अमेथिस्ट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Amethyst
Amethyst. Magaliesburg, South Africa.jpg
Amethyst cluster from Magaliesburg, South Africa, a featured picture
सामान्य
वर्ग Mineral variety
रासायनिक सूत्र Silica (silicon dioxide, SiO2)
पहचान
वर्ण Purple, violet
क्रिस्टल हैबिट 6-sided prism ending in 6-sided pyramid (typical)
क्रिस्टल प्रणाली rhombohedral class 32
ट्विनिंग Dauphine law, Brazil law, and Japan law
क्लीवेज None
फ्रैक्चर Conchoidal
मोह्ज़ स्केल सख्तता 7–lower in impure varieties
चमक Vitreous/glossy
रिफ्रैक्टिव इंडेक्स nω = 1.543–1.553 nε = 1.552–1.554
ऑप्टिकल गुण Uniaxial (+) (Positive)
बाइरिफ्रिंजैंस +0.009 (B-G interval)
प्लेओक्रोइज्म़ None
स्ट्रीक White
स्पैसिफिक ग्रैविटी 2.65 constant; variable in impure varieties
पिघलन बिंदु 1650±75 °C
घुलनशीलता H2O insoluble
डायफनैटी Transparent to translucent
अन्य लक्षण Piezoelectric

अमेथिस्ट बैंगनी क़िस्म का स्फटिक है जिसका अक्सर गहनों में इस्तेमाल किया जाता है। इसका नाम प्राचीन यूनानी a- ("नहीं") और μέθυστος methustos ("मादकता") से आया है, इस विश्वास के संदर्भ में कि रत्न नशे से अपने मालिक की रक्षा करता है; प्राचीन यूनानी और रोमवासी अमेथिस्ट पहना करते थे और इस विश्वास के साथ उनसे मद्य पात्र बनाते थे कि वह मदहोशी को रोकेगा.

रसायन[संपादित करें]

अमेथिस्ट बैंगनी क़िस्म का स्फटिक है; इसका रासायनिक सूत्र है SiO2 है।

19वीं सदी में, अमेथिस्ट के रंग का श्रेय मैंगनीज की उपस्थिति को दिया गया था। तथापि, चूंकि यह बहुत ही परिवर्तन में सक्षम है और ताप से भी उत्सर्जित होता है, कुछ अधिकारियों द्वारा रंग को जैविक स्रोत से माना गया। फ़ेरिक थियोसाइनेट का सुझाव दिया गया और खनिज में सल्फ़र पाए जाने की बात कही गई।

अभी हाल ही के कार्य दर्शाते हैं कि अमेथिस्ट का रंग फ़ेरिक लौह की अशुद्धताओं की वजह से है।[1] अतिरिक्त अध्ययनों ने रंग के लिए लौह और एल्यूमीनियम की जटिल अन्योन्य-क्रिया को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया.[2]

ताप के प्रभाव में आम तौर पर अमेथिस्ट पीला हो जाता है और गहनों के अधिकांश सिट्रीन, कैर्नगोम, या पीले स्फटिक को केवल "जला हुआ अमेथिस्ट" माना जाता है। अमेथिस्टाइन क्वार्ट्ज की नसों का रंग उजागर दृश्यांश पर खोने की ओर प्रवृत्त है[कृपया उद्धरण जोड़ें].

सिंथेटिक अमेथिस्ट सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले अमेथिस्ट की नकल के रूप में बनाया जाता है। इसकी रासायनिक और भौतिक विशेषताएं प्राकृतिक अमेथिस्ट से इतनी समान हैं कि उसे उन्नत रत्न-वैज्ञानिक परीक्षणों के बिना (जो अक्सर लागत-निषिद्ध हैं) सुनिश्चित रूप से अलग पहचाना नहीं जा सकता है। "ब्राज़ील लॉ ट्विनिंग" पर आधारित एक परीक्षण मौजूद है (स्फटिक-यमलन का एक स्वरूप जहां दाएं और बाएं स्फटिक संरचनाओं को एक क्रिस्टल में संयोजित किया जाता है[3]) जिसका सिंथेटिक अमेथिस्ट की आसानी से पहचान के लिए उपयोग किया जा सकता है। सिद्धांत रूप में हालांकि इस सामग्री को सिंथेटिक रूप से तैयार करना संभव है, लेकिन बाज़ार में यह प्रकार बड़ी मात्रा में उपलब्ध नहीं है।[4]

संरचना[संपादित करें]

अमेथिस्ट दाएं और बाएं एकांतर पटलिकाओं के अनियमित अधिस्थापन से बना है। यह दर्शाया गया है कि ऐसी संरचना यांत्रिक तनाव के कारण हो सकता है।

क्योंकि मोह्स पैमाने पर इसकी कठोरता सात है, अमेथिस्ट गहने में उपयोगार्थ उपयुक्त है।

रंग और आभा[संपादित करें]

अमेथिस्ट एक हल्के गुलाबी बैंगनी से गहरे बैंगनी रंग तक के प्राथमिक रंगों में उपलब्ध होता है। अमेथिस्ट एक या दोनों माध्यमिक रंग, लाल और नीला प्रदर्शित कर सकता है। आदर्श ग्रेड को "डीप साइबेरियाई" कहा जाता है और इसमें लगभग 75-80 प्रतिशत का बैंगनी रंग, 15-20 प्रतिशत नीला और (प्रकाश स्रोत पर निर्भर) लाल माध्यमिक रंग पाया जाता है।[4] हरे स्फटिक को कभी-कभी हरा अमेथिस्ट कहा जाता है। हरे स्फटिक के लिए अन्य नाम हैं प्रेसियोलाइट, वरमरीन या लाइम सिट्रीन.

इतिहास[संपादित करें]

अमेथिस्ट में काराकाला का रोमन उत्कीर्ण आकृति रत्न, जो कभी सेंटे-चैपेल के खज़ाने में था।

अमेथिस्ट का प्राचीन मिस्रवासियों द्वारा रत्न के रूप में प्रयोग किया जाता था और बड़े पैमाने पर उत्कीर्ण आकृति रत्नों के लिए पुरावस्तु में प्रयुक्त किया जाता था।[5]

यूनानियों का मानना था कि अमेथिस्ट रत्न मादकता को रोक सकता है,[6] जबकि मध्यकालीन यूरोपीय सैनिक लड़ाई में संरक्षण के रूप में अमेथिस्ट ताबीज पहनते थे। इसका कारण यह मान्यता है कि अमेथिस्ट स्वस्थ कर देता है और उन्हें शांत स्वभाव का बनाए रखता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] इंग्लैंड के आंग्ल-सैक्सन कब्रों में अमेथिस्ट के मोती पाए गए।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

दक्षिणी ब्राजील के सांताक्रूज में पास से, एक बड़ा जियोड या "अमेथिस्ट-ग्रोटो" 1902 की डसेलडॉर्फ़, जर्मनी की प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया था।

अमेथिस्ट फरवरी के लिए पारंपरिक जन्म-रत्न है।

पौराणिकी[संपादित करें]

यूनानी शब्द "अमेथिस्टॉस" को a-, नहीं + methustos, मदोन्मत्त से यूनानी "शराबी नहीं" के रूप में अनूदित किया जा सकता है।[7] अमेथिस्ट को मादकता के प्रति ज़ोरदार मारक के रूप में माना गया था, जिसके कारण उससे अक्सर शराब के जाम उत्कीर्ण किए जाते थे। यूनानी पौराणिक कथाओं में, डायोनिसस, मादकता और शराब के देवता, अमेथिस्टोस नामक कन्या का पीछा कर रहे थे, जिसने उनके प्यार को ठुकराया था। अमेथिस्टोस ने देवताओं से प्रार्थना की कि वह पवित्र बनी रहे, जिसे देवी अरतेमिस ने स्वीकार किया और उसे सफ़ेद पत्थर में बदल दिया. अमेथिस्टोस के पवित्र बने रहने की इच्छा से विनम्र होकर डायोनिसस ने पत्थर पर भेंट स्वरूप शराब उंडेल दिया, जिससे क्रिस्टल बैंगनी रंग के हो गए।

कहानी के रूपांतरणों में शामिल है कि डायोनिसस एक मनुष्य से अपमानित हुए और क्रोध में बदला लेने के लिए खूंखार बाघ बनाते हुए क़सम खाई कि अगला जो भी मनुष्य उनके रास्ते में आएगा उसकी हत्या कर देंगे. वह मनुष्य एक सुंदर युवा कन्या अमेथिस्टोस निकलीं, जो अरतेमिस को श्रद्धा-सुमन अर्पित करने जा रही थी। अरतेमिस ने क्रूर पंजों से उसे बचाने के लिए उस कन्या को शुद्ध् क्रिस्टलीय स्फटिक की मूर्ति में बदलते हुए, उसके जीवन की रक्षा की. डायोनिसस की जब सुंदर मूर्ति पर नज़र पड़ी, तो उसे अपने किए पर पछतावा हुआ और उसने शराब के आंसू बहाए. तब भगवान के आंसुओं ने स्फटिक पर बैंगनी दाग छोड़े.[8] एक अन्य रूपांतरण में टाइटन रिया द्वारा शराबी के विवेक की रक्षा के लिए डायोनिसस को अमेथिस्ट रत्न भेंट में देना शामिल है।[9] यह गर्म करने पर पीले रंग में बदल जाता है।

भौगोलिक वितरण[संपादित करें]

आर्टीगास, उरुग्वे से बड़ा गुच्छेदार अमेथिस्ट. आकार: 15.9 x 15.6 x 10.6 से.मी.

अमेथिस्ट ब्राज़ील के मिनास गेराइस राज्य में बहुतायत में उत्पादित होता है, जहां ज्वालामुखी चट्टानों के भीतर बड़े जियोडों में यह पाया जाता है। यह दक्षिण कोरिया में भी पाया और खोदा जाता है। दुनिया में सबसे विशाल विवृत खान अमेथिस्ट धारी, माइसाउ, निचले ऑस्ट्रिया में है। ब्राज़ील और उरुग्वे के कई खोखले गोमेदों में अंदर की ओर अमेथिस्ट क्रिस्टल के समूह शामिल हैं। बहुत बढ़िया अमेथिस्ट रूस से आता है, विशेष रूप से एकाटरिनबर्ग जिले के मुरसिंका के पास, जहां वह ग्रेनाइट चट्टानों की क्रिस्टल गुहिकाओं में पाया जाता है। भारत के कई स्थानों में अमेथिस्ट की उपज होती है। अमेथिस्ट के सबसे बड़े वैश्विक उत्पादकों में एक है जाम्बिया, जिसका वार्षिक उत्पादन 1,000 टन है। अमेथिस्ट संयुक्त राज्य अमेरिका की कई बस्तियों में होता है। इनमें उल्लेख किया जा सकता है: जिला और मरिकोपा काउंटी, अरिज़ोना में मज़टज़ाल पर्वत क्षेत्र; अमेथिस्ट पर्वत, टेक्सास; एल्लोस्टोन राष्ट्रीय उद्यान; डेलावेयर काउंटी, पेंसिल्वेनिया; हेवुड काउंटी, उत्तरी केरोलिना; डीर हिल और स्टो, माइने और लेक सुपीरियर क्षेत्र. अमेथिस्ट ओंटारियो में और पूरे नोवा स्कोटिया के विभिन्न स्थानों में अपेक्षाकृत आम है। उत्तरी अमेरिका की सबसे विशाल अमेथिस्ट खान थंडर बे, ओंटारियो में स्थित है।[10]

मूल्य[संपादित करें]

18वीं शताब्दी तक अमेथिस्ट को (हीरा, नीलम, मानिक और पन्ना के साथ) कार्डिनल, या अधिक मूल्यवान, रत्नों में शामिल किया गया था। तथापि ब्राज़ील जैसे स्थानों में व्यापक संग्रहों की खोज के बाद इसका मूल्य कम हो गया है।

संग्रहकर्ता रंग की गहराई, संभवतः पारंपरिक रूप से काटने पर लाल चमक के लिए देखते हैं।[11] उच्चतम ग्रेड का अमेथिस्ट ("गहरा रूसी" नामक) असाधारणतः दुर्लभ है और इसलिए जब भी वह पाया जाता है, उसका मूल्य लेनेवालों की मांग पर निर्भर करता है। लेकिन अभी भी यह उच्चतम ग्रेड के नीलम या मानिक (पदपरड्शा नीलम या "कबूतर रक्तिम" मानिक) की तुलना में कम दीप्ति वाला है।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट[संपादित करें]

  1. क्लेन, कॉर्नेलीस और हर्लबट, कॉर्नेलियस एस., 1985 मैनुअल ऑफ़ मिनरॉलोजी (आफ़्टर जेडी दाना) 20वां संस्करण, पृ. 441, जॉन विली एंड सन्ज़, न्यूयॉर्क
  2. कोहेन, एल्विन जे., 1985 अमेथिस्ट कलर इन क्वार्ट्ज़, द रिसल्ट ऑफ़ रेडिएशन प्रोटेक्शन इनवॉल्विंग आयरन, अमेरिकन मिनरालोजिस्ट, खं. 70, पृ. 1180-1185
  3. "Quartz Page Twinning Crystals". http://quartzpage.de/crs_twins.html. अभिगमन तिथि: 2007-05-28. 
  4. सीक्रेट्ज़ ऑफ़ द जेम ट्रेड; द कॉनसियर्स गाइड टू प्रेशियस जेमस्टोन्स' रिचर्ड डब्ल्यू वाइस, ब्रन्सविक हाउस प्रेस, लेनॉक्स, मासाचूट्स., 2003.
  5. जेम्स, नोट्स एंड एक्स्ट्रैक्ट्स ऑगस्टो कैस्टेलानी (19वीं सदी के प्रसिद्ध इतालवी जौहरी), पृष्ठ 34, लंदन, बेल एंड डाल्डी, 1871
  6. Diamonds, Pearls and Precious Stones मार्सेल एन स्मिथ, ग्रिफ़िथ स्टिलिंग्स प्रेस, बॉस्टन, मासाचूट्स., 1913, पृष्ठ 74
  7. द अमेरिकन हेरिटेज डिक्शनरी
  8. http://gemstone.org/gem-by-gem/english/amethyst.html स्रोत
  9. (नोनस, डायोनिसियाका, XII.380)
  10. अमेथिस्ट की खान http://amethystmine.com/history.html
  11. CIBJO दिशा-निर्देश,

संदर्भ[संपादित करें]

  • "Amethyst". part of a poster by the Juneau – John Rishel Mineral Information Center. Alaska office of the United States Bureau of Land Management. http://www.blm.gov/ak/jrmic/poster/amethyst.html. अभिगमन तिथि: 2006-09-11. 
  • Ure, Andrew (1827). A Dictionary of Chemistry. Printed for Thomas Tegg, (et al.). प॰ 141. http://books.google.com/books?vid=OCLC22415868&id=9YS0XNQU8x4C&pg=PA141&lpg=PA141&dq=Amethyst&as_brr=1. अभिगमन तिथि: 2006-09-11. "The amethyst is a gem of a violet colour, and great brilliancy, said to be as hard as the ruby or sapphire, from which it only differs in colour. This is called the oriental amethyst, and is very rare. When it inclines to the purple or rosy colour, it is more esteemed than when it is nearer to the blue. These amethysts have the same figure, hardness, specific gravity, and other qualities, as the best sapphires or rubies, and come from the same places, particularly from Persia, Arabia, Armenia and the West Indies. The occidental amethysts are merely coloured crystal or quartz." 

बाह्य लिंक[संपादित करें]

इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई है ब्रिटैनिका विश्वकोष एकादशवें संस्करण से, एक प्रकाशन, जो कि जन सामान्य हेतु प्रदर्शित है।.