नागौर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नागौर , राजस्थान ( भारत ) का जिला है | यह एक लोकसभा क्षेत्र भी है | इसकी सीमा 7 जिलों से लगाती है जो है बीकानेर ,जोधपुर,सीकर जिला,अजमेर,चूरू जिला,जयपुर पाली जिला है | इसका निर्माण शासक अरविन्द खोजा द्वारा किया गया।

यह राजस्थान का पाँचवाँ बड़ा जिला है क्षेत्रफल के आधार पर | इसका पुराना नाम अहिक्षेत्रपुर था। नागोर मे 11 तहसील है । जिसके नाम . नागौर, परबतसर, नाँवा, खिवसर, जायल, मकराना,मेङता, डिडवाना, डेगाना, लाडनू , मुडवा आदी है।

परिचय[संपादित करें]

नागौर , राजस्थान ( भारत ) का जिला है | यह एक लोकसभा क्षेत्र भी है | इसकी सीमा 7 जिलों से लगाती है जो है बीकानेर ,जोधपुर,सीकर जिला,अजमेर,चूरू जिला,जयपुर पाली जिला है |

यह राजस्थान का पाँचवाँ बड़ा जिला है क्षेत्रफल के आधार पर |

नागौर
—  शहर  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य राजस्थान
MLA मोहनराम चौधरी
जनसंख्या Above 1,50,000 (2011 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 302 मीटर (991 फी॰)

निर्देशांक: 27°12′N 73°44′E / 27.2°N 73.73°E / 27.2; 73.73 नागौर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। यह नागौर जिला मुख्यालय है। नागौर राजस्थान का एक छोटा सा शहर है। ऐतिहासिक रूप से भी यह जगह काफी महत्वपूर्ण है। नागौर बलबन की जागीर थी जिसे शेरशाह सूरी ने 1542 ने जीत लिया था। इसके अलावा महान मुगल सम्राट अकबर ने यहां मस्जिद का निर्माण करवाया था। इस मस्जिद का नाम अकबरी जामा मस्जिद है। यह मस्जिद शहर के बीचों बीच दड़ा मोहल्ला गिनाणी तालाब के पास स्थित है। इस मस्जिद के दो ऊंचे मीनार गुंबद मुगलकालीन निर्माण कला के गवाह हैं। इसके अलावा गिनाणी तालाब की उत्तरी दिशा की तरफ ही आलिशान दरगाह बनी हुई है। इस दरगाह को हजरत सूफी हमीदुद्दीन नागौरी रहमतुल्लाह अलैह की दरगाह शरीफ कहा जाता है। इस दरगाह में ख्वाजा गरीब नवाज हजरत मइनुद्दीन चिश्ती के खास खलीफा हजरत सूफी हमीदुद्दीन नागौरी की मजार शरीफ है। नागौर विशेष रूप में प्रत्येक वर्ष लगने वाले पशु मेले के लिए भी काफी प्रसिद्ध है। इस मेले में हर साल काफी संख्या में पर्यटक आते हैं। इसके अतिरिक्त यहां कई महत्वपूर्ण मंदिर और स्मारक भी है। इस के अलावा यहा के लोग ज्यादातर खेती करते है। किसान लोग यहा मुग बाजरी तिलहन तथा कपास और मशाला मेथी कि खेती करते है। यह जिला मेथी के लिये प्रसिद है।

वीर तेजाजी जन्म स्थली खरनाल[संपादित करें]

नागौर जिले के गॉँव खरनाल जो राष्ट्रीय राजमार्ग नं. 65 पर नागौर शहर से 17 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। खरनाल में वीर तेजाजी का प्रतिवर्ष मेला भादवा माह में लगता है। इस मेले का आयोजन काफी बड़े स्तर पर किया जाता है।

आवागमन[संपादित करें]

हवाई अड्डा

सबसे नजदीकी हवाई अड्डा जोधपुर विमानक्षेत्र है। यह जगह नागौर से 135 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। दिल्ली, मुम्बई, उदयपुर और जयपुर से जोधपुर के लिए हवाई यात्रा की जा सकती है।

रेल मार्ग

नागौर का सबसे बङा रेल्वे स्टेशन मेङतारोङ का है। सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन नागौर में है। यह जगह दिल्ली, मुम्बई, जयपुर्, चैन्नई, गुव्हाती और कलकत्ता से रेल मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है। भारत कि सर्वप्रथम रेलबस सेवा मेङतारोङ से शुरु कि गई।

सड़क मार्ग

नागौर के लिए सीधी बस-सेवा है। दिल्ली, अहमदाबाद, अजमेर, आगरा, जयपुर, जैसलमैर और उदयपुर से बस-सेवा की सुविधा उपलब्ध है।

FOR MORE INFORMATION CALL SURYA SINGH RAJPUROHIT FORM DUGOLI(JAYAL)

MOB. - 8949170794

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

नागौर के किले मे एक शानदार मस्जिद भी बनी हुयी है जिसका निर्माण औरन्गजेब ने करवाया