माला सिन्हा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माला सिन्हा
Mala-Sinha (cropped).jpg
व्यवसाय अभिनेत्री
बच्चे प्रतिभा सिन्हा

माला सिन्हा (जन्म: 11 नवंबर 1936) हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री हैं। वे नेपाली-भारतीय हैं तथा उन्होने हिन्दी के अलावा बंगला और नेपाली फिल्मों में भी काम किया है। वे अपनी प्रतिभा और सुन्दरता दोनों के लिये जानी जाती हैं। वे 1950 के दशक से आरम्भ करके 1970 के दशक तक हिन्दी फिल्मों की प्रमुख अभिनेत्री थीं। उन्होंने सौ से अधिक फिल्मों में कार्य किया है जिनमें से प्रमुख हैं- प्यासा (1957), धूल का फूल (1959), अनपढ़, दिल तेरा दीवाना (दोनों 1962 में), गुमराह, बहुरानी, गहरा दाग़ (तीनों 1963 में), हिमालय की गोद में (1965), आदि। उन्हें लगातार धर्मेन्द्र, राज कुमार, राजेन्द्र कुमार, बिस्वजीत, किशोर कुमार, मनोज कुमार और राजेश खन्ना के साथ फिल्मों में लिया गया।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

माला सिन्हा का जन्म नेपाली मूल के परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम अल्बर्ट सिन्हा था और वह नेपाली ईसाई थे। बाद में, वयस्क अभिनेता के रूप में, उन्होंने अपना नाम बदल कर माला सिन्हा रख लिया।[1] माला सिन्हा ने 1966 में नेपाली अभिनेता चिदंबर प्रसाद लोहानी से शादी की। लोहानी का व्यवसाय था। अपनी शादी के बाद, वह फिल्मों के फिल्मांकन के लिए मुम्बई आती रहती थीं और उनके पति नेपाल में रहकर अपना व्यवसाय चलाते थे। शादी से उनकी एक बेटी है: प्रतिभा सिन्हा, जो बॉलीवुड की पूर्व अभिनेत्री हैं।[2]

करियर[संपादित करें]

1957 में, बॉलीवुड अभिनेता और निर्देशक गुरु दत्त ने अपनी फिल्म प्यासा (1957) में माला सिन्हा को लिया। इसके लिये पहले वह मधुबाला को लेना चाहते थे। प्यासा के बाद, उनकी प्रमुख सफलताओं में फिर सुबह होगी (1958) और यश चोपड़ा के निर्देशन में बनी पहली फ़िल्म धूल का फूल, (1959) थी जिसने उन्हें एक लोकप्रिय सितारे में बदल दिया। वह 1958 से शुरुआती 60 के दशक में परवरिश (1958), उजाला, मैं नशे में हूँ, दुनिया ना माने, लव मैरिज (1959), बेवक़ूफ़ (1960), माया (1961), हरियाली और रास्ता, दिल तेरा दीवाना (1962), अनपढ़ और बम्बई का चोर (1962) और जैसी कई सफल फिल्मों का हिस्सा रहीं[3]

अपनी सफल 1960 और 1970 के दशक की भूमिकाओं में, उन्हें राज कपूर, देव आनंद, किशोर कुमार और प्रदीप कुमार जैसे बड़ी उम्र के कलाकार और 1950 के दशक के उत्तरार्ध से उभरते हुए सितारे जैसे शम्मी कपूर, राजेन्द्र कुमार और राज कुमार के साथ लिया गया। उन्होंने अपने दौर के कई नए कलाकारों के साथ काम किया जिनमें मनोज कुमार, धर्मेन्द्र, राजेश खन्ना, सुनील दत्त, संजय ख़ान, जीतेन्द्र और अमिताभ बच्चन शामिल हैं।

प्रमुख फिल्में[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म चरित्र टिप्पणी
1994 ज़िद दादी माँ
1992 राधा का संगम
1992 खेल सुलक्षणा देवी
1987 दिल तुझको दिया सावित्री ए साहनी
1985 बाबू
1981 हरजाई
1980 बेरहम
1980 धन दौलत
1978 कर्मयोगी दुर्गा
1977 प्रायश्चित
1976 ज़िन्दगी सरोजिनी रघु शुक्ला
1976 दो लड़कियाँ
1975 सुनहरा संसार लक्ष्मी
1974 अर्चना
1974 कोरा बदन
1974 ३६ घंटे दीपा राय
1972 रिवाज़
1971 मर्यादा
1971 संजोग आशा देवी
1971 प्यार की कहानी
1971 चाहत
1971 कंगन शान्ता
1970 गीत कमला
1969 पैसा या प्यार
1969 प्यार का सपना
1969 दो भाई
1968 मेरे हुज़ूर
1968 दो कलियाँ किरन
1968 आँखें मीनाक्षी मेहता
1967 नई रोशनी रेखा कुमार
1965 बहू बेटी शान्ता
1965 हिमालय की गोद में
1964 अपने हुए पराये रेखा
1964 पूजा के फूल
1964 जहाँ आरा
1964 सुहागन शारदा दुबे
1963 गुमराह मीना
1962 दिल तेरा दीवाना मीना
1962 हरियाली और रास्ता
1961 धर्मपुत्र
1961 सुहाग सिन्दूर
1961 माया
1959 धूल का फूल मीना खोसला
1959 लव मैरिज गीता
1959 मैं नशे में हूँ शान्ता
1958 परवरिश आशा सिंह
1958 फिर सुबह होगी सोहनी
1957 प्यासा मीना
1957 फैशन
1957 नया ज़माना
1956 एक शोला
1956 पैसा ही पैसा माला

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Archived copy". मूल से 4 May 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 February 2014.
  2. "rediff.com, Movies: Profiling Mala Sinha". Rediff.com. अभिगमन तिथि 24 February 2014.
  3. "Trip down the memory lane with Mala Sinha". Screen. Bollywood Hungama. 13 March 2001. अभिगमन तिथि 26 August 2011.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]