मैंने प्यार किया (1989 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मैंने प्यार किया
निर्देशक सूरज बड़जात्या
अभिनेता सलमान ख़ान,
भाग्यश्री,
लक्ष्मीकांत बेर्डे,
आलोक नाथ,
मोहनीश बहल
संगीतकार रामलक्ष्मण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1989
देश भारत
भाषा हिन्दी

मैंने प्यार किया 1989 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

करन (आलोक नाथ) एक बहुत गरीब व्यक्ति रहता है, जिसकी एकलौती बेटी सुमन (भाग्यश्री) रहती है। वह अपनी बेटी की शादी के लिए और पैसे कमाने दुबई जाने की सोचता है। वह अपनी बेटी को अपने दोस्त किशन (राजीव वर्मा) के घर छोड़ देता है। सुमन और किशन के बेटे प्रेम (सलमान खान) की दोस्ती हो जाती है।

सुमन को प्रेम एक कार्यक्रम में ले जाता है, जिसे सीमा (परवीन दस्तूर) ने बनाया रहता है। वहाँ रंजीत का बेटा जीवन (मोहनीश बहल) सुमन और प्रेम के दोस्ती को गलत बोलता है। सुमन वहाँ से चले जाती है। उसके बाद दोनों को पता लगता है कि दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगे हैं। कौशल्या को उन दोनों के प्यार के बारे में पता चलता है और वो उसे बहू के रूप में मान भी लेती है, लेकिन किशन इससे खुश नहीं होता और सुमन को घर से जाने के लिए कहता है। इसी दौरान दुबई से लौट कर करन वहाँ आता है। उसे जब इस बात का पता चलता है तो उसका किशन से झगड़ा हो जाता है। इसके बाद वो सुमन को लेकर अपने गाँव लौट जाता है।

प्रेम को अलग होना ठीक नहीं लगता है और वो भी सुमन के गाँव चले जाता है। करन जो किशन के ऊपर क्रोधित रहता है, वो कहता है कि यदि वो खुद पैसे कमा कर दिखा दिखा सकता है तो ही वो उसकी शादी सुमन से कराएगा। इसके बाद प्रेम ट्रक ड्राइवर के रूप में काम करता है और मजदूरी भी करता है।

महीने के अंत तक उसके बाद जरूरत के हिसाब से पैसे हो जाते हैं। जब वह करन के घर जाने लगता है तो बीच रास्ते में उसे गुंडे मिल जाते हैं और उसे मारने की कोशिश करते हैं। वो बच जाता है लेकिन उसका सारा पैसा भीग जाता है। करन उसके द्वारा भीगा हुआ पैसा लाने को बेकार बता देता है। क्योंकि भीगा हुआ पैसा कुछ काम का नहीं है। लेकिन उसके मेहनत से करन का दिल पिघल जाता है और वो दोनों की शादी के लिए मान जाता है। रंजीत को ऐसा लगता है कि जीवन ने प्रेम को मार दिया होगा। वो किशन के पास जा कर बोलता है कि करन ने प्रेम को मार दिया है। किशन जब करन के गाँव जाता है तो उसे पता चलता है कि प्रेम सही सलामत है। इसके बाद जीवन और रंजीत के गुंडे सुमन को ले जाते हैं लेकिन करन, किशन और प्रेम मिल कर रंजीत और बाकियों को हारा कर सुमन को बचा लेते हैं। इस घटना के बाद करन और किशन फिर से दोस्त बन जाते हैं व प्रेम और सुमन की शादी हो जाती है।

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

रोचक तथ्य[संपादित करें]

परिणाम[संपादित करें]

बौक्स ऑफिस[संपादित करें]

समीक्षाएँ[संपादित करें]

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]