वार्ता:हिन्दी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह पृष्ठ हिन्दी लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

सदस्य वार्ता:124.124.36.4[संपादित करें]

  • (अन्तर) (इतिहास) . . श्री राम चरित मानस‎; १४:३९ . . (+९६) . . पूर्णिमा वर्मन (Talk | योगदान) (→बाहरी कड़ियाँ)
  • (Deletion log); १४:३६ . . पूर्णिमा वर्मन (Talk | योगदान) ("सदस्य वार्ता:124.124.36.4" को हटाया गया है।: Vandalism: content was: '==सुधार== * २०:५४, १५ मार्च २००८
  • (इतिहास) (अन्तर))
  • (Block log); १४:३६ . . पूर्णिमा वर्मन (Talk | योगदान) ("सदस्य:59.184.170.122" को 3 months (anonymous users only, account creation disabled) तक बदलाव करने से रोक दिया गया है।: Inserting nonsense/gibberish into pages)
  • सदस्य 124.124.36.4 ने वीकीपीडीया पर गलत काम किया है ओर उसका पुरा लोग चेक करना बाकी है ।

सदस्य वार्ता:124.124.36.4[संपादित करें]

  • (cur) (last) ०६:२३, १४ मार्च २००८ 59.184.143.16 (Talk) (२२,२३१ bytes) (→सच) (पूर्ववत करें)
  • (cur) (last) ०६:२२, १४ मार्च २००८ 59.184.143.16 (Talk) (२२,२३१ bytes) (पूर्ववत करें)
  • (cur) (last) ०६:०४, १४ मार्च २००८ Jain (Talk | योगदान) (२१,९९१ bytes) (→कारवाही) (पूर्ववत करें)
  • (cur) (last) ०६:०३, १४ मार्च २००८ 124.124.36.4 (Talk) (२२,०१७ bytes) (→कारवाही) (पूर्ववत करें)
  • (cur) (last) ०५:४६, १४ मार्च २००८ 59.184.143.16 (Talk) (२१,७१९ bytes) (पूर्ववत करें)
  • (cur) (last) ०५:३८, १४ मार्च २००८ Jain (Talk | योगदान) (२०,८३३ bytes) (→सच) (पूर्ववत करें)
  • सदस्य 124.124.36.4 ने वीकीपीडीया पर गलत काम किया है ओर उसका पुरा लोग चेक करना बाकी है ।

सदस्य वार्ता:124.124.36.4[संपादित करें]

सदस्य जैन पर जायें । उनके योगदान पर जायें । ओर उपर लिखे गये बार बार देखें । आपको मालुम पडेगा किसने फेर फार किया है ? राजीव मास ने बहोत कोशीश की इसको मिटाने की । अब व शक्य नहीं है । सदस्य पूर्णिमा वमन से विनंत्ति की जाती है आप बार बार उपरोक्त फेरफार को देखें।

सदस्य वार्ता:124.124.36.4[संपादित करें]

  • सदस्य जैन पर जायें
  • सदस्य जैन के संवाद पर जायें
  • सदस्य जैन के पुराने अवतरण देखें
  • लास्ट ०५:३८ मार्च १४, २००८ जैन तक ले जायें ओर जैन पर कलीक करें
  • बरोबर देखकर अगला अंतर पर क्लीक करें
  • ५:४६ को काम हुआ। नीचे सही देखें । माहितघरने सही किया है ।
  • बरोबर देखकर अगला अंतर पर क्लीक करें
  • ०६:०३ को काम हुआ । १२४.१२४ ने काम किया । नीचे सही भी उसकी है ।
  • बरोबर देखकर अगला अंतर पर क्लीक करें

०६:०४ को काम हुआ । बरोबर देखें । उपर भी देखं। जैन ने काम किया है। नीचे सही १२४.१२४ से बदलकर जैन कर द गयी है । समय भी बदल दिया गया है। ०६:०३ से ०६:०४ कर दिया गया है । पुरा पोल यहां खुलता है ।

  • उस लोग को बरोबर देखें
  • वापस सब रीपीट करें ।
  • राजीव मास ने क्या कोशीष की है वह देखें

59.183.136.33 १४:१६, १८ मार्च २००८ (UTC) 'तिरछा पाठ'तिरछा पाठ'

Need Hindi at en:WP[संपादित करें]

Need Hindi (Devanagari) at the following en:WP articles:

There's no response from Hindi-speaking editors at en:WP after a long time.

Thank you, 24.29.228.33 ०६:०७, २७ अप्रैल २००९ (UTC)

आज से इंटरनेट के लिए अंग्रेजी की कोई आवश्यकता नहीं ।[संपादित करें]

आज से इंटरनेट के लिए अंग्रेजी की कोई आवश्यकता नहीं । एडरेस बार में तिर्कोन या [A] की शक्ल में तीन बटनों को दो-दो बार दबायें उदाहरण के लिये ggyyhh Ctrl+Enter या www.ggyyhh.com यह तिर्कोन की शक्ल या [A] आप सारे कीबोर्ड से बना सकते हैं जैसे नीचे तस्वीर में दिखाया गया है । इस के लिये आप को अंग्रेजी या कोई नया साफ्टवेयर सीखने की कोई जरुरत नही । आप ने तीन बटनो को दो-दो बार तिकोन या [A] की श्क्ल में दबाना है और Ctrl+Enter इस के साथ ही आपके सामने इंटरनेट के गयान का दरवाजा खुल जायेगा । Ctrl और Enter दोनो बटन इक्कठे दबाने हैं । अब अनपढ़ भी इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं और वह इस नए आविष्कार के साथ अपनी दुनिया को बदल सकते हैं । 75% लोग अंग्रेजी की वजह से वेबसाईटों को ईस्तेमाल नही कर सकते क्युंकि वेबसाईटों के नाम अंग्रेजी में ही बनते हैं ।

हिन्दी लेख[संपादित करें]

इस लेख में हिन्दी और उर्दू अनुभाग के अंतर्गत जो इतना लंबा चौड़ा व्याख्यान लिखा गया है मुझे उसकी आवश्यकता नहीं लगती। बद इतना बता देना पर्याप्त है की उर्दू की मूलभूत रचना हिन्दी के समान ही है और यह ८०% तक हिन्दी के शब्दों और व्याकरण का उपयोग करती है। क्योंकि वहाँ कोई राजनैतिक बहस आरंभ करने का मंच नहीं है और नाही इतने बड़े व्याख्यान का कोई अर्थ है। इसलिए कोई भी सदस्य देख ले और उचित कारवाई करे। मैं स्वयं भी कर लेता लेकिन मुझे लगा की अन्य सदस्यों से भी पूछ लेना चाहिए। रोहित रावत १४:४१, १६ सितंबर २००९ (UTC)

आपकी बात से पूर्णत: सहमत हूँ। अधिक से अधिक यह किया जा सकता है कि हिन्दी एवं उर्दू के बारे में चार-पाँच वाक्य मुख्य लेख में लिखकर बाकी सामग्री एक अलग लेख में रखी जाय। हिन्दी का पृष्ट साफ-सुथरा होना चाहिये। इस पृष्ट से सैकड़ों कड़ियाँ या उपलेख जुड़े हो सकते हैं। वस्तुत: हिन्दी विकि पर हिन्दी का पृष्ट हर दृष्टि से सर्वोत्कृष्ट होना चाहिये। अनुनाद सिंह १४:५२, १६ सितंबर २००९ (UTC)
बिलकुल ठीक बात है। हो सके तो हिन्दी के पृष्ठ को सुरक्षित कर दिया जाय। इसमें उपयुक्त सामग्री जोड़ने के लिए वार्ता पृष्ठ पर संदेश लिखा जा सकता है। हर कोई बिगाड़ सके ऐसा नहीं होना चाहिए। क्यों न इसे निर्वाचित लेख बनाकर उस स्तर पर सुरक्षित कर दिया जाय?--सुरुचि १७:०२, १६ सितंबर २००९ (UTC)
यह सब करस्तानी महावीर शरण जैन के नाम से योगदान देने वाले सदस्य की है। इस सदस्य ने काफ़ी सारे लेखो मे सामाग्री कॉपी पेस्ट कर रखी है। इनका योगदान देखे [1]। इस सदस्य को पूर्णिमा जी एवं अन्य सदस्यो के द्वारा सुचित भी किया गया है। मेरा सभी प्रभंधको से निवेदन है की इस सदस्य को अगाह किया जाये। भले ही इनकी मंशा ज्यादा से ज्यादा सामाग्री हिंदी विकि पर प्रेषित करना है पर इन्हे यह समझना चाहिये की विकि का एक स्वरूप है और अंधां-धुंध सामाग्री चिपकाने से लेखो की गुणवंता पर असर पड़ेगा ओर लेख अपठनिय हो जायेंगे। --गुंजन वर्मासंदेश १७:५०, १६ सितंबर २००९ (UTC)
मेरे विचार से सुरुचि का सुझाव उपयुक्त है। हिन्दी वाले पृष्ठ पर से अनावश्यक हिस्सा मिटाकर इसको सुरक्षित कर दिया जाना चाहिए। मेरा इन सदस्य से पत्र व्यवहार हुआ है। उन्होंने संपादन किए जाने पर प्रसन्नता ही प्रकट की है। कोई आपत्ति नहीं उठाई है। हो सकता है कोई और व्यक्ति उनके नाम से सामग्री चिपका रहा हो। इसलिए अनुचित रूप से खराब किए गए लेखों को पूर्ववत करने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।--पूर्णिमा वर्मन २१:०५, १६ सितंबर २००९ (UTC)

हिन्दी भाषा का लेख[संपादित करें]

कृपया हिन्दी भाषा के लेख में हिन्दी में ही लिखने का प्रयास करें, अंग्रेज़ी या अन्य भाषाओं में लिखकर हिन्दी भाषा का अपमान ना करें। धन्यवाद। रोहित रावत ०९:०९, २१ अक्टूबर २००९ (UTC)

"मैनेही माखन खाओ"

                        स्वीकार्य्
हिन्दी
हिन्दी, हिंदी
बोली जाती है भारत एवं पाकिस्तान. (हिन्दुस्तानी)
कुल बोलने वाले प्रथम भाषा: ~ ४९ करोड़ (२००८)[1]
द्वितीय भाषा: १२-२२.५ करोड़ (१९९९)[2]
श्रेणी 2 [निवासी]
भाषा परिवार हिन्द-यूरोपीय
लेखन प्रणाली देवनागरी, कैथी, लैटिन, एवं विभिन्न क्षेत्रीय लिपियाँ
आधिकारिक स्तर
आधिकारिक भाषा घोषित Flag of India.svg भारत (मानक हिन्दी, उर्दु, मैथिली)
Flag of Fiji.svg फ़िजी (हिन्दुस्तानी)
नियामक केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय (भारत),[4]
भाषा कूट
ISO 639-1 hi
ISO 639-2 hin
ISO 639-3 hin
Hindispeakers.png
भारत में मूल हिन्दी बोलने वालों का प्रभाव
Indic script
इस पन्ने में हिन्दी के अलावा अन्य भारतीय लिपियां भी है। पर्याप्त सॉफ्टवेयर समर्थन के अभाव में आपको अनियमित स्थिति में स्वर व मात्राएं तथा संयोजक दिख सकते हैं। अधिक...

blece hol[संपादित करें]

blece hol 2 daimation ke bich bna hua ek hol he jesa ki kai sintice ne pata lagaya he ki ham jis daimtion me reh rahe he uske alava kai or daimation he.jesa ki ham jante he spece me bohot sare siddhant he. vaha sab kuch thama hua he. stiving hoking ke anosar spece me jara soi halchal bhi ho to uske kai paridham hote he .jab supar nova hota he tab ek bohot badi ghatna hoti he, us dhamake se 2 daimetion ke bich ek chota sa ched ho jata he or jab tare ka mass usme jyada matra me hone ke karan wo ched punah bnd nahi h pata or ek blece hole ka janm hota he

its my thought agar koi galti ho to maf karna thenkiyou my id is shanusinghdurgesh@gmail.com

Effect on Tamil[संपादित करें]

Along with the Avestan example, mention how in Tamil since there are no letters for both 'sa' and 'ha' sound Hindu is called as 'Indhu', Hindi as 'Indhi' and India as 'Indhiya'. This will help give a real world example.— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -37.203.147.3 (वार्तायोगदान) 10:59, 26 अक्टूबर 2014 (UTC)

-Solomon (solomonsunder@gmail.com)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. 258 million "non-Urdu Khari Boli" and 400 million Hindi languages per 2001 Indian census data, plus 11 million Urdu in 1993 Pakistan, adjusted to population growth till 2008
  2. non-native speakers of Standard Hindi, and Standard Hindi plus Urdu, according to SIL Ethnologue.
  3. Dhanesh Jain; George Cardona (2003). The Indo-Aryan languages. Routledge. प॰ 251. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780700711307. 
  4. Central Hindi Directorate regulates the use of Devanagari script and Hindi spelling in India. Source: Central Hindi Directorate: Introduction

Ethnologue[संपादित करें]

Why are we using Ethnologue language family tree here ? Ethnologue is poor in its language classifications for Indian Languages including Hindi and Punjabi. It treats all dialects of English, Spanish and Arabic under one langauage family. The Hindi tree from Ethnologue looks like copy of old western text books.

Britannica http://www.britannica.com/topic/Hindi-language has better language classification: Hindi language, member of the Indo-Aryan group within the Indo-Iranian branch of the Indo-European language.

Please use Britannica language tree under "Language family" and Ethnologue langauage tree under "Early form" - प्रारंभिक रूप.

Spanish Example: https://en.wikipedia.org/wiki/Spanish_language

अंग्रेजी में जल्दी से लिखने के लिए क्षमा करें PradeepBoston (वार्ता) 20:37, 9 सितंबर 2015 (UTC)

हिन्दी को विश्व मे सम्मन दिलाये[संपादित करें]

'मोटे अक्षर सभि सुधि जनो से प्रार्थना है कि हिन्दि को विश्व मे सम्मन दिलाने मे सेह्योग करे। विकिपेदिअ के अङ्रेजि सन्स्करन मे 'List_of_languages_by_number_of_native_speakers मे हिन्दि को चौथे स्थान पर २९० मिल्लिओन लोगो द्वर बोल्ने वलि भाषा मान गय है। जबकि येह ४२२ मिल्लिओन की मात भाषा है तथा १२ करोर लोगो की दूसरी भाषा है। इस प्रकर हिन्दी विश्व मे दूसरा स्थान पाने के योग्य है। क्रिपया बहस मे शामिल हो।--Rajatbindalbly (वार्ता) 13:44, 23 अक्टूबर 2015 (UTC)

धौलपुर, राजस्थान[संपादित करें]

धौलपुर, राजस्थान राज्य का एक जिला है। यहाँ देश का सबसे बडा घण्टाघर (निहाल टॉवर) स्थित है । यहाँ मचकुण्ड है जो तीर्थों का भान्जा कहलाता है ।

 42.106.30.182 (वार्ता) 17:46, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)