अनिल कुंबले

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अनिल कुंबले
Anil Kumble.jpg
अनिल कुंबले
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम अनिल कुंबले
उपनाम जम्बो
कद 6 फ़ुट 2 इंच (1.88 मी)
बल्लेबाजी की शैली दाएं हाथ
गेंदबाजी की शैली दाएं हाथ लेग स्पीन
भूमिका गेन्दबाज़ तथा टेस्ट कप्तान
अंतरराष्ट्रीय जानकारी
किस राष्ट्र से खेलते हैं/थे भारत
टेस्ट क्रिकेट मे पदार्पण (कैप १९२) ९ अगस्त १९९० v इंग्लैंड
अंतिम टेस्ट मुक़ाबला २९ अक्टोबर २००८ v ऑस्ट्रेलिया
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच मे पदार्पण (कैप ७८) २५ अप्रिल १९९० v श्रीलंका
अंतिम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच १९ मार्च २००७ v बर्मुडा
घरेलू टीम जानकारी
वर्ष टीम (दल)
१९८९/९० – २००८/०९ कर्नाटक
२००६ सरे काउन्टी क्रिकेट क्लब
२००० लिसेस्टरशायर काउन्टी क्रिकेट क्लब
१९९५ नर्थह्याम्प्टनशायर काउन्टी क्रिकेट क्लब
२००८-२०१० रोयल च्यालेंजर बेंगलोर
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टेस्ट ओडीआई प्रथम श्रेणी क्रिकेट ए क्रिकेट
मुक़ाबले १३२ २७१ २४४ ३८०
रन बनाये २,५०६ ९३८ ५,५७२ १,४५६
बल्लेबाजी औसत १७.७७ १०.५४ २१.६८ ११.२०
शतक/अर्धशतक १/५ ०/० ७/१७ ०/०
सर्वोच्च स्कोर ११०* २६ १५४* ३०*
गेंदें बोल्ड ४०,८५० १४,४९६ ६६,९३१ २०,२४७
विकेट ६१९ ३३७ १,१३६ ५१४
गॆंदबाजी औसत २९.६५ ३०.८९ २५.८३ २७.५८
एक पारी मे 5 विकेट ३५ ७२
एक मुक़ाबले मे 10 विकेट छैन १९ छैन
सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी १०/७४ ६/१२ १०/७४ ६/१२
कैच्/स्टम्पिंग ६०/– ८५/– १२०/– १२२/–
स्रोत: क्रिकइन्फो, ८ नोभेम्बर २००८

अनिल कुंबले भारत के क्रिकेट खिलाड़ी हैं। यह जिम लेकर के बाद विश्व के पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होने टेस्ट क्रिकेट में एक पारी में 10 विकेट लिए हैं। अनिल कर्नाटक प्रदेश के बंगलोर नगर के निवासी हैं। इनके सम्मान में इस नगर के एक सबसे मुख्य चौराहे को अनिल कुंबले चौराहा का नाम दिया गया है।

भारत की ओर से ५०० विकेट लेने वाले वह पहले खिलाड़ी हैं।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

अनिल कुंबले का जन्म १७ अक्टूबर १९७० को कर्नाटक के बंगलुरु में कृष्णा स्वामी और सरोजा के यहाँ हुआ[1]। उनका सरनेम ‘कुंबले’ उनके परिवार वालों ने कुंबला नाम के उनके पैतृक गांव के नाम पर रखा। उनकी लम्बाई के कारण वो जंबो नाम से भी प्रसिद्ध हैं। अपनी नेशनल कॉलेज बसावनागुडी से शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात 1992 में राष्ट्रीय विद्यालय कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली[1]

कैरियर[संपादित करें]

घरेलू कैरियर[संपादित करें]

कर्नाटक की तरफ से कुंबले ने अपना फस्ट क्लास डेब्यू हैदराबाद के खिलाफ 1989 में किया जिसमें उन्होंने चार विकेट लिए। उनके बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ अंडर 19 टीम में चुन लिया गया।[1]

अंतर्राष्ट्रीय कैरियर[संपादित करें]

कुंबले ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में श्रीलंका के खिलाफ वनडे में अप्रैल 1990 में पदार्पण किया. इसी वर्ष इंग्लैड के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला। अनिल कुंबले ने 132 टेस्ट मैच की 236 पारियों में 619 विकेट लेकर टीम इंडिया के सबसे सफल गेंदबाज बने हुए हैं। 271 एकदिवसीय मैच की 265 पारियों में 337 विकेट लेने का गौरव भी उनके नाम है।[1] कुंबले ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में श्रीलंका के खिलाफ वनडे में अप्रैल 1990 में पदार्पण किया। इसी वर्ष इंग्लैड के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला। अनिल कुंबले नवंबर 2007 से भारतीय क्रिकेट टीम के १ वर्ष तक कप्तान भी रहे।[2]

खेल का तरीका[संपादित करें]

पुरस्कार[संपादित करें]

रोचक तथ्य[संपादित करें]

1. भारत की ओर से टेस्ट मैचों में सर्वाधिक विकेट लेनेवाले गेंदबाज। कुंबले ने 1990 से 2008 के बीच चले अप्ने टेस्ट जीवन में खेले 132 टेस्ट मैचों में 40850 गेंदे फेंककर 18355 रन देकर 29.65 की औसत से 619 विकेट लिए 2. भारत की ओर से टेस्ट मैचों में 500 और 600 विकेट लेनेवाले पहले गेंदबाज 3. भारत के अकेले गेंदबाज जिंहोने टेस्ट मैचों में 500 और 600 विकेट लिए हैं। 4. टेस्ट क्रिकेट इतिहास में एक टेस्ट पारी में 10 विकेट लेनेवाले इंग्लैंड के जिम लेकर के बाद केवल दूसरे गेंदबाज। कुंबले ने पाकिस्तान के विरूद्ध 4 फ़रवरी 1999 को आरंभ हुए दिल्ली टेस्ट की चौथी पारी में अपने 26.3 ओवरों में 9 मेडन रखते हुए 74 रन देकर सभी 10 विकेट लेने का कारनामा कर दिखाया। उनसे पहले इंग्लैंड के जिम लेकर ने ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध 26 जुलाई 1956 को आरंभ हुए मैनचेस्टर टेस्ट की कुल तीसरी पारी में और ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में 51.2 ओवरों में 23 मेडन रखते हुए 53 रन देकर एक टेस्ट पारी में सभी दसों विकेट लेनेवाले पहले गेंदबाज बने थे। वे इंडियन प्रीमियर लीग में बैंगलोर की ओर से खेलते थे।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

स्रोत[संपादित करें]