बॉन त्योहार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
चित्र:बॉन त्योहार.jpg
बॉन त्योहार के अवसर पर लोग अपने पैत्रिक स्थान पर दिये जलते हुए अलन्कार कर्ते है।
बॉन त्यौहार
बॉन त्यौहार
Obon in the late Edo period
अन्य नाम ओबॉन
मनाने वाले जापान
प्रकार धार्मिक, सांस्कृतिक
महत्त्व Honors the spirits of one's ancestors
तिथि
  • 15 अगस्त
  • 15 जुलाई (Kantō)
  • 15th day of the 7th lunar month
संबन्धित भूत त्यौहार (चीन में)
तेट ट्रन्ग न्गुयेन (वियतनाम में)
बेकजंग (कोरिया में)
प्चूम बेन (कम्बोडिया में)
बॉन खाऊ पडप दीन (लाओस में)
प्रेता-दना (श्रीलंका में)
अवधि 3 दिवस
आवृत्ति (फ्रीक्वेंसी) वार्षिक

"ओबॉन" या "बॉन" एक जापानी बौद्ध रिवाज है जो पूर्वजों को आदर करता है। यह बौद्ध रिवाज विकसित होकर एक पारिवारिक छुट्टी हो गया है। इस दिन लोग अपने पैतृक परिवार के स्थानो जाकर वह अपने पैतृक कब्रों को स्वच्छ करते हैं। तब पैतृक आत्माओं शांति पहुँचाते हैं। यह त्योहार जापान में पाँच सो वर्ष से ज़्यादा समय से मनाया गया है और इस त्योहार में ऐक परंपरागत नृत्य भी है और उसका नाम है बॉन-आढोरी। यह त्योहार तीन दिन के लिए होती है। मगर अलग क्षेत्रों में उसकी तारीख बदलती रहती है। यहाँ तीन प्रकर के कैलेंडर है। सौर्य कैलेंडर में "शिचिगातस बॉन" यानी बॉन सऩ् १५ जुलाई मे पूव्री जापान मे मनाया जाता है। चंद्र कैलेंडर में "हकिग्तसु बॉन" यानी इस बॉन सऩ् १५ अगस्त में मनाया जाता है।

क्रमांकित सूची आइटम[संपादित करें]

१. मूल[संपादित करें]

२.बानॅ ओदोरी[संपादित करें]

३ जापान के बाहर समरोह[संपादित करें]

४ अजेटीना[संपादित करें]

५ कोरीया[संपादित करें]

मूल[संपादित करें]

बॉन ओढोरी की कहानी यह है कि एक महा "मोकुरेन" जो एक गौतम बुद्ध का शिष्य था। वह अपने अलौकिक शक्ति से अपने मृतक माँ को बचाने के लिये कोशिश की थी। उसको पता चला की उसकी माँ भूखे भूत के दायरे में पड़ गई थी। इसी कारण से उसने बुद्ध से जाकर ऐक उपाय पूछा। बुद्ध ने कहा कि वे बौद्ध भिक्षुओ को प्रस्ताव दे जो अपने ग्रीष्मकालीन निवास कतम किया था। यह प्रस्ताव सातवें महीने के पन्द़्हवें दिन किया था। इससे शिष्य का माँ पहले जैसी हो गई।

बाइणॅ ओडोरी[संपादित करें]

बानॅ ओदोरि का अथ़् है बानॅ नृत्य जो ऐक नृत्य शैली है जो ओबानॅ समारोह में किया जाता है।

अजेटिना[संपादित करें]

अजेटेना में जपानी समुदायों जब गर्मी मौसम आता है तब इस बानॅ त्योहार को मनाते है। सबसे बडा त्योहार कोलोनिया "उरक्विजा" और "ला प्लाता पारटिडो" में मनाया जाता है। इस समारोह में "तैको" शो और ठेठ नृत्य भी होता है।

कोरिया[संपादित करें]

कोरिया स्ंस्करण के हिसाब से बॉन उत्सव को "बेजुंग" बुलाते है। प्रतिभागी इस दिन बौद्ध विहारों में विवाह का प्रस्ताव रखते हैं। इस दिन विशेष नृत्य भी प्रदशन कर्ते हैं। यह त्योहार धार्मिक से ज़्यादा कृषि के बारे में है।