कुमकुम भाग्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुमकुम भाग्य
कुमकुम भाग्य new.jpg
कुमकुम भाग्य
द्वारा निर्मित एकता कपूर
द्वारा उन्नत एकता कपूर
द्वारा लिखित कहानी
अनिल नागपाल
पटकथा
अनिल नागपाल
विकास तिवारी
संवाद
धीरज सरना
द्वारा निर्देशित मुजम्मिल देसाई
शरद यादव
सृजनात्मक निर्देशक रचनात्मक निर्माता
तनुश्री दासगुप्ता
शालू
विषय संगीत संगीतकार ललित सेन
नवाब आरज़ू
उद्घाटन विषय कुमकुम भाग्य
मूल देश भारत
भाषा(एँ) हिन्दी, पंजाबी
अवधियों की संख्या ०१
कुल धारावाहिक 1900
उत्पादन
निर्माता एकता कपूर
अवस्थिति मुंबई
छायांकन संजय मेमने
अनिल कटके
छायांकन रूपरचना मल्टी-कैमरा
प्रसारण अवधि ~२२ मिनट
उत्पादन कंपनी(यां) बालाजी टेलीफ़िल्म्स
प्रसारण
मूल चैनल ज़ी टीवी
चित्र प्रारूप 570i (एसडीटीवी),
1080i (एचडीटीवी)
मूल प्रसारण 15 अप्रैल 2014 – वर्तमान
स्थिति प्रसारित
कालक्रम
संबंधित शो कुंडली भाग्य
बाहरी कड़ियाँ
आधिकारिक जालस्थल
उत्पादक जालस्थल

कुमकुम भाग्य एक भारतीय हिन्दी धारावाहिक है, जो १५ अप्रैल २०१४ से ज़ी टीवी पर प्रारम्भ हुआ। ये धारावाहिक हर सोमवार से शुक्रवार रात ९ बजे प्रसारित होता है। इस धारावाहिक का निर्माण एकता कपूर और शोभा कपूर ने अपनी कंपनी बालाजी टेलीफिल्म्स के द्वारा किया है। इस धारावाहिक का निर्देशन मुजम्मिल देसाई और शरद यादव ने किया है। इस धारावाहिक में शब्बीर अहलूवालिया और सृति झा मुख्य किरदार की भुमिका निभा रहे है।[1]

कहानी[संपादित करें]

यह कहानी मूल रूप से कुमकुम भाग्य नामक एक शादी के स्थान पर आधारित है। जहां लोग शादी के लिए जगह किराए पर लेते है। लेकिन इसमें मूल रूप से प्रज्ञा (सृति झा) को दिखाया गया है। जिसकी शादी अभिषेक (शब्बीर अहलूवालिया) से होती है। अभिषेक अपनी बहन आलिया (शिखा सिंघस) के कहने पर ही प्रज्ञा से शादी करता है। अभिषेक को लगता है कि वह तनु से प्यार करता है जबकि वह प्रज्ञा से प्यार करता है। कुछ दिनों के बाद आलिया ने प्रज्ञा की बहन बुलबुल का अपहरण करवाने का निर्णय लेती है। जिससे वह पूरब से शादी न कर पाये और पूरब उसका हो सके। लेकिन अपहरण करने वाला बुलबुल के जगह प्रज्ञा को ले जाता है। प्रज्ञा को बचाने के लिए अभि उसके पीछे लग जाता है। वह दोनों ही अपहरण कर्ता के जाल में फंस जाते हैं। इसके बाद वो लोग प्रज्ञा को मारने वाले होते हैं और प्रज्ञा को बचाने के लिए अभि उसके सामने आ जाता है। अभि को गोली लग जाती है और वो दोनों खाई में गिर जाते हैं। इसके बाद प्रज्ञा अभि को दूर ले जाकर उसका इलाज करती है। उसके बाद प्रज्ञा अपनी दिल की बाद अभि को बताती है। अभि निर्णय नहीं ले पाता है। इसके बाद वह लोग घर में आ जाते हैं और अपहरण कर्ता पकड़ा जाता है।

प्रज्ञा बार बार अपने सवाल का जवाब लेने की कोशिश करती है। लेकिन अभि उसे नहीं बताता। एक रात अभि प्रज्ञा को अपने दिल की बात बताने का सोचता है। लेकिन तनु प्रज्ञा को कहती है कि वह अभि के बच्चे की माँ बनने वाली है। इसके बाद जब प्रज्ञा घर आती है तो अभि उससे अपने दिल की बात कहने की कोशिश करता है, लेकिन उससे पहले प्रज्ञा क्रोध में कह देती है कि वह नाटक कर रही थी उसे अभि से बिलकुल भी प्यार नहीं है। इसके बाद अभि भी क्रोध में आ जाता है और शराब पीने लग जाता है। प्रज्ञा अपने आप को घर से बाहर और तनु को घर के अंदर लाने का प्रयास करती है। इसमें वह और तनु कई प्रकार का रास्ता चुनते हैं। एक में तनु प्रज्ञा को अभि को मिले एक करोड़ रुपये चुराने को कहती है। प्रज्ञा उसे चुरा लेती है और तनु प्रज्ञा को पकड़ा देती है। लेकिन तभी तनु के जाँच का परिणाम आता है। लेकिन उसमें नाम में अभि और प्रज्ञा का रहता है। जिससे सभी को लगता है कि प्रज्ञा माँ बनने वाली है। इस कारण सभी खुश हो जाते है और उसके चोरी कि बात को भूल जाते हैं।

एक दिन अभि के जन्मदिन के समारोह के दौरान दादी बच्चे की बात सभी को बताती हैं, तभी प्रज्ञा आकार कहती है कि उसने बच्चे को गिरवा दिया। इस पर सभी घर वाले प्रज्ञा को कई सारे प्रश्न करते हैं और तनु भी आकार उसे कई बाते बोलती है। जिसके बाद अभि सच्चाई बता देता है कि प्रज्ञा माँ नहीं बनने वाली थी, वह जाँच के परिणाम गलत थे। उसने ही प्रज्ञा को यह झूठ बोलने के लिए कहा था। इसके बाद अगले दिन दादी उसी अस्पताल में इसकी जानकारी के लिए जाते हैं। लेकिन अभि और प्रज्ञा के कारण वह वहाँ असली कागज नहीं देख पाते। लेकिन घर पर आने के बाद उन्हें पता चलता है कि तनु माँ बनने वाली है। सभी को इस बात पर आश्चर्य होता है। इसके बाद तनु के पिता आकर कहते हैं कि इसके बच्चे का बाप अभि है। यह बात जानकर अभि की दादी उसे घर से निकाल देती है और प्रज्ञा को भी कहती है। लेकिन अभि उसे घर पर दादी की देखभाल के लिए रहने को कहता है। प्रज्ञा अभि और तनु की शादी के लिए दादी को मना लेती है।

उसके कुछ दिन बाद प्रज्ञा तनु की बात सुनती है कि उसके पेट में जो बच्चा है वह अभि का नहीं किसी और का है। इस कारण वह सदमे से बेहोश हो जाती है। तनु उसे देख कर अपने कमरे में रख कर चले जाती है। उसे इस बारे में नहीं पता होता की उसने बात सुन लिया है। इसके बाद जब प्रज्ञा को होश आता है वह इस बात को बताने के लिए अभि के कार्यालय में जाती है। जहाँ वह आलिया की बात सुनती है कि उसे तनु का सच पता है और वह इस बात को प्रमाणित कर देगी कि यह अभि का बच्चा है। वह अभि की सारी जायदाद लेकर उसे बर्बाद कर देना चाहती है और उसी ने एक कार्यक्रम के दौरान अभि पर पत्तर से चोटिल किया था।

वह इसी सोच के साथ कि अब क्या करे कैसे अभि को बचाए आदि सोचते समय उसका सड़क एक गाड़ी के कारण दुर्घटना हो जाता है। इसके बाद उसे दो लोग बचाकर अस्पताल ले जाते हैं। अन्य सभी को इस बात का पता चलता है लेकिन अस्पताल का पता नहीं जान पाते। बाद में प्रज्ञा को मरा हुआ घोषित कर देते हैं।

एक माह बाद

एक माह बाद अचानक प्रज्ञा आती है। बाद में यह पता चलता है कि दादी और प्रज्ञा मिल कर यह योजना बनाए रहते हैं। साथ ही अस्पताल से प्रज्ञा को वापस लाने और उसे इस योजना में लाने और मृत घोषित करने के पीछे भी दादी का ही हाथ होता है। आलिया की असलियत सभी को दिखाने में अंत में प्रज्ञा सफल हो जाती है। इसके साथ साथ राज को भी पता चल जाता है कि उसके सारी समस्या की जड़ और कोई नहीं, बल्कि उसकी पत्नी मिताली है। इसके बाद प्रज्ञा को तनु और निखिल के बीच का रिश्ता पता चलता है, और वो इसे सभी के सामने लाने की कोशिश करती है। लेकिन इसी बीच तनु दुर्घटना का शिकार हो जाती है, जिससे गर्भपात हो जाता है। जिसका आरोप प्रज्ञा पर ही लग जाता है। पर अंत में प्रज्ञा सच्चाई सामने ले ही आती है और अभि का विश्वास फिर से पा लेती है। दोनों एक दूसरे से लोनावला में प्यार का इकरार करते हैं। प्यार का इकरार करने के बाद अभि एक कार दुर्घटना का शिकार बन जाता है और अपने पिछले ढाई साल में बिता हर चीज (प्रज्ञा को भी) भूल जाता है। प्रज्ञा उसे छोड़ कर चले जाती है, लेकिन तलाक नहीं लेती है।

दो माह बाद

दो महीने बाद प्रज्ञा अभि के कंपनी से जुड़ती है और दोनों धीरे धीरे अच्छे दोस्त बन जाते हैं। अभि उसे अपना निजी सहायक बना लेता है। अभि के याददाश्त खोने का फायदा उठा कर प्रज्ञा को हमेशा के लिए दूर करने के लिए अभि और तनु की शादी कराने का सोचती है। वहीं प्रज्ञा उन दोनों की शादी से पहले अभि की याददाश्त वापस लाने की कोशिश करती है। अभि को अपने अतीत का थोड़ा थोड़ा हिस्सा याद आने लगता है और दोनों एक दूसरे से फिर प्यार का इजहार करते हैं। पर तनु की माँ कैंसर का झूठ बोल कर अभि को तनु से शादी करने के लिए मजबूर कर देती है। प्रज्ञा आखरी बार अभि से मिलने आती है, पर निखिल उसे बीच में ही अपहरण कर के ले जाता है। जब सरला अभि को बोलती है कि प्रज्ञा का अपहरण हो गया है, तो अभि शादी बीच में छोड़ कर प्रज्ञा को बचाने चले जाता है। जंगल में काफी भाग दौड़ करने के बाद अभि प्रज्ञा को बचा लेता है, दोनों जंगल से बाहर आते हैं तो अभि का कार से टक्कर हो जाता है और उसे सारी पुरानी बातें याद आ जाती है। दोनों फिर प्रज्ञा के पिता से मिलते हैं, उन्हें पता चलता है कि प्रज्ञा की दो बहनें हैं। निखिल के गुंडों से भागते हुए प्रज्ञा को गोली लग जाती है, और वो बांध में गिर जाती है। अभि उसे ढूँढने की बहुत कोशिश करता है, पर उसे असफलता ही हाथ लगती है। अभि थक हारकर जब घर आता है, तो सरला उससे प्रज्ञा के बारे में पूछती है, लेकिन तनु और आलिया उसे बाहर कर देते हैं। अभि उन दोनों को रोक देता है और बताता है कि उसकी याददाश्त वापस आ गई है।

एक माह दो दिन बाद

अभि को प्रज्ञा जैसी दिखने वाली मुन्नी, एक गाँव में रहनी वाली लड़की दिखती है। वो उसे प्रज्ञा सोच कर अपने घर ले जाता है। आलिया मुन्नी को बोलती है कि यदि उसने जो कहा वैसा नहीं करेगी तो उसके बहन के बच्चों को वो मार देगी। प्रज्ञा कोमा से बाहर आते ही मुंबई में अभि से मिलने चले जाती है, जहाँ उसे पता चलता है कि अभि उसके जैसी दिखने वाली किसी लड़की से शादी कर चुका है। मुन्नी प्रज्ञा को आलिया के योजना के बारे में बताती है और इसके बाद प्रज्ञा मुन्नी बन कर वहाँ चले जाती है, जब तक कि मुन्नी को उसके बच्चे न मिल जाएँ। लेकिन तनु जलन के कारण बता देती है कि ये मुन्नी है और अभि उसे घर के बाहर फेक देता है। इसी बीच पूरब की मुलाक़ात दिशा (रुचि सवर्ण) से होती है। उसे संग्राम सिंह से बचाने के लिए पूरब उससे शादी कर लेता है। दिशा जब पूरब से अपने प्यार का इजहार करती है, तो पूरब अपने आप को दोषी मानने लगता है कि वो अपने पत्नी को उसके हक का प्यार नहीं दे पा रहा है।

सिमोनिका, जो सोचती है कि अभि ने उसके पति दुष्यंत को मार दिया है, वो अभि से अपना बदला लेने के लिए उसकी सहायक बन कर आती है। सिमोनिका अभि को किसी भी तरह मारना या जीवन भर के लिए जेल में भेजना चाहती है। इसके लिए सिमोनिका अपने ही हत्या का आरोप अभि पर लगा देती है, लेकिन अंत में सच्चाई सभी के सामने आ जाती है और सिमोनिका को पुलिस पकड़ कर ले जाती है। लेकिन बीच में ही वो पुलिस से बच कर भाग जाती है। तनु के साथ एक समझोते के अनुसार यदि वो अभि को छोड़ देती है तो प्रज्ञा को मारने में वो मदद करेगी। इस समझौते के तहत सिमोनिका के सुरक्षाकर्मी प्रज्ञा को कारखाने में बुलाते हैं और उसके आने से पहले ही दादी वहाँ आ जाती है और दोनों के बीच लड़ाई में दादी को गोली लग जाती है। अभि इसका दोषी प्रज्ञा को मानने लगता है और उसे छोड़ देता है।

8 साल बाद

अभि और प्रज्ञा दोनों अलग हो चुके हैं। आलिया अब अभि के व्यापार को संभालती है और वहीं आलिया और तनु की दोस्ती भी टूट जाती है। पूरब और दिशा का सनी नाम का बच्चा होता है। अभि की शादी तनु से हो जाती है और वहीं प्रज्ञा लंदन में अपनी बेटी कियारा के साथ रहती है। वो किंग सिंह (मिशाल रहेजा) की मैनेजर के रूप में काम करती है, कियारा उसे अपना पिता सोचती है, वहीं वो भी उसे अपनी बेटी की तरह ही प्यार करता है। अपने काम से प्रज्ञा दिल्ली में किंग और कियारा के साथ आती है, उसे ये पता नहीं होता है कि अभि अब दिल्ली में रह रहा है। दिल्ली में प्रज्ञा और अभिषेक आमने-सामने मिलते हैं, अभि उसे ही शादी के टूटने का दोषी बताता है। दिशा और पूरब को एहसास होता है कि कियारा अभिषेक और प्रज्ञा की बेटी है, लेकिन वे लोग ये बात अभिषेक से छुपाते हैं।

7 साल बाद :-

अभि और प्रज्ञा एक दूसरे को दादी की मौत के लिए जिम्मेदार मानते हैं।  अभि तनु के साथ आपसी सहमति से बने फर्जी रिश्ते में रह रहा है।  प्रज्ञा ब्रिटेन में अभि की बेटी कियारा और लंदन के रैपर किंग सिंह के साथ रह रही है।  पूरब और दिशा खुशी-खुशी शादीशुदा हैं और उनका एक बेटा सनी है।
जब अभि और किंग को एक विश्व संगीत एल्बम बनाने का प्रस्ताव मिलता है, तो किंग, प्रज्ञा और कियारा भारत के लिए उड़ान भरते हैं।
कियारा और अभि दिल्ली में मिलते हैं, जहां अब मेहरा परिवार रहता है और अच्छे दोस्त बन जाते हैं।  जब वे पहली बार मिलते हैं तो किंग और अभि आपस में भिड़ जाते हैं, क्योंकि वह पुलिस स्टेशन में किंग की पत्नी के रूप में प्रज्ञा से मिलता है, और प्रज्ञा का दिल टूट जाता है।  अभि और किंग दोस्त बन जाते हैं।  अभि को पता चलता है कि कियारा नेहा की शादी में उसकी बेटी है, मिताली और राज की बेटी।  अभि को पता चलता है कि किंग और प्रज्ञा की शादी नहीं हुई है।  वह प्रज्ञा को उसके प्यार के लिए मना लेता है और उससे दोबारा शादी कर लेता है।  प्रज्ञा जुड़वां बच्चों के साथ गर्भवती हो जाती है।  किंग, जिसे उससे प्यार हो गया, उसे और कियारा की याद आती है।
ईर्ष्यालु तनु प्रज्ञा और उसके अजन्मे बच्चों को मारने की कोशिश करती है, लेकिन अभि, आलिया और अन्य उसे घर से निकाल देते हैं।  किंग प्रज्ञा को तनु से बचाने का फैसला करता है।  तनु अपने पूर्व प्रेमी निखिल को प्रज्ञा और उसके जुड़वा बच्चों की हत्या करके अभि से बदला लेने के लिए उकसाती है।  निखिल प्रज्ञा और उसके जुड़वा बच्चों को मारने के इरादे से मेहरा हवेली में प्रवेश करता है, लेकिन कियारा उसे पहचान लेती है।  खुद को एक्सपोज होने से बचाने के लिए वह अपना प्लान बदलता है और कियारा को किडनैप कर लेता है।  फिर निखिल अभि और प्रज्ञा को फिरौती मांगने के लिए बुलाता है।  किंग कियारा को अपने साथ ले जाने की योजना बनाता है और निखिल को और पैसे देने के लिए तैयार हो जाता है, लेकिन उसे कियारा को दे देना चाहिए।  बदला लेने के लिए निखिल कियारा को मार देता है।
कियारा की मौत के लिए प्रज्ञा और अभि एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराते हैं।  दोनों अलग हो जाते हैं और अभि एक जुड़वा लेता है जबकि प्रज्ञा दूसरे को।


20 साल बाद:- 
प्रज्ञा होशियारपुर में अपनी सुंदर लेकिन सरल और अनुशासित बेटी, प्राची और निवासियों, बीजी और शाहाना के साथ रहती है।  अभि आलिया और उसकी घमंडी और जिद्दी फैशनिस्टा बेटी रिया के साथ रहता है।  रिया का पालन-पोषण उसके शासन, मीरा ने किया है, जिसे वह प्यार करती है।  सालों से मीरा ने अभि के लिए अपने प्यार को छुपाया है, क्योंकि वह जानती है कि अभि प्रज्ञा का है और उसकी ड्यूटी रिया के साथ ही है।  दिशा और पूरब को अब अलग हुए 19 साल हो चुके हैं।  पूरब ने आलिया से शादी की है, जिससे उनका एक बेटा आर्यन है।  शाहाना और प्राची दिल्ली में पढ़ने का फैसला करते हैं (एक ऐसे कॉलेज में जहां रिया भी पढ़ती है)।  प्रज्ञा पहले मना करती है क्योंकि अभि भी वहीं रहता है लेकिन बाद में स्वीकार कर लेता है।  दिल्ली में, प्राची और अभि कई बार मिलते हैं और एक मजबूत बंधन बनाते हैं।  लेकिन रिया को प्राची से नफरत हो जाती है, इसलिए प्रज्ञा प्राची के साथ रहने और उनकी गलतफहमी दूर करने के लिए वहां आती है।  हालांकि, रिया और प्रज्ञा के बीच अच्छे संबंध हैं।  प्रज्ञा, प्राची और शाहाना सरिता बहन के घर में रहती हैं, प्रज्ञा को उनकी बेटी के नाम अनुराधा से प्यार से बुलाती हैं।  नतीजतन, प्राची की मां, प्रज्ञा, अभि द्वारा अनुराधा के रूप में गलत है।
रणबीर कोहली (अभि का सबसे अच्छा दोस्त विक्रम कोहली का बेटा) और रिया बचपन के दोस्त हैं जो चुपके से एक-दूसरे को पसंद करते हैं।  वह रिया को प्रपोज करता है, जो उसे प्राची के लिए गिरने का नाटक करने के लिए कहता है, फिर उसे स्वीकार करने की शर्त के रूप में उसका दिल तोड़ देता है।  प्राची और रणबीर एक-दूसरे को नापसंद करते हैं और लगातार झगड़ते रहते हैं क्योंकि प्राची उसके कैसानोवा तरीकों से नफरत करती है।  होशियारपुर से प्राची का दीवाना प्रेमी संजू, प्राची की तलाश में दिल्ली आता है।  वह दोनों की जल्द से जल्द शादी करने के लिए रिया के साथ काम करता है क्योंकि वह रणबीर और प्राची की नजदीकियों को नापसंद करती है।  वह रणबीर से प्राची का दिल तोड़ने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए कहती है।  रिया की तलाश पूरी करते हुए, रणबीर अनजाने में प्राची के प्यार में पड़ जाता है।  वह भी बाद में उसकी बुरी छवि के बावजूद उसका अच्छा पक्ष देखकर उसकी भावनाओं का बदला लेना शुरू कर देती है।  दिशा और पूरब फिर मिलते हैं, और यह स्पष्ट है कि वे अभी भी एक-दूसरे से प्यार करते हैं।  हालाँकि, पूरब और आलिया की शादी हो चुकी है और उनका एक बेटा है, यह पता लगाने के बाद दिशा ने दूरी बनाए रखी।  पूरब आलिया से नफरत करता है और आर्यन की वजह से ही उसके साथ रहता है।  घटनाओं के एक मोड़ में, रणबीर एक राजनेता की बेटी माया से सगाई कर लेता है, और उनकी शादी के दिन, प्राची द्वारा रणबीर, प्राची, आर्यन, शाहाना और सरिता की योजना के तहत उसकी अदला-बदली की जाती है, लेकिन उनकी शादी रोक दी जाती है।  रणबीर और प्राची एक दूसरे से वादा करते हैं।  वह जल्द ही प्राची को प्रपोज करता है और उसे एक अंगूठी पहनाता है जिससे रिया चौंक जाती है (जो उसके साथ सगाई करने वाली थी क्योंकि उनके दोनों परिवार चाहते थे कि वे शादी करें)।  इससे रिया नाराज हो जाती है, जो आलिया के साथ, प्राची को मारने का फैसला करती है, लेकिन इस सच्चाई को जानने के लिए समाप्त हो जाती है कि प्राची उसकी अपनी बड़ी बहन है और प्रज्ञा उसकी माँ है।  रणबीर अपनी मां की स्वास्थ्य स्थिति के कारण रिया के साथ सगाई करने के लिए मजबूर है और रणबीर को प्राची को भूलकर रिया से शादी करना चाहता है।
अभि और प्रज्ञा अंततः मिलते हैं और सीखते हैं कि प्राची और रिया उनकी जुड़वां बेटियां हैं।  रणबीर अपनी मां के लिए प्राची से बचने की कोशिश करता है, भले ही वह उसे मार रहा हो और प्राची परेशान हो जाती है क्योंकि उसे लगता है कि वह उससे अब प्यार नहीं करता।  जब वह उससे भिड़ती है, तो वह प्राची से कहता है कि वह दुनिया की सबसे अच्छी लड़की है और उससे प्यार करती है।  रिया उनके कबूलनामे को सुन लेती है, और जब वह उन्हें एक साथ देखती है, तो वह प्राची पर भड़क जाती है और कहती है कि वह और रणबीर शादी कर लेंगे।  प्राची ने खुद का बचाव करते हुए कहा कि उसने रणबीर से सगाई कर ली है, लेकिन रिया उसे बताती है कि उनके परिवार पहले ही उनकी सगाई तय कर चुके हैं।  प्राची भाग जाती है, परेशान होती है और रणबीर पर गुस्सा करती है।  जल्द ही, रणबीर प्राची से मिलने जाता है, जो अभी भी उससे परेशान है, और वह अपनी माँ को दोष देता है और कहता है कि वह उसे श्रीमती कोहली के रूप में अपने घर लाएगा।  प्राची उसे माफ कर देती है, और वे फिर से मिल जाते हैं।  प्रज्ञा गलत समझती है कि अभि मीरा (रिया की केयरटेकर) के साथ रह रहा है और उसे छोड़ देता है।  फिर अभि और मीरा की शादी को लेकर प्राची और रणबीर के बीच फिर से गलतफहमियां पैदा होने लगती हैं।  रिया वादा करती है कि अगर प्राची रणबीर से रिश्ता तोड़ लेती है तो वह प्रज्ञा से शादी कर लेगी।  प्राची टूटे मन से अपनी मां की खुशी के लिए इस बात को मान जाती है।  इस प्रकार वह रणबीर से खुद को दूर कर लेती है और कहती है कि वह केवल उसके पैसे के लिए उसके साथ थी।
दूसरी तरफ, अभि चाहता है कि प्रज्ञा उसके लिए उसके प्यार को स्वीकार करे और मीरा के साथ नकली शादी की योजना बनाएं, जो अभि और प्रज्ञा को फिर से मिलाने की योजना के साथ जाती है।  रणबीर को पता चलता है कि रिया के साथ डील के कारण प्राची ने उससे ब्रेकअप कर लिया था, लेकिन उसे नहीं पता कि यह किस बारे में था।  इसलिए, वह आर्यन, शाहाना और उसके दोस्तों जय और पलक के साथ एक मंदिर में अपनी और प्राची की शादी की योजना बनाता है।  प्राची इस बात से अनजान रहती है क्योंकि उसे लगता है कि जय और पलक शादी कर रहे हैं।  लेकिन रणबीर अपना मन बदल लेता है क्योंकि उसे पता चलता है कि वह प्राची से कानूनी रूप से शादी करना चाहता है।  दूसरी ओर, जैसा कि अभि और मीरा को उम्मीद थी, प्रज्ञा आती है, अपनी और मीरा की शादी को रोकती है और मीरा के आशीर्वाद से उससे दोबारा शादी करती है।  वीडियो कॉल पर यह देखकर परिवार रोमांचित है, लेकिन आलिया गुस्से में है;  इस तरह वह मीरा को घर से निकाल देती है।  नवविवाहित अभि और प्रज्ञा कुछ गुंडों से भाग जाते हैं।  यह दिग्विजय नाम का एक आदमी होने का पता चलता है जो अभि से पिछली घटना का बदला लेना चाहता है।  दिग्विजय और उसके आदमियों ने अभि को गोली मार दी।  लेकिन, प्रज्ञा उसे बचा लेती है और उसे अस्पताल ले जाती है।  हालांकि, दिग्विजय के गुंडे प्रज्ञा का अपहरण कर लेते हैं।  डॉक्टरों ने अभि को मृत घोषित कर दिया।  प्रज्ञा गुंडों से बचती है और अस्पताल जाती है और अभि को पुनर्जीवित करती है, लेकिन गुंडे फिर से अस्पताल पहुंचते हैं और प्रज्ञा का पीछा करते हैं, लेकिन वह बेहोश हो जाती है और गुंडे चले जाते हैं।  यह पता चलता है कि प्रज्ञा दो दिनों से बेहोश थी, और परिवार में से किसी को भी आलिया की वजह से अभि को देखने की इजाजत नहीं है।  मेहरा परिवार अभि के अज्ञात रहस्य को छुपा रहा है, जो प्रज्ञा को संदेहास्पद बनाता है, और जब वह अपने पति अभि को देखने के लिए विनती करती है, तो आलिया ने सबूत दिखाते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया है कि उन्होंने शादी नहीं की है।  लेकिन वह रिहा हो जाती है और मेहरा लौट जाती है, लेकिन आलिया उसे बाहर निकाल देती है।
आलिया द्वारा बुलाए जाने के बाद तनु मेहरा लौट जाती है।  प्रज्ञा मेहरा हवेली में एक परदे के नौकर के रूप में काम करने के लिए अपनी पहचान गायत्री में बदलने का फैसला करती है।  यह पता चलता है कि अभि मानसिक रूप से अस्थिर हो गया है और अपना दिमाग खो चुका है;  इसलिए उसे एक कमरे में बंद कर दिया गया है।  प्रज्ञा, प्राची, शाहाना, सरिता, रणबीर और आर्यन को छोड़कर मेहरा हवेली में हर कोई यह जानता है।  अभि की हालत देखकर प्रज्ञा चौंक जाती है और उसका दिल टूट जाता है और वह आलिया को डंडे से पीटते हुए देखकर और भी हैरान हो जाती है।
रणबीर प्राची को फिर से जीतने की कोशिश करता है, जबकि वह अभी भी अपनी दूरी बनाए रखती है, यह जानते हुए कि उसके माता-पिता ने दोबारा शादी कर ली है और रिया के साथ उसका सौदा सफल रहा।  हालाँकि, उसे पलक से पता चलता है कि रणबीर ने मंदिर में अपनी और प्राची की शादी की योजना बनाई थी, और वे उस दिन शादी करने वाले थे।  गुस्से में, प्राची रणबीर से विश्वासघात के लिए उसका सामना करती है।  रणबीर ने जवाबी कार्रवाई करते हुए कहा कि उन्हें उस दिन उससे शादी नहीं करने का पछतावा है।  प्राची और आर्यन रणबीर के नए दृढ़ संकल्प से भयभीत हैं, और वह आर्यन से कहता है, प्राची मिसेज रणबीर कोहली बन जाएगी चाहे कुछ भी हो।  आलिया तनु से कहती है कि वह रिया के करीब जाए और अभि के ठीक होने पर उसे बहुत प्यार दिखाए, और वह तनु और आलिया पर भरोसा कर सकता है।  आलिया रणबीर और रिया की सगाई की योजना बनाती है जो रणबीर को छोड़कर कोहली को खुश करती है।  रणबीर प्राची को रिया से शादी करने के परिवारों के फैसले के बारे में बताता है, जो प्राची को परेशान करता है।  रिया उनकी बातचीत सुन लेती है और यह सुनकर चौंक जाती है कि रणबीर और प्राची मंदिर में शादी करने वाले थे।  वह प्राची पर अपने सौदे से पीछे हटने का आरोप लगाती है;  हालाँकि, प्राची उसे बताती है कि यह अज्ञात था।  अभि प्रज्ञा से पूछता है कि क्या वह उसे फुग्गी कह सकता है (जिसे अभि प्रज्ञा कहता था)।  यह प्रज्ञा पर भारी पड़ता है।
इस खंड में और अधिक जानकारी जोड़ी जानी है


2 साल बाद:- 


दो साल बीत चुके हैं और मेहराओं को बर्बाद कर दिया है।  खोलियों से समझौता टूटने से अभि और उसका परिवार गरीब हो जाता है, वहीं ऑस्ट्रेलिया से लौटी प्रज्ञा बहुत अमीर है।
अब शादीशुदा, रणबीर और प्राची अपने-अपने परिवारों के इनकार करने के बावजूद एक अच्छा जीवन जीते हैं।  काफी समय तक, प्राची को अपने माता-पिता से कोई खबर नहीं मिली, जिससे वह अपनी जुड़वां बहन के लिए जिम्मेदार होने के बारे में दोषी महसूस कर रही थी।  रिया, वह दिन-प्रतिदिन केवल रहती है, अपनी बहन के विवाहित जीवन को बर्बाद करने के लिए, रणबीर के चचेरे भाई सिद्धार्थ के साथ उसके गठबंधन जैसे शुभ क्षण की प्रतीक्षा कर रही है।
चॉल में रहकर अभि शराबी बन गया है जिसकी हरकतों से तनु खुश नहीं होती।  अपने बदला का प्रचार करने के लिए उसे खोजने के लिए बेताब, प्रज्ञा एक जासूस को काम पर रखती है।  लेकिन खुद को नजरअंदाज करते हुए, वह अक्सर अपने पूर्व पति के साथ रास्ते पार कर जाती है, जो यहां तक ​​​​कि मैकेनिक के रूप में अपनी कार को साफ करने के लिए भी चला जाता है।  जब तनु आखिरकार प्रज्ञा का बैग चुरा लेती है और प्रज्ञा उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराती है, तो अभि उससे भीख मांगने जाता है, यह सोचकर कि यह कोई और है।
प्रज्ञा और अभि की असफल मुलाकात के कुछ समय बाद, जिसे सुषमा उनके घर से बाहर निकालने का निर्देश देती है, पूरब तनु के एक वकील के साथ बंधन को पोस्ट करने के लिए आता है।  यह पता चलता है कि भले ही मेहरा गरीब हो गए हों, लेकिन पूरब अभी भी ठीक है और आखिरकार आलिया से तलाक हो गया।  इस बीच, सुषमा ने मेहरास हवेली को नीलामी के लिए रख दिया, इससे पहले कि प्रज्ञा उसे रुकने के लिए मना ले और बलजीत को वहां रहने दें।  हालाँकि, सुषमा बिक्री के रूप में भी जारी रहती है जब प्रज्ञा को पता चलता है कि उसका बदला लेने के लिए यह सबसे अच्छी बात है, और उन यादों को दूर करना है जो अभि के लिए उसकी नाराजगी में बाधा बन सकती हैं।
अंत में, यह स्वयं अभि ही है जो चालबाजी का उपयोग करके अपने ही घर को छुड़ाता है।  पत्नी के अहंकार को तोड़ना उसका लक्ष्य है, उसे इस बात का अहसास ही नहीं है कि वह केवल उसकी नफरत को फिर से जगा रहा है, जिसे सुषमा लगातार भड़काती रहती है।

कलाकार[संपादित करें]

मुख्य
  • सृति झा — प्रज्ञा अरोड़ा / प्रज्ञा अभिषेक मेहरा
  • शब्बीर अहलूवालिया — अभिषेक प्रेम मेहरा / अभि
  • मुग्धा चापेकर — प्राची अभिषेक मेहरा
  • पूजा बैनर्जी — रिया अभिषेक मेहरा
  • कृष्ण कौल — रणबीर कोहली
अन्य
  • शिखा सिंह / रेना मल्होत्रा - आलिया पूरब खन्ना, अभिषेक की बहन
  • अर्जित तनेजा / विन राणा — पूरब खन्ना, अभिषेक का दोस्त और दिशा का पति
  • रुचि सवर्ण — दिशा खन्ना, पूरब की दूसरी पत्नी
  • मृणल ठाकुर / काजल श्रीवास्तव — बुलबुल अरोरा, पूरब की पहली पत्नी
  • मिशाल रहेजा — किंग सिंह
  • फैज़ल राशिद - सुरेश
  • सुप्रिया शुक्ला - सरला अरोड़ा, बुलबुल और प्रज्ञा की माँ
  • अंकित मोहन - आकाश मेहरा
  • अदिति राठोड़ - रचना आकाश मेहरा
  • अमित धवन / अनुराग शर्मा - राज मेहता
  • समीक्षा भटनागर / स्वाति आनंद - मिताली राज मेहरा
  • मधु राजा - दलीजीत कौर अरोरा
  • दलजीत सौंध - अभी और आलिया की दादी
  • मधुरिमा तुली / लीना जुमानी - तनु
  • नील मोटवानी / सुस्तम अरनब सिंह मुखर्जी - श्री कपूर
  • निखिल आर्य - निखिल सूद
  • सकलाइन राही खान - रॉकी
  • शुभम गर्ग - पूरब का मित्र
  • शिवानी सोपुरी - पम्मी मेहरा
  • नेहा बम - पूरब की रिश्तेदार
  • बॉबी खन्ना - तनु के पिता
  • रोमा नवानी - तनु की माँ
  • नविना बोले - अभि की प्रशंसक
  • चारु मेहरा - पूर्वी
  • मनमोहन तिवारी

निर्माण[संपादित करें]

यह एक प्रेम कहानी है, जिसका निर्माण एकता कपूर और शोभा कपूर ने किया है। एकता कपूर को लगता है कि क से शुरू होने वाले धारावाहिक के नाम उसके लिए भाग्यशाली होते हैं। इस लिए इस धारावाहिक का नाम भी क से अर्थात कुमकुम भाग्य रखा गया।[2]

इसके बारे में बताते हुए ज़ी टीवी के कार्यक्रम के मुख्य, नमित शर्मा कहते हैं कि- “यह धारावाहिक एक दूसरे अच्छे धारावाहिक के जगह पर दिखाया जाएगा, इससे आप समझ सकते हैं की हमें इस पर कितना भरोसा है। यह धारावाहिक ज़ी टीवी के 4 वर्षों से चल रहे एक बहुत ही विशेष धारावाहिक पवित्र रिश्ता का जगह लेगा। जो भारतीय दर्शकों का सबसे अधिक चहेता रहा है। रात को खाना खाते समय यह मानव और अर्चना की जोड़ी लाखों लोगों को बहुत पसंद है। कुमकुम भाग्य भी दूसरा सबसे अच्छी कहानी पर आधारित एक पंजाबी परिवार की है जो मुंबई में रहता है। जिसमें एक माँ अपनी दोनों बच्चियों के लिए एक आदर्श रिश्ता खोजते रहती है। एकता ने इसे एक सुन्दर प्रेम को नाट्य रूप दिया है जो अन्य रोज रोज के सास बहू के कहानी से बिलकुल अलग है।”[3]

पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष पुरस्कार शैली प्राप्तकर्ता परिणाम
२०१४ ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय बेटी सृति झा जीत[4]
लोकप्रिय किरदार (स्त्री) सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय परिवार एकता कपूर
२०१५ गोल्ड पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (नकारात्मक भूमिका) शिखा सिंह जीत
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (विशेषज्ञ पसंद) शब्बीर अहलूवालिया
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय कहानी अनील नागपाल जीत[5]
लोकप्रिय किरदार (स्त्री) सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय परिवार एकता कपूर
२०१६ गोल्ड पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक एकता कपूर जीत
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता शब्बीर अहलूवालिया
बोरोप्लस फेस ऑफ़ द इयर सृति झा
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय बहू सृति झा जीत[6]
लोकप्रिय किरदार (स्त्री) सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय धारावाहिक एकता कपूर
२०१७ गोल्ड पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक एकता कपूर जीत
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता शब्बीर अहलूवालिया नामांकित
सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री सृति झा
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय बुज़ुर्ग दलजीत सौंध जीत[7]
लोकप्रिय मा सुप्रिया शुक्ला
लोकप्रिय बेटी सृति झा
लोकप्रिय बहू सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय धारावाहिक एकता कपूर
२०१८ गोल्ड पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (नकारात्मक भूमिका) सीखा सिंह जीत[8]
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता शब्बीर अहलूवालिया
सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री सृति झा
सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक एकता कपूर
गोल्ड निर्माता सम्मान
(१००० एपिसोड्स की समाप्ति पर)
एकता कपूर
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय छोटा बच्चा कौरॉकी वसिष्ठ
वेदांश जाजू
जीत[9]
लोकप्रिय मा सृति झा
लोकप्रिय पिता शब्बीर अहलूवालिया
मिशाल रहेजा
लोकप्रिय बेटा शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) (जी 5) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय किरदार (स्त्री) (जी 5) सृति झा
लोकप्रिय धारावाहिक (जी 5) एकता कपूर
२०१९ गोल्ड पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (सह्या भुमिका) मुग्धा चापेकर जीत
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता शब्बीर अहलूवालिया नामांकित
सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री सृति झा
सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक एकता कपूर
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय नया सदस्य (पुरुष) कृष्ण कौल जीत[10]
लोकप्रिय नया सदस्य (स्त्री) मुग्धा चापेकर
नैना सिंघ
जी की शान शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) (जी 5) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी (जी 5) शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय धारावाहिक (जी 5) एकता कपूर
इंडियन टेलीविजन अकैडमी पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (आलोचक पसंद) सृति झा जीत
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (आलोचक पसंद) शब्बीर अहलूवालिया नामांकित
२०२० दादासाहेब फालके इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा जीत[11]
सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक एकता कपूर
गोल्ड ग्लैम एवं स्टाइल पुरस्कार मोस्ट फोटोजेनिक सितारा (स्त्री) मुग्धा चापेकर जीत[12]
मोस्ट फिट सितारा (स्त्री) पूजा बैनर्जी
ज़ी रिश्ते पुरस्कार लोकप्रिय पीता शब्बीर अहलूवालिया जीत[13]
लोकप्रिय बेटी मुग्धा चापेकर
रब ने बना दी जोड़ी शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय किरदार (पुरुष) शब्बीर अहलूवालिया
लोकप्रिय जोड़ी (जी 5) शब्बीर अहलूवालिया एवं सृति झा
लोकप्रिय परिवार एकता कपूर

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 20 जून 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 जून 2015.
  2. "एकता कपूर का नया धारावाहिक 'कुमकुम भाग्य'". वेबदुनिया. मूल से 29 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 जुलाई 2015.
  3. "Ekta Kapoor's Kumkum Bhagya launches on 15th April on Zee TV". मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 जुलाई 2015.
  4. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2014: विजेता सूचि
  5. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2015: विजेता सूचि
  6. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2016: सृति-शब्बीर ने जीते अहम पुरस्कार
  7. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2017: सृति-शब्बीर समेत कुमकुम भाग्य के परिवार ने जीते ज्यादातर पुरस्कार
  8. गोल्ड अवार्ड्स:2018 हिना खान, जेनिफर विंगेट, सृति झा, शब्बीर अहलूवालिया ने जीते पुरस्कार
  9. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2018: नागिन ३ सर्वश्रेष्ठ धारावाहिक, सृति-शब्बीर लोकप्रिय जोड़ी, धीरज-श्रृद्धा लोकप्रिय कलाकार।
  10. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2019: श्रद्धा-धीरज, श्रीती-शब्बीर ने जीते अनेक पुरस्कार
  11. दादासाहेब फालके इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल पुरस्कार:2020 धीरज धूपर, दिव्यांका त्रिपाठी, सृती झा समेत कई कलाकार ने जीती ट्रॉफी।
  12. गोल्ड अवॉर्ड्स 2020: धीरज धूपर, श्रद्धा आर्य, हिना खान, मुग्धा चापेकर समेत इस टीवी सितारों ने जीती ट्रॉफी
  13. ज़ी रिश्ते पुरस्कार, 2020: श्रद्धा, श्रीती, शब्बीर ने जीते अनेक पुरस्कार

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]