मोहिंदर अमरनाथ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Mohinder Amarnath
Cricket no pic.png
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम Mohinder Amarnath Bhardwaj
जन्म 24 सितम्बर 1950 (1950-09-24) (आयु 63)
Patiala, India
उपनाम Jimmy
बल्लेबाजी की शैली Right hand bat
गेंदबाजी की शैली Right arm medium
संबंध Lala Amarnath, Surinder Amarnath
अंतरराष्ट्रीय जानकारी
किस राष्ट्र से खेलते हैं India
टेस्ट क्रिकेट मे पदार्पण (कैप 69) December 24 1969 v Australia
अंतिम टेस्ट मुक़ाबला January 11 1988 v West Indies
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच मे पदार्पण (कैप 85) June 7 1975 v England
अंतिम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच October 30 1989 v West Indies
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता Tests ODIs
मुक़ाबले 69 85
रन बनाये 4378 1924
बल्लेबाजी औसत 42.50 30.53
शतक/अर्धशतक 11/24 2/13
सर्वोच्च स्कोर 138 102*
गेंदें बोल्ड 3676 2730
विकेट 32 46
गेंदबाजी औसत 55.68 42.84
एक पारी मे 5 विकेट 0 0
एक मुक़ाबले मे 10 विकेट 0 0
सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 4/63 3/12
कैच/स्टम्पिंग 47/– 23/–
स्रोत: [1], October 8 2009

मोहिंदर अमरनाथ भारद्वाज (का जन्म सितम्बर 24, 1950,पटियाला,भारत में हुआ) एक पूर्व क्रिकेटर (1969-1989) और वर्तमान में क्रिकेट विश्लेषक हैं.

उन्हें सामान्यतः "जिम्मी" के नाम से जाना जाता है. वे स्वतंत्र भारत के पहले कप्तान,लाला अमरनाथ के पुत्र हैं. उनके भाई सुरिंदर अमरनाथ एक टेस्ट मैच खिलाड़ी थे. उनके भाई राजिंदर अमरनाथ पूर्व प्रथम श्रेणी के खिलाड़ी हैं और वर्तमान में क्रिकेट कोच हैं.

मोहिन्दर ने दिसम्बर 1969 में चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली बार प्रदर्शन किया. अपने कैरियर के उत्तरार्ध में, मोहिंदर को,तेज गति के खिलाफ खेलने वाले सबसे बेहतरीन भारतीय क्रिकेटर के रूप में देखा गया.

इमरान खान और मैलकम मार्शल दोनों ने, उनकी बल्लेबाजी,साहस और दर्द को सहने और उस पर विजय पाने की क्षमता की प्रशंसा की है. 1982-83 में मोहिंदर ने पाकिस्तान (5) और वेस्ट इंडीज (6) के खिलाफ 11 टैस्ट खेले और दोनों सीरीज में कुल मिला कर 1000 से अधिक रन बनाये.

अपने "आदर्श" के रूप में, सुनील गावस्कर ने दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज के रूप में मोहिंदर अमरनाथ का वर्णन किया है.

उन्होंने पर्थ में वाका में (दुनिया में सबसे तेज और उछलने वाले विकेट) जेफ थॉमसन के खिलाफ अपनी सबसे तेज बल्लेबाजी का प्रदर्शन करते हुए अपना पहला टेस्ट शतक बनाया. उन्होंने इस मैच के बाद भी शीर्ष वर्ग की तेज गेंदबाजी के खिलाफ टेस्ट शतक जमाया.

इमरान खान मोहिन्दर का इतना सम्मान करते हैं की अपने "ऑल राउंड विचार" में उन्होंने मोहिंदर को 1982-83 सीजन का दुनिया का सबसे अच्छा बल्लेबाज कहा.

इमरान ने आगे यह भी कहा की मोहिंदर को 1969 में अपने कैरियर की शुरुआत से लेकर सेवानिवृत्त होने तक लगातार खेलना चाहिए था.

भारतीय टेस्ट टीम में मोहिंदर की स्थिति कभी भी स्थिर नहीं रही. दूसरे उनसे बहुत ख़राब खेले लेकिन फिर भी उन्हें कभी नहीं निकला गया.

मोहिन्दर को भारतीय क्रिकेट में वापसी करने के लिए जाना जाता है. अपने कैरियर के उन दो दशकों में जब वे शिखर पर रहे,तब उन्हें भारतीय टीम से कई मौकों पर निकला गया और हर बार उन्होंने अपनी वापसी अपने उत्कृष्ट खेल के द्वारा प्राप्त की.

अपनी पहली श्रृंखला के बाद उन्हें टीम में वापस आने के लिए 1975 तक इंतजार करना पडा.

मोहिन्दर ने 1969 में अपना पहला प्रदर्शन एक तेज गति के गेंदबाज के साथ एक त्वरित हरफनमौला के रूप में किया, लेकिन अपने कैरियर के सर्वोच्च शिखर पर वे हमेशा एक शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के रूप में आये जिन्होंने हमेशा भारत के लिए नंबर 3 पर खेला. वे गेंदबाजी में भी कुशल थे, और गेंद को बड़े कौशल और नियंत्रण के साथ स्विंग और कट करते थे.

मोहिंदर अमरनाथ ने 69 टैस्ट मैच खेले जिसमे उन्होंने 4,378 रन बनाये. उनके रनों का औसत 42.50 रहा, जिसमे 11 शतक और 24 अर्द्धशतक शामिल हैं साथ ही उन्होंने 55.68 रन औसत के हिसाब से 32 विकेट भी लिए हैं.

85 एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय, मैच में, उन्होंने 30.53 के औसत के हिसाब से 1924 रन बनाये. उनका सर्वोच्च स्कोर 102 रन का है जिसके बाद भी वे आउट नहीं हुए थे,और 42.84 रन के औसत से उन्होंने 46 विकेट लिए. मोहिंदर अमरनाथ अकेले ऐसे भारतीय क्रिकेटर हैं, जिन्हें गेंद हैंडल करने की वजह से खारिज कर दिया था.

उन्हें 9 फ़रवरी, 1986 को पदच्युत कर दिया गया था, और इस तरह से एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच में गेंद हैंडल करने के कारण पदच्युत होने वाले वे पहले खिलाड़ी बने. एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच में क्षेत्र में बाधा डालने के लिए पदच्युत होने वाले वे अकेले भारतीय हैं.

1983 विश्व कप में प्रदर्शन[संपादित करें]

मोहिंदर अमरनाथ को विश्व कप क्रिकेटमें उनके महान प्रदर्शन के लिए जाना जाता है. उन्हें फाइनल और सेमीफाइनल मैच में "मैन ऑफ द मैच' के खिताब से सम्मानित किया गया था, और इस तरह से उन्होंने भारत का अपने पहले एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय खिताब के लिए नेतृत्व किया.

इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में अपनी सटीक और तेज गेंदबाजी से उन्होंने डेविड गोवर और माइक गैटिंग जैसे शीर्ष क्रम बल्लेबाजों के विकेट लिए.

उन्होंने औसतन 2.25 ओवर प्रति ओवर के अनुसार अपने 12 ओवरों में मात्र 27 रन दिए,यह सभी भारतीय गेंदबाजों द्वारा दिए गए रनों में सबसे कम थे. बल्लेबाजी की बात करें तो, उन्होंने 46 रन बना कर भारत को ठोस शुरुआत दी. उन्हें मैन ऑफ द मैच बनाया गया.

फाइनल में भारत ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ पहले बल्लेबाजी की जो विवादास्पद रूप से दुनिया की सबसे अच्छी गेंदबाजी का दावा करता है. टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई,54.4 ओवरों पे 183 रन बना कर सारी टीम आउट हो गयी और निर्धारित 60 ओवर भी पूरे नहीं खेल पाई.

वेस्ट इंडीज की तेज गेंदबाजी के खिलाफ अमरनाथ की शांत और तटस्थ बल्लेबाजी ने भारतीय पारी को कुछ हद तक स्थिरता दी, सभी भारतीय बल्लेबाजों में वे सबसे लम्बे समय तक बल्ले पर बने रहे.

वे सबसे लंबे समय तक क्रीज पर बने रहे (80 गेंदें )और उन्होंने 26 रन बनाए. यद्यपि सीमित ओवरों के मैच में क्रीज़ पर लम्बे समय तक टिके रहने को आवश्यक रूप से अच्छी बात नहीं कह सकते,लेकिन यह देखते हुए की भारत पूरे 60 ओवरों की पारी नहीं खेल पाया था, अमरनाथ की पारी ने साथ खेलने वाले दूसरे बल्लेबाज को स्कोर बनाने का मौका दिया.


क्रिस श्रीकांत ने सर्वाधिक 38 रन बनाये,और संदीप पाटिल (27 रन)और अमरनाथ क्रमशः दूसरे और तीसरे नंबर पर रहे. खराब बल्लेबाजी के प्रदर्शन के बाद भारत की जीत की संभावना लगभग न के बराबर समझी जा रही थी. हालांकि भारतीय गेंदबाजी ने मौसम और पिच की स्थिति का भरपूर फायदा उठाते हुए वेस्ट इंडीज की टीम को 140 रनों पर आउट कर दिया, और इस प्रकार 43 रन से फाइनल मैच जीत लिया. अमरनाथ और मदनलाल संयुक्त रूप से सर्वाधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी रहे,प्रत्येक ने 3 विकेट लिए. सेमीफाइनल की तरह ही फाइनल मैच में भी अमरनाथ एक बार फिर सबसे किफायती गेंदबाज रहे, प्रति ओवर 1.71 रनों के औसत से उन्होंने अपने 7 ओवरों में केवल 12 रन दिए. फिर से,सेमीफाइनल की तरह,अमरनाथ को मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया.

चरित्र और साहस[संपादित करें]

अमरनाथ अपने व्यक्तित्व,साहस और दृढ़ संकल्प के लिए जाने जाते हैं. वेस्ट इंडीज के महान खिलाड़ी विवियन रिचर्ड्स ने उन्हें "क्रिकेट खेलने वाले सबसे अच्छे आदमियों में से एक" कहा और पूर्व ऑस्ट्रलियन टेस्ट मैच के सलामी बल्लेबाज डेविड बून ने कहा "हारना शायद उनके शब्दकोष में नहीं है".[2]

दा एज में गिदोन हेग ने लिखा है की,"ऐसे समय में जब गेंदबाजों पर तेज गेंदबाजी करने पर और बाउंसर फेंकने पर कोई पाबंदी नहीं थी,वे गेंद को हूक करने से कभी घबराए नहीं - यद्यपि ऐसा करने के लिए उनके पास कई कारण थे."

उन्हें रिचर्ड हैडली से सर के मध्य में एक हेयरलाइन फ्रैक्चर मिला,इमरान खान ने उन्हें बेहोश कर दिया था,मैलकॉम मार्शल ने उनके दांत निकाल दिए थे और उनके जबड़े में जैफ्फ थॉमसन ने पर्थ में इतनी जोर से मारा की दोपहर के भोजन में वे सिर्फ आइसक्रीम खा सके थे. माइकल होल्डिंग ने कहा है," उनके दर्द को झेलने की क्षमता उन्हें दूसरों से अलग करती है..." एक तेज गेंदबाज जानता है जब एक बल्लेबाज दर्द झेल रहा होता है.लेकिन जिमी खड़े हो जाते थे और खेल जारी रखते थे.' " [3]

1982-83 में ब्रिजटाउन टेस्ट में भारत के वेस्ट इंडीज के दौरे के दौरान,सर में चोट लग जाने के बाद टाँके लगवाने के लिए अमरनाथ को खेल बीच में ही छोड़ना पडा था. खेल में लौटने के बाद, उन्हें क्रिकेट के इतिहास के सबसे घातक तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग का सामना करना पड़ा. यह तय था कि होल्डिंग बाउंसर मार कर अपनी गेंदबाजी से अमरनाथ को भयभीत करने की कोशिश करेगा, और वास्तव में उसने वैसा ही किया. जबकि अधिकांश लोगों को यह उम्मीद थी की ऐसी स्थिति में एक बल्लेबाज विवेक से अगला कदम बढ़ाएगा और झुक जाएगा, लेकिन अमरनाथ खड़े रहे और उन्होंने गेंद को हुक करते हुए उसे सीमा रेखा के पार पहुँचाया. हालांकि 1983-1984 के दौरे के दौरान वेस्ट इंडीज गेंदबाजी के आक्रमण ने अमरनाथ से सबसे ज्यादा घातक प्रतिशोध लिया और उन्हें छ पारियों में मात्र एक रन लेने दिया,जिसके दौरान होल्डिंग ने उन्हें तीन बार शून्य पर आउट होने के लिए मजबूर कर दिया.

अमरनाथ भारतीय क्रिकेट के राजनैतिक संस्थापनों के साथ अपने द्वन्द्व के लिए मशहूर थे,और वे चयनकर्ताओं को " जोकरों का समूह" कहने के लिए प्रसिद्द हैं.[4]

इस वजह से उन्हें कई बार भारतीय टीम से निकाला भी गया.

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

मोहिन्दर अमरनाथ के कैरियर का प्रदर्शन ग्राफ .