टोंक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
टोंक
—  शहर  —
निर्देशांक: (निर्देशांक ढूँढें)
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य राजस्थान
आधिकारिक जालस्थल: www.tonkcityraj.con


टोंक भारत के राजस्थान का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। टोंक शहर, पूर्वी राजस्थान राज्य, पश्चिमोत्तर भारत में स्थित है। टोंक पहले रियासत थी| टोंक का दूसरा नाम नवाबी शहर नवाबों की नगरी भी कहा जाता है |

यह बनास नदी के ठीक दक्षिण में स्थित है। भूतपूर्व टोंक रियासत की राजधानी रह चुके इस शहर की स्थापना 1643 में अमीर खाँ पिंडारी ने की थी और यह छोटी पर्वत श्रृंखला की ढलानों पर अवस्थित है। इसके ठीक दक्षिण में क़िला और नए बसे क्षेत्र हैं। आसपास का क्षेत्र मुख्यत: खुला और समतल है, जिसमें बिखरी हुई चट्टानी पहाड़ियाँ हैं।

यहाँ मुर्ग़ीपालन और मत्स्य पालन होता है तथा अभ्रक और बेरिलियम का खनन होता है। भूतपूर्व टोंक रियासत में राजस्थान एवं मध्य भारत के छह अलग-अलग क्षेत्र आते थे, जिन्हें पठान सरदार अमीर ख़ाँ ने 1798 से 1817 के बीच हासिल किया था। 1948 में यह राजस्थान राज्य का अंग बना।

टोंक के पर्यटन स्थल बीसलपुरबांध,सुनहरी कोठी, जामा मस्जिद,अरबी फारसी शोक संदेश,हाथी भाटा,भूमगढ़दुर्ग(अमीरगढ़),रेड़ व उनियारा सभ्यता स्थल,कल्याणजी मंदिर (डिग्गी) आदि।


Edited By- Akram Khan

पूर्व इतिहास[संपादित करें]

टोंक का यह क्षेत्र महाभारत काल में सवादलक्ष नाम से जाना जाता था। यहाँ टोंक के इतिहास से जुड़े के प्राचीन खण्डरों से तीसरी शताब्दी के सिक्के मिले हैं।

कृषि और खनिज[संपादित करें]

टोंक इस क्षेत्र का प्रमुख कृषि बाज़ार एवं निर्माण केंद्र है। ज्वार, गेहूं, चना, मक्का, कपास और तिलहन यहाँ की मुख्य फ़सलें हैं।

खातौली[संपादित करें]

यह गाँव टोंक की उनियारा तहसील के पास स्थित है। यहाँ पर ""विद्युत"" बनाने का प्लांट है जिसमें सरसों के नष्ट होने वाले भाग से बिजली का उत्पादन किया जाता है। इस प्रक्रिया से आस-पास के लोगों को रोजगार मिलता है।

उद्योग और व्यापार[संपादित करें]

सूती वस्त्र की बुनाई, चर्मशोधन और नमदा बनाने की हस्तकला यहाँ के मुख्य उद्योग हैं। टोंक में राजस्थान की मिर्च मंडी मौजूद है। इसके अलावा यहाँ से निकलने वाली मिर्च और खरबूजे पूरे राजस्थान में प्रसिद्ध हैं।

शिक्षण संस्थान[संपादित करें]

यहाँ का कॉलेज महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय, अजमेर से सम्बध है। टोंक के निवाई स्थान में "बनस्थली विद्यापीठ" है जो महिलाओ की पूर्णतया निवासीय विश्वविद्याल है,जो महिलाओ के लिए कई प्रकार के उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम उपलब्ध कराती है। इसी स्थान पर डॉक्टर के एन मोदी विश्वविद्यालय भी है।

टोंक में बी एड, बी एस सी आदि के कई कॉलेज हैं।

जनसंख्या[संपादित करें]

2011 की जनगणना के अनुसार टोंक ज़िले की कुल जनसंख्या 14,21,711 है।

कुप्रथा[संपादित करें]

टोंक, अजमेर, बूँदी, भिलवाड़ा और बारण के देही क्षेत्रों में एक प्रथा नाता के नाम से प्रचलित है। इसके अंतरगत एक वैवाहित महिला किसी दूसरे पुरुष के साथ रहने और शारिरिक सम्बंध बना सकती है जब उसके पहले पति को मुआवज़ा की रक़म दी जाए। इन पैसों को झगड़ा कहा जाता है जो एक प्रकार से विवाह के समय हुए खर्च की भरपाई होती है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]