ये तेरी गलियाँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ये तेरी गलियाँ
शैली नाटक
सर्जक पालकी मल्होत्रा
निर्देशक राजेश अमरलाल बब्बर
सृजनात्मक निर्देशक सौरभ अरोड़ा
सितारे मनीष गोपलानी
वृषिका मेहता
निर्माण का देश भारत
मूल भाषा(एं) हिन्दी
सत्र संख्या 1
प्रकरणों की संख्या 18 सितंबर 2019 को 307
निर्माण
निर्माता प्रेम किशन
सुनील मेहता
संपादक विनय मण्डल
छायांकन शंभू ओझा
कैमरा सेटअप बहु-कैमरा
प्रसारण अवधि 20 मिनट लगभग
निर्माण कंपनी सिनेविस्टास लिमिटेड
वितरक ज़ी एंटर्टेंमेंट
प्रसारण
छवि प्रारूप 576i
1080i (HDTV)
मूल प्रसारण 25 जुलाई 2018 (2018-07-25) – वर्तमान
बाह्य सूत्र
निर्माण जालस्थल

ये तेरी गलियाँ एक प्यार की कहानी को दिखाता भारतीय हिन्दी धारावाहिक है, जिसका प्रसारण ज़ी टीवी पर 25 जुलाई 2018 से शुरू हुआ। इसका निर्माण सिनेविस्टास लिमिटेड ने किया है, जिसमें मनीष गोपलानी और वृषाली मेहता मुख्य किरदार निभा रहे हैं।[1]

कहानी[संपादित करें]

ये कहानी कोलकाता में शुरू होती है, जहाँ एक गर्भवती महिला, अर्पिता भगवान से प्रार्थना करते रहती है कि उसे एक बहुत ही मजबूत बेटी हो, उसके साथ ही वो ये प्रार्थना भी करती है कि उसकी बेटी को एक दोस्त भी मिले जो उसकी हर परिस्थितियों में मदद करे। उसी समय मंदिर में एक छोटा सा बच्चा, शांतनु आ जाता है और प्रार्थना करता है कि उसे एक ऐसा दोस्त मिले, जिसका वो जिंदगी भर ख्याल रख सके। अर्पिता का पति, शुबू पैसों के लिए अपनी पत्नी को बेचने की योजना बनाता है। वहीं ठाकु माँ को चंदा उसे खरीदने हेतु मना लेती है। अर्पिता एक बच्ची को जन्म देती है और चंदा उसे शांतनु के पास ले जाती है। शांतनु अपने पसंदीदा खाने 'पुचका' के नाम से उसका नाम 'पुचकी' रख देता है।

पाँच साल बाद

शांतनु और पुचकी अच्छे दोस्त बन जाते हैं। अर्पिता को पता चलता है कि उसकी बेटी को ब्युटि किसी विदेशी को बेचना चाहती है। अपनी बेटी को बचाने के लिए अर्पिता वहाँ से अपनी बेटी के साथ भागने का प्रयास भी करती है, लेकिन भागने में विफल हो जाती है। शांतनु को चंदा गोद देने की योजना बनाती है। उसे निवेदिता मजूमदार गोद ले लेती है। शांतनु वहाँ रुकना चाहते रहता है, पर पुचकी और शांतनु बिछड़ जाते हैं और एक दूसरे को याद करते रहते हैं। अर्पिता की तबीयत खराब होनी शुरू हो जाती है, और पुचकी को वेश्या बनाने की कोशिश भी शुरू हो जाती है। निवेदिता का अपना एक बच्चा होने वाला होता है, और वो वादा करती है कि उस बच्चे के आने से उसका शांतनु के प्रति प्यार कम नहीं होगा।

सात महीने बाद

अर्पिता की मौत हो जाती है। उसके बाद पुचकी को शांतनु से मिलाने में पठान चाचा मदद करते हैं। निवेदिता को पता चलता है कि शांतनु और कोई नहीं, बल्कि अरिंधम और चंदा का ही नाजायज़ बच्चा है। इस बात का पता चलने पर वो अपने आप को शांतनु से दूर कर लेती है। अरिंधम को ब्युटि ब्लैकमेल करती है, जिसके कारण ठाकु माँ को दिल का दौरा आ जाता है। निवेदिता एक बच्चे को जन्म देती है।

कलाकार[संपादित करें]

मुख्य
अन्य
  • शुभांगी लटकार - ठाकु माँ
  • ऋणी ध्यानी - ब्युटि, ठाकु माँ की बेटी
  • अंकुश अरोड़ा - विराज
  • आनंदी त्रिपाठी - चंदा, शांतनु की माँ
  • आकांक्षा सरीन - अर्पिता, पुचकी की माँ
  • शरहान सिंह - शुबू, पुचकी के पिता

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. गौरव, शुक्ला (22 जुलाई 2018). "ये तेरी गलियांः कोलकाता के सोनागाछी में रहती है 'ब्यूटी'". कानपुर: अमर उजाला. मूल से 3 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 सितम्बर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]