वारंग क्षिति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वारंग क्षिति
प्रकार आबूगीदा
बोली जाने वाली भाषाएं हो भाषा
सृजनकर्ता लको बोदरा
मूल प्रणालियां
मूल आविष्कार
  • वारंग क्षिति
यूनिकोड रेंज

U+118A0–U+118FF

अंतिम स्वीकृत लिपि प्रस्ताव
ISO 15924 WaraWara
नोट: इस पन्ने पर यूनिकोड में IPA ध्वन्यात्मक चिह्न हो सकते हैं।

वारंग क्षिति (Varang Kshiti) एक आबूगीदा लिपि है जिसका प्रयोग भारत के झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, बिहार, छत्तीसगढ़ और असम राज्यों में बोली जाने वाली हो भाषा को लिखने के लिए किया जाता है।[1]

इतिहास[संपादित करें]

गुरु गोमके लको बोदरा ने १९४० के दशक में इस लिपि का आविष्कार किया था, लेकिन इसके सृजन का श्रेय उन्होंने कभी भी नहीं लिया। उनके अनुसार यह वास्त्व में १३वीं शताब्दी में देयोंवा तूरी द्वारा बनाई गई थी और उन्हें केवल दिव्यकृपा से पुनः प्रकट हुई जिसके बाद उन्होंने इसका आधुनिकीकरण किया। उन्होंने इसका प्रयोग कर के कुछ पुस्तकें लिखीं:

  • एला अल एतु उता
  • सड़ि सूड़े सागेन
  • बा बुरु बोंगा बुरु
  • पोम्पो
  • सार होरा (८ आध्याय)
  • रघु वंश
  • हिताहसा
  • आइदा होड़ कोवा सेवासड़ा
  • पिटिका
  • कोल नियम

इस लिपि में ३२ व्यंजन हैं जिनमें एक निहित स्वर होता है, जो कि देवनागरी की तरह साधारणतः "अ" होता है। संख्याओं के लिए भी अलग अंकों का प्रबन्ध है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी जोड़[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ager, Simon. "Varang Kshiti alphabet". Omniglot.com.
  2. Everson, Michael (2012-04-19). "N4259: Final proposal for encoding the Warang Citi script in the SMP of the UCS" (PDF). अभिगमन तिथि 2016-08-20.