स्पा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गोवा, भारत में आयुर्वेदिक स्पा.

स्पा शब्द जल चिकित्सा से जुड़ा हुआ है, जिसे स्नान चिकित्सा के रूप में भी जाना जाता है। स्पा शहर या स्पा सैरगाह (रिजॉर्ट्स) (गर्म पानी के झरने वाली सैरगाहों सहित) आमतौर विभिन्न स्वास्थ्य उपचारों की पेशकश करते हैं। प्रागैतिहासिक काल से ही यह विश्वास किया जाता है कि खनिज जल में शरीर का उपचार करने की शक्तियां मौजूद होती हैं। इस तरह के व्यवहार दुनिया भर में लोकप्रिय हैं, लेकिन विशेष रूप से यूरोप और जापान में इसका व्यापक प्रसार हैं। दिवस स्पा भी काफी लोकप्रिय हैं और इससे विभिन्न व्यक्तिगत देखभाल उपचार की पेशकश की जाती है।

शब्द की उत्पत्ति[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Mineral spa

यह शब्द बेल्जियम के स्पा शहर के नाम से व्युत्पन्न है, जिसका नाम रोमन काल से जाना जाता है, जब इस स्थान को एक्वी स्पाडैनी (Aquae Spadanae) कहा जाता था,[1] जो शायद लैटिन शब्द "स्पारगेरे" से संबद्ध था, जिसका मतलब बिखेरना, छिड़कना या नम करना है।[2]

मध्ययुगीन काल से लोहे की कमी के कारण होने वाली बीमारियों का इलाज केलीबिट (लौहतत्व युक्त) झरने का पानी पिलाकर किया जाता था (1326 में आयरन मास्टर कॉलिन ले लुप ने इस चिकित्सा का दावा किया,[3] जब झरने को एस्पा (Espa) कहा गया, जो "झरने" के लिए वालून (फ्रांस की एक बोली) का एक शब्द है[3]).

16 वीं सदी के इंग्लैंड में बाथ जैसे शहरों में औषधीय स्नान के पुराने रोमन विचारों को पुनर्जीवित किया गया और 1571 में बेल्जियम के एक शहर (जिसे उन्होंने स्पॉ (spaw) कहा) में गए विलियम स्लिंग्सबाई ने यॉर्कशायर में एक केलीबिट झरने की खोज की। उन्होंने उसके संलग्न एक कुंआ बनाया, जिसे हैरोगेट के रूप में जाना जाने लगा, जो इंग्लैंड का औषधीय पेयजल वाली पहली सैरगाह था। उसके बाद 1596 में डॉ॰ टिमोथी ब्राइट ने सैरगाह को द इंगलिश स्पा कहा और इस तरह एक आनुवांशिक वर्णन के रूप में स्पा शब्द का उपयोग शुरू हुआ।

एक व्यावसायिक संदर्भ में आम तौर पर यह दावा किया जाता है कि यह शब्द विभिन्न लैटिन वाक्यांशों जैसे "सैलुस पर एक्वम" या "सैनिटास पर अक्वाम" (Sanitas Per Aquam) का आदिवर्णिक रूप है, जिसका अर्थ है "पानी के जरिये स्वास्थ्य".[4] इसकी बहुत संभावना नहीं है: इसकी व्युत्पत्ति 21 वीं सदी की शुरुआत से पहले हुई नहीं लगती है और यह संभवत: "बैक्रोनिम (उत्तरवर्णिक)" हो सकती है, क्योंकि इसका कोई सबूत नहीं है कि 20 वीं सदी से पहले भाषा में आदिवर्णिक शब्द होते थे[5] और न ही यह स्थान के लिये ज्ञात रोमन नाम से मिलता है।[6]

इतिहास[संपादित करें]

Photograph of the Baths showing a rectangular area of greenish water surrounded by yellow stone buildings with pillars. In the background is the tower of the abbey.
बाथ स्पा, इंग्लैंड में प्राचीन रोमन स्नान गृह

कुछ बीमारियों के लिये एक प्रभावी उपचार की आशा से गर्म या ठंडे पानी के झरनों की यात्रा करने का प्रचलन प्रागैतिहासिक काल से ही रहा है फ्रांस और चेक गणराज्य में गर्म झरनों के पास किये गये पुरातत्विक परीक्षणों में कांस्य युग के हथियारों व चढ़ावों का पता चला है। ग्रेट ब्रिटेन में एक प्राचीन कथा में इंग्लैंड के बाथ में गरम पानी के झरनों की खोज का श्रेय केल्टिक राजाओं को दिया गया है।[7]

दुनिया भर में कई लोगों का मानना है कि एक विशेष झरने, कुएं या नदी में स्नान करने से शारीरिक और आध्यात्मिक शुद्धिकरण होता है। अमेरिका के मूल-निवासियों, फारसियों, बेलोनियावासियों मिस्रवासियों, यूनानियों और रोमनों में शुद्धीकरण के अनुष्ठान के विभिन्न रूप मौजूद थे। आज जल के माध्यम से शुद्धीकरण के अनुष्ठान यहूदियों, मुस्लिमों, ईसाइयों, बौद्धों और हिंदुओं के धार्मिक अनुष्ठानों में पाये जाते हैं। ये आयोजन पानी के चिकित्सा और शुद्धिकरण करने के गुणों में प्राचीन विश्वास को दर्शाते हैं। स्नान संबंधी जटिल अनुष्ठान प्राचीन मिस्र में सिंधु घाटी के प्रागैतिहासिक नगरों और एजियन सभ्यताओं में भी प्रचलित थे। अक्सर प्राचीन लोग पानी के आसपास छोटे भवनों का निर्माण करते थे और उनके द्वारा किये गये इन निर्माणों का स्वरूप अस्थायी हुआ करता था[7]

ग्रीक और रोमन काल में स्नान[संपादित करें]

पश्चिमी स्नान प्रथाओं का कुछ शुरुआती विवरण यूनान से आया है। यूनानियों ने स्नान के नियम शुरू किये, जिसने आधुनिक स्पा प्रक्रियाओं की नींव रखी. इन एजियन लोग ने व्यक्तिगत स्वच्छता के लिए नहाने के छोटे टबों, वाश बेसिनों और पैर स्नान का उपयोग किया। ऐसे प्रारंभिक खोजों में क्रेट के क्नोसोस में महल परिसर में मिले नहाने के उपकरण और सेंटोरिनी के एक्रोटिरी में खुदाई से निकले विलासितापूर्ण एल्‍्बेस्टस बाथटब हैं और दोनों ई.पू.2 सहस्राब्दी के मध्य काल के हैं। उन्होंने अपने व्यायामशाला परिसरों के भीतर थकान उतारने और व्यक्तिगत सफाई के लिए सार्वजनिक स्नानागारों और शॉवरों निर्माण किया। ग्रीक पौराणिक कथाओं में निर्दिष्ट किया गया है कि कुछ प्राकृतिक झरने या ज्वारीय तालाब बीमारी के इलाज के लिए देवताओं की कृपा से बने हैं। इन पवित्र तालाबों के चारों ओर यूनानानियों ने चिकित्सा की इच्छा रखने वाले लोगों के लिए स्नान की सुविधाएं स्था‍पित की। श्रद्धालु इन स्थलों पर उपचार के लिए देवताओं को प्रसाद चढ़ाते थे और निरोग होने की उम्मीद में नहाते थे। स्पार्टा (प्राचीन यूनानी शहर) के लोगों ने एक आदिम वाष्प स्नान की शुरुआत की। एक प्रारंभिक यूनानी बालनियम (स्नानागार, मोटे तौर पर अनुवादित) सेरांगियम में स्नान कक्षों को उस पहाड़ी को काटकर बनाया जाता था, जहां से गरम झरना फूटता था। उन कक्षों के ऊपर पत्थर को काटकर ताखों की एक श्रृंखला गई थी, ताकि नहाने वाले अपने कपड़े रख सकें. स्नान कक्षों में से एक में सजावटी मोज़ेक फर्श था, एक सारथी और चार घोड़ों द्वारा खींचा जाने वाला एक रथ, एक महिला के पीछे चलते दो कुत्ते और नीचे एक डॉल्फिन का चित्रण किया गया था। इस प्रकार, आदिम यूना‍नियों ने प्राकृतिक सुविधाओं का उपयोग किया, लेकिन उनका विस्तार किया और उसमें अपनी खुद की सुविधाएं, जैसे सजावट और अलमारियां जोड़ीं. बाद की यूनानी सभ्यता के दौरान स्नानघर अक्सर खेल के मैदानों के संयोजन में बनाये जाते थे।[7]

रोमनों ने कई यूनानी स्नान पद्धतियों की नकल की। रोमन अपने स्नानागारों के आकार-प्रकार और जटिलता में यूनानियों से आगे चले गये। इसके कई कारक रहे:- रोमन शहरों के बड़े आकार और जनसंख्या, कृत्रिम जल प्रणाली बनाने के कारण बहते पानी की उपलब्धता और सीमेंट का आविष्कार, जिससे बड़ी इमारतों का निर्माण आसान, सुरक्षित और सस्ता हो गया। यूनान की तरह रोमन स्नानागार सामाजिक और मनोरंजक गतिविधियों का एक केन्द्र बिंदु बन गये। जैसे-जैसे ही रोमन साम्राज्य का विस्तार हुआ, सार्वजनिक स्नानागार का विचार भूमध्यसागर से सटे सभी हिस्सों और यूरोप और उत्तरी अफ्रीका के क्षेत्रों तक फैल गया। एक्वाडक्ट्स (कृत्रिम जल प्रणाली) निर्माण के साथ रोमनों के पास न केवल घरेलू, कृषि और औद्योगिक उपयोग के लिए बल्कि अवकाश के दौरान मनोरंजक गतिविधियों के लिए भी पर्याप्त पानी होता था। ये एक्वाडक्ट्स पानी प्रदान करते थे, जिसे गरम कर बाद में स्नान के लिए उपयोग किया जाता था। आज यूरोप, अफ्रीका और मध्य-पूर्व में खंडहरों और पुराता‍त्त्वविक खुदाइयों में रोमन युग के स्नान के आकार और स्तर का पता चला है।[7]

रोमनों ने यूरोप में फ्रांस के ऐक्स और विची में, इंग्लैंड के बाथ और बक्स्टन में, जर्मनी के एचेन और विसबेडेन में, ऑस्ट्रिया के बैडेन और हंगरी के अक्विनकम सहित अन्य स्थानों में प्राकृतिक गर्म झरनों से स्नानागार बनाने का फायदा लेते हुए अपनी कॉलोनियों में स्नानागार बनवाये. ये स्नानागार रोमन समुदायों में मनोरंजक और सामाजिक गतिविधियों का केंद्र बन गए। पुस्तकालय, व्याख्यान कक्ष, व्यायामशालाएं और औपचारिक उद्यान भी कुछ स्नान परिसरों का हिस्सा बन गये। इसके अलावा, रोमन जोड़ों के दर्द, गठिया और भोजन व पेय की अधिकता से होने वाली परेशानियों में राहत देने के लिए धूप से गर्म किये गये जल का प्रयोग करते थे। पश्चिम में सम्राट कांस्टेंटिन की मृत्यु के बाद 337 ई. की शुरुआत में रोमन साम्राज्य के पतन के बाद रोमन सेनाओं ने अपने सुदूर प्रांतों से अपना नियंत्रण हटा लिया और स्नानागारों को स्थानीय आबादी के उपयोग या नष्ट होने के लिए छोड़ दिया। [7]

हीर्लेन, हॉलैंड में कोरियोवैलम रोमन स्नान गृह (पुनर्निर्माण)

इस प्रकार, रोमनों ने स्नान को एक कला के रूप में चित्रित किया और उनके स्नानागारों में ये प्रगतियां भौतिक रूप से परिलक्षित होती हैं। उदाहरण के लिए रोमन स्नान में एक साधारण डुबकी या पसीना धोने की प्रक्रिया की तुलना में कहीं अधिक जटिल अनुष्ठान शामिल थे। स्नान के अनुष्ठान के विभिन्न भाग थे- कपड़े उतारना, स्नान, पसीना धोना, मालिश करवाना और आराम करना और इनके लिए अलग कमरों की आवश्यकता होती थी, जो रोमन इन कार्यों को समायोजित करने के लिए बनवाते थे। लिंगों के अलगाव और विचलन के परिवर्धन स्नान से सीधे संबंधित नहीं होने के बावजूद वे स्नानघरों के आकार और रूप पर सीधा प्रभाव डालते थे। विस्तृत रोमन स्नान अनुष्ठान और इसके परिणामस्वरूप विकसित वास्तुकला बाद में यूरोपीय और अमेरिकी स्नान सुविधाओं के लिए उदाहरण के रूप में देखी गयी। रोम के लोगों के बराबर औपचारिक उद्यान स्थान और भव्य स्थापत्य व्यवस्था अठारहवीं सदी के अंत तक यूरोप में दोबारा प्रकट हुई। प्रमुख अमेरिकी स्पा एक सदी बाद आये। [7]

मध्यकालीन समय में स्नान[संपादित करें]

रोमन साम्राज्य के पतन के साथ सार्वजनिक स्नानागार अक्सर अनैतिक व्यवहार के स्थान बन गये और रोगों के इलाज के बदले इस तरह का उपयोग बढ़ने के लिए वही प्रवृति जिम्मेदार थी। यूरोपीय आबादी के बीच एक सामान्य धारणा विकसित हुई कि लगातार स्नान से बीमारी और अस्वस्थता बढ़ती है। मध्ययुगीन चर्च अधिकारियों ने इस विश्वास को प्रोत्साहित किया और सार्वजनिक स्नानागारों को बंद करने का हरसंभव प्रयास किया। ईसाई चर्च के अधिकारियों का मानना था कि सार्वजनिक स्नान ने एक ऐसा वातावरण बनाया, जिससे अनैतिकता और रोगों को बढ़ावा मिला। रोमन कैथोलिक चर्च अधिकारियों ने यूरोप से उपदंश की महामारी को रोकने के असफल प्रयास के रूप में सार्वजनिक स्नान को प्रतिबंधित कर दिया। कुल मिलाकर इस अवधि ने सार्वजनिक स्नान में गिरावट के समय का प्रतिनिधित्व किया।[7]

कई बीमारियों के इलाज के लिए लोगों की कुछ चुनिंदा गर्म और ठंडे झरनों की तलाश जारी रही, जिन्हें वे पवित्र कुएं मानते थे। धार्मिक उत्साह के इस दौर में पानी से फायदे को भगवान या किसी संत की कृपा माना गया। 1326 में बेल्जियम के लेज के एक आयरन मास्टर कॉलिन ला लूप ने बेल्जियम के स्पा में केलीबिट झरनों की खोज की। इन झरनों के चारों ओर अंततः एक प्रसिद्ध सैरगाह विकसित हुई और "स्पा" शब्द किसी सेहतगाह के लिए संदर्भित किया गया, जो प्राकृतिक झरने के पास स्थित हो। इस अवधि के दौरान कुछ व्यक्तिगत झरने विशिष्ट बीमारी के साथ जुड़े, जिनसे कथित रूप से फायदा होता था।[7]

इस अवधि के दौरान स्नान प्रक्रिया में काफी विविधता रही। 16 वीं शताब्दी तक बोहेमिया के कर्ल्सवाद में चिकित्सकों ने निर्धारित किया कि खनिज जल का उपयोग आंतरिक और साथ-साथ बाहरी रूप से भी किया जाना चाहिए। रोगियों को समय-समय पर 10 या 11 घंटों के लिए गर्म पानी में स्नान करना होता था और जबकि वे कई गिलास खनिज जल पीते थे। पहला स्नान सत्र सुबह और दूसरा दोपहर में होता था। यह इलाज कई दिनों तक तब तक चलता था, जब तक त्वचा के घाव फूट नहीं जाते थे और "विषाक्तता" बाहर नहीं निकल जाती थी, जो बीमारी का स्रोत मानी जाती है। फिर घाव के दानों के आसपास संक्रमण को धोकर निकालने के लिए कम समय के लिए और ज्यादा गरम पानी से स्नान किया जाता था।[7]

1626 में ब्रिटेन के तटीय शहर स्कारबोरो में श्रीमती एलिजाबेथ फैरो ने अम्लीय पानी के एक झरने की खोज की, जो शहर के दक्षिण की चट्टानों से निकलता था। इसे लाभकारी स्वास्थ्य गुणों से युक्त माना गया था और इसने स्कारबोरो स्पा को जन्म दिया। स्पा 1660 में स्पा पानी के बारे प्रकाशित में डॉ॰ विट्टी की पुस्तक ने शहर में बड़ी संख्या में आगंतुकों को आकर्षित किया। समुद्र स्नान को भी इलाज से जोड़ा गया था और स्कारबोरो ब्रिटेन का पहला समुद्र तटीय सैरगाह बन गया। स्नानार्थियों के लिए रेत पर पहली रॉलिंग मशीनें 1735 में दर्ज की गईं। [8]

18 वीं सदी में स्नान[संपादित करें]

17 वीं शताब्दी में उच्च श्रेणी के ज्यादातर यूरोपीय लोग अक्सर अपने कपड़े पानी से धोते थे और केवल अपने चेहरे धोते (लिनेन से) थे, क्योंकि उनका मानना था कि सम्पूर्ण शरीर को धोना एक निम्न श्रेणी की गतिविधि थी, लेकिन उस सदी में बाद में स्वास्थ्य को बहाल रखने के तरीके के रूप में स्नान के प्रति उच्च वर्ग धीरे-धीरे अपने नजरिए में बदलाव करने लगा। अमीर लोग स्वास्थ्य सैरगाह में पीने के लिए और पानी में स्नान के लिए आते रहे। 1702 में इंग्लैंड की रानी ऐनी ने स्नान के लिए बाथ, पूर्व रोमनों द्वारा विकसित, की यात्रा की। थोड़े समय बाद रिचर्ड (बीयू) नैश भी बाथ आये। अपने व्यक्तित्व के प्रभाव के कारण नैश इंग्लैंड में सुरुचि और शिष्टाचार के विवाचक बन गये। उन्होंने फाइनेंसर राल्फ एलन और वास्तुकार जॉन वूड के साथ बाथ को एक काउंट्री स्पा से इंग्लैंड की सामाजिक राजधानी के रूप में बदल दिया। बाथ ने यूरोप में अन्य स्पा शुरू करने के लिए रास्ता बनाया। जाहिरा तौर पर अमीर और प्रसिद्ध लोग मौसमी आधार पर वहां स्नान और पानी पीने पहुंचते थे, लेकिन वे भी अपने ऐश्वर्य का प्रदर्शन करते थे। बाथ में सामाजिक गतिविधियों में नृत्य, संगीत, ताश खेलना, व्याख्यान और सड़क पर टहलना शामिल था।[7]

बाथ का एक आम दिन तड़के सामुदायिक स्नान और बाद में एक निजी नाश्ता पार्टी के रूप में बीतता था। बाद में कोई पम्प कक्ष (सौर जल स्रोत पर निर्मित भवन) में पानी पीता था या एक फैशन शो में भाग लेता था। चिकित्सक स्वास्थ्य सैरगाह के संरक्षकों में समान उत्साह के साथ पानी पीने और स्नान करने के लिए प्रोत्साहित करते थे। दिन में बाद के अगले कई घंटे खरीदारी, मुफ्त पुस्तकालयों में जाने, संगीत कार्यक्रम में भाग लेने या किसी कॉफीहाउस में जाने में खर्च किये जाते थे। शाम 4:00 बजे अमीर और नामी लोग पूरी तरह सजधज कर और नीचे सड़कों पर टहलते थे। इसके बाद रात का खाना और फिर टहलना और शाम को नाचना या जुआ खेलना होता था।[7]

यूरोप भर में स्वास्थ्य सैरगाहों में इसी तरह की गतिविधियां होती थीं। स्पा ऐसे मंच बन गये, जिन पर यूरोप के लोग समारोहपूर्वक चहलकदमी करते थे। ये सैरगाह गपशप और घोटालों के स्थानों के रूप में कुख्यात हो गयीं। विभिन्न सामाजिक और आर्थिक वर्गों के लोग साल के दौरान विशिष्ट मौसम का चयन करते थे और प्रत्येक सैरगाह में एक से कई महीनों के लिए रहते थे और छुट्टी मनाते थे। एक मौसम में अभिजात लोग एक सैरगाह में रहते थे, दूसरी बार समृद्ध किसान या सेवानिवृत्त सैनिक स्नान करते थे। अमीर और उनके पीछे लगे रहने वाले अपराधी एक स्पा से दूसरे स्पा स्थानांतरित होते रहते थे, क्योंकि उस खास स्पा का फैशनेबल मौसम बदलता रहता था।[7]

18 वीं सदी के दौरान कुछ इतालवी, जर्मन, अंग्रेजी चिकित्सकों के बीच झरने के पानी का चिकित्सकीय उपयोग पुनर्जीवित हुआ। इस पुनर्जीवन ने एक स्पा उपचार लेने का तरीका ही बदल दिया। उदाहरण के लिए कर्ल्सबैड में खनिज पानी पीने के स्वीकार्य तरीके में व्यक्तिगत बोर्डिंगहाउसों (पेइंग गेस्ट जैसा) में बड़े बैरल भेजने की आवश्यकता होती थी, जहां रोगियों को अपने कमरे के एकांत में चिकित्सक द्वारा निर्धारित मात्रा पीनी पड़ती थी। 1777 में डॉ॰ डेविड बीचर ने सिफारिश की कि रोगियों को पानी के लिए झरने के स्रोतों को पास आना चाहिए और प्रत्येक रोगी के पहले कुछ निर्धारित व्यायाम करना चाहिए। इस नवाचार से औषधीय लाभ प्राप्त करने की दर में वृद्धि हुई और धीरे-धीरे शारीरिक गतिविधि यूरोपीय स्नान उपचार का हिस्सा बन गयी। 1797 में इंग्लैंड के डॉ॰ जेम्स कुरियर ने द इफेक्ट्स ऑफ वाटर, कोल्ड एंड वार्म एज ए रिमेडी इन फीवर एंड अदर डिजीजेस प्रकाशित की। इस पुस्तक ने जल चिकित्सा में अतिरिक्त रुचि जगाई और इलाज प्रक्रिया के हिस्से के रूप में पानी के बाह्य और आंतरिक उपयोग की वकालत की। [7]

19 वीं और 20 वीं सदी में स्नान[संपादित करें]

बुडापेस्ट, हंगरी में एक पुराना थर्मल स्पा.

19 वीं सदी में, स्नान और अधिक स्वीकार्य व्यवहार बन गया, क्योंकि चिकित्सकों ने उन कुछ फायदों को महसूस किया, जो सफाई से मिल सकती है। 1842 में इंग्लैंड के लिवरपूल में हैजा नामक महामारी के कारण एक तरह से स्वच्छता का पुनर्जागरण हुआ, परिणामस्वरूप जल चिकित्सा और स्वच्छता आंदोलनों को बढ़ावा मिला, कानूनों की एक श्रृंखला का कार्यान्वयन हुआ, जो सामूहिक रूप से "द बाथ्स एंड वाश हाउसेज एक्ट्स 1846 टू 1896" के रूप में जाने जाते हैं।[9][10][11][12] इसका परिणाम यह हुआ कि स्नान करने और कपड़े धोने की सुविधाओं में इजाफा हुआ और अधिक लोगों ने इन गतिविधियों में भाग लेना शुरू किया।

1842 में भी ओहियो के सिनसिनाटी में एक घर में अमेरिका का पहला इनडोर बाथटब बना। हालांकि स्नान तब तक एक विश्वव्यापी रिवाज नहीं बन पाया था। सिर्फ एक साल बाद-1843 में- एक स्वास्थ्य चिकित्सा के रूप में 1 नवम्बर से 15 मार्च के बीच पेंसिल्वेनिया के फिलाडेल्फिया में नहाना गैरकानूनी घोषित किया गया और 1845 में मैसाचुसेट्स के बोस्टन में चिकित्सक का सीधा आदेश मिले बिना स्नान पर प्रतिबंध लग गया। हालांकि स्थिति में सुधार हुआ और 1867 तक फिलाडेल्फिया के अधिकतर घरों में संभ्रांत लोगों के घरों में टब और इनडोर पाइपलाइनें लग गई थीं। इंग्लैंड में 1880 के दशक में बैरकों और स्कूलों में गर्म शॉवर स्थापित किये गये। चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति के साथ ही स्नान के खिलाफ झिझक गायब हो गई, दुनिया भर में चिकित्सा समुदाय भी स्नान के फायदों को बढ़ावा देने लगा। इसके अलावा, विदेशी चीजों के लिए पैदा हुई विक्टोरियन रुचि ने खुद सौर जल की उपचारात्मक शक्तियों की खोज के लिए प्रेरित किया।[7]

ज्यादातर मामलों में यूरोपीय स्पा का औपचारिक वास्तु विकास 18 वीं और 19 वीं शताब्दियों में हुआ था। इंग्लैंड के बाथ की वास्तुकला जॉर्जियाई और नव पारंपरिक ढर्रे पर हुआ, आमतौर पैलाडियन (वास्तुकार एनड्रिया पैलाडियन) संरचनाओं का अनुकरण करते हुए. सबसे महत्वपूर्ण वास्तुशिल्प रूप "क्रेसेंट" -एक अर्द्ध अण्डाकार सड़क प्लान था, जिसका इंग्लैंड के कई क्षेत्रों में प्रयोग किया जाता था। कार्ल्सबैड, मैरीनबैड, फ्रांजेंसबैड और बैडेन-बैडेन वास्तुकला प्राथमिक तौर पर नव पारंपरिक थी, लेकिन साहित्य ऐसा इंगित करता है कि 19 वीं सदी तक बड़े स्नानघरों का निर्माण नहीं किया गया। उनमें स्नान करने से ज्यादा जोर पर पानी पीने पर देने के कारण ट्रिनखाले (पानी पीने के हॉल) के रूप में ज्ञात अलग संरचनाओं का विकास हुआ, जहां निरोग होने की इच्छा रखने वाले लोग झरनों से पानी पीने में घंटों खर्च करते थे।[7]

19 वीं शताब्दी के मध्य तक स्थिति में नाटकीय रूप से बदलाव आया। यूरोपीय स्पा आने वालों ने पानी पीने के अलावा स्नान पर जोर देना शुरू किया। फव्वारों, पैविलियनों, ट्रिनखाले के अलावा रोमन स्नानघरों के पैमाने पर निर्माण पुनर्जीवित किया गया। 1930 के दशक में ली गईं 19 वीं सदी के स्पा परिसरों की तस्वीरों में प्रारंभिक वास्तुकला के विवरण हैं, जिनमें मोज़ेक फर्श, संगमरमर की दीवारें, धनुषाकार द्वार, गुंबददार छत, सखंड मेहराब, भवन के त्रिकोणीय उपरी हिस्से, कोरिंथियन कॉलम और नव परंपरागत पुनर्जीवन के अन्य चिह्नों का काफी उपयोग दिखता हैं। इमारतों में आमतौर पर कामकाज के हिसाब से विभाजन- ट्रिनखाले, स्नानागार, द इनहेलाटोरियम (नाक से भाप लेने के लिए) देखा गया और कुरहौस या कन्वर्सेशनहॉस सामाजिक गतिविधि के केन्द्र थे। बैडेन-बैडेन में गोल्फ कोर्ट व टेनिस पाठ्यक्रम थे, मोटर की सवारी के लिए बेहतर सड़कें थीं, काफी आकर्षक रास्ते थे, जहां जंगली हिरण वैसे ही घूमते थे, जैसे हमारे पास गायें घूमती हैं, एकदम बिना डरे.[7]

फिर यूरोपीय स्पा में पानी पीने के कार्य को शामिल करने के लिए- साधारण फव्वारे से पैवीलियन तक ट्रिनखाले को विस्तृत रूप देने हेतु संरचनाओं का निर्माण शुरू किया। 19 वीं सदी में बाद में भारी संख्या में स्नानागारों का निर्माण हुआ, क्योंकि बीमारियों के इलाज और स्वास्थ्य सुधारने के विस्तृत स्नान अनुष्ठान को नए सिरे से वरीयता देना प्रचलन में आया। यूरोपीय वास्तुकारों ने रोमन सभ्यताओं की ओर देखा और ध्यान से उनकी वास्तु संबंधी विशेषताओं का अध्ययन किया। यूरोपियनों ने उसी औपचारिकता, समरूपता, काम के आधार पर कमरों का विभाजन और अपने स्नानागारों में भव्य आंतरिक सज्जा की नकल की। उन्होंने अपनी सैरगाहों में फव्वारों और उद्यान के लिए औपचारिक रिक्त स्थानों की नकल की और नए विविधताएं भी शामिल की। पर्यटन की पुस्तकों में हमेशा से आसपास के स्थान में काफी जगह वाली व लकड़ी की सामग्रियों और तेज गति वाले मनोरंजन के साधनों का विवरण मिलता रहा है।[7]

वॉटरफौल, कैरोलस स्पा, आकिन, जर्मनी.

19 वीं सदी के आरंभ में यूरोपीय स्नान उपचार में कई संचित परंपराएं शामिल थीं। स्नान की रुटीन में गर्म पानी से भींगना, पानी पीना, भाप के कमरे में भाप लेना और एक ठंडे कमरे में आराम करना शामिल था। इसके अलावा डॉक्टरों का आदेश था कि रोगियों को शरीर पर गर्म या ठंडे पानी का छिड़काव करना है और उनके इलाज के लिए चुना गया आहार दिया जाना है। लेखकों ने यूरोप की स्वास्थ्य सैरगाहों के चिकित्सा लाभ पर दिशानिर्देश पुस्तिकाओं का लेखन शुरू किया और जिनमें प्रत्येक के चिकित्सा फायदों और सामाजिक सुविधाओं की व्याख्या की गई थी। अमीर यूरोपीय और अमेरिकी लोग सांस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेने और नहाने के लिए इन सैरगाहों की यात्रा करते थे।[7]

व्यक्तित्व की कुछ समानताओं को बनाए रखते हुए प्रत्येक यूरोपीय स्पा में समान इलाज की पेशकश शुरू हुई। कर्ल्सबैड में 19 वीं सदी का स्नान उपचार इस सदी के दौरान यूरोपीय स्नान प्रथाओं के सामान्य चित्रण के रूप में लिया जा सकता है। आगंतुक सुबह 6:00 बजे पानी पीने के लिए उठते थे और एक बैंड द्वारा स्तुतिगान किया जाता था। इसके बाद हल्का नाश्ता, स्नान और दोपहर का भोजन होता था। कर्ल्सबैड में डॉक्टर रोगियों को आम तौर पर प्रत्येक भोजन के लिए कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन तक सीमित कर देते थे। दोपहर बाद आगंतुक विभिन्न स्थलों के दर्शन करते या संगीत कार्यक्रम में भाग लेते थे। रात के भोजन के बाद नाटकों का प्रदर्शन होता था। यह सब रात 9:00 बजे के आसपास समाप्त होता था, जब रोगी अगली सुबह छह बजे तक सोने के लिए अपने डेरों में लौटते थे। यह उपचार एक महीने तक लंबे समय के लिए चलता था और तब रोगी अगले साल तक के लिए घर लौट आते थे। 19 वीं सदी के अन्य यूरोपीय स्पा उपचारों में इस तरह कार्यक्रमों का पालन किया जाता था।[7]

20 वीं सदी की शुरुआत में यूरोपीय स्पा में रोगियों के लाभ के लिए एक सख्त अनुशासन वाले आहार और व्यायाम उपचार को स्नान की एक जटिल प्रक्रिया के साथ संयुक्त कर दिया। एक उदाहरण स्नान प्रक्रिया में परिवर्तन को उजागर करने के लिए पर्याप्त होगा। दर्द वाले गठिया के उपचार में विशेषज्ञता वाले बैडेन-बैडेन में रोगियों को स्नान करने से पहले डॉक्टर से मिलने का निर्देश दिया जाता था। एक बार ऐसा होने पर पर स्नानार्थी मुख्य स्नानागार की ओर जाते थे, जहां उन्हें स्नान के लिए भुगतान करना पड़ता था और कपड़े उतारने के लिए एक बूथ निर्धारित किये जाने से पहले अपने कीमती सामान जमा करते थे। स्नानागार स्नानार्थियों को तौलिए, चादरों और चप्पल की आपूर्ति करते थे।[7]

बैडेन-बैडेन स्नान प्रक्रिया एक गर्म स्नान के साथ शुरू होती थी। उसके बाद नहाने वाले लोग अगले 20 मिनट के लिए 140 डिग्री गर्म हवा वाले कमरे में प्रवेश करते थे, अगले दस मिनट 150 डिग्री तापमान वाले एक कमरे में बिताते थे, 154 डिग्री भाप स्नान में शामिल होते थे और तब शॉवर के नीचे आते थे और साबुन की मालिश प्राप्त करते थे। मालिश के बाद स्नानार्थी लगभग शरीर के तापमान जितने गरम तापमान वाले गर्म पूल में तैरते थे। तैरने के बाद स्नानार्थी गर्म "स्वच्छ" कमरे के पूल में 15 से 20 मिनट तक आराम करते थे। इस उथले पूल के नीचे बालू की 8-इंच (200 मि॰मी॰) एक परत बिछाई हुई होती थी और उसमें प्राकृतिक रूप से कार्बनकृत किये गये पानी के बुलबुले प्रवाहित किये जाते थे। इसके बाद धीरे-धीरे ठंडे होते फव्वारों और पूल की एक श्रृंखला से गुजरना पड़ता था। उसके बाद सेवक गर्म तौलिये के साथ स्नानार्थियों के शरीर को रगड़ते थे और फिर उन्हें 20 मिनट के लिए आराम के लिए चादर ओढ़ा देते थे और कंबल से ढंक देते थे। इस तरह उपचार के स्नान वाले भाग की समाप्ति होती थी। इलाज की बाकी प्रक्रियाओं में निर्धारित खुराक, व्यायाम और पानी पीने के कार्यक्रम शामिल होते थे।[7]

यूरोपीय स्पा में स्नान के बाद मेहमानों के लिए जुआ, घुड़दौड़, मत्स्य पालन, शिकार, टेनिस, स्केटिंग, नृत्य, गोल्फ और घुड़सवारी सहित विभिन्न तरह के अन्य विचलन या गतिविधियां शामिल होती थीं। पर्यटन और नाटकों का प्रदर्शन लोगों को स्पा में जाने के लिये अतिरिक्त प्रोत्साहक का कार्य करता था कुछ यूरोपीय सरकारों ने यहां तक कि स्पा उपचार के चिकित्सा लाभों को मान्यता दी और रोगी के खर्च के एक हिस्से का भुगतान किया। ऐसे कई स्‍्पा विभिन्न अन्य चिकित्सा शिकायतों के अलावा मोटापा और अत्याशक्ति से पीड़ित लोगों की जरूरत पूरी करते थे। हाल के वर्षों में पहले की सदियों का लालित्य और शैली भले ही कम हो गई हो, लेकिन लोग अभी भी तनावमुक्त होने और स्वास्थ्य के लिए प्राकृतिक गरम झरनों के पास आते हैं।[7] जर्मनी में यह परंपरा अभी भी वर्तमान है। एक स्पा में 'चिकित्सा कराना' (http://de.wikipedia.org/wiki/Kur) सार्वजनिक और निजी दोनों स्वास्थ्य देखभाल बीमा कवर में हैं, जैसा कि संघीय कानून द्वारा आदेशित है। आमतौर पर एक डॉक्टर कुछ हफ्तों के लिए एक खनिज झरने या अन्य प्राकृतिक माहौल में ठहरने का निर्धारण करते हैं, जहां एक मरीज की हालत का झरने के पानी और प्राकृतिक चिकित्सा उपचार के साथ इलाज किया जाता है।

जेंटिलमेंस पूल हाउस, जेफरसन ताल, गरम झरने, 1761 में वर्जीनिया में संयुक्त राज्य अमेरिका का सबसे पुराना स्पा है। स्पा का पानी इमारत के बीच ये गुजरता है। राष्ट्रपति थॉमस जेफरसन ने यहां स्नान किया था।

औपनिवेशिक अमेरिका में स्पा[संपादित करें]

कुछ यूरोपीय उपनिवेशवादी अपने साथ औषधीय प्रयोजनों के लिए गर्म पानी के उपचार का ज्ञान भी लाये और दूसरों ने मूल अमेरिकी निवा‍सियों से गरम झरनों का लाभ सीखा. यूरोपियनों ने धीरे-धीरे विभिन्न भारतीय जनजातियों से कई गर्म और ठंडे झरने प्राप्त किये। उन्होंने बाद में यूरोपीय रुचि के उपयुक्त झरने विकसित किये। 1760 के दशक तक ब्रिटिश उपनिवेशवा‍दी जल चिकित्सा की खोज में कनेक्टिकट, पेंसिल्वेनिया, न्यूयार्क और वर्जीनिया की यात्रा करते थे। जिन झरनों में अक्सर लोग जाते थे, उनमें पेंसिल्वेनिया के बाथ, येलो और ब्रिस्टल स्प्रिंग्स, न्यूयॉर्क के साराटोगा स्प्रिंग्स, किंडरहूक और बॉलस्टोन स्पा, वर्जीनिया में पश्चिम वर्जीनिया (अब वेस्ट वर्जीनिया में) के वार्म स्प्रिंग्स, हॉट स्प्रिंग्स और व्हाइट सल्फर स्प्रिंग्स थे।[7]

औपनिवेशिक डॉक्टरों ने धीरे-धीरे बीमारियों के इलाज के लिए गर्म झरनों की सिफारिश करना शुरू किया। अमेरिकी देशभक्त और चिकित्सक डॉ॰ बेंजामिन रश ने 1773 में पेंसिल्वेनिया के ब्रिस्टल के झरनों की सराहना की। 1783 में डॉ शमूएल टीने और 1792 में वेलेंटाइन सीमैन ने न्यूयॉर्क में सारागोटा झरनों के पानी की जांच की और झरनों के संभावित औषधीय प्रयोगों के बारे में लिखा. विभिन्न झरनों के पास आने वाले आगंतुकों को समायोजित करने के लिए होटलों का निर्माण किया गया। उद्यमियों ने ऐसे प्रतिष्ठानों का संचालन किया, जहां यात्रियों को रखने, भोजन और पानी की व्यवस्था थी। इस प्रकार, संयुक्त राज्य अमेरिका में स्वास्थ्य सैरगाह उद्योग की स्थापना हुई। [7]

19 वीं और 20 वीं सदी के अमेरिका में स्नान[संपादित करें]

अमेरिकी क्रांति के बाद स्पा उद्योग का लोकप्रियता हासिल करना जारी रहा। 1850 के दशक के मध्य गर्म और ठंडे पानी के झरने वाले सैरगाह 20 राज्यों में मौजूद थीं। इनमें से कई सैरगाहों में कई समान स्थापत्य सुविधाएं निहित थीं। ज्यादातर स्वास्थ्य सैरगाहों के पास बड़ी, दो मंजिला केंद्रीय इमारत होती थी और आसपास छोटी-मोटी संरचनाएं होती थीं। मुख्य भवन में मेहमानों के लिए भोजन और संभवत: पहली मंजिल पर नृत्य की सुविधाएं और दूसरे तल्ले पर सोने के कमरे होते थे। दूरस्थ संरचनाएं व्यक्तिगत अतिथि केबिन थे और बड़े भवन के आसपास अन्य सहायक भवन अर्द्धचंद्रकार या यू आकार में बनाये गये थे।[7]

इन सैरगाहों में तैराकी, मछली पकड़ने, शिकार और घोड़े की सवारी और साथ में स्नान की सुविधाओं की भी पेशकश जाती थी। वर्जीनिया के रिसॉर्ट्स, विशेष रूप से व्हाइट सल्फर झरने गृह युद्ध के पहले और बाद लोकप्रिय साबित हुए. गृह युद्ध के बाद स्पा बहुत लोकप्रिय हो गये, क्योंकि लौटने के बाद सैनिक अपने घाव भरने के लिए नहाते थे और अमेरिकी अर्थव्यवस्था में उन्हें और अधिक अवकाश की अनुमति दी गई। न्यूयॉर्क में सारागोटा झरना इस तरह की गतिविधि का मुख्य केंद्र बन गया। गर्म और कार्बनीकृत झरने का पानी पीना और स्नान करना जुआ खेलना, टहलना, नृत्य और घुड़दौड़ और नृत्य की ज्यादा रुचिकर सामाजिक गतिविधियां सेवा के रूप में एक भूमिका का काम करती थीं।[7]

न्यूयॉर्क में सारागोटा झरने का 1830 के दशक में व्यापक वास्तुगत विकास हुआ- यह वह समय था, जब आर्कान्सास में गरम झरने की इमारतें एक छोटे लॉग और फ्रेम संरचनाओं वाले थे और वे विशेष रूप से अनोखी विशेषताओं से रहित थे, बल्कि सिर्फ मौसम से लोगों को बचाने के एक बुनियादी आवरण जैसे थे। 1815 तक साराटोगा के पास बड़े, चार तल्ले, ग्रीक पुनरुद्धार वाले होटल थे। 1832 तक उस गंतव्य के लिए ट्रेन और स्टीमर सेवा की उपलब्धता का मतलब यह हुआ कि वहां बड़ी संख्या में और अधिक परिष्कृत ग्राहक आने लगे। होटलों के साथ जुड़े हुए बोर्डिंगहाउसों या छोटे स्नानागारों द्वारा प्रदत्त विशिष्ट स्नान के अपवाद के साथ, 19 वीं सदी के दौरान सारागोटा का शौचालय के अलावा अवकाश की गतिविधियों पर आधारित था। हालांकि न्यूयॉर्क में साराटोगा और अन्य स्पा ने अपना विकास स्वास्थ्यवर्द्धक खनिज जल के चारों ओर केन्द्रित रखा, पर उनका असली ड्राइंग कार्ड जटिल सामाजिक जीवन था, जिसमें घुड़दौड़ पर जुआ से लेकर नवीनतम पेरिस फैशन तक की गतिविधियां शामिल थीं। गर्मियों में पहाड़ों पर खर्च उठा सकने वाले शहरी निवासी बड़े पैमाने पर जाते थे और सारागोटा गर्मी की गतिविधि का एक केंद्र बन गया। निजी तौर पर हुए विकास के तहत वहां बड़े बॉलरूम, ओपेरा घर, दुकानें और क्लबहाउसों वाले बड़े होटल खोले गये। 1865 में यूनियन होटल संघ के पास अपनी बड़ी खुली जगह थी, जिसमें फव्वारा और औपचारिक भूनिर्माण और दो छोटे बाथहाउस थे। फिर भी, 19 वीं शताब्दी के दौरान स्नानागार सहायक संरचनाएं ही थीं, सैरगाह की मुख्य सुविधाओं में शुमार नहीं थीं।[7]

19 सदी के बाद के आधे समय में पश्चिमी उद्यमियों ने प्राकृतिक गर्म और ठंडे झरनों को सैरगाहों में बदला- मिसिसिपी नदी से वेस्टकोस्ट तक. इनमें से कई स्पा अपने मेहमानों के लिए व्यक्तिगत टब स्नान, भाप स्नान, पानी का छिड़काव, निडल स्प्रे और पूल स्नान की पेशकश करते थे। देश भर में फैले विभिन्न रेल-मार्गों ने इन सैरगाहों को इन सैरगाहों को ट्रेन यात्रा के लिए प्रोत्साहित किया। आर्कान्सास का हॉट स्प्रिंग्स सेंट लुईस और शिकागो के बड़े महानगरीय क्षेत्रों के लोगों के लिए एक बड़ा सैरगाह बन गया। [7]

स्पा की लोकप्रियता 20 वीं सदी में भी जारी रही। हालांकि कुछ चिकित्सा आलोचकों ने आरोप लगाया कि हॉट स्प्रिंग्स, वर्जीनिया और साराटोगा स्प्रिंग्स, न्यूयॉर्क जैसे प्रसिद्ध सैरगाहों का सौर जल साधारण गर्म पानी से ज्यादा स्वास्थ्यप्रद नहीं था। विभिन्न स्पा मालिकों ने अपने रोगियों के लिए बेहतर जल चिकित्सा विकसित करके इन तर्कों का मुकाबला किया। सारागोटा स्पा में दिल और संचार विकारों, आमवाती स्थितियों, स्नायु संबंधी विकारों, चयापचय रोगों और त्वचा रोगों के लिए उपचार विकसित किए गये। 1910 में न्यू यार्क राज्य सरकार ने प्रमुख झरनों को दोहन से बचाने के लिए उनकी खरीद शुरू कर दी। जब फ्रेंकलिन डेलानो रूजवेल्ट न्यूयॉर्क के गवर्नर थे तो उन्होंने सारागोटा में यूरोपीय प्रकार के स्पा के विकास को प्रोत्साहित किया। नए परिसर के स्थापत्यविदों ने यूरोप में स्नान के तकनीकी पहलुओं का अध्ययन करने में दो साल बिताए. 1933 में यह काम पूरा होने के बाद तीन स्नानागारों- लिंकन, वॉशिंगटन और रूजवेल्ट- एक पानी पीने वाला हॉल, स्प्रिंग्स हॉल और साइमन बारूक रिसर्च इंस्टीच्यूट के भवन का निर्माण हुआ। चार अतिरिक्त भवनों में मनोरंजन क्षेत्र का निर्माण हुआ, मेहराबनुमा घेरे और नीले चमकदार टेराकोटा टाइलों से सज्जित तरण ताल थे। सारागोटा स्पा राजकीय पार्क की नव परंपरागत इमारतों का निर्माण भव्य तरीके से हुआ, जिनमें औपचारिक 90 डिग्री की धुरी का प्रयोग, ठोस ईंट से निर्माण और रोमन पुनरुद्धार के विवरणों वाले पत्थर और कंक्रीट के काम शामिल थे। स्पा 1,200-एकड़ (4.9 कि॰मी2) प्राकृतिक पार्क से घिरा हुआ था 18 मील (29 कि॰मी॰), जिसमें तेज धार से बहते झरनों के साथ पेड़-पौधों व घाटियों से गुजरते वैज्ञानिक रूप से मापी गई ढलानों वाले अश्वमार्ग होते थे, जिससे इसके मनमोहक दृश्य में एक अप्रत्याशित प्रभाव जुड़ जाता था, क्योंकि गीजर ब्रुक का अवपातित पानी उन बेहतर सड़कों के पुल के नीचे से बहता था। पार्क के प्राकृतिक सौंदर्य का पूरा फायदा लिया गया है, लेकिन कोई औपचारिक "भूनिर्माण" नहीं है। स्पा के बाहर सीधे विशेष आकर्षणों का प्रचार साहित्य विज्ञापित किया गया होता था, जिसमें खरीदारी, घुड़दौड़ और क्रांतिकारी युद्ध के इतिहास के साथ संबद्ध ऐतिहासिक स्थलों का वर्णन होता था। न्यूयॉर्क के गवर्नर हर्बर्ट लीमैन ने जुलाई 1935 में जनता के लिए नई सुविधाओं को खोला.[7]

इस अवधि में देश के प्रमुख स्पा में फ्रेंच लिक, इंडियाना, हॉट स्प्रिंग्स और ह्वाइट सल्फर स्प्रिंग्स, वेस्ट वर्जीनिया, हॉट स्प्रिंग्स, आर्कान्सास और वार्म स्प्रिंग्स, जॉर्जिया थे। फ्रेंच लिक के पास स्नान और पानी पिलाकर तथा व्यायाम के संयोजन के माध्यम से मोटापा और कब्ज के उपचार में विशेषज्ञता हासिल थी। हॉट स्प्रिंग्स, वर्जीनिया को पाचन संबंधी बीमारियों और हृदय रोगों के इलाज में विशेषज्ञता प्राप्त थी और हॉट सल्फर स्प्रिंग्स, वर्जीनिया को इन बीमारियों के अलावा त्वचा रोगों के इलाज में विशेषज्ञता हासिल थी। दोनों सैरगाह स्नान की पेशकश करते थे, जहां एक उथले पूल में पड़े मरीजों को पानी लगातार धोता था। वार्म स्प्रिंग्स, जॉर्जिया को स्नान और व्यायाम की प्रक्रिया द्वारा बच्चों के पक्षाघात के इलाज के लिए प्रतिष्ठा हासिल की। सारागोटा का पहले समर्थन करने वाले राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट इस स्पा के नियमित आगंतुक और प्रमोटर थे।[7]

स्पा उपचार[संपादित करें]

एक शरीर उपचार, स्पा उपचार या कॉस्मेटिक उपचार एक गैर चिकित्सकीय प्रक्रिया है, जो शरीर के स्वास्थ्य की बहाली में मदद करती है। यह अक्सर एक सैरगाह, डेस्टिनेशन स्पा, दिन का स्पा, सौंदर्य सैलून या स्कूल में संपन्न होता था।

विशिष्ट उपचार में शामिल हैं:

  • सुवासोपचार
  • स्नान या निम्न में से किसी में भिगोना:
    • गर्म झरने
      • ऑनसेन (जापानी हॉट स्प्रिंग्स)
      • थेर्मी (रोमन हॉट स्प्रिंग्स)
    • गरम टब
    • कीचड़ स्नान
    • पीट पल्प स्नान
    • सॉना
    • भाप स्नान
  • शरीर को लपेटना, शरीर को गर्म लिनेन, प्लास्टिक की चादर और कंबलों या कीचड़ से लपेटना, जो अक्सर हर्बल यौगिकों के संयोजन से होता था।
  • फेशियल, विभिन्न उत्पादों द्वारा चेहरे की सफाई
  • मालिश
  • नाखून की देखभाल, जैसे मैनीक्योर और पेडीक्योर
  • पोषण और वजन मार्गदर्शन
  • व्यक्तिगत रूप से प्रशिक्षण
  • रासायनिक पील और माइक्रोडर्माब्रेसन, (त्वचा की बाहरी सतह को साफ करने की प्रक्रिया) सहित
  • योग और ध्यान
  • वैक्सिन, गर्म मोम द्वारा शरीर के बालों को हटाना

हाल के रुझान[संपादित करें]

नागानो, जापान में एक खुली गर्म पानी के झरने या हवा का आनंद ले रहे मकाक.

1930 के दशक के आखिर तक संयुक्त राज्य अमेरिका में 2000 गर्म या ठंडे स्प्रिंग्स स्वास्थ्य सैरगाह सक्रिय थे। 1950 के दशक तक यह संख्या बहुत कम हो गई और अगले दो दशकों में भी गिरावट जारी रही। हाल ही में, अमेरिका के स्पा में पारंपरिक स्नान गतिविधियों से अधिक आहार, व्यायाम या मनोरंजक कार्यक्रमों पर जोर दिया जाता था।

हाल तक अमेरिका का सार्वजनिक स्नान उद्योग स्थिर बना रहा। [7] फिर भी, यूरोप में, चिकित्सकीय स्नान हमेशा से बहुत लोकप्रिय रहे है और आज भी हैं। जापान के बारे में भी यही सच है, जहां परंपरागत गर्म झरने, जिसे ऑनसेन कहा जाता है, से नहाने के प्रति काफी लोग आकर्षित होते हैं।

लेकिन अमेरिका में स्वास्थ्य और निरोग रहने पर ध्यान केंद्रित करने में वृद्धि के साथ इस तरह के उपचार लोकप्रिय होते जा रहे हैं।[13]

उपचार के लिए रिसॉर्ट या स्थान[संपादित करें]

  • दिन स्पा, सौंदर्य सैलून का एक रूप है।
  • गंतव्य स्पा, निजी देखभाल उपचार के लिए सैरगाह.
  • स्पा शहर, पानी के कथित उपचारात्मक गुणों के लिए एक शहर का दौरा

दवा या उपकरण[संपादित करें]

  • पैर स्पा
  • हॉट टब, संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रयोग.
  • सोडा फ़ौवारा, संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रयोग
  • स्पा के स्रोतों से स्पा (खनिज पानी में स्रोतों से).
  • स्पा आमतौर पर सामान्य स्वास्थ्य के लिए कीचड़ स्नान प्रदान करते हैं या चिकित्सा की विविध स्थितियों के लिए उपयोगी होते हैं। इसे 'फैंगोथेरेपी' के नाम से भी जाना जाता है। विभिन्न तरह की औषधीय मिट्टी और सड़ी हुई सब्जियों के आसव का प्रयोग किया जाता है।[14]

अंतर्राष्ट्रीय स्पा एसोसिएशन की परिभाषाएं[संपादित करें]

स्पा - विभिन्न तरह की पेशेवर सेवाओं के जरिये समग्र सकुशलता को समर्पित स्पा-स्थल, जो मन, शरीर और आत्मा के नवीकरण को प्रोत्साहित करते हैं।[15]

स्पा के प्रकार[संपादित करें]

  • आयुर्वेदिक स्पा, एक स्पा जिसमें सभी उपचार और उत्पाद प्राकृतिक होते हैं और ये अक्सर वैकल्पिक दवा के रूप में इस्तेमाल किये जाते हैं।
  • क्लब स्पा, एक ऐसी सुविधा है, जिसका प्राथमिक उद्देश्य है फिटनेस और जो एक दिन के उपयोग के आधार पर पेशेवर रूप से दी जाने वाली विविध स्पा सेवाएं प्रदान करता है।
  • क्रूज जहाज स्पा, यह स्पा एक क्रूज जहाज पर सवारी के दौरान प्रदान की जाने वाली पेशेवर रूप से दी जाने वाली स्पा सेवाएं हैं, जिनमें फिटनेस और सकुशलता के घटकों और स्पा कुशन मेन्यू चयन की सुविधा होती है।
  • दिन स्पा, जो एक दिन के उपयोग के आधार पर ग्राहकों को पेशेवर रूप से दी जाने वाली स्पा सेवाएं है।
  • दंत चिकित्सा स्पा, एक लाइसेंस प्राप्त दंत चिकित्सक के पर्यवेक्षण में दी जाने वाली सुविधा है, जो स्पा की सेवाओं के साथ परंपरागत दंत उपचार को जोड़ती है।
  • डेस्टिनेशन स्पा, एक सुविधा है, जिसका प्राथमिक उद्देश्य स्पा जाने वालों को स्वस्थ आदतें विकसित करने के लिए मार्गदर्शन करना है। ऐतिहासिक दृष्टि से सात दिन रहने के दौरान इस जीवन शैली में परिवर्तन को एक व्यापक कार्यक्रम द्वारा प्रशिक्षित किया जा सकता है, जिसमें स्पा सेवाएं, शारीरिक फिटनेस गतिविधियां, कल्याण, शिक्षा, स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन और विशेष रुचि वाले कार्यक्रम शामिल होते हैं।
  • चिकित्सा स्पा, एक ऐसी सुविधा है, जो पूर्णकालिक रूप से एक लाइसेंसधारी स्वास्थ्यकर्मी द्वारा उस स्थल पर मौजूद रहकर दी जाती है और जिसका प्राथमिक उद्देश्य एक ऐसे माहौल में व्यापक चिकित्सा और कल्याण देखभाल प्रदान करना है, जिसमें स्पा सेवाओं को साथ ही साथ पारंपरिक, पूरक और/या वैकल्पिक चिकित्सा और उपचारों से जोड़ा जाता है। यह सुविधा अपने स्टाफ के व्यवहार के क्षेत्र के भीतर संचालित की जाती है, जो प्रसाधकीय/कॉस्मेटिक और निरोधात्मक/कल्याण प्रक्रियाओं और सेवाओं को शामिल कर सकें. इन स्पा में आमतौर पर स्नान चिकित्सा का उपयोग किया जाता हैं, जिसमें कई किस्म के पेलोएड्स का प्रयोग किया जाता है।

    "स्नान चिकित्सा" उपचार के विभिन्न प्रयोजन हो सकते है। एक स्पा सेटिंग में उनका गठिया और पीठ के दर्द जैसी स्थितियों के निदान, चोट लगने या बीमारी के बाद मांसपेशियां बनाने या प्रतिरक्षा प्रणाली को और मजबूत करने में उपयोग किया जा सकता है और हर दिन होने वाले तनाव से राहत पाने का आनंद लिया जा सकता है।"[16]

  • खनिज स्प्रिंग्स स्पा, एक ऐसा उपचार है, जिसमें जल चिकित्सा में प्राकृतिक खनिज, सौर या समुद्र के पानी के ऑन-साइट स्रोत का उपयोग किया जाता है।
  • सैरगाह/होटल स्पा, एक ऐसा स्पा है, जो एक रिसोर्ट या होटल के स्वामित्व वाला होता है और जिसमें पेशेवर स्पा सेवाओं, स्वास्थ्य और सकुशलता के घटकों और स्पा भोजन मेनू विकल्प प्रदान किये जाते हैं।
  • मोबाइल स्पा, एक स्पा जो घर, होटल, या आप जहां रह रहे हैं, वहां पर सेवाएं प्रदान करता है।

चित्रशाला[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. चिकित्सा के इतिहास के जर्नल और संबद्ध विज्ञान, जॉर्ज रोजेन, चिकित्सा और विज्ञान इतिहास के येल विश्वविद्यालय विभाग, परियोजना और साइंस, के विचार, एच. सकूमैन, 1954
  2. स्पा थेरपी का संक्षिप्त इतिहास, अ वैन टूबरजेन और एस वैन डेर लिंडेन
  3. मेडिकल जलविज्ञान, सिडनी लिच, सिडनी हरमन लिच, हरमन एल. कमेनेट्ज़, ई. लिच, 1963 गूगल बुक्स
  4. उदाहरण के लिए, आराम और मनोरंजन प्रबंधन, जॉर्ज टोर्किल्डसन, रूटलेज, 2005, ISBN 0-415-30995-6 "Sanitas+Per+Aqua" गूगल बुक्स
  5. वर्ल्ड वाइड शब्द
  6. फैक्टॉएड्स पर स्पा
  7. Paige, John C (1987). Out of the Vapors: A Social and Architectural History of Bathhouse Row, Hot Springs National Park (PDF). U.S. Department of the Interior. नामालूम प्राचल |coauthors= की उपेक्षा की गयी (|author= सुझावित है) (मदद)
  8. "A Brief History of Scarborough Spa". अभिगमन तिथि 2008-06-16.
  9. "'Action of Baths on the Human System': Sub-section in 'Baths' article". 1911 Encyclopedia Britannica (1911encyclopedia.org). अभिगमन तिथि 2009-11-05.
  10. Metcalfe, Richard (1877). Sanitus Sanitum et omnia Sanitus. Vol.1. London: The Co-operative Printing Co. अभिगमन तिथि 2009-11-04.इंटरनेट संग्रह में पूर्ण पाठ (archive.org)
  11. "London Gazette listings for 'Baths and Wash-houses Act'". London Gazette. अभिगमन तिथि 2009-11-05.
  12. "Parliamentary Archives search portal for listings of 'Baths and Wash-houses Act'". Portcullis - Gateway to Parliamentary Archives. अभिगमन तिथि 2009-11-05.. टाइपिंग (या कॉपी करना और चिपकाना) वाक्यांश: स्नान और वाशहाउसेज विश्वस्त रूप से 10 लिसिंग प्रदान करते हैं, जिनमें मूल 1846 अधिनियम और उसी साल उसके संशोधन हुए, साथ ही अन्य परिणाम भी निकले.
  13. "फिटनेस और स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान ने स्पा उद्योग के पुन: उभरने को प्रोत्साहित किया।.." ऐनी विलियम्स, स्पा बॉडीवर्क: अ गाइड फॉर मसाज थेर्पिस्ट्स . लिपिंकॉट विलियम्स और विल्किंस, 2006, पृष्ठ 173. ISBN 0-7817-5578-6
  14. "फिटनेस और स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान ने स्पा उद्योग के पुन: उभरने को प्रोत्साहित किया और इसके साथ ही चिकित्सा के लिए फैंगो (औषधीय मिट्टी) का उपयोग को भी बढ़ावा मिला." ऐनी विलियम्स, स्पा बॉडीवर्क: अ गाइड फॉर मसाज थेर्पिस्ट्स . लिपिंकॉट विलियम्स और विल्किंस, 2006, पृष्ठ 173. ISBN 0-7817-5578-6
  15. http://www.experienceispa.com अंतर्राष्ट्रीय स्पा एसोसिएशन
  16. जेन क्रेबिन-बेली, जॉन डब्ल्यू. हर्कप, जॉन हैरिंगटन, द स्पा बुक: द ऑफिशियल गाइड टू स्पा थेरपी . प्रकाशक: सेंगेज लर्निंग ईएमईए (EMEA), 2005. पृष्ठ 1959 ISBN 1-86152-917-1

इन्हें भी देंखे[संपादित करें]

  • पानी इलाज (चिकित्सा)
  • स्पा कस्बों की सूची
  • मालिश
  • पेलौएड
  • स्पा, बेल्जियम, बेल्जियम का नगरपालिका

ग्रंथ सूची[संपादित करें]

  • नैथनिल ऑल्टमैन, हीलिंग स्प्रिंग्स: द अल्टीमेट गाइड टू टेकिंग द वॉटर्स : फ्रॉम हिडेन स्प्रिंग्स टू द वर्ल्ड्स ग्रेटेस्ट स्पा . आंतरिक ट्रेडिशन / बियर एंड कंपनी, 2000. ISBN 0-89281-836-0
  • डियन डीनसिन बकमैन, द कम्प्लीट बुक ऑफ़ वॉटर हीलिंग . दूसरा संस्करण., मैक ग्रॉ-हिल प्रोफेशनल, 2001. ISBN 0-658-01378-5
  • जेन क्रेबिन-बेली, जॉन डब्ल्यू. हर्कप, जॉन हैरिंगटन, द स्पा बुक: द ऑफिशियल गाइड टू स्पा थेरपी . प्रकाशक: सेंगेज लर्निंग ईएमईए (EMEA), 2005. ISBN 1-86152-917-1
  • एसटी वोर्जेट्सकी, लेज़र, प्लेज़र, एंड हीलिंग: स्पा कल्चर एंड मेडिसिन इन एशिएन्ट इस्टर्न मेडीटेरेनियन, ब्रिल, 2007 (सचित्र). ISBN 90-04-15681-X
  • कैरोला कोनिग, स्पेशलाइज़्ड हाइड्रो-, बैल्नियो एंड मेडिकल बाथ थेरेपी . प्रकाशक: आईयूनिवर्स (iUniverse), 2005. ISBN 0-595-36508-6
  • ऐनी विलियम्स, स्पा बॉडीवर्क: अ गाइड फॉर मसाज थेर्पिस्ट्स . लिपिंकॉट विलियम्स और विल्किंस, 2006. ISBN 0-7817-5578-6