कपास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कपास चुनती हुई स्त्री
मशीन से संस्कारित करने के पहले हाथ से बीज निकालते हुए (२०१०)
विश्व के कपास उत्पादक क्षेत्र

कपास एक नकदी फसल हैं। इससे रुई तैयार की जाती हैं, जिसे सफेद सोना कहा जाता हैं | कपास के पौधे बहुवर्षीय ,झड़ीनुमा वृक्ष जैसे होते है।जिनकी लंबाई 2-7 फीट होती है। पुष्प, सफेद अथवा हल्के पीले रंग के होते है।कपास के फल बाल्स (balls) कहलाते है,जो चिकने व हरे पीले रंग के होते हैं इनके ऊपर ब्रैक्टियोल्स कांटो जैसी रचना होती है।फल के अन्दर बीज व कपास होती है। कपास की फसल उत्पादन के लिये काली मिट्टी की आवश्यकता पड़ती है।भारत में सबसे ज्यादा कपास उत्पादन गुजरात में होता है।

कपास के प्रकार -

  • लम्बे रेशे वाली कपास
  • मध्य रेशे वाली कपास
  • छटे रेशे वाली कपास

कपास उत्पादन के लिए भौगोलिक कारक[संपादित करें]

  • तापमान - २१ से २७ सें. ग्रे.
  • वर्षा - ७५ से १०० सें. मी.
  • मिट्टी - काली
  • भारत मे कपास मुख्यत रूप से महाराष्ट्र मे बोई जाती है।

कपास उत्पादन का विश्व वितरण[संपादित करें]

  • संयुक्त राज्य अमेरिका
  • चीन
  • भारत (भारत की लगभग 9.4 मिलियन हेक्टेयर की भूमि पर कपास की खेती की जाती हैं। इसके प्रत्येक हेक्टेयर क्षेत्र में 2 मिलियन टन कपास के डंठल अपशिष्ट के रूप में विद्यमान रहते हैं।)