धर्मविरोध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इन्हें भी देखें: धार्मिक भेदभाव एवं आस्तिकता-विरोध

साँचा:Atheism and Irreligion Sidebar धर्मविरोध धर्म का विरोध है। इस शब्द का उपयोग संगठित धर्म के विरोध का वर्णन करने के लिए हो सकता है, या supernatural अथवा दिव्य में किसी प्रकार की आस्था का व्यापक विरोध का वर्णन करने के लिए हो सकता हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

साँचा:Philosophy of religion मानव द्वारा अपने धर्म को भूल कर एक दूसरे की सहायता के लिए त्वरित रूप से उनकी आर्थिक एवं शारीरिक मत करना ही धर्मनिरपेक्षता का स्पष्ट उदाहरण है सेकुलरिज्म अच्छी बात है इस भूखंड में भारत एक ऐसा राज्य है जहां सेकुलरिज्म या धर्मनिरपेक्षता बहुत पहले से चली आ रही थी लेकिन इसकी पहल करने वाला आज तक मिला नहीं है इसीलिए इसकी उत्पत्ति विदेशों में हुई भारत तो सदियों काल से धर्मनिरपेक्षता अपने धर्म के साथ साथ एक या भी धर्म अपनाता हुआ चला रहा है जोकि संपादित ग्रंथों में इसका उल्लेख विस्तृत रूप से मिलता है ऐसा ही एक उल्लेख गीता में स्पष्ट रूप से कहा गया है भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन से कहा है पार्थ मानव को अपने धार्मिक कार्य तो करना ही चाहिए इसके साथ-साथ जीव-जंतु पेड़-पौधे को अपनी सृष्टि का एक भाग समझना चाहिए इनको सब को अपना कर चलना चाहिए क्योंकि इस भूखंड में कोई भी वस्तु या फिर जंतु निरर्थक नहीं है कोई भी पदार्थ निरर्थक नहीं है उसका किसी न किसी उद्देश्य से अवतरण हुआ है धर्मनिरपेक्षता इसी का ही एक उत्कृष्ट उदाहरण है जो मानव जीवन में शांति का स्वरूप बनकर अवतरित होता है

   *आशू तिवारी*

उत्तर प्रदेश भारत जिला फतेहपुर