वाल्मीकि जाति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(भंगी से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

वाल्मीकि दलित समुदाय व जाति है। इन्हें हिन्दू वर्ण व्यवस्था में सबसे नीचे स्थान दिया जाता है और इस कारण ये बहुत शोषित वर्ग है। पंजाब में बसे चूहड़ा को भी इनका भाग माना जाता है जो सिख धर्म के मजहबी सिख अनुभाग को बनाते हैं।[1] वाल्मीकि नाम वाल्मीकि से लिया गया है जिन्हें ये समुदाय अपना गुरू मानता है (देखें वाल्मीकि समुदाय)। इनका मूल नाम भंगी है जिसका अर्थ भांग पीने वाला होता है।[2] लेकिन ये अब अपमानजनक माना जाता है और इसका उपयोग सामाजिक रूप से सही नहीं माना जाता है। कुछ वाल्मीकि अपने को हरिजन कहलाना भी पसंद करते हैं।[3]

वाल्मीकि आज भी साफ सफाई का कार्य ही करते हैं और ये उनका रोजगार का मुख्य हिस्सा है। उनके कई सगंठन भी मौजूद है जो सरकारी नौकरी में इस कार्य में किसी और जाति के लोगों के आगमन का विरोध करते हैं।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The Oxford Handbook of Sikh Studies (अंग्रेज़ी में). ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. 2014. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780191004117. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  2. Shyamlal 1992, पृ॰ 22.
  3. Shyamlal 1992, पृ॰ 25.
  4. "सफाईकर्मी पद पर वाल्मीकि समाज की हो भर्ती". दैनिक जागरण. 24 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 फरवरी 2018.

अग्रिम पठन[संपादित करें]

  • Shyamlal (1992). The Bhangi : a sweeper caste, its socio-economic portraits : with special reference to Jodhpur City (अंग्रेज़ी में). Bombay: Popular Prakashan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788171545506. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)