकिस्तान में, बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री के नाम के साथ (बीएससी इन्ज. B.Sc. Engg. / बी एस इन्जिनियरिंग. /बी. इ.) विभिन्न विषयों में कई विश्वविद्यालयों/संस्थानों द्वारा प्रदान किया जाता है. इंजीनियरिंग में स्नातक (बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग) की डिग्री उसी छात्र को दी जाती है जिसने इंजीनियरिंग के चार वर्षों का पाठ्यक्रम, जिसमे आठ सेमेसटर्स होते हैं, पूरा किया है. एक इंजीनियरिंग कार्यक्रम में प्रवेश पाना 12 वर्षों की स्कूली शिक्षा के बाद ही संभव है. छात्रों के लिए एक प्रवेश परीक्षा में बैठना आवश्यक हैं और अंतिम मूल्यांकन उनके (मध्यवर्ती HSSC / F.Sc. प्री इंजीनियरिंग) के प्राप्तांक और प्रवेश के परीक्षण के प्राप्तांक की गणना के द्वारा किया जाता है. तीन वर्षों के डिप्लोमा वाले एसोसिएट इंजीनियरिंग (डी.ए.ई.) के छात्र भी प्रवेश परीक्षा में बैठ सकते हैं. बाकी प्रक्रिया एक समान ही है. हाल ही में देश में दूरसंचार बाजार में वृद्धि के कारण, छात्र दूरसंचार इंजीनियर बनने में अधिक रुचि रखते हैं. पाकिस्तान इंजीनियरिंग परिषद (पीईसी), पाकिस्तान में इंजीनियरिंग पेशे से जुडी एक नियामक निकाय है, जो पंजीकरण करती है और पुरस्कार पंजीकरण प्रमाण-पत्र केवल उन स्नातकों को देती है, जिन्होंने अपनी इंजीनियरिंग की पढाई उन विश्वविद्यालयों/संस्थानों से पूरी कर ली है जो एक्रीडेटेड इंजीनियरिंग प्रोग्राम्मस (मान्यताप्राप्त अभियांत्रिकी के कार्यक्रम) की पेशकश करते हैं, इस प्रकार वास्तविक मान्यता प्राप्त पेशेवर इंजीनियर्स के रूप में उनकी घोषणा कर दी जाती है, जो निजी या सार्वजनिक क्षेत्र में किसी भी व्यावसायिक इंजीनियरिंग के कार्यक्रमों को अंजाम देने के लिए सक्षम हैं, और पंजीकरण की स्थिति के अनुसार सामान्य रूप से उनके नाम के साथ इंजिनियर (Engr.) उपसर्ग लगाकर और विशेष रूप से (आर.ई./पी.ई.) की उपाधियों का उपयोग करने के हकदार हैं. इंजीनियरों को दो श्रेणियों में पंजीकृत किया जाता है: जिनके नाम हैं पंजीकृत इंजीनियर (आर.ई.)(R.E.) और व्यावसायिक इंजीनियर (पी.ई.). ग्रेजुएट इंजीनियर्स पंजीकृत इंजीनियर्स के रूप में पंजीकृत हैं और आगे स्नातक स्तर की पढ़ाई के 5 वर्षों के अनुभव के बाद उन्हें पीईसी रजिस्टर पर पेशेवर इंजीनियर्स के रूप में पंजीकृत कर लिया जाता है.

श्रीलंका[संपादित करें]

http://www.iesl.lk/

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • बैचलर की डिग्री
  • बैचलर ऑफ एप्लाइड साइंस
  • बैचलर ऑफ साइंस इंफॉरमेशन टैक्नोलॉजी
  • इंजीनियर की डिग्री
  • मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग (एम्.इ (M.E) या एमइंग (MEng))
  • व्यावसायिक विश्वविद्यालय

सन्दर्भ[संपादित करें]