बीवी हो तो ऐसी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बीवी हो तो ऐसी
बीवी हो तो ऐसी.jpg
बीवी हो तो ऐसी का पोस्टर
निर्देशक जे॰ के॰ बिहारी
निर्माता सुरेश भगत
लेखक जगदीश कनवाल (संवाद)
पटकथा जगदीश कनवाल
विजय कुमार
कहानी जे॰ के॰ बिहारी
अभिनेता रेखा,
फारूक शेख,
बिन्दू,
कादर ख़ान,
असरानी,
सलमान ख़ान
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 26 अगस्त, 1988
देश भारत
भाषा हिन्दी

बीवी हो तो ऐसी 1988 में बनी हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। इसको लिखित और निर्देशित जे॰ के॰ बिहारी ने किया और मुख्य भूमिकाओं में रेखा, फारूक शेख और बिन्दू हैं। संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने दिया है। यह सलमान ख़ान (आवाज किसी और ने डब की[1]) और रेणु आर्य की पहली फ़िल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

भंडारी समृद्ध उच्च वर्ग का परिवार है। घर में कमला (बिन्दू) का प्रभुत्व है जो भंडारी परिवार के सारे फैसले लेती हैं। वह पारिवारिक व्यवसाय का ख्याल रखती है, जबकि उसके घर पर रहने वाला पति कैलाश (कादर ख़ान) एक घर जमाई है। कमला चाहती है कि उसका सबसे बड़ा बेटा सूरज (फारूक शेख) एक ऐसी लड़की से विवाह करे जिसकी सामाजिक स्थिति उनके साथ मेल खाती हो।

हालाँकि, उनकी इच्छाओं के विपरीत, सूरज अपने दिल की मानता है और गरीब लेकिन प्रतिभाशाली गाँव की लड़की शालू (रेखा) से शादी करता है। ये कमला को बहुत क्रोधित करता है। अपने हास्यपूर्ण लेकिन हमेशा किसी योजना के साथ तैयार सचिव (असरानी) के साथ, कमला ने उसे घर से बाहर निकालने का प्रण लिया और उसके खिलाफ चतुर और चालाक रणनीतियां इस्तेमाल की।

इस बीच, शालू कमला के दिल को जीतने की कोशिश करके एक सौहार्दपूर्ण बहू बनने की कोशिश करती है। उसके पास ससुर कैलाश का पूरा समर्थन और समझ है जो उसे बेटी की तरह मानते हैं। साथ ही देवर विकी (सलमान ख़ान) भी उसके साथ सहानुभूति रखता है, जो कभी-कभी अपनी भाभी पर होने वाले अत्याचारों को सहन नहीं कर पाता। वह अपनी अत्याचारी मां के खिलाफ विरोध में मुखर हो जाता है।

अपमान और अंतहीन व्यक्तिगत हमलों के बाद, शालू अपनी शैली में जवाब देती है। उसकी असली पहचान अंत में प्रकट होती है। अपने अशिष्ट गाँव की लड़की की पहचान के विपरीत उसने स्पष्ट भाषण के साथ सभी को झटका दिया।

उसके पिता अशोक मेहरा (भंडारी परिवार के मित्र) ने उसकी असली पहचान प्रकट की। कमला को पता चलता है कि शालू मेहरा की ऑक्सफोर्ड से शिक्षित बेटी है, जिसने अपने ससुर कैलाश के साथ मिलकर, परिवार में अपना रास्ता बनाया था ताकि कमला को नम्रता और मानवता का सबक सिखाया जा सके। कैलाश पहली बार कमला के खिलाफ मुखर हो जाता है।

कमला परिवार के प्रति अपने व्यवहार के लिए अपनी गलती को महसूस करती है जब वे सभी उसे और घर को छोड़ने का फैसला करते हैं। कमला पश्चाताप कर ईमानदारी से सभी से माफी माँगती है और खुशी अंततः भंडारी परिवार में प्रवेश करती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायनअवधि
1."फूल गुलाब का"समीरअनुराधा पौडवाल, मुहम्मद अज़ीज़6:10
2."मेरे दुल्हे राजा"समीरअलका याज्ञनिक5:52
3."मैं हूँ पानवाली"अनजानअलका याज्ञनिक5:10
4."मैं तेरा हो गया"हसन कमालअलका याज्ञनिक, मुहम्मद अज़ीज़7:10
5."साँचा तेरा नाम"समीरअनुराधा पौडवाल4:43
6."सासूजी तूने मेरी क़दर न जानी"समीरअनुराधा पौडवाल5:18
कुल अवधि:34:23

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "सलमान खान ने साइड हीरो बनकर की थी बॉलीवुड में एंट्री, डबिंग करने का नहीं मिला था मौका". एनडीटीवी इंडिया. 17 अगस्त 2018. अभिगमन तिथि 20 दिसंबर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]