वार्ता:छद्म धर्मनिरपेक्षता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

उदाहरण[संपादित करें]

मैंने लेख से सभी उदाहरण हटा दिये हैं क्योंकि इनके जो उद्धरण थे, उनमें से एक में भी "छद्म धर्मनिरपेक्षता" या "pseudo secularism" शब्दों का कोई ज़िक्र नहीं था, और जो उदाहरण दिये गए थे वे defamatory और libelous सामग्री कहे जा सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 05:20, 26 सितंबर 2011 (UTC)

सिद्धार्थ जी, आपकी बात समझ में नही आ रही है. क्या आप यह कहना चाहते हैं कि सब उद्धरणों में कहीं न कहीं 'धर्मनिरपेक्षता' शब्द आना चाहिए तभी वह उदाहरण के रूप में स्वीकार्य है? -- अनुनाद सिंहवार्ता 06:58, 26 सितंबर 2011 (UTC)
अनुनाद जी, मेरे कहने का अर्थ है कि जब तक कोई विश्वसनीय सूत्र(अखबार, समाचार, मैगज़ीन या इनकी वेबसाईट इत्यादि) इन कार्यों को छद्म धर्मनिरपेक्षता नहीं कह रहा तो विकिपीडिया यह कैसे कह सकता है? आखिर विकिपीडिया एक tertiary source के रूप में बनाया गया है। जब तक कोई ऐसा सूत्र न मिल जाए, तब तक मेरे विचार में इन उदाहरणों को विकिपीडिया पर डालना defamation के सामान होगा। अभी जो सूत्र डाले गए थे, वे ये तो बताते हैं कि ऐसा हुआ है, परंतु ये नहीं कहते कि ये छद्म धर्मनिरपेक्षता है। आशा करता हूँ मेरी बात साफ़ हो गयी होगी। धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 07:22, 26 सितंबर 2011 (UTC)
सिद्धार्थ जी, पहली बात तो यह कि विश्वसनीय सूत्र (अखबार, समाचार, मैगज़ीन या इनकी वेबसाईट इत्यादि) इन कार्यों को छद्म धर्मनिरपेक्षता नहीं कहता - सत्य नहीं है। आप यह जरूर कह सकते हैं कि सन्दर्भ नहीं दिये गये हैं। सन्दर्भ दिये जा सकते हैं। फिर कोई पूछ बैठे कि दिये गये सन्दर्भ विश्वसनीय नहीं हैं। तो क्या इस स्थिति में 'मेजोरिटी' देखी जायेगी कि अधिकांश पत्रादि क्या कहते हैं? क्या किसी पत्र-पत्रिका के पास किसी संस्था का दिया हुआ प्रमाणपत्र है कि वह 'पक्षपात'पूर्ण रवैया नहीं रखती, 'पेड-न्यूज' और विचार में संलिप्त नहीं है? किसको 'सन्दर्भ' माना जाय और किसको नहीं? कृपया बताएँ। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:35, 26 सितंबर 2011 (UTC)
आपका कहना ठीक हो सकता है कि
विश्वसनीय सूत्र (अखबार, समाचार, मैगज़ीन या इनकी वेबसाईट इत्यादि) इन कार्यों को छद्म धर्मनिरपेक्षता नहीं कहता - सत्य नहीं है।
परंतु जब तक ऐसे सन्दर्भ दिये नहीं जाते, तब तक मेरे विचार में इन उदाहरणों को डालना विकिमीडिया की en:Wikipedia:Libel नीति के विरुद्ध होगा।
जहाँ तक रहा विश्वसनीय सूत्र की परिभाषा का प्रश्न, तो जहाँ तक मैं जानता हूँ, इस समय विश्वसनीय सूत्रों पर नीति en:Wikipedia:Identifying reliable sources है जो श्रेणी:विकिनीतियाँ पर दिखाए मत के अनुसार हिन्दी विकिपीडिया पर भी लागू है।(यदि मेरा यह सोचना गलत है तो कृपया बताएँ)
अतः, मैं केवल नीति पालन की कोशिश कर रहा हूँ। यदि आपको लगता है कि यह नीति हिन्दी विकिपीडिया के अनुकूल नहीं है, तो नयी नीति विकिसमाज से विचार-विमर्श कर के बनानी होगी, परंतु तब तक तो यही नीति लागू है और विश्वसनीय सूत्र की परिभाषा भी इसी के अनुसार है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:11, 26 सितंबर 2011 (UTC)

बाहरी कड़ियों में से चित्र की कड़ी हटाने का कारण यह है कि ब्लॉग के कोई भी लिंक विकिपीडिया पर en:Wikipedia:External Links#Links normally to be avoided नीति अनुसार मना हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 06:27, 26 सितंबर 2011 (UTC)


विकी नीतियों का आपने हवाला दे दिया हे तो आपके लिए en:Wikipedia:Identifying reliable sources से लिया हुआ उदहारण हे | The word "source" as used on Wikipedia has three related meanings:

  • the piece of work itself (the article, book),
  • the creator of the work (the writer, journalist)
  • the publisher of the work (for example The New York Times, Cambridge University Press, etc.)

इस लेख में अधिकांश बिंदुओं पर विभिन्न अखबारों, पुस्तकों का ही सन्दर्भ दिया हे जो कि ऊपर वाले बिन्दुओ में सबसे अंतिम प्रकार का source हे |मेने तो यहाँ तक लिखा हे कि इस अखबार ने यह कहा है "......." |में तो अखबार के विचार लिख रहा हूँ , अब आपको लग रहा हे कि आप ही यहाँ के सेंसर बोर्ड हे तो यह आपका मत हो सकता हे |

विकी नीति के अनुसार सोर्स परीस्थिति के अनुसार होना चाहिए तो बताता हूँ कि अखबार वाले हर अखबार में आपके लिए लिखने वाले तो नहीं कि फला अखबार में लेखक द्वारा लिखा गया लेख समाचार छद्म धर्मनिरपेक्षता से समन्धित हे | सीधी सी बात हे भावार्थ देखा जाता हे | आपके कहे अनुसार करे तो सम्पूर्ण हिंदी विकी के कई लेख हठाने होंगे क्यों कि सभी में थोड़े हे to the point बात थोड़ी हे होने वाली| आप इन विकी नीतियों का अच्छे में उपयोग कीजिये | अगर आप को लगता हे कि कि बिंदु के दोनों पक्ष रखने चाहिए तो दूसरा पक्ष आप रख दे किन्तु सरासर सम्पूर्ण लेख कि आत्मा को ही खत्म कर देना कहा तक न्यायचित रहेगा | --Vivek prakash (वार्ता) 09:22, 26 सितंबर 2011 (UTC)

विवेक जी, मैं मानता हूँ कि आपने जो उदाहरण दिये था उनमें सन्दर्भ थे, परन्तु उन सन्दर्भों ने यह कहीं नहीं कहा के वे छद्म धर्मनिरपेक्षता के उदाहरण हैं। और मेरे द्वारा प्रयुक्त नीति en:Wikipedia:Identifying reliable sources के अनुसार:
Sources should directly support the information as it is presented in an article
और इसी बात की सन्दर्भों में कमी है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 09:49, 26 सितंबर 2011 (UTC)
Wikipedia की policies और guidelines सबसे ऊपर हैं। Core content policies सभी Wikiprojects पे लागू होती हैं, इसमें विचार-विमर्श की कोई जरूरत नही है। Verifiability, Neutral Point of View (NPOV) and No Original Research को इस लेख में पूरी तरह से debolish किया गया था।
सर्वप्रथम आपको यह सीखने कि आवश्यकता है कि एक encyclopædia कि संरचना किस प्रकार कि होती है।
इस लेख कि कुछ समस्याओं को मै बता रहा हु जिससे भविष्य में आप इन्हे न repeat करे
  1. हम लेखो में उदहारण के section नही बनाते।
  2. लेख should always represent a worldwide view of the subject. एक बात दिमाग में रखे कि दुनिया मे भारत के अलावा भी देश है। Biggest problem on Hindi Wikipedia is that majority of the articles are India-centric. In simple meaning, we don't make sections "भारत में छद्म-धर्मनिरपेक्षता के उदहारण", and if we do, then we also add worldwide view of the subject.
  3. Everything should be complied with NPOV. यह आपका अपना मत है कि uniform civil code (समान नागरिक संहिता) न लाना एक छद्म-धर्मनिरपेक्षता है। हो सकता है कि यह सही भी हो परन्तु एक encyclopædic article में हमे अपना मत show नही करना चाहिए। Similar to "हजयात्रा के लिए सरकारी छूट" व "शाहबानो प्रकरण"।
  4. "छद्म धर्मनिरपेक्षता कभी कभी इस सीमा तक भी देखी गयी है, की कोई पार्टी भ्रष्टाचार जैसे सर्वजनस्पर्शी मुद्दे पर....." यह कोई मजाक है? आप article में subject का factual description करते है न कि reader को कोई कहानी सुना रहे है।
  • This article was nothing but an obloquy, a shame on Wikipedia project. And last thing I'd like to hear that somebody calls Siddhartha a "सेंसर बोर्ड", a person who's trying his best to ameliorate Hindi Wikipedia. What a complete and utter load of bollocks!! — Bill william comptonTalk 12:46, 26 सितंबर 2011 (UTC)

बिल विलियम कॉम्प्टन को अश्लील भाषा के प्रयोग के चलते तुरन्त ब्लॉक किया जाना चाहिये। क्योंकि यह पहला मामला नहीं है बल्कि मामलों की एक शृंखला का चरम है। यदि राजीव मास को केवल एक इम्प्लाइड वन्डलिज़म के चलते ब्लॉक किया गया तो यह तो सीधे गाली गलौज का प्रयोग है। क्या अब आपकी विकिनीतयों को साँप सूँघ गया है? (बिल से निवेदन है कि वे इसका उत्तर न ही दें-पाथर डारे कीच में उछरि बिगारत अंग। जिनसे कहा जा रहा है वही उत्तर दें।) मुझे यहाँ केवल अन्याय व पक्षपात का चरमोत्कर्ष देखकर आना पड़ा। मेरा अन्य सदस्यों से भी निवेदन है कि वे चुप न बैठें बल्कि प्रतिकार करें क्या हम हिन्दीभाषी केवल फिरंगी जुबान के कोड़े खाने के लिए विकिपीडिया पर काम करने आते हैं? (जिन्हें इस अंग्रेजी का अर्थ समझ में न आता हो उन भाइयों को बता दें कि अन्तिम वाक्य के शब्दों में एक फूहड़ गाली का प्रयोग किया गया है, इससे आगे बोलने से हमारे संस्कार हमें रोकते हैं।) धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 13:21, 26 सितंबर 2011 (UTC)
यह कोई "फूहड़ गाली" नही है। आपने बस इसका translation ही देखा है, परन्तु यह daily conversation मे use होने वाला वाक्य है, जिस के लिए मै क्षमा मान्गता है, अगर यह आपके यहाँ गाली मानि जाती है तो। मै कितनी भी कोशिश करले परन्तु मुझे English Wikipedia कि habits और मेरे culture को Hindi Wikipedia जैसा बनाने मै समय लगेगा। यहाँ इसका अभिप्राय किसी गाली से नही but an interjection to show the complete disagreement with any other person's opinion. कृपया इसे गाली न समझे, मै आगे से ध्यान रखेगा कि English terms न use करु। I honestly didn't know that this is not a part of Indian English, but it is of British which was my bad; I always thought that Indian English is derived from its British counterpart. I hope you'll understand my language difficulty. — Bill william comptonTalk 13:56, 26 सितंबर 2011 (UTC)
पंजाब में बहुत से लोग बात-बात पर 'गाली' वाले शब्द प्रयोग करते हैं। तो क्या वह शब्द गाली होना बन्द हो गया? क्या औपचारिक बहस में भी कोई पंजाबी उन गाली वाले शब्दों का प्रयोग करेगा? यदि आप इसे गाली नहीं मानते तो माफी किस बात की मांग रहे हैं? -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:57, 27 सितंबर 2011 (UTC)
या तो आप सही तरह से पढ़ नही सकते या एसा करना नही चहाते, मैंने माफी इस बात पर मांगी है कि मुझे British terms यहाँ प्रयोग नही करनी चाहिए।
जरा बताइये कि आपके इस वाक्य का क्या अर्थ है? : यह daily conversation मे use होने वाला वाक्य है, जिस के लिए मै क्षमा मान्गता है, अगर यह आपके यहाँ गाली मानि जाती है तो -- अनुनाद सिंहवार्ता 13:06, 27 सितंबर 2011 (UTC)

bill compton तुम कुतर्क करने में माहिर तो हो ही तुम्हे केसे बात रखनी चाहिए यह भी पता नहीं | तुम्हारी ही बातो का बिन्दुवार जवाब दे रहा हूँ |

  • किसने कहा के लेखो के उदहारण नहीं बन सकते - भारत में विभिन्न क्षेत्रो के रीती रिवाज़ मेल खाते हे और अनेकता में एकता सम्बन्धी

कोई लेख लिखा जाये तो क्या तब हमें उदहारण का प्रयोग नहीं करना पड़ेगा | इसी प्रकार विभिन्न घटनाए जो प्रामाणिक अखबारों से ली गयी हे को लिखने में तुम्हे दिक्कत क्या ? अगर तुम्हे उदहारण शब्द से कोई समस्या , तो बोलो परन्तु मनगढंत जवाब मत बनाओ |

  • अगर तुम्हे world wide view देना चाहते हो तो एक section और बना दो | क्या तुम्हारी दृष्टि में भारत इस विश्व का भाग नहीं या तुम्हे लगता, की भारत में हुई कोई

परिघटना विकी पर डालने लायक नहीं | गलत चीज का समर्थन कर रहे हो यहाँ तो तुमने विकी निति का उल्लख नहीं किया तुम्हारी सोच क्या ब्रिटिश मानसिकता से परेशान हे | बताओं ?

  • NOPV - तो तुम्हे बता देता हूँ की अगर तुम्हे कोई बात लगती हे की उसका झुकाव किसी खास की तरफ हे तो तुम अपना मत भी लिख दो | तुम्हारी भी जिम्मेदारी हे की तुम भी लेख लिखो |

किन्तु प्रामाणिक अख़बारों से लिए लेख को तुम तरजीह नहीं देकर बस नियम बताते रहे हो | वैसे भी किसी भी वस्तु घटना के बहुत से पक्ष होते हे तुम उन सब को लिख दो किन्तु कुछ पक्षों से तुम्हे आपत्ति होने लगे तो उसे हठा थोड़े हे देंगे | उदहारण के तौर पर अंग्रेजो ने भारत पर ज्यादतिया की , यह एक घटना हे और इसके कई सन्दर्भ भी मिल जायेंगे . तब तुम क्या उस लेख को हटा ही दोगे क्यों की nopv हो सकता हे तो कुछ भी मत लिखो तब विकी का मतलब क्या रहेगा |अरे भाई इसका मतलब यह की तुम अंग्रेजो के पक्ष की चीज भी लिख दो |

तुम जेसे तथाकथित बोद्धिक लोग ही तो छद्म धर्मनिरपेक्षता का ढोंग करके अपना संकुचित स्वार्थ सिद्ध करते करते हे | अपने बोलने के तरीके को तुम सुधारों | तुम्हे पहले भी लोगो से बतमीज़ी से बात करते देखा गया हे| तुम्हे तमीज सिखनी चाहिए |ज्यादा बुदधिवान बनने की जरुरत नहीं तुमसे ज्यादा अछे लिखने वाले लोग यहाँ मोजूद हे वे भी मर्यादा में रहते हे --Vivek prakash (वार्ता) 13:57, 26 सितंबर 2011 (UTC)

पता नहीं सच्चाई क्या है किन्तु मुझे बिल महोदय पर पहले ही दिन से संदेह है। वे नखसिख हिन्दीविरोधी और भारतविरोधी हैं। हिन्दी विकि यदि भारतकेंद्रित नहीं होगा तो कौन होगा? अंग्रेजीविकि में जगह-जगह अमेरिकाकेंद्रित्व और ब्रिटेनकेंद्रित्व बिखरे पड़े हैं। ये एक लेख बनाते नहीं और दस को डिलीट मार देते हैं। उपर मुझे सिद्धार्थ जी से भी सन्तोषप्रद व्याख्या नहीं मिली किन्तु उनकी भाषा अत्यन्त संतुलित और संयत लगी। परन्तु विल के लेख में तो 'चौधराहट' की बू आ रही है। मैं इन्हें हटाने के पक्ष में तो नहीं हूँ किन्तु चाहूँगा कि इनके अधिकार सीमित किये जाँय और इनकी गतिविधियों पर कडी नजर रहे ताकि हिन्दी विकि पर मेहनत करने वालों को ये हतोत्साहित न कर पाएँ।

इस लेख में 'भारत में छद्मधर्मनिरपेक्षता के उदाहरण' दिये हुए थे। यदि इसके कारण यह लेख भारतकेंद्रित हो गया तो इसमें 'अमेरिका में छद्मधर्मनिरपेक्षता के उदाहरण' आदि जोड़कर इसे 'दुरुस्त' किया जा सकता था ; हटाना ही एकमात्र हल कैसे है? यदि आपको कोई बात सन्दर्भहीन लगती है तो आप 'सन्दर्भ मांगने' वाला टैग लगा दीजिये। यदि कोई वाक्य गलत/निराधार/विवादास्पद लगता है तो उपयुक्त टैग खोजिये/बनाइये और जोड़ दीजिये - पूरी की पूरी चीज मत हटा दीजिये। कोई दस लेख हटाता है तो उसका नैतिक दायित्व है कि दो लेख जोड़े भी। लेख हटाने के पहले दो बार सोच लेना चाहिये। मैने देखा है कि इन्होने ऐसे बहुत से लेख हटाये हैं जिनमे दो वाक्य लिखकर उन्हे मरने से बचाया जा सकता था और वे 'आधार लेख' बन सकते थे। पर वे दो वाक्य जोड़ना क्यों चाहेंगे? -- अनुनाद सिंहवार्ता 14:21, 26 सितंबर 2011 (UTC)
मेरे यहाँ आखिरी बार लिखने के बाद से यहाँ बहुत कुछ लिखा जा चूका है। मैं इसपर कोई टिप्पणी नहीं करूँगा परंतु सभी से निवेदन है कि वे एक दूसरे के बारे में भला-बुरा न कहें, व्यक्तिगत आक्षेप न करें, और लेख को सुधारने पर चर्चा करें। यदि सबको यह लगता है कि अंग्रेज़ी विकिपीडिया की नीतियाँ यहाँ पर अनुकूल नहीं हैं तो अब समय आ गया है कि यहाँ पर भी समुदाय की सहमति से नीतियाँ बनाई जाएँ।
जहाँ तक रही बात उदाहरण भाग हटाने की, तो मैं उसके सन्दर्भ में निम्न बातें साफ़ कर दूँ:
  • मैं मानता हूँ कि उनमें सन्दर्भ दिये गए थे
  • उन सन्दर्भों में से किसी में भी "छद्म धर्मनिरपेक्षता" या "Pseudo Secularism" शब्दों का प्रयोग नहीं था
  • इसी कारण, चाहे वे पोइंट्स अपने-आप में ठीक थे, परंतु उन्हें "भारत में छद्म-धर्मनिरपेक्षता के उदहारण" नामक अनुभाग में डालकर हिन्दी विकिपीडिया पर यह कहा जा रहा था कि ये घटनाएँ/बातें छद्म धर्मनिरपेक्षता हैं
  • चूँकि किसी भी सन्दर्भ ने घटनाओं को इस नाम से नहीं पुकारा, इन घटनाओं को यह नाम देने का अर्थ होगा कि हिन्दी विकिपीडिया ने अपनी तरफ से कुछ जोड़ा, जो कि tertiary source होने के विरुद्ध होता। साथ ही यह possibly defamatory होता(सम्बन्धित नीति:en:Wikipedia:Libel), और यदि defamatory न भी होता, तो भी मूल शोध(original research) होता(सम्बन्धित नीति en:Wikipedia:No original research)।
  • यहाँ ध्यान दें कि मैं यह नहीं कह रहा कि ये बातें गलत या स्रोतहीन हैं, केवल यह कह रहा हूँ कि जब तक कोई reliable source(सम्बन्धित नीति:en:Wikipedia:Identifying reliable sources) जो यह बात कहता हो, का सन्दर्भ यहाँ नहीं डाला जाता, तब तक इन पोइंट्स को "छद्म धर्मनिरपेक्षता" का उदाहरण कह कर लिखना वर्तमान नीति के विरुद्ध होगा। जब ऐसे सन्दर्भ डाल दिये जाएँ, या नीति में परिवर्तन हो जाए, तो अवश्य इसे डालें, परंतु वर्तमान नीति मेरे विचार में इसकी अनुमति नहीं देती है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:19, 26 सितंबर 2011 (UTC)
सिद्धार्थ जी, 'रिलाय्बुल सोर्स' के कोई दो उदाहरण दीजिये जिससे हम इसे समझ सकें। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:25, 27 सितंबर 2011 (UTC)
अनुनाद जी, सर्वप्रथम आपको सच्चाई ही जाननी है तो कृपया इसे पढ़ें। अब मै आपको यह बता दू कि न तो मै हिन्दीविरोधी है न ही भारतविरोधी। आपने जो मुझ पे जो आरोप लगाये है उसका मै एक-एक करके उत्तर देता है, उससे पहले कृपया आप इन सबके उत्तर दे:
  • आप यह क्यो नही सोचते कि अगर मै हिन्दीविरोधी हू तो मै Hindi Wikipedia पे क्या कर रहा हूँ?
कोई अपने विचारों से हिन्दीविरोधी और भारतविरोधी बनता है, किसी विकिपीडिया पर काम करने से नहीं। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
यह आपकी अपनी परिभाषा है, आपने मेरे विचार कहा से पढ़ लिए। विकिपीडिया project पे काम करने का मतलब ही यही है कि कोई व्यक्ति उस भाषा का सम्मान करता है जबही वो वहाँ सहयोग करना चहाता है।
आपके विचार इतने दिनों से पढ़ तो रहे हैं। गिलानी अपने को भारत का नागरिक कहता है। वह भी कहता है कि वह भारत के संविधान का आदर करता है। किन्तु उसके विचारों से पूरा भारत जानता है कि वह क्या है।
  • अगर मै भारतविरोधी हू तो मै क्यो English Wikiepdia पे WikiProject India का member क्यो हू?
ताकि आप अपने हिन्दीविरोध और भारतविरोध को 'सफाई' के साथ अंजाम दे सकें। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
इतना फालतू समय आपके ही पास होगा, और जा के एक बार English Wikipedia पे भी देख ले कि मै वहाँ क्या करता है। मुझे WikiProject India पे community discussions में बहुत कम ही भाग लेता है क्योकी मुझे वहाँ Wikipedia कि basic policies बताने कि जरुरत नही पडती, जिनका यहाँ पे आपने उनका मजाक बना रखा है।
बिना समय बर्बाद किये कोई उद्देश्य नहीं पूरा होता। अपने गलत उद्देश्यों के लिये समय क्या, जान की भी बाजी लगा देते हैं।
  • अगर मै अपना विरोध दिखाने के लिए ही यहाँ है, तो कृपया ये बताये मै क्यो यहाँ vandalism से लडता है? मेने क्यो 50 से ज्यादा articles बनाए है?
हो सकता है कि आप अपने असली उद्देश्य को छिपाने के लिये ऐसा कर रहें हों। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
फिर अजीब सा उत्तर, मुझे अगर यह सब करना होता तो मुझे इतनी मेहनत कि आवश्यकता ही नही है।
  • मेने क्यो India पे based English Wikipedia पे इतने article लिखे है? मै क्यो WikiProject India को featured article और DYK देता है?
इसका आपको कोई बकवास उत्तर नही मिला?
अब मेरे उत्तर सुने:
  • हिन्दी विकि यदि भारतकेंद्रित नहीं होगा तो कौन होगा?
    • बिल्कुल गलत, Wikipedia एक encyclopedia है, जो न ही किसी देश का है न ही किसी particular समूह का। अगर यह भारतकेंद्रित ही बन के रह गया तो यह encyclopedia ही नही रहेगा.
इनसाक्लोपेडिया ब्रिटानिका को आप इनसाक्लोपेडिया मानते हैं कि नहीं? यह किसको समर्पित होती थी और आजकल किसको समर्पित की जाती है? ब्रिटेन के राजपरिवार को समर्पित करने के बाद भी यह 'विश्वकोश' कैसे है? क्या इसमें ब्रिटेन के बारे में उतने ही लेख हैं जितने स्पेन के बारे में? क्या आप दावे के साथ कह सकते हैं कि किसी जर्मन विकिपिडिया में जर्मनी के बारे में उतने ही या कम लेख होंगे जितने ब्रिटेन के बारे में?-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
आप ब्रिटानिका कि बात ही क्यो कर रहे है? आपको Wikipedia तो ठीक से समझ आता नही ब्रिटानिका पे क्यो कूद रहे है? Wikipedia एक विश्व को समर्पित इनसाक्लोपेडिया है। इसे किसी और से compare न करे। और आप यहाँ volunteer है तो आपको इसकी core नितियो का पालन करना ही पडेगा। और आपको बता दू ब्रिटानिका को जैसा आप सोचते है वो उससे बहुत अलग है।
जब आप यह कहते हो कि 'Wikipedia एक encyclopedia है, जो न ही किसी देश का है न ही किसी particular समूह का' तो आप मुझे इनसाक्लोपीडिया की परिभाषा सिखा रहे हो। इसलिये एक इनसाक्लोपीडिया से सम्बन्धित कुछ सीधे प्रश्न किये हैं। उनका उत्तर दीजिये।-- अनुनाद सिंहवार्ता 13:06, 27 सितंबर 2011 (UTC)
  • अंग्रेजीविकि में जगह-जगह अमेरिकाकेंद्रित्व और ब्रिटेनकेंद्रित्व बिखरे पड़े हैं
    • Certainly not, हां कही-कही एसा हो सकता है, परन्तु इसी के लिए English Wikipedia पे system bias खतम करने के प्रयास होते है, परन्तु यहाँ तो आप इसे समर्थन करते है
  • कोई दस लेख हटाता है तो उसका नैतिक दायित्व है कि दो लेख जोड़े भी
    • यहे कोई rule नही है कि vandalised pages को delete करने के बाद आपको 2 लेख जोडने पडेगा, यह क्या कोई तराजू है क्या कि हमेशा balanced रहे, और हा अपने नैतिक दायित्व के अनुसार मै article हमेशा बनाता है.
- आपने बहुत से ऐसे पेज हटाये हैं जिन्हें कोई बनाना चाहता था किन्तु किसी तकनीकी समस्या के कारण खाली छोड़ दिया या गलत-सलत एक-दो वाक्य लिख दिया। सही मामले में 'उत्पाती लेख' बहुत कम हैं। आप इनकी आड़ में बहुत से मासूम लेखों को मार चुके हैं। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
हे प्रभु! इसे ही vandalism कहते है, आप क्या भविष्यवाणी करते है कि user ने तकनीकी समस्या के कारण खाली छोड़ दिया था, और वो उसे फिर आके बनायेगा?
जी हाँ, यह बिलकुल पता चल जाता है। नया आदमी आसानी से पहचान में आ जाता है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 13:06, 27 सितंबर 2011 (UTC)
  • लेख हटाने के पहले दो बार सोच लेना चाहिये। मैने देखा है कि इन्होने ऐसे बहुत से लेख हटाये हैं जिनमे दो वाक्य लिखकर उन्हे मरने से बचाया जा सकता था और वे 'आधार लेख' बन सकते थे।
    • बड़ी-बड़ी बाते कहना बहुत असान है पर करना नही, अगर आप मुझे मेरा हटाया हुआ एक भी लेख एसा बता दे जो Wikipedia कि policies और guidelines को follow करता था, तो मै अभी वचन देता है कि मै कभी भी कोई लेख नही हटायेगा। ये भी बता दे कि कोनसा लेख "दो वाक्य लिखकर" ठीक हो सकता था?
लेख हटाने से भी आसान कोई काम है क्या?
आपको लेख हटाना क्या आसान काम लगता है क्या? लेख हटाने से पहले आपको देखना पडता है कि कही लेख मै कुछ सही बात तो नही है जिसे हम गलती से हटा दे।
यही तो आप नहीं करते। इसी का तो झगड़ा है।13:06, 27 सितंबर 2011 (UTC)
  • पर वे दो वाक्य जोड़ना क्यों चाहेंगे?
    • जरूर जोडना चाहेगा, अगर वहा एसा हो सकता हो तो, अगर आप इतना ही मेरे काम पे नजर रखते है तो आप ने वालेरी लेवोनेव्स्किय लेख भी देखा होगा जो मेने delete करने के बाद भी English Wikipedia से translate करके लिखा है
यहाँ भी आपको कोई उत्तर नही मिला।
मै यह नही कहता कि मै सही है और सभी गलत, परन्तु मै कभी भी Wikipedia कि core content policies से compromise नही कर सकता, और इसके लिए मुझे फर्क नही पडता कि मुझे कोई कुछ भी कहे। मै मानता है मेरा व्यवहार कई बार सही नही होता परन्तु मुझे यह जब realize होता है जब मुझे कोई बताता है, क्योंकि मै यह नही जानता कि यहाँ मेरी क्या बात गलत समझा जा सकती है. और यह सब मै धिरे-धिरे सीख रहा है, परन्तु इसमे थोडा समय लगेगा। और इससे अधिक मै कुछ नही कह सकता, धन्यवाद। — Bill william comptonTalk 15:32, 26 सितंबर 2011 (UTC)

@Siddhartha "सभी से निवेदन है कि वे एक दूसरे के बारे में भला-बुरा न कहें, व्यक्तिगत आक्षेप न करें," इति सिद्धार्थमहोदयः। ?????? भाईसाहब आपने तो सभी को बीच में लपेट लिया। मैंने एक व्यक्तिविशेष के आचरण पर एक स्पष्ट कथन कहा था उसका क्या निपटान किया गया? क्या आपने चरम अपशब्दों से संबंधित कोई विकिनीति पढ़ी है? खैर यही हाल रहा तो इस विकिपीडिया पर कौन आयेगा। मेरे पास अधिक समय नहीं है लेकिन यहाँ की भेदभावपूर्ण नीति देखकर व्यथा होती है। आप जैसे सदस्य से उम्मीद थी कि कुछ न्याय करेंगे। खैर...। -Hemant wikikoshवार्ता 17:02, 26 सितंबर 2011 (UTC)

सबसे ज्यादा आश्चर्य की बात तो यह थी कि जिस व्यक्ति ने लेख हटवाने में कुख्याततम तरीके का उदाहरण प्रस्तुत किया(खाटू श्यामजी प्रसंग),और उसी मामले में एक नवागत सदस्य को बदतरीन भाषा में हतोत्साहित किया, उसे और कुछ नहीं बल्कि कोतवाल (उत्पात नियन्त्रक व रोलबैकर) ही बना दिया गया (लगता है आत्मघाती निष्पक्षता अपनाना हमारी पारम्परिक बुराई है)। इतनी संकीर्ण दृष्टि वाले उत्पात नियन्त्रक व रोलबैकर से तो यही आशा की जा सकती है कि वह सारे हिन्दी विकिपीडिया को सफ़ाचट कर देगा। भाई डिलीशन का अधिकार कोई मज़ाक नहीं है। मुझ जैसे अधिकारविहीन सदस्य को तो डिलीट किये जाने के बाद लेख का केवल नाम दिखाई देता है। ऐसे में "एकोऽहं द्वितीयो नास्ति"-विचारधारा से प्रभावित उत्पातनियन्त्रक खुद की सनद खुद लिखेंगे क्या? ठीक इसी कारण से इनकी तो निगरानी भी नहीं की जा सकती। उत्पात नियन्त्रक ही उत्पात करने लगें तो क्या शीलवान लोग यहाँ टिकेंगे? वे तो यही सोचकर किनारा कर लेंगे कि - वक्तारो दर्दुरा यत्र तत्र मौनं हि शोभनम्। -Hemant wikikoshवार्ता 05:46, 27 सितंबर 2011 (UTC)
अगर भगवान ने आपको देखने कि शक्ति दी है तो आपने देखा होगा कि मै लेख हटाने के साथ-2 उसका reason भी देता है। क्या कभी वो reason देखा है? निगरानी करने के लिए administrators है आपको इसकी आवश्यकता नही, आप अभी के अभी Rohit या Mayur से मेरे द्वारा delete किये गये एक भी लेख को वापस करवा के check करले कि कौन सा लेख मेने गलत delete करा हो।
मै सिद्धार्थ जी की बात से सहमत हू| मुझे भी ये लेख थोडा पक्षपाती और निजी विचारों से भरा हुआ लगा| और ऐसा आपको भारत के इतिहास से सम्बंधित लेखो पर भी मिल जाएगा खास तोर पर भारत के स्वतंत्रता संग्राम से सम्बंधित लेखो में| ऐसे लेख पड़ने वाले का ज्ञान बढाने के बजाय अपने राजनेतिक विचारों का उल्लू सीधा करते नजर आते है| निजी विचारों से मुझे कोई आपति नहीं है मगर विकिपीडिया इसके लिए सही जगह नहीं है| जितेन्द्र सतपाल (वार्ता) 05:38, 27 सितंबर 2011 (UTC)
सतपाल भाई आपको अगर यह पक्षपाती लेख लगा तो इसे निष्पक्ष क्यों नहीं बनाया? क्या सच अगर किसी के खिलाफ़ जाता हो तो वह सच नहीं रह जाता? हम सभी जानते हैं कि छद्म धर्मनिरपेक्षता विषय ही ऐसा है कि इसमें दलविशेष की बुराई ज़्यादा नज़र आयेगी। क्या केवल इसी कारण से इस लेख की तथ्यात्मकता सन्दिग्ध हो जाती है? क्या नाज़ीवाद के लेख में नाज़ीवाद की जड़ जर्मनी की जगह ब्रिटेन को बताया जाये ताकि सन्तुलन बना रहे? -Hemant wikikoshवार्ता 06:00, 27 सितंबर 2011 (UTC)
हेमंत जी क्या इससे कोई फर्क पड़ता है कि लेख को मेरे बजाय किसी और ने 'निष्पक्ष' बनाया? यहाँ बात सच या झूठ की नहीं हो रही बल्कि लेखो में निजी विचार डालने की है| इससे लेख की तथ्यात्मकता सन्दिग्ध नहीं होती मगर लेख का उदेश्य खत्म हो जाता है| बजाय लोगो को ये बताने के कि छद्म धर्मनिरपेक्षता क्या है, लेख इस बात पर जोर देने लगता है कि कौन छद्म धर्मनिरपेक्ष है और कौन नहीं| लेख निष्पक्ष तब होता है जब वो पड़ने वाले को स्वय ये फैसला करने का मौका दे की कौन छद्म धर्मनिरपेक्ष है और कौन नहीं| क्रपया मेरे विचारों को निजी ना ले| जितेन्द्र सतपाल (वार्ता) 06:48, 27 सितंबर 2011 (UTC)

बिल विलियम तुरन्त हिन्दी सीखें[संपादित करें]

मेरा बिल से अनुरोध है कि वे तुरन्त हिन्दी सीखें और हिन्दी विकिपीडिया पर केवल हिन्दी में ही वार्ता करें। और रही बात विकिपीडिया के भारत्-केन्द्रित होने कि तो इसका कारण यह है कि इसपर लगभग सभी सक्रिय सदस्य भारतीय हैं। हाँ माना कि हिन्दी विकिपीडिया को अत्यधिक भारत केन्द्रिय नहीं होना चाहिए लेकिन आप भी इस बात को समझ सकते हैं कि अन्य देशों के विषयों पर लेख बनाते समय हम लोगों को अंग्रेज़ी, जर्मन, फ्रान्सीसी, रूसी, स्पेनी इत्यादि भाषाओ से लेख अनुवादित करने पड़ते हैं। और क्या अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर अमेरिका का जोर नहीं है? पूरी दुनिया में तिथियाँ दिन/महीना/वर्ष के अनुसार लिखी जाती हैं लेकिन अंग्रेज़ी विकि पर सारे तिथियों वाले लेख महीना/दिन के अनुसार लिखे हुए हैं। आखिर अमेरिकी क्यों अन्य देशों के लोगों पर जबरदस्ती यह प्रारूप लादना चाहते हैं। इसके अतिरिक्त अंग्रेज़ी विकि पर लगभग हर कहीं उदाहरण समझाने के लिए अमेरिका से ही उदाहरण अधिक दिए जाते हैं। एसा क्यों? और आपका यह कहना मै कितनी भी कोशिश करले परन्तु मुझे English Wikipedia कि habits और मेरे culture को Hindi Wikipedia जैसा बनाने मै समय लगेगा। बिल्कुल ही गलत है। अभी यदि यह जापानी, रूसी, फ्रान्सीसी जैसी विकिपीडियाएँ होती तो आप वहाँ पर एक शब्द भी अंग्रेज़ी का नहीं लिख रहे होते। मेरा अन्य सदस्यों से भी निवेदन है कि बिल की अंग्रेज़ी में लिखी किसी भी वार्ता का उत्तर ना दिया जाए जैसे की हमको अंग्रेज़ी आती ही ना हो। कम से कम हिन्दी विकि पर तो कोई भी आने वाला व्यक्ति यह उम्मीद करेगा कि यहाँ तो उसे अंग्रेज़ी का गुणगान सुनने से राहत मिलेगी। रोहित रावत (वार्ता) 15:42, 26 सितंबर 2011 (UTC)

रोहित जी, English Wikipedia पे subject के अनुसार date format use किया जाता है। मतलब कि subject किस देश से सम्बन्ध रखता है, उदहारण के लिए मेरे बनाये गये 1982 Asian Games medal table लेख में day-month-year format है (जिसे little edian format कहते है), क्योंकि यह लेख India related है। परन्तु 2010 Asian Para Games medal table में month-day-year format है (जिसे middle endian format कहते है), क्योंकि यह लेख China related है, जहां यही format ज्यादा चलन में है; और एसा भी नही है कि English Wikipedia पे ये articles गलत है, क्योंकि दोनो ही featured articles हैं। और m/d/y format only अमेरिका ही नही विश्व के कई देशो मै प्रचिलित है, कृपया अपने देश के सबसे बडे English newspaper को ही देखले। कुछ special articles पे m/d/y format इसलिए प्रयोग किया जाता है क्योकी आज-कल हर देश मै English media ज्यादातर यही format use करती है, चाहे वो अमरीका हो, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, भारत, etc। मै आपको इस बात कि पुष्टि करना चहाता है कि कम-से-कम English Wikipedia पे तो किसी एक ही देश पे केन्द्रित लेख नही बनते, और यहाँ पे आपको देखना है। दूसरी बात मै इस आपकी इस बात से पूरा सहमत है कि मुझे हिन्दी आना चाहिए। और अगर आपने देखा हो तो मै जब से हिन्दी Wikipedia पे आया है तब से लेकर अब तक मेरी भाषा प्रयोग में बहुत बदलाव आया है, मै पूरी कोशिश करता है कि मै हिन्दी ही प्रयोग करे परन्तु मै कितनी बार कहे कि कोई एक रात मै भाषणपटु नही बनता। जापानी, रूसी, फ्रान्सीसी जैसी विकिपीडियाएँ होती तो वहा यह सब नही होता क्योंकि वहा embassies होती हैं, जहां मेरे जैसे कम भाषा के ज्ञानी users कि मदद होती है, परन्तु मेने पहली बार देखा है कि किसी Wikipedia project पे मुझे यहे कहा गया हो कि "अंग्रेज़ी में लिखी किसी भी वार्ता का उत्तर ना दिया जाए". जब मै Romanian Wikipedia पे काम करता था तो admins से English मै ही बात करी थी, अपितु वहा तो मेरे जैसो कि सहायता के लिए अलग से listed 20 से ज्यादा Romanian users है जो English मै बात करने वालो को मदद देते है। क्या Hindi Wikipedia community इस परिभाषा मै कही है? — Bill william comptonTalk 16:25, 26 सितंबर 2011 (UTC)
-- किसी को अंग्रेजी से दुश्मनी नहीं है किन्तु आप अंग्रेजी का इस्तेमाल अपनी 'चौधराहट' दिखाने के लिये कर रहे हैं, इसका विरोध है। उदाहरण सहित आपको आइना दिखाया जा चुका है कि आपको अंग्रेजी भी ठीक से नहीं आती।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:15, 27 सितंबर 2011 (UTC)
आपने मुझे कब आइना दिखाया? और मुझे इस बात पे कोई बहस नही करना। अगर आपको कुछ थोडा बहुत समझ आता हो इस बात को ध्यान से सुन ले कि Wikipedia में community conversation के दौरान आपको अपनी सारी बात "'bold test" मे लिखने कि इजाजत नही है। धन्यवाद — Bill william comptonTalk 11:46, 27 सितंबर 2011 (UTC)
इतना जल्दी कैसे भूल गये? कमाल है ! गाली देने की इजाजत है और मोटे पाठ में अपनी बात कहने की इजाजत नहीं है। जरा इस नियम का लिंक बताइये, अपना ज्ञान बढ़ाना चाहता हूँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 13:06, 27 सितंबर 2011 (UTC)


हद ये यार ये bill कितना कुतर्की और बदतमीज़ हे इंसान हे| कोई इंसान - अनुनाद सिंह इससे विवाद करता हे और यह यहाँ पर छाद्रन्वेशन कर रहा हे , (छोटी छोटी व्यर्थ की बातों पर मुद्दा को घुमाना ) जेसे bold text - अरे तो एक गलती करता हे अरे तू तो घालियाँ निकाल रहा हे | अरे कोई इसे हठाओ यार | नहीं चाहिए ऐसे लोग यहाँ पर

@ सुद्धार्थ तुम्हारी जिम्मेदारी बनती यहाँ अब जवाब दो की इस बिल का तुम यहाँ भी (कुतर्क देने और गली देने) में साथ दे रहे हो ? अपना मत सबके सामने व्यक्त करो | @बिल वह admin हे और तुम यहाँ उससे भी ऐसे बात कर रहे हो बदतमीजी से , जेसे वकील कानून का सहारा लेकर गलत को सही बना दे देता हे वाही यह बिल कर रहा हे | कहा हे सारे हिंदी विकी सदस्य भाई हद हो गयी | --Vivek prakash (वार्ता) 15:07, 27 सितंबर 2011 (UTC)

विल विलियम आपको यदि मेरी किसी भी बात का बुरा लगा हो तो में उसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ। उस कथन से (अंग्रेज़ी में लिखी किसी भी वार्ता का उत्तर ना दिया जाए) मेरा यह आशय नहीं था कि आपको भला-बुरा कहा जाए। मैं बस यह कहना चाह रहा था कि आपकी चौपाल पर भी अधिकतर वार्ताएँ अंग्रेज़ी में होती हैं। हिन्दी विकि पर लेख पढ़ने के लिए आने वाला व्यक्ति अंग्रेज़ी बिल्कुल नहीं या बहुत कम जानने वाला हो सकता है और कोई व्यक्ति लेखों के अतिरिक्त चौपाल पर भी जा सकता है कुछ देखने-पढ़ने के लिए। अब ईसे में यदि उसे वहाँ लिखा हुआ समझ ही ना आए लो हिन्दी विकि का हिन्दी में होने का क्या लाभ? हाँ मैंने भी देखा है कि आपकी हिन्दी में बहुत सुधार हुआ है और आशा करता हूँ कि सुधार आगे भी जारी रहेगा। किसी भी बात का बुरा लगने के लिए पुनः क्षमा माँगता हूँ। उम्मीद है कि आप किसी भी बात को अन्यथा नहीं लेंगे और हिन्दी विकि पर अपना प्रयास जारी रखेंगे। इन प्रयासों और हिन्दी विकि को अपना योगदान देने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद। रोहित रावत (वार्ता) 15:48, 27 सितंबर 2011 (UTC)

आपका धन्यवाद रोहित जी, मै अपनी side से पूरा प्रयत्न करेगा कि हिन्दी का अत्याधिक प्रयोग कर सके। — Bill william comptonTalk 00:31, 29 सितंबर 2011 (UTC)
  • मै सार्वजनिक रूप से अपने व्यवहार के लिए क्षमा मांगता है। जो भी हुआ और उससे जिसे किसी कि भी उपहति हुई मै उसके किए क्षमा प्राथि है। परन्तु मै इतना स्पस्ट करना चहाता है कि मेरी बातो का वो मतलब नही था जो मेरे कुछ साथि users ने निकाला ये सम्पूर्ण रूप से language gap कि वजह से हुआ। आप जिसे गाली समझ रहे है उसका अभिप्राय गाली के आसपास भी नही है और न ही कभी होता है, और इसके लिए अगर किसी को संदेह है तो कृपया किसी British English के ज्ञाता से confirm करलें। मै बात को अधिक आगे नही बढ़ाना चहाता क्योकी हम सभी का समय अमूल्य है, उसे व्यर्थ के आरोप-प्रत्यारोप से विनष्ट करना किसी के लिए भी सही नही है।
  • अगर कोई इस लेख को इसके English counterpart से compare कर रहा है तो कृपया एसा मत करे, क्योंकि एसा जरूरी नही कि English Wikipedia के सभी article modeled article हैं और मै यह भी बताना चहाता है कि वहाँ maintenance tags को remove करने के लिए विभिन्न projects होते है जो बाद मै उन लेखो मे जो कमी होती है उसे सही करके tag हटा देते हैं, परन्तु यहाँ एसा नही है और tag बस लगे ही रह जाते है और कोई उन्हे सही करने वाला नही होता।
  • मै बस अनुदान जी कि एक बात का उत्तर देना चहाता है: Britannica एक commercial encyclopedia है। जिस तरह विभिन्न novels, private text books, etc के लेखक अपने किसी संबंधी या कभी ईश्वर को book dedicate करते है, उसी प्रकार Britannica British Royal family को नही अपितु Her Majesty Queen Elizabeth II और अमेरिका के राष्ट्रपति Barack Obama को dedicated है क्योकी वर्तमान समय में यही दो राष्ट्र में Britannica कि ownership है। परन्तु Wikipedia एक free encyclopedia है न कि commercial इसलिय ये न तो किसी व्यक्ति विशेष को और न ही किसी राष्ट्र को dedicated है। इसलिये आपसे निवेदन है एक commercial और एक free encyclopedia को compare न करे। और Wiki policies और guidelines को समझ ने का प्रयास करे क्योकि वो हम सबसे उपर हैं, धन्यवाद। — Bill william comptonTalk 01:10, 29 सितंबर 2011 (UTC)
'कामर्शियल' और 'मुक्त' विश्वकोश का अन्तर निकालकर येन-केन-प्रकारेण गलत को सही करने के लिये आप अप्रासंगिक (इर्रेलिवेंट) बात कर रहे हैं। ऐसे अन्तर करेंगे तो हजारों तरह के विश्वकोश होते हैं। यहाँ मुद्दा 'वैश्विक दृष्टिकोण' का है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:42, 29 सितंबर 2011 (UTC)
प्रिय मित्रों, बिल विलियम कॉम्प्टन का क्या किया गया? हिन्दी भाषा में एक टिप्पणी करने वाले को तो प्रतिबन्धित कर दिया था (उसने गाली का प्रयोग नहीं किया था)। क्या अंग्रेज़ी में गाली पर विशेष छूट दी जाती है? क्या हिन्दी में ऐसा ही अपशब्द लिखने वाले व्यक्ति के साथ ऐसा ही बर्ताव किया जाता? -Hemant wikikoshवार्ता 09:48, 29 सितंबर 2011 (UTC)

दोहरे मानक[संपादित करें]

bill compton और सिद्दार्थ जी के लिए

bill - english विकी पर pseudo secularism नाम से लेख में आपने साँचा:Globalize/India tag लगाया हे | संपूर्ण लेख के एक बड़े भाग को नहीं हटाया हे | क्यों? क्या वहा विकी निति नाम की चीज नहीं हे या सिर्फ हिंदी विकी पर ही लागु होनी चाहिए हे |

सिद्दार्थ जी - आप तो हिंदी भाषी भारतीय हे , आप भी समझ नहीं रहे है , वहा english विकी में pseudo -secularism लेख में मेने देखा की सन्दर्भों में pseudo secular शब्द नहीं हे | फिर भी वहा पर uniform civil code, shahbano case और shariat आदि का जिक्र किया गया हे, जिससे सीधे सीधे यह प्रमाणित नहीं कर सकते की यह pseudo secular में आते हे | अब आप बताओ की जब आप की pseudo secualr शब्द वाली बात english विकी पर लागू नहीं हो रही तो बार -२ हिंदी विकी पर क्यों नीतियों की बात कर रहे हो |

याद रहे bill compton द्वारा uniform civil code shahbano case आदि को पॉइंट बना कर इसकी औचीत्यता पर हिंदी विकी में सवाल खड़ा किया था

में स्वयं भी इस पक्ष में हूँ की लेख की nuetrality बनी रहे पर इस कारन लेख में कुछ लिखा ही न जाये तो विकी का क्या मतलब | nopv का मतलब यह हे की किसी भी बात के दोनों पक्ष रखे जाये | मेने पहले भी अंग्रेज लोगो के अत्याचार के उदहारण वाली बात बताई थी और हेमंत जी ने भी नाज़ी जर्मनी वाली बात से यह समझाने की कोशिश की की ऐसे विवादस्पद लेख में लोगो को लगेगा की किसी खास पक्ष की और झुकाव रखा जा रहा हे पर वह झुकाव नहीं, वास्तविकता हे वह रखी जा रही हे | आप सबसे से आग्रह हे की अपने बिंदु भी रख देवे | में आपसे जवाब की अपेक्षा रखता हूँ धन्यवाद और मर्यादित भाषा के लिया साभार

अंत में bill जेसे लोगो के बारे में हिंदी विकी के लोग कुछ ठोस फेसला ले | में भी अनुनाद जी और हेमंत जी के ब्लाक करने वाली बात का समर्थन करता हूँ | बार बार अपनी कमजोर हिंदी का रोना रोते हुए यहाँ कईयों का अपमान किया हे bill compton ने | --Vivek prakash (वार्ता) 09:39, 27 सितंबर 2011 (UTC)

विवेक जी मै एक उदाहरण के जरिये अपनी बात रखना चाहता हू| आपने लेख में आपने लिखा कि हजयात्रा के लिए सरकारी छूट छद्म धर्मनिरपेक्षता है, लेकिन मै ऐसा नहीं मानता| अब सवाल ये नहीं है कि हजयात्रा के लिए सरकारी छूट मिलती है या नहीं, या हजयात्रा के लिए दी जाने वाली सरकारी छूट छद्म धर्मनिरपेक्षता में आती है या नहीं, सवाल ये है कि लेख में किसका विचार लिखा जाए? आपका या मेरा? दोनों तो लिखे नहीं जा सकते| इसीलिए विकिपीडिया के नियमों के अनुसार किसी विश्वसनीय स्त्रोत का सन्दर्भ देना जरुरी है, जो ये कहता हो कि हजयात्रा के लिए सरकारी छूट छद्म धर्मनिरपेक्षता है|

एक और उदाहरण ले...अपने लिखा कि मुस्लिमों को आरक्षण देना छद्म धर्मनिरपेक्षता है, अगर आप इसे ऐसे लिखते कि धर्म के आधार पर आरक्षण देना छद्म धर्मनिरपेक्षता है तो मै आपकी बात से सहमत होता| हो सकता है तब भी कुछ लोग असहमत होते तो आप इसके लिए संविधान का सन्दर्भ दे सकते थे जो कि धर्म आधारित आरक्षण पर रोक लगता है|

और भी उदाहरण है जैसे कि मेरे हिसाब से फ़्रांस में बुर्का पहनने वाली महिलाओ पर लगने वाला जुरमाना छद्म धर्मनिरपेक्षता में आता है, लेकिन बिना किसी स्र्तोत के इसे लिखा तो नहीं जा सकता, क्योंकि ये मेरा निजी विचार है, हो सकता है कई लोग इसपे अलग विचार रखते हो| आप अपनी बात रखे उसका आपको पूरा हक है लेकिन सन्दर्भ या स्त्रोत देना भी बहुत जरुरी है| जितेन्द्र सतपाल (वार्ता) 12:29, 27 सितंबर 2011 (UTC)

जीतेन्द्र जी

आपकी इन दोनों बातो का में समर्थन करता हू , इसका एक उपाय हम कर सकते हे की सरकारों द्वारा अन्य संप्रदायों की दी जाने वाली सुविधाओ का भी यहाँ वर्णन कर दिया जाये | या उन अति विवादस्पद १-२ बिंदुओं को हठाया जा सकता हे किन्तु बिना किसी मजबूत कारण के सम्पूर्ण लेख को लगभग समाप्त कर देना कहा अच्छा हे ? कम से कम ७-८ बिंदु ऐसे हे जिनसे साफ़ प्रतीत होता हे की खास वर्ग को लुभाने के लिए विभिन्न सरकारों, पार्टियों द्वारा ये विभिन्न कार्य किये जा रहे हे , वो भी मजबूत सन्दर्भो के साथ ( जेसा आपने फ्रांस वाले उदहारण में कहा ) |तो आप बताये की क्या उन बिंदुओं को भी हठा दिया जाये, जो साफ तोर पर छद्म निरपेक्षता की पारीभाषा के अंतर्गत आते हे,छद्म धर्म निर्पेक्षत कि परिभाषा आप सर्च कर लेवे | मुझे खुशी हे आप ने बिन्दुवार बात की जिसे हम सुलझा सकते हे किन्तु आप से समर्थन की अपेक्षा भी रखता हूँ | बिल से मुझे कोई आशा नहीं किन्तु मुझे लगता हे की अब कुछ समझदार लोग इस मुद्दे को सुलझा लेगे और लेखअपनी लगभग पूर्ववत स्थिति में आ जायेगा | धन्यवाद --Vivek prakash (वार्ता) 14:46, 27 सितंबर 2011 (UTC)

विवेक जी, मेरे विचार में यदि निम्न कार्य किये जाएँ तो शायद उस भाग को दुबारा डालना ठीक होगा:
  • भाग का नाम भारत में छद्म धर्मनिरपेक्षता के उदाहरण की जगह भारत में छद्म धर्मनिरपेक्षता रखा जाए
  • बात पोइंट्स की जगह गद्य के रूप में डाली जाए
  • जिन पोइंट्स के स्रोत नहीं थे, वे फ़िलहाल वापिस न डाले जाएँ(इसमें पहले 3, पाँचवा, और आखिर के दो पॉइंट शामिल हैं)
  • यद्यपि चौथे पॉइंट की सारी सामग्री स्रोत से है, परंतु मेरे विचार में "लज्जाहीन" और "पाखंडी" जैसे शब्द ज्ञानकोष के लिये ठीक नहीं हैं
  • आठवें पॉइंट में प्रयुक्त भाषा में अधिक तटस्थता और बेहतर लहजे की आवश्यकता है। मेरे विचार में प्रयुक्त लहजे से ऐसा प्रतीत होता है कि यहाँ ज्ञान बाँटने की जगह आरोप लगाए जा रहे हैं
  • मुझे नौवे पॉइंट का इस विषय से कोई सीधा सम्बन्ध नहीं नज़र आ रहा, कृपया बताएँ अथवा लेख में साफ़ रूप से डालें
ऊपर लिखे पोइंट्स केवल सुझाव हैं। यदि इनमें से कुछ ठीक न लगे तो अवश्य बताएँ।
यद्यपि मैंने ही यह भाग हटाया था, परंतु विवेक जी के अंग्रेज़ी विकिपीडिया के en:Pseudo Secularism वाले उदाहरण से मुझे लगता है कि शायद मैं en:Wikipedia:Identifying Reliable Sources पॉलिसी का गलत अर्थ निकाल रहा था, और यहाँ यदि स्रोत में "छद्म धर्मनिरपेक्षता" शब्द न भी मिलें तो भी सम्बन्धित सामग्री डाली जा सकती है। परंतु ध्यान दें कि यह सामग्री तटस्थ हो, ज्ञानकोष के लिये सही लहजे में हो, और स्रोत सहित हो; क्योंकि उसके बिना इनमें से कई बातें सीधे libelous हो सकती हैं। आशा करता हूँ कि इससे समस्या का समाधान हो जाएगा। आपका आभारी--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:30, 27 सितंबर 2011 (UTC)

मैंने इस विष्य पर सभी सदस्यों के विचार पढ़े हैं और मुझे नहीं लगता कि जिन बिन्दुओ को हटाया गया है वे हटाए जाने चाहिए थे। हाँ जैसा अंग्रेज़ी विकि पर लिखा हुआ है कि हिन्दू राष्ट्रवादियों द्वारा किन-किन बातों को छद्म धर्मनिरपेक्षता कहा गया है को आधार बनाकर वह बिन्दू रखे जा सकते थे। और जितेन्द्र जी ने जो लिखा है अपने लिखा कि मुस्लिमों को आरक्षण देना छद्म धर्मनिरपेक्षता है, अगर आप इसे ऐसे लिखते कि धर्म के आधार पर आरक्षण देना छद्म धर्मनिरपेक्षता है तो मै आपकी बात से सहमत होता| से मैं सहमत नहीं हूँ। हाँ माना कि किसी विश्वकोष पर किसी धर्म विशेष का नाम नहीं लिखा जाना चाहिए लेकिन उदाहरण देने के लिए तो आपको लिखना ही पड़ेगा। और वैसे भी यह बात केवल हिन्दू राष्ट्रवादियों के मानने या ना मानने से परे है क्योंकि भारत जैसे संवैधानिक रूप से धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र में धर्म के नाम पर आरक्षण देने की बात भी कहना छद्म धर्मनिरपेक्षता ही कहलाएगा। मेरे विचार से धर्म के नाम पर आरक्षण तो कट्टरपन्थी देशों तक में नहीं दिए जाते होंगे। यह केवल निरी छद्म धर्मनिरपेक्षता है और कुछ नहीं। सही मायनों में धर्मनिरपेक्ष होने का दावा वही देश कर सकता है जो या तो किसी भी धर्म को बढ़ावा ना दे या सभी धर्मों को बढ़ावा दे। और रही बात फ्रान्स में बुर्के पर प्रतिबन्ध कि तो मेरे विचार से वह छद्म-धर्मनिरपेक्षता नहीं है क्योंकि यह प्रतिबन्ध महिलाओ को परदे से मुक्त करने के लिए है नाकी मुस्लिमों के प्रति भेदभाव और यह प्रतिबन्ध वहाँ किसी भी अन्य समुदाय पर लागू होगा केवल मुसलमानों पर नहीं। यदि कोई ईसाई भी अपनी पत्नी को परदे में रहने के लिए दबाव डालेगा तो फ्रान्स में उसपर भी जुर्माना लगाया जाएगा लेकिन भारत में यदि कोई हिन्दू दूसरा विवाह करले तो वह दोषी है। क्या यह छ्द्म-धर्मनिरपेक्षता का उदाहरण नहीं है? रोहित रावत (वार्ता) 16:03, 27 सितंबर 2011 (UTC)

सिद्दार्थ जी
आपकी लगभग सारी बातो पर में सहमत हू |

  • छद्म निरपेक्षता में उदहारण शब्द को हठाने से कोई विशेष फर्क नहीं पडने वाले
  • गद्य में उन्ही बिंदुओं को डाला जाये जो समन्धित हे, नया विषय हे अगर, तो नया गद्य शुरू किया जाये
  • सन्दर्भ विहीन बिंदुओं को हठाने पर कोई आपत्ति नहीं किन्तु अगर उनका सन्दर्भ मिलता हो तो उसे वापस डालने में भी कोई आपत्ति न हो
  • लज्जाविहीन पाखंडी शब्द मेरे नहीं थे सीधे अखबार के लेख में थे मेने दाल दिए लेकिन इन्हें हठा सकते हे
  • भाषा की तठस्थटा पर कार्य किया जा सकता हे|

अंतत: आप को मेरी बात समझ में आई इसके लिए धन्यवाद
@रोहित जी आपने फ्रांस के प्रकरण की बात अच्छी तरह से रखी और बताया की सभी नागरिको पर लागू होगी |फ्रांस सारकार का इसमे कोई भेदभाव नहीं नज़र आता बल्कि मानवाधिकार की बात दिखाती हे | धन्यवाद --Vivek prakash (वार्ता) 03:54, 28 सितंबर 2011 (UTC)