जुड़वाँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एकयुग्मनज जुड़वां

एक ही गर्भावस्था के दौरान पैदा होने वाली दो संतानों को जुड़वां कहते हैं।[1] जुड़वां या तो एक जैसे हो सकते हैं (वैज्ञानिक भाषा में, "एकयुग्मनज/मोनोज़ाईगोटिक"), जिसका अर्थ है कि वे एक ही युग्मनज से पनपे हैं जो विभाजित होता है और दो भ्रूणों का रूप ले लेता है, या भ्रात्रिक ("द्वियुग्मनज/डाईज़ाईगोटिक") हो सकते हैं क्योंकि वे दो अलग अलग अंडो में दो विभिन्न शुक्राणुओं द्वारा निषेचित होते हैं।

इसके विपरीत, एक भ्रूण जो गर्भ में अकेले विकसित होता है उसको सिंगलटन कहा जाता है और एक साथ जन्मी एकाधिक संतानों में से एक को मल्टीपल कहा जाता है। सैद्धांतिक रूप से ऐसा संभव है कि दो सिंगलटन एक समान हों यदि मां और पिता के दोनों गेमेट के सभी 23 गुणसूत्र एक जन्म से अगले जन्म तक सटीक रूप से मिलते हों. जबकि प्राकृतिक परिस्थितियों में ऐसा होना सांख्यिकीय रूप से असंभव है (एक अरब-अरब-अरब में किसी एक से कम), किसी दिन एक नियंत्रित संसर्ग संभव हो सकता है। एक कम जटिल उपाय क्लोनिंग प्रक्रिया के माध्यम से आनुवंशिक रूप से समान संतानों का निर्माण करना है, एक प्रक्रिया जिसे स्तनधारियों की कई प्रजातियों पर सफलतापूर्वक आजमाया जा चुका है।

जुड़वा बच्चों की पहचान करने के लिए एंटीबायोटिक नामक टेस्ट का प्रयोग किया जाता है

अनुक्रम

आंकड़े (सांख्यिकी)[संपादित करें]

ऐसा अनुमान है कि दुनिया की आबादी का लगभग 1.9% भाग जुड़वां बच्चे हैं, जिनमे से एकयुग्मनज/मोनोजाइगोटिक जुड़वां कुल आबादी के 0.2% - और सभी जुड़वाओं के 8% हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में जुड़वां जन्म दर प्रति 1000 जीवित जन्मों में से 32 जुड़वां जन्मों से थोड़ा ऊपर है,[2] जबकि प्रति 1000 जीवित जन्मों में से 45 जुड़वां जन्मों के साथ पूरी दुनिया में जुड़वां बच्चों की सर्वाधिक दर योरुबा में है,[3][4][5] जिसका कारण संभवतः एक विशिष्ट प्रकार के जिमीकंद का उच्च सेवन है, जिसमें एक प्रकार का प्राकृतिक फाइटोईस्ट्रोजन होता है, जो प्रत्येक पक्ष के अंडाशय को अंडे छोड़ने के लिए उत्तेजित कर सकता है।[6][7]

मां के गर्भ के सीमित आकार के कारण, एक से अधिक गर्भावस्थाओं की पूरी अवधि तक रहने की संभावना एकाकी गर्भावस्था की तुलना में बहुत ही कम होती है, जिसके कारण जुड़वां गर्भावस्था की औसत अवधि केवल 37 सप्ताह रह होती है (पूर्ण अवधि से 3 सप्ताह कम).[8]

युग्मनजता[संपादित करें]

युग्मनजता जुड़वां बच्चों के जीनोम की समानता का स्तर है। युग्म बनाने के पांच आम प्रकारान्तर हैं। तीन सबसे आम प्रकारों में सभी भ्रात्रिक हैं (द्वियुग्मनज/डाईज़ाईगोटिक):

  • सबसे आम परिणाम पुरुष-महिला जुड़वां होते हैं, भ्रात्रिक जुड़वां तथा जुड़वाओं के सर्वाधिक आम समूह का 50 प्रतिशत.
  • महिला-महिला भ्रात्रिक जुड़वां (कभी कभी इन्हें "सोरोरल जुड़वां" कहते हैं)
  • पुरुष-पुरुष भ्रात्रिक जुड़वां

अन्य दो प्रकार समान जुड़वां (एकयुग्मनज/मोनोज़ाईगोटिक) हैं:

  • महिला-महिला समान जुड़वां
  • पुरुष-पुरुष समान जुड़वां (सामान्यतः ऐसा बहुत कम होता है)

गैर-जुड़वां जन्मों में, पुरुष सिंगलटनों का होना महिला सिंगलटनों की तुलना में थोड़ा (लगभग पांच प्रतिशत) अधिक आम है। सिंगलटन की दर हर देश में थोड़ी अलग है। उदाहरण के लिए, अमेरिका में जन्म का लिंग अनुपात 1.05 पुरुष/महिला है,[9] जबकि इटली में यह 1.07 पुरुष/महिला है।[10] हालांकि, मादाओं की अपेक्षा नर गर्भ में मृत्यु के प्रति अधिक संवेदनशील भी होते हैं तथा चूंकि जुड़वांओं की गर्भ में मृत्यु दर अधिक है, इसके परिणामस्वरूप नर जुड़वांओं की तुलना में मादा जुड़वांओं का अधिक होना आम है।

आठ माह की आपसी जुड़वां बच्चियां झपकी लेते हुए

आपसी (द्वियुग्मनज) जुड़वां[संपादित करें]

सहोदर या द्वियुग्मनज (DZ) जुड़वां (कभी कभी "भिन्न जुड़वां", "असमान जुड़वां", बाइओव्लयूर जुड़वां" भी कहा जाता है और महिलाओं की स्थिति में, कभी-कभी सोरोरल जुड़वां कहा जाता है) आमतौर पर तब पैदा होते हैं जब एक ही समय में गर्भाशय की दीवारों पर दो निषेचित अंडे प्रत्यारोपित होते हैं। जब दो अंडे स्वतंत्र रूप से दो भिन्न शुक्राणुओं द्वारा निषेचित होते हैं तो परिणामस्वरूप दो आपसी जुड़वां पैदा होते हैं। दो अंडे, या ओवा, दो युग्मनज बनाते हैं, इसलिए उन्हें द्वियुग्मनज और बाइओव्लयूर कहते हैं।

किन्ही भी अन्य भाई बहनों की तरह, आपसी जुड़वाओं का एक ही गुणसूत्र प्रारूप होने की बहुत कम सम्भावना होती है। किन्हीं अन्य सहोदरों की भांति भ्रात्रिक जुड़वां समान दिख सकते हैं, विशेषकर इसलिए क्योंकि उनकी आयु समान होती है। हालांकि, आपसी जुड़वां एक दूसरे से बहुत अलग भी दिख सकते है। वे विभिन्न लिंगों या एक ही लिंग के हो सकते है। एक ही माता पिता से हुए भाइयों और बहनों के लिए भी यही सच है, जिसका अर्थ है कि भ्रात्रिक जुड़वां केवल भाई और/या बहिनें हैं, जो एक ही आयु के हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि आपसी जुड़वां बच्चे पैदा होने का एक आनुवंशिक आधार है। हालांकि, यह केवल मां होती है, जिसका भ्रात्रिक जुड़वां होने की संभावना पर प्रभाव होता है; ऐसी कोई ज्ञात प्रक्रिया नहीं है जिसके द्वारा एक पिता एक से अधिक डिंबों के मुक्त होने का कारक बन सके। द्वियुग्मनज जुड़वां होने की दर जापान में छः प्रति हजार जन्म (एकयुग्मनज जुड़वां की दर के समान) से लेकर कुछ अफ्रीकी देशों में 14 और अधिक प्रति हजार तक है।[6]

अधिक आयु की माताओं में भी भ्रात्रिक जुड़वां अधिक होते हैं, क्योंकि 35 से अधिक आयु की माताओं में जुड़वां की दर दोगुनी होती है।[11]

महिलाओं को गर्भवती होने में सहायता करने के लिए प्रौद्योगिकी और तकनीकों के अविष्कार के साथ, आपसी जुड़वां बच्चों की दर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। उदाहरण के लिए, न्यूयॉर्क शहर के ऊपरी ईस्ट छोर में 1995 में 3,707, 2003 में 4153 और 2004 में 4,655 जुड़वाओं का जन्म हुआ था। 1995 में 60 से 2004 में 299 तक ट्रिप्लेट (तिकड़ी) जन्मों में भी बढ़ोतरी हुई है।

समान (एकयुग्मनज/मोनोज़ाईगोटिक) जुड़वां[संपादित करें]

समान और आपसी जुड़वां बच्चों में युग्मनज के विकास की तुलना.गर्भाशय में, अधिकांश समान जुड़वां (60-70%) एक ही नाल से जुड़े होते हैं किन्तु उनकी अलग एम्नियोटिक थैलियां होती हैं। समान जुड़वाओं के 18-30% मामलों में प्रत्येक भ्रूण की एक अलग नाल और एक अलग एम्नियोटिक थैली होती है। जुड़वाओं की एक छोटी संख्या (1-2%) एक ही नाल और एम्नियोटिक थैली को साझा करती हैं। आपसी जुड़वां बच्चों में प्रत्येक की अपनी नाल और एम्नियोटिक थैली होती है।

समान या एकयुग्मनज/मोनोज़ाईगोटिक (MZ) जुड़वां तब होते हैं जब एक अंडा एक युग्मनज को बनाने के लिए निषेचित होता है (इसलिए "एकयुग्मनज/मोनोज़ाईगोटिक") जो बाद में दो भिन्न भ्रूणों में विभाजित हो जाता है।

एक अनुमान के अनुसार आज दुनिया भर में एक करोड़ समान जुड़वां और ट्रिप्लेट हैं।

क्रियाविधि[संपादित करें]

सहज या प्राकृतिक एकयुग्मज युग्म के बारे में, हाल का एक सिद्धांत मानता है कि एकयुग्मज जुड़वां तब होते हैं जब एक बीजगुहा अनिवार्य रूप से टूट जाता है और प्रजनक कोशिकाएं आधी-आधी विभाजित होकर (जिनमें शरीर की मूल अनुवांशिकी पदार्थ होता है) सामान अनुवांशिक पदार्थ को विभाजित कर भ्रूण के दोनों ओर विपरीत पक्षों में छोड़ देती हैं। आखिरकार, दो अलग अलग भ्रूण विकसित होते हैं।[12] युग्मनज का दो भ्रूणों में सहज विभाजन एक वंशगत विशेषता नहीं बल्कि एक सहज या यादृच्छिक घटना कहलाता है।[11][13]

एकयुग्मज जुड़वा बच्चों को भ्रूण के विखंडन द्वारा कृत्रिम रूप से भी बनाया जा सकता है। इसका आईवीएफ के विस्तार के रूप में भ्रूण स्थानांतरण के लिए भ्रूणों की संख्या बढाने के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है।[14]

विस्तार[संपादित करें]

एकयुग्मज जुड़वां, दुनिया भर में लगभग तीन प्रति 1000 प्रसव की दर से बनते हैं।[13]

एक निषेचन से समान जुड़वां होने की संभावना दुनिया भर की आबादी में समान रूप से वितरित है।[11] यह भ्रात्रिक जुड़वां बच्चों की संभावना के विपरीत है जो जापान में छः प्रति एक हज़ार जन्म (लगभग समान जुडवाओं की दर के सामान, जो 4-5 के आसपास है) से 15 और भारत के कुछ भागों में 15 और अधिक प्रति हज़ार[15] और अमेरिका में 24 तक है,[कृपया उद्धरण जोड़ें] जिसका प्रमुख कारण मुख्य रूप से आईवीएफ (कृत्रिम परिवेशी निषेचन/इन विट्रो फर्टिलाइजेशन) हो सकता है। एक युग्मनज का दो भ्रूणों में बंटने का निश्चित कारण अज्ञात है।

कृत्रिम परिवेशी निषेचन तकनीकों से जुड़वां बनने की सम्भावना अधिक होती है। प्रति 1000 प्रसव में से प्राकृतिक गर्भाधान से केवल तीन जोड़े जुड़वां प्रति हजार प्रसव होते हैं, जबकि आईवीएफ प्रसव में प्रति 1000 लगभग 21 जुड़वाओं के जोड़े जन्म लेते हैं।[16]

आनुवंशिक और पश्चजनन सम्बन्धी समानता[संपादित करें]

एकयुग्मज जुड़वां आनुवंशिक रूप से समान होते हैं (जब तक विकास के दौरान परिवर्तन नहीं हुआ है) और वे लगभग हमेशा ही एक लिंग के होते हैं। दुर्लभ अवसरों पर, जुड़वां अलग लक्षण व्यक्त कर सकते हैं (आमतौर पर पर्यावरणीय कारक या महिला समान जुड़वां बच्चों के गुणसूत्रों में एक्स क्रियाशीलता के कम होने के कारण) और कुछ अत्यंत दुर्लभ मामलों में, असामान्य संख्या में गुणसूत्रों के कारण, जुड़वां विभिन्न प्रकार के यौन लक्षण व्यक्त कर सकते हैं, जो कि आम तौर पर एक XXY क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के कारण युग्मनज के असमान रूप से विभाजित होने के कारण होता है।[17][18]

वास्तव में समान जुड़वाओं में डीएनए लगभग समान होता है और बदलता पर्यावरण जीवन भर उन जीनों पर प्रभाव डालता है जो बंद या चालू होते हैं। इसे पश्चजनन सम्बन्धी रूपांतरण कहा जाता है। तीन साल से 74 की उम्र तक 80 मानव जुड़वा जोड़ों के अध्ययन से पता चला कि कम उम्र के जुड़वाओं में अपेक्षाकृत कुछ कम पश्चजनन सम्बन्धी मतभेद हैं। पश्चजनन सम्बन्धी मतभेदों की संख्या समान जुड़वा बच्चों में उम्र के साथ बढ़ जाती है। पचास वर्षीय जुड़वाओं में तीन वर्षीय जुड़वों से तीन गुना अधिक पश्चजनन सम्बन्धी मतभेद थे। जिन जुड़वां बच्चों ने अलग जीवन बिताया था (उनके जन्म के समय अलग अलग माता पिता द्वारा अपनाये गए) उनमें सबसे अधिक अंतर थे।[19] हालांकि, कुछ लक्षण उम्र बढ़ने के साथ एक जैसे हो जाते हैं, जैसे कि बौद्धिक स्तर और व्यक्तित्व.[20][21] यह घटना मानवीय विशेषताओं और व्यवहार के कई पहलुओं पर आनुवंशिकी के प्रभाव को दिखाती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लक्षणों में समानता[संपादित करें]

समान जुड़वां लगभग हमेशा एक ही लिंग के होते हैं[तथ्य वांछित] और उनके लक्षण और शारीरिक रूप भी बहुत हद तक समान होते हैं पर बिलकुल सामान नहीं होते.[22]

एकयुग्मज जुड़वां एक जैसे दिखते हैं, हालांकि उनके फिंगरप्रिंट एक जैसे नहीं होते (जो पर्यावरणीय और अनुवांशिक हैं). परिपक्व होने पर, समान जुड़वां बच्चों में अक्सर अलग जीवन शैली विकल्पों या बाहरी प्रभावों के कारण समानता कम हो जाती है। समान जुड़वां भाइयों के बच्चे आनुवंशिक परीक्षण में चचेरे भाई के बजाय आधे भाई बहन होते हैं।

अर्ध-समान जुड़वां[संपादित करें]

अर्ध समान या अर्द्ध-समान जुड़वां ("अर्ध जुड़वां" भी कहा जाता है") जुड़वां बच्चों का एक अत्यंत दुर्लभ प्रकार हैं, जिसमें जुड़वां अपनी मां से समान किन्तु पिता से अलग अलग जीन ग्रहण करते हैं। हालांकि अर्ध-समान जुड़वाओं का उदाहरण पाया गया है, उनकी अवधारणा का सटीक तंत्र अच्छी तरह से समझा नहीं जा सका है, लेकिन सैद्धांतिक रूप से ऐसा पोलर बॉडी (डिंब के अन्दर की कोशिका संरचना) ट्विनिंग में हो सकता है जहां शुक्राणु कोशिकाएं डिंब और डिंब के अन्दर की कोशिका संरचना को निषेचित कर सकती हैं।

यह स्थिति आपसी जुड़वां बच्चों के सामान्य प्रकार के अनुरूप नहीं होती जिसमें आनुवंशिक रूप से दो अलग ओवा, आनुवंशिक रूप से दो अलग शुक्राणुओं द्वारा निषेचित होते हैं। इस मामले में, ओवा आनुवंशिक रूप से समान हैं।

किस्में[संपादित करें]

ऐसी तीन क्रियाविधियां है जिनके द्वारा ऐसा हो सकता है:

  • पोलर जुड़वां (या "पोलर बॉडी जुड़वां"), जहां दो शुक्राणु एक डिंब को निषेचित करते हैं;[23] या दो में से एक किसी पोलर बॉडी को निषेचित करता है या जहां एक डिंब दो समान प्रतियों में विखंडित हो जाता है, जिसमे से एक में पोलर बॉडी होती है, निषेचन से पहले इसका दो विभिन्न शुक्राणुओं द्वारा निषेचन होने देती है।[24][25]
  • सेस्कुईज़ाईगोटिक जुड़वां, जिसमें दो शुक्राणु एक डिंब को निशेचित करके एक ट्रिपलोईड बनाते हैं और उसके बाद विखंडित होते हैं।[26]

विस्तार[संपादित करें]

बिना दिल के एक मृत ट्रिपलोईड XXX जुड़वां भ्रूण पर 1981 में हुए एक अध्ययन से पता चला कि यद्यपि इसकी भ्रूण संबंधी विकास से लगता था कि यह एक समान जुड़वां है, चूंकि यह अपने स्वस्थ जुड़वां के साथ एक ही नाल को साझा करता था, परीक्षणों से पता चला कि इसके एक पोलर बॉडी ट्विन होने की संभावना थी। लेखक यह बताने में असमर्थ थे कि क्या एक स्वस्थ भ्रूण पोलर बॉडी ट्विनिंग के परिणामस्वरूप हो सकता है।[27] 2003 में एक अध्ययन का तर्क था कि कई मामलों में अर्ध-समान जुड़वां बच्चों के कारण ट्रिपलोईडिटी के कई मामले बढ़े हैं।[28] 2007 में, एक अध्ययन ने एक जीवित जुड़वां बच्चों के जोड़े के बारे में बताया जिनमे से एक द्विलिंगी और एक फिनोटिपिकल पुरुष था। दोनों जुड़वां चिमेराज़ पाए गए और अपने सभी मातृ डीएनए को तथा केवल आधे पितृ डीएनए को साझा करते पाए गए। निषेचन के सटीक तंत्र का निर्धारण नहीं किया जा सका किन्तु अध्ययन ने बताया कि इसके पोलर बॉडी ट्विनिंग होने की संभावना नहीं थी।[29]

अलग होने की स्थिति[संपादित करें]

निषेचित अण्डों के विभाजन के परिणामस्वरूप एकयुग्मनज (एक अंडा/समान) जुड़वां बच्चों की विभिन्न प्रकारों की कोरियोनिसिटी और एम्नियोसिटी (बच्चे की थैली कैसी दिखती है)

गर्भाशयांतर्गत जुड़वाओं की भिन्नता का स्तर इस बात पर निर्भर करता है कि क्या वे दो युग्मनजों में विभाजित हुए हैं और कब हुए हैं। द्वियुग्मनज जुड़वां हमेशा दो युग्मनज थे। एकयुग्मज जुड़वां गर्भावस्था के समय में बहुत जल्दी दो युग्मनजों में विभाजित हो जाते हैं। इस विभाजन का समय गर्भावस्था के चिरकालिकता समय और एम्नियोसिटी (जर्दी थैलियों की संख्या) को निर्धारित करता है। डाईकोर्यिओनिक जुड़वां या तो विभाजित नहीं होते (यानी द्वियुग्मजन जुड़वां थे) या वे पहले 4 दिनों में विभाजित होते हैं। मोनोएम्निओनिक जुड़वां पहले सप्ताह के बाद विभाजित होते हैं।

बहुत दुर्लभ मामलों में, जुड़वां बच्चे संयुक्त जुड़वां होते हैं। इसके अलावा, गर्भ में जुड़वां बच्चों द्वारा साझे किये गए वातावरण के कई स्तर हो सकते हैं, जिससे गर्भावस्था में जटिलता की संभावना बढ़ जाती है।

यह एक आम गलत धारणा है कि दो नाल का मतलब है द्वियुग्मनज जुड़वां (असमान). लेकिन अगर एक युग्मनज जुड़वां काफी पहले अलग हो जाते हैं, तो गर्भाशय में थैलियों और नाल की व्यवस्था का द्वियुग्मनज जुड़वां से भेद करना कठिन है।

प्रकार विवरण दिन
डाईकोरियोनिक-डाईएम्नियोटिक (Dichorionic-Diamniotic) आम तौर पर, जुड़वा बच्चों के दो अलग (डाई- दो के लिए एक संख्यात्मक उपसर्ग है) जरायु है और एम्नियोटिक थैलियां होती हैं, जिन्हें डाईक्रोरियोनिक-डाईएम्नियोटिक या "डीडी" (DiDi) कहा जाता है। ऐसा लगभग सभी द्वियुग्मनज जुड़वां बच्चों के मामलों में होता है (केवल उनके ब्लास्टोसिस्ट[30] के संलयन के दुर्लभ मामलों को छोड़ कर), गर्भधारण के सभी मामलों में से 99.7%,[31] और एकयुग्मनज (समान) जुड़वां बच्चों में 18-36%[32] (या लगभग 25%)[30] डीडी जुड़वां बच्चों में मृत्यु दर जोखिम सबसे कम 9% है जो कि अभी भी सिंगलटन की तुलना में काफी अधिक है।[33] डाईकोरियोनिक-डाईएम्नियोटिक जुड़वां बच्चे तब होते हैं जब निषेचन के तीसरे दिन विखंडन होता है।[30]
मोनोकोरियोनिक-डाईएम्नियोटिक Monochorionic-Diamniotic मोनोकोरियोनिक जुड़वां एक ही नाल से जुड़े होते हैं। मोनोकोरियोनिक जुड़वां बच्चों में आमतौर दो एम्नियोटिक थैलियां (जिन्हें मोनोकोरियोनिक डाईएम्नियोटिक "मोडी" कहते हैं) होती हैं जो जुड़वां बच्चों के 60-70% गर्भधारण के मामलों में बनती हैं।[32] मोनोकोरियोनिक-डाईएम्नियोटिक जुड़वां लगभग हमेशा एकयुग्मनज रहे हैं, कुछ अपवादों के अलावा जिसमे ब्लास्टोसिस्ट का संलयन हो गया।[30] 4-8 दिनों में
मोनोकोरियोनिक- मोनोएम्नियोटिक

Monochorionic-Monoamniotic

कभी कभी, मोनोकोरियोनिक जुड़वां एक ही एम्नियोटिक को साझा करते हैं। 1-2% एकयुग्मनज जुड़वां गर्भधारण में ऐसी स्थिति होती है।[32] मोनोएम्नियोटिक जुड़वां हमेशा एकयुग्मनज (समान जुड़वां) होते हैं।[34] मोनोएम्नियोटिक जुड़वां में बचने की दर 50%[34] से 60% के बीच है।[35] नतीजतन, अगर जुड़वां मोनोएम्नियोटिक हैं तो इसका मतलब है कि दोनों बच्चे एक नाल को साझा करेंगे और परिणामस्वरूप, थैली को साझा करने की कम क्षमता के कारण, बच्चों के चारों ओर नाल की रस्सी के उलझने की संभावना अधिक है। इस वजह से, नवजातों के गर्भपात के संभावना बढ़ जाती है या वे ऑक्सीजन की कमी के कारण मस्तिष्क पक्षाघात से पीड़ित हो सकते हैं। मोनोएम्नियोटिक जुड़वां तब होते हैं जब निषेचन के नौंवें दिन के बाद विखंडन होता है।[30]
संयुक्त जुड़वां जब विकसित युग्मनज का 2 भ्रूणों में विभाजन होता है, 99% मामलों में ऐसा निषेचन के 8 दिनों के भीतर होता है। साझा अंगों से उत्पन्न जटिलताओं के कारण संयुक्त जुड़वां बच्चों में मृत्यु दर सबसे अधिक है। अगर युग्मनज का विभाजन 12 दिन बाद होता है तो आमतौर पर इसके परिणामस्वरूप संयुक्त जुड़वां होते हैं।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

एक ताजा अध्ययन में पाया गया है कि डेयरी उत्पादों में पाया जाने वाला इंसुलिन जैसा वृद्धि कारक द्वियुग्मनज जुड़वां बच्चों की संभावना में वृद्धि कर सकता है। विशेष रूप से, अध्ययन में पाया गया कि शाकाहारी मांओं (जिनके आहार में डेयरी उत्पाद नहीं हैं) में जुड़वां बच्चों के पैदा होने की संभावना शाकाहारी या सर्वाहारी माताओं की तुलना में 1/5 होती है और यह निष्कर्ष निकाला कि "बढे हुए आईजीएफ (IGF) और डेयरी उत्पादों वाले आहार को को बढ़ावा देने वाले जीनोटाइप, विशेकर उन क्षेत्रों में जहाँ पशुओं को ग्रोथ हार्मोन दिए जाते हैं, डिम्बग्रंथि के उत्तेजित होने के कारण एकाधिक गर्भधारण की संभावना में वृद्धि हो जाती है।"[36]

1980-1997 तक, संयुक्त राज्य अमेरिका में जुड़वा बच्चों की जन्म संख्या 52% बढ़ी है।[37] इस वृद्धि का आंशिक कारण क्लोमिड जैसी प्रजनन दवाएं और परखनली निषेचन की बढ़ती लोकप्रियता है, जिसके कारण बिना बाह्य सहायता के होने वाले प्रजनन की अपेक्षा एकाधिक जन्म अक्सर अधिक होते हैं। ऐसा भोजन में विकास हार्मोनों की वृद्धि के कारण भी हो सकता है।[36]

जातीयता[संपादित करें]

90 मानव जन्मों में से 1 (1.1%) परिणाम जुड़वाओं के रूप में होते हैं।[38] द्वियुग्मनज जुड़वां बच्चों की दर जातीय समूहों में काफी अलग है, जो योरुबा में प्रति 1000 में 45 जितनी उच्च से लेकर लिन्हा साओ पेड्रो, ब्राज़ील का एक छोटा क्षेत्र जो कैंडिडो गोडोई शहर से संबंधित है, में 10% तक है।[39] केंडिडो गोडोई में, पांच में से एक गर्भधारण में जुड़वां बच्चे होते हैं।[40] अर्जेंटीना के इतिहासकार जॉर्ज कामरासा ने एक सिद्धांत पेश किया है इस क्षेत्र में जुड़वाओं के उच्च अनुपात के लिए नाजी डॉक्टर जोसेफ मेंगेले जिम्मेदार हो सकते थे।[41] उनके सिद्धांत को ब्राजील के वैज्ञानिकों द्वारा अस्वीकार कर दिया गया जिन्होंने लिन्हा साओ पैड्रो में रहने वाले जुड़वाओं का अध्ययन किया था; उनके अनुसार उस समुदाय के अन्दर आनुवांशिक कारक अधिक जिम्मेदार थे।[42] दुनिया के कई अन्य स्थानों पर भी जुड़वां बच्चों की दर में अधिकता पाई गई है जिनमे नाइजीरिया में ल्ग्बो-ओरा[43] और भारत में कोडिन्जी शामिल है।[44]

प्रजनन दवाओं के व्यापक प्रयोग से होने वाले अधिअंडोत्सर्ग (मां द्वारा एकाधिक अंडों का उत्तेजित उत्सर्ग) के कारण, जिसे कुछ लोग "एकाधिक जन्मों की महामारी" कहते हैं, फैल रही है। 2001 में, अमेरिका में पहली बार, जुड़वां बच्चों की जन्म दर सभी जन्मों से 3% अधिक हो गई। फिर भी, दुनिया भर में एकयुग्मनज जुड़वाओं की जन्म दर 333 में 1 बनी हुई है।

नाइजीरिया के सवाना क्षेत्र में रहने वाली 5750 हौसा महिलाओं पर हुए अध्ययन से पता चला कि वहां प्रत्येक 1000 जन्मों में 40 जुड़वां और 2 ट्रिप्लेट थे। 26 प्रतिशत जुड़वां एकयुग्मनज थे। एकाधिक जन्मों की घटना, जो किसी भी पश्चिमी आबादी से पांच गुना अधिक है, अन्य जातीय समूहों, जो देश के दक्षिणी भाग की गर्म और आर्द्र जलवायु में रहते हैं, की तुलना में काफी कम थी। एकाधिक जन्मों की घटना को मातृ आयु से जोड़ा गया था किन्तु जलवायु या मलेरिया के प्रसार से इसका कोई संबंध नहीं था।[45]

रोगप्रवणता कारक[संपादित करें]

एकयुग्मनज बच्चों के रोगप्रवणता कारक अज्ञात हैं।

जब निम्नलिखित कारक महिला में मौजूद हों तो द्वियुग्मनज जुड़वां गर्भधारण की संभावना थोड़ी अधिक होती है:

  • वह पश्चिमी अफ़्रीकी वंश की है (विशेष रूप से योरूबा)
  • उसकी आयु 30 और 40 वर्ष के बीच है
  • वह औसत ऊंचाई और वजन से अधिक बड़ी है
  • उसने पहले भी कई बार गर्भधारण किया है।

कुछ प्रजनन उपचार के दौर से गुजरने वाली महिलाओं में द्वियुग्मनज एकाधिक जन्मों की अधिक संभावना हो सकती है। यह इस पर निर्भर कर सकता है कि किस प्रकार का प्रजनन उपचार किया गया है। इन विट्रो निषेचन (IVF), में ऐसा होने का मुख्य कारण गर्भाशय में एकाधिक भ्रूणों की प्रविष्टि है। कुछ अन्य उपचार जैसे क्लोमिड दवा एक महिला को कई गुना अंडे छोड़ने के लिए प्रेरित कर सकती है, जिससे एकाधिक बच्चों के जन्म की संभावना बढ़ जाती है।

प्रसव अंतराल[संपादित करें]

हेस में 15 साल तक सामान्य प्रसव से जन्मे 8220 जुड़वां बच्चों (अर्थात 4110 गर्भधारण) पर हुए एक जर्मन अध्ययन[46] के अनुसार औसत प्रसव समय अन्तराल 13.5 मिनट है।[47] जुड़वा बच्चों के बीच प्रसव अंतराल निम्नानुसार मापा गया था:

  • 15 मिनट के भीतर: 75.8%
  • 16-30 मिनट: 16.4%
  • 31-45 मिनट: 4.3%
  • 46-60 मिनट: 1.7%
  • 60 मिनट से अधिक: 1.8% (72 मामले)

अध्ययन में कहा गया कि "एक से दुसरे जुड़वां के प्रसव समय अन्तराल में वृद्दि का होना" जटिलताओं के बढ़ने से जुड़ा पाया गया था और सुझाव दिया कि अन्तराल कम रखा जाए, हालांकि यह उल्लेखनीय है कि अध्ययन ने जटिलताओं के कारणों की जांच नहीं की थी और दाई के अनुभव का स्तर, महिलाओं की जन्म देने की इच्छा, या दूसरे जुड़वां को जन्म देने की 'प्रबंधन रणनीति" जैसे कारकों पर नियंत्रण नहीं किया था।

जुड़वां गर्भावस्था की जटिलताएं[संपादित करें]

लुप्त जुड़वां[संपादित करें]

शोधकर्ताओं को संदेह है कि 8 में से 1 गर्भधारण एकाधिक के रूप में शुरू होता है, किन्तु केवल एक ही भ्रूण कार्यकाल पूरा करता है, क्योंकि अन्यों का गर्भावस्था के शुरू में ही निधन हो जाता है और उन्हें देखा या दर्ज नहीं किया जाता है।[48] शुरूआती प्रसूति अल्ट्रासोनोग्राफी परीक्षणों से कभी कभी एक "अतिरिक्त" भ्रूण का पता चलता है, जो विकसित होने में विफल रहता है और इसके बजाए विखंडित और लुप्त हो जाता है। इसे वैनिशिंग ट्विन सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है।

"स्यामी जुड़वां" शब्द के मूल चांग और एंग बंकर थे जिनका जन्म सियाम (अब थाईलैंड) में 1811 में हुआ था।

संयुक्त जुड़वां[संपादित करें]

संयुक्त जुड़वां (या प्रतिस्थापित शब्द "स्यामी जुड़वां") एकयुग्मनज जुड़वां होते हैं जिनके शरीर गर्भावस्था के दौरान एक दूसरे के साथ जुड़ जाते हैं। यह वहां होता है जहां MZ जुड़वां बच्चों का एकल युग्मनज अलग होने में पूरी तरह से विफल रहता है और निषेचन के 12 दिन पश्चात् युग्मनज का विभाजन शुरू होता है।[30] 50000 मानव गर्भधारणों में से किसी एक में ऐसी स्थिति पाई जाती है। अधिकांश संयुक्त जुड़वां बच्चों को अलग कार्यात्मक शरीर के रूप में अलग करने के प्रयास के लिए, अब सर्जरी के लिए उनका मूल्यांकन किया जाता हैं। कठिनाई तब अधिक बढ़ जाती है जब कोई महत्वपूर्ण अंग या संरचना दोनों जुड़वां बच्चों में साझी हो, जैसे मस्तिष्क, दिल या जिगर.

चिमेरिस्म[संपादित करें]

एक चिमेरा एक साधारण व्यक्ति या जानवर है जिसमे अपवादस्वरूप कुछ अंग वास्तव में उसके जुड़वां या मां से आए हैं। एक चिमेरा या तो एकयुग्मनज जुड़वां भ्रूण से पैदा होता है (जहां इसका पता लगाना असंभव हो जाएगा), या द्वियुग्मनज भ्रूणों से, जिसमे शरीर के विभिन्न भागों से गुणसूत्र तुलना द्वारा पहचान की जा सकती है। प्रत्येक भ्रूण से प्राप्त की गई कोशिकाओं में शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक भिन्नता हो सकती है और इसके कारण अक्सर मानव चिमेरा में मोजेइकिज्म त्वचा के रंग की विशेषताओं में वृद्धि होती है। चिमेरा इंटरसेक्स अर्थात पुरुष जुड़वां और महिला जुड़वां की कोशिकाओं से निर्मित हो सकता है। इसके अलावा, कुछ मामलों में व्यक्ति या चिमेरा में डीएनए के दो सेट हो सकते हैं।

परजीवी जुड़वां[संपादित करें]

कभी कभी एक जुड़वां भ्रूण पूरी तरह से विकसित होने में विफल होता है और अपने जीवित जुड़वां के लिए समस्याएं पैदा करना जारी रखता है। एक भ्रूण अन्य के लिए एक परजीवी की तरह व्यवहार करता है। कभी कभी परजीवी जुड़वां दूसरे का लगभग अप्रभेद्य हिस्सा बन जाता है और कभी कभी इसके साथ चिकित्सा द्वारा निपटा जाता है।

आंशिक मोलर जुड़वां[संपादित करें]

परजीवी जुड़वां बच्चों का एक बहुत दुर्लभ प्रकार है जिसमें एक ही व्यवहार्य जुड़वां लुप्तप्राय है, जब दूसरा युग्मनज कैंसर कारक या मोलर हो जाता है। इसका मतलब यह है कि एकयुग्मनज का कोशिका विभाजन अनियंत्रित रूप से जारी रहता है, जो एक व्यवहार्य भ्रूण से बढ़ कर एक कैंसर वृद्धि का रूप ले लेता है। आमतौर पर, ऐसा तब होता है जब एक जुड़वां को ट्रिपलोइडी हो या पूर्ण पैतृक यूनीपेरेंटल नाल ऊंचा हो गया हो जिसके परिणामस्वरूप छोटा भ्रूण अथवा कोई भ्रूण नहीं होता और एक कैंसरजनक, अधिक बड़े भ्रूण जैसी संरचना बन जाती है जो अंगूर के गुच्छों जैसी दिखती है।

जुड़वां गर्भपात[संपादित करें]

कभी कभी, एक औरत को गर्भावस्था के दौरान गर्भपात होजाता है, फिर भी गर्भावस्था जारी रहती है; एक जुड़वां का गर्भपात हो गया था, लेकिन दूसरा अपनी अवधि पूरी करने में सक्षम रता है। यह घटना वैनिशिंग ट्विन सिंड्रोम के समान है, लेकिन आम तौर पर वैनिशिंग ट्विन सिंड्रोम के बाद घटित होती है।

जन्म के समय कम वजन[संपादित करें]

आमतौर पर जुड़वां बच्चों का जन्म के समय वज़न कम होता है और समय से पूर्व प्रसव की संभावना अधिक होती है जैसा कि आम तौर पर अधिकतर एकाधिक प्रसवों में होता है। अपने पूरे जीवनकाल के दौरान औसतन जुड़वां बच्चे सिंगलटन की अपेक्षाकृत छोटे होते हैं।

ट्विन-टू-ट्विन ट्रांसफ्यूज़न सिंड्रोम[संपादित करें]

एकयुग्मनज जुड़वां बच्चों में, जो एक नाल से जुड़े होते हैं, ट्विन-टू-ट्वि. इस अवस्था का अर्थ है कि एक जुड़वां से खून दूसरे जुड़वां को बंट जाता है। एक जुड़वां, जो 'दाता' जुड़वां है छोटा और खून की कमी का शिकार है और, दूसरा प्राप्तकर्ता जुड़वां बड़ा और पोलीसाइथेमिक है। इस हालत से दोनों जुड़वा बच्चों का जीवन खतरे में पड़ जाता हैं।

मनुष्यों के जुड़वाओं का अध्ययन[संपादित करें]

जुड़वाओं के अध्ययन का प्रयोग यह निर्धारित करने में होता है कि किसी भी एक खास विशेषता का कितना बड़ा कारण आनुवंशिकी या पर्यावरणीय प्रभाव हैं। ये अध्ययन एकयुग्मनज और द्वियुग्मनज जुड़वां बच्चों की चिकित्सीय, आनुवांशिक या मनोवैज्ञानिक विशेषताओं की तुलना करके यह प्रयास करते हैं कि जीन अभिव्यक्तियों या पर्यावर्णीय प्रभाव से आनुवांशिकी प्रभाव को अलग कर सकें. वे जुड़वां जो जीवन की शुरुआत में अलग कर दिए गए हैं और अलग घरों में पले हैं, को विशेषकर इस प्रकार के अध्ययनों के लिए चुना जाता है, जिन्हें मानव स्वभाव के अन्वेषण में व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता है। हालांकि, इन जुड़वां बच्चों के अध्ययन की उपयोगिता और सटीकता पर प्रश्नचिन्ह लगाया गया है और यह विवादास्पद बना हुआ है। जुड़वाओं से संबंधित श्रेष्ठ अध्ययन अब आणविक आनुवंशिक अध्ययन के साथ पढ़े जाते हैं जो व्यक्तिगत जीनों की पहचान करते हैं।

असामान्य जुड़वां[संपादित करें]

दुर्लभ मामलों में, द्वियुग्मनज जुड़वाओं के बीच, दो या दो से अधिक बार यौन संबंधों के कारण अलग अलग समय पर अंडे निषेचित होते हैं, ये क्रिया या तो एक ही मासिक चक्र में होती है (सुपरफिकन्डेशन) या और अधिक दुर्लभ रूप से, गर्भावस्था के बाद के चरण में होती है (सुपरफेटेशन). इसके परिणामस्वरूप एक औरत को अलग अलग पिताओं से भ्रात्रिक जुड़वां पैदा होने की संभावना बन जाती है (अर्थात अर्ध जुड़वां). इस घटना को हीट्रोपेटर्नल सुपरफिकन्डेशन के रूप में जाना जाता है। 1992 के एक अध्ययन का अनुमान है कि द्वियुग्मनज जुड़वां बच्चों में हीट्रोपेटर्नल सुपरफिकन्डेशन की आवृति, जिनके अभिभावक पितृत्व मुकद्दमों में शामिल थे, लगभग 2.4% थी, अधिक जानकारी के लिए, नीचे संदर्भ अनुभाग देखें.

भिन्न नस्लों के जोड़ों से उत्पन्न द्वियुग्मनज जुड़वां कभी कभी मिश्रित जुड़वां हो सकते हैं, जो अलग अलग जातीय और नस्लीय विशेषताओं को प्रदर्शित करते हैं। 2008 में जर्मनी से एक श्वेत पिता और घाना से एक अश्वेत मां से ऐसे ही एक जोड़े का जन्म हुआ था।[49]

हीट्रोटॉपिक गर्भावस्था एक निहायत ही दुर्लभ किस्म के द्वियुग्मनज जुड़वां का प्रकार है जिसमे एक जुड़वां का प्रत्यारोपण सामान्य रूप से गर्भाशय में किया जाता है तथा दूसरा अस्थानिक गर्भावस्था के रूप में फैलोपियन ट्यूब में रहता है। अस्थानिक गर्भधारण का अवश्य ही निदान किया जाना चाहिए क्योंकि वे मां के लिए जानलेवा हो सकते हैं। हालांकि, ज्यादातर मामलों में, अंतर्गर्भाशयी गर्भावस्था को बचाया जा सकता है।

अत्यंत दुर्लभ मामलों में, एकयुग्मनज जुड़वां बच्चों में, जुड़वा बच्चे विपरीत लिंगों (एक पुरुष, एक महिला) के साथ पैदा होते हैं। इस की संभावना इतनी कम है (केवल 3 प्रलेखित मामले हैं[50]) कि विभिन्न लिंगों के साथ पैदा हुए एकाधिक बच्चों को दुनिया भर में इस ठोस आधार पर चिकित्सीय अनुसन्धान के लिए स्वीकार गया है कि गर्भाशय में एकाधिक बच्चे एकयुग्मनज नहीं हैं। जब एकयुग्मनज जुड़वां अलग लिंगों के साथ पैदा होते हैं तो ऐसा गुणसूत्र जन्म दोष के कारण होता है। इस मामले में, जुड़वा हालांकि एक ही अंडे से आते हैं, किन्तु उन्हें आनुवंशिक रूप से समान कहना गलत है, क्योंकि उनके कार्योटाइप (नाभिक में गुणसूत्रों की संख्या तथा उपस्थिति) अलग अलग हैं।

अर्द्ध-समान जुड़वां[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: half twin

एकयुग्मनज अलग अलग जीनों के सक्रिय होने के कारण अलग अलग तरीकों से विकसित हो सकते हैं।[51] "अर्द्ध-समान जुड़वां" अधिक असामान्य हैं। ये "आधे-समान जुड़वां" बच्चों की परिकल्पना तब होती है जब एक अनिषेचित अंडा दो समान ओवा (Ova) में विभक्त हो जाता है तथा ये ओवा निषेचन के अनुकूल होते हैं। दोनों क्लोन ओवा अलग अलग शुक्राणुओं द्वारा निषेचित होते हैं और ये अंडे संगठित हो कर चिमेरिक ब्लास्टोमेर के रूप में विकसित हो कर एक और कोशिका दोहराव से गुज़रते हैं। यदि यह ब्लास्टोमेर एक जुड़वां घटना के रूप में बदल जाए, तो दो भ्रूण बनेंगे, जिनमें से प्रत्येक का अलग पैतृक जीन और समान मातृ जीन होगा।

परिणामस्वरूप मां की तरफ से समान जीन लेकिन पिता की ओर से भिन्न जीनों के साथ जुड़वा बच्चे पैदा होंगे। प्रत्येक भ्रूण की कोशिकाएं किसी भी शुक्राणु से जीन ग्रहण करेंगी, जिसके परिणामस्वरूप चिमेरा बच्चे होंगे। पश्चिमी चिकित्सा में अभी हाल ही में दर्ज होने तक इस किस्म के बारे में अटकलें लगाई जाती रहीं थी।[52][53][54]

हारफोर्ड नस्ल के जुड़वां बछड़े

जुड़वां पशु[संपादित करें]

जानवरों की कई प्रजातियों में जुड़वां बच्चे आम हैं जैसे बिल्ली, भेड़, नेवले तथा हिरण. मवेशियों में जुड़वां बच्चे होने की संभावना 1-4% है और जुड़वाओं की विषमताओं में सुधार के लिए शोध जारी हैं, जो ब्रीडर के लिए अधिक लाभदायक हो सकते हैं यदि जटिलताओं से बचा जा सके या उनका सही ढंग से प्रबंधन किया जा सके। नौ धारियों वाली अर्माडिल्लो (देसिपुस नोवेमकिंकटस) के आसाधारण मामलों की बजाए नियमित प्रजनन के रूप में समान जुड़वां बच्चे होते हैं।[55][56]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • पौराणिक कथाओं में जुड़वां
  • मिथुन (ज्योतिष)
  • जुड़वा बच्चों के बीच अगम्यागमन
  • संयुक्त जुड़वां
  • गुणज जन्मों की सूची
  • गुणज जन्म
  • जुड़वा बच्चों की सूची
  • एक जैसे दिखने वाले
  • एक साथ पैदा हुए बच्चे (जानवर)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. DIEGO TEJADA DE MOLLENDOमेडीसिनेट > जुड़वां की परिभाषा अंतिम सम्पादकीय की समीक्षा: 19/6/2000
  2. मार्टिन, जॉइस ए, हैमिल्टन, ब्रैडी ई.; सुट्टों, पॉल डी., वेंटुरा, स्टेफ़नी जे; मेनाकर, फे; किर्मेयर शेरोन और मैथ्यूज, टी.जे. बर्थ्स: फाइनल डेटा फॉर 2006 , राष्ट्रीय महत्वपूर्ण सांख्यिकी रिपोर्ट, खंड. 57, नं. 7, जनवरी 7, 2009, 102 पीपी. (टेबल 39, पीपी.83-84)
  3. Zach, Terence; Arun K Pramanik and Susannah P Ford (2 अक्टूबर 2007). "Multiple Births". WebMD. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  4. "Genetics or yams in the Land of Twins?". Independent Online. 12 नवंबर 2007. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  5. "The Land Of Twins". BBC World Service. 7 जून 2001. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  6. O. Bomsel-Helmreich; W. Al Mufti (1995). "The mechanism of monozygosity and double ovulation". प्रकाशित Louis G. Keith, Emile Papierik, Donald M. Keith and Barbara Luke. Multiple Pregnancy: Epidemiology, Gestation & Perinatal Outcome. Taylor and Francis. पृ॰ 34. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85070-666-2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Keith" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  7. "What's in a yam? Clues to fertility, a student discovers". 1999. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  8. Elliott, JP (2007). "Preterm labor in twins and high-order multiples". Clinical Perinatology. 34 (4): 599–609. PMID 18063108. डीओआइ:10.1016/j.clp.2007.10.004. Unlike singleton gestation where identification of patients at risk for PTL is often difficult, every multiple gestation is at risk for PTL, so all patients can be managed as being at risk. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  9. "United States: People". The World Factbook. Central Intelligence Agency. 4 सितंबर 2008. अभिगमन तिथि 2 अक्टूबर 2008.
  10. "Italy: People". The World Factbook. Central Intelligence Agency. 4 सितंबर 2008. अभिगमन तिथि 2 अक्टूबर 2008.
  11. Bortolus, Renata; Fabio Parazzini, Liliane Chatenoud, Guido Benzi, Massimiliano Maria Bianchi, Alberto Marini (1999). "The epidemiology of multiple births". Human Reproduction Update. European Society of Human Reproduction and Embryology. 5 (2): 179–187. PMID 10336022. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 1355-4786. डीओआइ:10.1093/humupd/5.2.179.
  12. Cheng, Maria; Associated Press (3 जुलाई 2007). "Study: Twins form after embryo collapses". USA Today. अभिगमन तिथि 30 सितंबर 2008.
  13. April Holladay (9 मई 2001). "What triggers twinning?". WonderQuest. अभिगमन तिथि 22 मार्च 2007.
  14. Illmensee K, Levanduski M, Vidali A, Husami N, Goudas VT (2009). "Human embryo twinning with applications in reproductive medicine". Fertil. Steril. 93 (2): 423–7. PMID 19217091. डीओआइ:10.1016/j.fertnstert.2008.12.098. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Oleszczuk, Jaroslaw J.; Donald M. Keith, Louis G. Keith and William F. Rayburn (1999). "Projections of population-based twinning rates through the year 2100". The Journal of Reproductive Medicine. 44 (11): 913–921. PMID 10589400. अभिगमन तिथि 2 अक्टूबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  16. European Society of Human Reproduction and Embryology (2 जुलाई 2007). Time-lapse recordings reveal why IVF embryos are more likely to develop into twins. Researchers believe the laboratory culture could be the cause. प्रेस रिलीज़. http://www.eshre.com/emc.asp?pageId=939. अभिगमन तिथि: 30 सितंबर 2008. 
  17. Edwards, JH; T Dent and J Kahn (1966). "Monozygotic twins of different sex". Journal of Medical Genetics. 3 (2): 117–123. PMC 1012913. PMID 6007033. डीओआइ:10.1136/jmg.3.2.117. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  18. Machin, GA (1996). "Some causes of genotypic and phenotypic discordance in monozygotic twin pairs". American Journal of Medical Genetics. 61 (3): 216–228. PMID 8741866. डीओआइ:10.1002/(SICI)1096-8628(19960122)61:3<216::AID-AJMG5>3.0.CO;2-S. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  19. Fraga, Mario F.; Esteban Ballestar, Maria F. Paz, Santiago Ropero, Fernando Setien, Maria L. Ballestar†, Damia Heine-Suñer, Juan C. Cigudosa, Miguel Urioste, Javier Benitez, Manuel Boix-Chornet, Abel Sanchez-Aguilera, Charlotte Ling, Emma Carlsson, Pernille Poulsen, Allan Vaag, Zarko Stephan, Tim D. Spector, Yue-Zhong Wu, Christoph Plass and Manel Esteller (2005). "Epigenetic differences arise during the lifetime of monozygotic twins". Proc. Natl. Acad. Sci. U.S.A. 102 (30): 10604–9. PMC 1174919. PMID 16009939. डीओआइ:10.1073/pnas.0500398102. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  20. Segal, Nancy L. (1999). Entwined lives: twins and what they tell us about human behavior. New York: Dutton. OCLC 40396458. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-525-94465-6.[page needed]
  21. Plomin, Robert (2001). Behavioral genetics. New York: Worth Pubs. OCLC 43894450. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7167-5159-3.[page needed]
  22. LiveScience (21 फरवरी 2008). "'Identical' twins? Not according to their DNA". MSNBC. अभिगमन तिथि 10 अक्टूबर 2008.
  23. Gilbert, Scott F. (2006). "Non-identical Monozygotic Twins". DevBio: A Companion to Developmental Biology (Eighth edition संस्करण). Sinauer Associates. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008.
  24. Fierro, Pamela Prindle. "Polar body twinning". About.com. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008.
  25. "FAQ - Twin Zygosity". Proactive Genetics. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008.
  26. Fierro, Pamela Prindle. "Semi-Identical Twins - New Twin Type - SemiIdentical Type of Twinning". About.com. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008.
  27. Bieber, Frederick R.; Walter E. Nance; Cynthia C. Morton; Judith A. Brown; Fay O. Redwine; Robert L. Jordan and T. Mohanakumar (14 अगस्त 1981). "Genetic Studies of an Acardiac Monster: Evidence of Polar Body Twinning in Man". Science. American Association for the Advancement of Science. 213 (4509): 775–777. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008. Non-identical Monozygotic Twins सहज सारांश जाँचें |laysummary= मान (मदद)DevBio: A Companion to Developmental Biology (2006).
  28. Golubovsky, M.D. (2003). "Postzygotic diploidization of triploids as a source of unusual cases of mosaicism, chimerism and twinning". Human Reproduction. Oxford Journals. 18 (2): 236–242. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008. 'Semi-identical' twins discovered सहज सारांश जाँचें |laysummary= मान (मदद)Nature News (26 मार्च 2007). नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  29. Souter, Vivienne L.; Melissa A. Parisi, Dale R. Nyholt, Raj P. Kapur, Anjali K. Henders, Kent E. Opheim, Daniel F. Gunther, Michael E. Mitchell, Ian A. Glass and Grant W. Montgomery (2007). "A case of true hermaphroditism reveals an unusual mechanism of twinning". Human Genetics. Berlin / Heidelberg: स्प्रिंगर. 121 (2): 179–185. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 1432-1203. डीओआइ:10.1007/s00439-006-0279-x. अभिगमन तिथि 29 फरवरी 2008. Semi-identical twins discovered सहज सारांश जाँचें |laysummary= मान (मदद)बीबीसी न्यूज़ (27 फरवरी 2007). नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  30. Shulman, Lee S.; Vugt, John M. G. van (2006). Prenatal medicine. Washington, DC: Taylor & Francis. पपृ॰ Page 447. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8247-2844-0.
  31. Cordero L, Franco A, Joy SD, O'shaughnessy RW (2005). "Monochorionic diamniotic infants without twin-to-twin transfusion syndrome". J Perinatol. 25 (12): 753–8. PMID 16281049. डीओआइ:10.1038/sj.jp.7211405. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  32. Curran, Mark (2 नवंबर 2005). "Twinning". Focus Information Technology. अभिगमन तिथि 10 अक्टूबर 2008.
  33. Benirschke, Kurt (2004). "Multiple Gestation". प्रकाशित Robert Resnik, Robert K. Creasy and Jay D. Iams. Maternal-Fetal Medicine: Principles and Practice (5th संस्करण). Philadelphia: W. B. Saunders Company. पपृ॰ 55–62. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7216-0004-2.
  34. गर्भावस्था-जानकारी -- > मोनोएमनिओटिक जुड़वां, 9 जुलाई 2009 को पुनःप्राप्त
  35. पैमेला प्रिन्डल फ़िर्रो द्वारा मोमो जुड़वां; मोनोक्रोइओनिक मोनोएमनिओटिक ट्विन्स, About.com 9 जुलाई 2009 को पुनःप्राप्त.
  36. Steinman, Gary (2006). "Mechanisms of twinning: VII. Effect of diet and heredity on the human twinning rate". J Reprod Med. 51 (5): 405–410. PMID 16779988. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  37. Martin, Joyce A; Melissa M. Park (14 सितंबर 1999). "Trends in Twin and Triplet Births: 1980–97" (PDF). National Vital Statistics Reports. National Center for Health Statistics. 47 (24): 1–17. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  38. Asch, Richard H.; John Studd (1995). Progress in Reproductive Medicine Volume II. Informa. OCLC 36287045. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 1358-8702. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85070-574-7.[page needed]
  39. Matte, U; MG Le Roux, B Bénichou, JP Moisan and R Giugliani (1996). "Study on possible increase in twinning rate at a small village in south Brazil". Acta Genet Med Gemellol (Roma). 45 (4): 431–437. PMID 9181177. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  40. Nick Evans (21 जनवरी 2009big). "Nazi Angel of death Josef Mengel created twin town in Brazil". The Telegraph. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  41. Caroline Iggulden (23 जनवरी 2009). "The twins from Brazil". The Sun.
  42. लिंडा गेडेस: नाज़ी 'एंजेल ऑफ़ डेथ' नोट रेसपौंसिबल फॉर टाउन ऑफ़ ट्विन्स न्यू साइंटिस्ट ऑनलाइन, 27 जनवरी 2009
  43. "The Land Of Twins". BBC World News. 7 जून 2001. अभिगमन तिथि 6 अगस्त 2009.
  44. "Seeing double: the village in deepest Kerala where twins have taken over". The Independent. 12 मई 2009. मूल से 15 मई 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 अगस्त 2009.
  45. Rehan, N; DS Tafida (1980). "Multiple births in Hausa women". Br J Obstet Gynaecol. 87 (11): 997–1004. PMID 7437372. डीओआइ:10.1111/j.1471-0528.1980.tb04464.x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  46. "जुड़वां से जुड़वां प्रसव समय अंतराल: दूसरे जुड़वां के अल्पकालिक परिणाम को प्रभावित करने वाले कारक और प्रभाव", वर्नर स्टीन, ब्योर्न मिसेल्विट्ज़ और स्टीफन श्मिट; Acta Obstetricia et Gynecologica Scandinavica, 87(3):346-353, 2008.
  47. 15 वर्षों की अध्ययन अवधि के दौरान हेसे में 11740 जुड़वां गर्भधारणों सहित कुल 836104 शिशुओं का जन्म हुआ जिनमे से केवल 4110 समावेश करने लायक मानदंडों को पूरा करते थे और इसलिए अध्ययन में इनकी जांच की गई। अपवर्जित जुड़वां गर्भधारण के मामलों में थे (1) गर्भकाल से 34 माह पूर्व प्रसव; (2) जब पहला शिशु शल्यक्रिया (सीज़ेरियन) द्वारा हुआ; (3) जब किसी भी जुड़वां की प्रसव क्रिया से पहले मृत्यु हो गई; और (4) जब गर्भावस्था भ्रूण की विकृति या ट्विन टू ट्विन ट्रांसफ्युज़न सिंड्रोम द्वारा जटिल हो गई।
  48. Gedda, Luigi (1995). "The role of research in twin medicine". प्रकाशित Louis G. Keith, Emile Papiernik, Donald M. Keith and Barbara Luke. Multiple Pregnancy: Epidemiology, Gestation & Perinatal Outcome. Taylor and Francis. पपृ॰ M1 4. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85070-666-2.
  49. Lovell, Tammy (17 जुलाई 2008). "Pictured: Proud parents show off their million-to-one black and white twins". Daily Mail. Associated Newspapers Ltd. अभिगमन तिथि 2 अक्टूबर 2008.
  50. Schmidt, R; EH Sobel, HM Nitowsky, H Dar and FH Allen Jr (1976). "Monozygotic twins discordant for sex". Journal of Medical Genetics. 13 (1): 64–68. PMC 1013354. PMID 944787. डीओआइ:10.1136/jmg.13.1.64. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  51. Gilbert, Scott F. (2006). "Non-identical Monozygotic Twins". Developmental biology. Sunderland, Mass: Sinauer Associates. OCLC 172964621. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-87893-250-X. अभिगमन तिथि 30 सितंबर 2008.
  52. Souter, Vivienne L.; Melissa A. Parisi, Dale R. Nyholt, Raj P. Kapur, Anjali K. Henders, Kent E. Opheim, Daniel F. Gunther, Michael E. Mitchell, Ian A. Glass and Grant W. Montgomery (2007). "A case of true hermaphroditism reveals an unusual mechanism of twinning". Hum. Genet. 121 (2): 179–85. PMID 17165045. डीओआइ:10.1007/s00439-006-0279-x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  53. LiveScience Staff (26 मार्च 2007). "Rare Semi-Identical Twins Discovered". Imaginova. अभिगमन तिथि 1 अक्टूबर 2008.
  54. Whitfield, John (2007). "'Semi-identical' twins discovered". Nature. डीओआइ:10.1038/news070326-1.
  55. सैरानोसकी डी. (2009). विकासात्मक जीवविज्ञान: टू बाई टू. नेचर. 458(7240):826-9.PubMed
  56. न्यूमैन एचएच. पैटरसन जेटी. (1909). नौ धारियों वाले अर्माडिल्लो का एक साथ समान जन्म लेने वाले बच्चों का एक मामला और समान जुड़वां और लिंग निर्धारण की समस्याओं पर इसका असर. जैविक बुलेटिन, 17: 181-187 JSTOR 1536114

आगे पढ़ें[संपादित करें]