पन्ना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Emerald
Emerald crystal muzo colombia.jpg
Emerald crystal from Muzo, Colombia
सामान्य
वर्ग Beryl variety
रासायनिक सूत्र Beryllium aluminium silicate with chromium, Be3Al2(SiO3)6::Cr
पहचान
वर्ण Green
क्रिस्टल हैबिट Hexagonal Crystals
क्रिस्टल प्रणाली Hexagonal
क्लीवेज Poor Basal Cleavage (Seldom Visible)
फ्रैक्चर Conchoidal
मोह्ज़ स्केल सख्तता 7.5–8.0
चमक Vitreous
रिफ्रैक्टिव इंडेक्स 1.576–1.582
प्लेओक्रोइज्म़ Distinct, Blue-Green/Yellow-Green
स्ट्रीक White
स्पैसिफिक ग्रैविटी 2.70–2.78

पन्ना, बेरिल (Be3Al2(SiO3)6) नामक खनिज का एक प्रकार है जो हरे रंग का होता है और जिसे क्रोमियम और कभी-कभी वैनेडियम की मात्रा से पहचाना जाता है।[1] खनिज की कठोरता मापने वाले 10 अंकीय मोहस पैमाने पर बेरिल की कठोरता 7.5 से 8 तक होती है।[1] अधिकांश पन्ने बहुत अधिक अंतर्विष्ट होते हैं, इसलिए उनकी मजबूती (टूटने की प्रतिरोधक क्षमता) का वर्गीकरण आम तौर पर निम्न कोटि के रूप में किया जाता है। शब्द "एमरल्ड" (हिंदी: पन्ना) का आगमन (पुरातन फ़्रांसिसी शब्द: एस्मेरौड और मध्यकालीन लैटिन शब्द: एस्मराल्डस से आयातित, मध्य अंग्रेज़ी शब्द: एमरौड के माध्यम से) ग्रीक शब्द स्मारगडॉस – σμάραγδος ("हरित मणि") के माध्यम से लैटिन शब्द स्मारगडस से हुआ है, इसका मूल स्रोत एक सामी शब्द इज़्मरगड (אזמרגד) है, जिसका अर्थ "पन्ना" या "हरा" है।[2]

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

नाम "एमरल्ड" (पन्ना) वल्गर लैटिन शब्द: एस्मराल्डा/एस्मराल्डस से व्युत्पन्न (मध्य अंग्रेज़ी शब्द: एमरौड और पुरातन फ़्रांसिसी शब्द: एस्मेरौड के माध्यम से) है, जो लैटिन शब्द स्मारगडस का एक रूप है, जिसकी उत्पत्ति ग्रीक शब्द: σμάραγδος (स्मारगडॉस; "हरित मणि") से हुई थी, इसका मूल स्रोत एक सामी शब्द इज़्मरगड (אזמרגד) है, जिसका अर्थ "पन्ना" या "हरा" है।[2]. यह नाम सामी शब्द बराक़ (בָּרָק ;البُراق‎; "बिजली" या "चमक") (c.f. हिब्रू: ברקת बरेक़ेथ और अरबी: برق बार्क़ "बिजली") से भी संबंधित हो सकता है। इसके फारसी (زمرّد ज़ोमोर्रोड), तुर्की (ज़ुम्रुट), संस्कृत मरग्दम् और रूसी (изумруд; इज़ुम्रुड) नामों के भी एक ही स्रोत है।[3]

मूल्य-निर्धारक गुण[संपादित करें]

कटे हुए पन्ने

सभी रंगीन रत्नों की तरह पन्नों को भी चार आधारभूत मानकों का प्रयोग करके वर्गीकृत किया जाता है, जिन्हें परख के चार C कहते हैं, जो इस प्रकार है; Color (रंग), Cut (कटाई), Clarity (स्वच्छता) और Crystal (स्फ़टिक) . अंतिम C, स्फ़टिक को केवल एक पर्याय के रूप में प्रयोग किया जाता है जो पारदर्शिता के लिए C से शुरू होता है या जिसे रत्न-वैज्ञानिक पारदृश्यता कहते हैं। 20वीं सदी से पहले जौहरी दो गुणवत्ता, रंग और स्फ़टिक के संयोजन को व्यक्त करने के लिए जल शब्द, जैसे - "बेहतरीन जल का रत्न",[4] का प्रयोग करते थे। आम तौर पर, रंगीन रत्नों के वर्गीकरण में रंग ही सबसे महत्वपूर्ण कसौटी है। हालांकि, पन्ने के वर्गीकरण में स्फ़टिक को दूसरा सबसे महत्वपूर्ण मानदंड माना जाता है। दोनों आवश्यक शर्तें हैं। एक उत्कृष्ट रत्न के रूप में मान्यता हासिल करने के लिए एक बेहतर पन्ने में, जैसा कि नीचे वर्णित है, केवल एक शुद्ध सब्ज़ वर्ण ही नहीं होना चाहिए, बल्कि एक उच्च स्तरीय पारदर्शिता भी होनी चाहिए.[5]

रंग[संपादित करें]

वैज्ञानिक तौर पर कहा जाता है कि रंग तीन घटकों: वर्ण, संतृप्ति और रंगत में विभाजित है। पीले और नीले रंग, वर्णक्रमीय रंग चक्र के हरे रंग के निकट पाए जाने वाले वर्ण, पन्ने में पाए जाने वाले सामान्य द्वितीयक वर्ण हैं। पन्ने, पीले-हरे से लेकर नीले-हरे वर्णों के होते हैं। निस्संदेह, प्राथमिक वर्ण हरा ही होना चाहिए. केवल उन्हीं रत्नों को पन्ना माना जाता है जिनकी रंगत मध्यम से लेकर गाढ़ी होती है। प्रकाशीय रंगत वाले रत्नों को प्रजातियों के नाम, हरित बेरिल के नाम से जाना जाता है। इसके अतिरिक्त, वर्ण अवश्य चमकीला (उज्ज्वल) होना चाहिए. भूरा, पन्ना में पाया जाने वाला सामान्य संतृप्ति संशोधक या मुखौटा है। भूरानुमा हरा वर्ण, एक हल्का हरा वर्ण है।

स्वच्छता[संपादित करें]

पन्नों में कई अंतर्वेशन और सतह टूटने जैसी दरारें होती हैं। जहां हीरे की स्वच्छता को वर्गीकृत करने के लिए लूप मानक, अर्थात् 10X आवर्धन का प्रयोग किया जाता है, उससे बिलकुल अलग, पन्ने को नंगी आंखों से देखकर वर्गीकृत किया जाता है। इस प्रकार, यदि किसी पन्ने में (सामान्य दृश्य तीक्ष्णता को आधार मानकर) नंगी आंखों से देखने लायक कोई दृश्य अंतर्वेशन नहीं है तो इसे दोषरहित माना जाता है। ऐसे रत्न अत्यंत दुर्लभ हैं जिनमें सतह टूटने जैसी दरारों का अभाव हो और इसीलिए लगभग सभी पन्नों की स्पष्ट स्वच्छता में वृद्धि करने के लिए इन्हें प्रशोधित, "पालिश", किया जाता है। उज्ज्वल प्राथमिक हरे वर्ण वाले (जैसा कि ऊपर वर्णित है) साफ़ दिखाई देने वाले रत्न बहुत बेशकीमती होते हैं जिनमें किसी भी द्वितीयक वर्ण या मध्यम-गाढ़ी रंगत वाले संयोजन (या तो नीला या पीला) की मात्रा 15% से अधिक न हो.[5] यह सापेक्ष स्फ़टिक गैर-एकरूपता, पन्नों को अन्य रत्नों की तुलना में पार्श्व आकारों में तराशने के बजाय कैबोचोन के आकार में काटे जाने की सम्भावना को बढ़ा देता है।

प्रशोधन[संपादित करें]

पन्नों की स्वच्छता में वृद्धि करने के उद्देश्य से, बाद में तराशने की प्रक्रिया के बाद की कार्यवाही के हिस्से के रूप में अधिकांश पन्नों का रोगन किया जाता है। एक समान अपवर्तक सूचकांक वाले देवदार के तेल को अक्सर इस आम तौर पर स्वीकृत कार्यप्रणाली में इस्तेमाल किया जाता है। ऑप्टिकन जैसे पन्ने सूचकांकों के निकटवर्ती अपवर्तक सूचकांकों वाले कृत्रिम तेलों और बहुलक सहित अन्य तरल पदार्थों का भी प्रयोग किया जाता है। U.S. के संघीय व्यापार आयोग को एक प्रशोधित पन्ने के बिक जाने के बाद इस प्रशोधन के प्रकटीकरण की आवश्यकता पड़ती है।[6] तेल का प्रयोग पारंपरिक है और रत्न व्यापार में इसे बड़े पैमाने पर स्वीकृति मिली है। अन्य प्रशोधन, जैसे - हरे रंग के तेल का प्रयोग, इस व्यापार में स्वीकार्य नहीं है। प्रयोगशाला समुदाय ने हाल ही में पन्नों की स्वच्छता को वर्गीकृत करने की शैली का मानकीकरण किया है। रत्नों को चार चरणों वाले एक पैमाने के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है; नहीं, लघु, मध्यम और उच्च परिष्कृत. ध्यान दें कि ये श्रेणियां वृद्धि, न कि स्वच्छता, के स्तरों को दर्शाती हैं। वृद्धि के पैमाने पर "नहीं " के रूप में वर्गीकृत एक रत्न अभी भी दृश्य अंतर्वेशन का प्रदर्शन कर सकता है। प्रयोगशालाएं, इन मानदंडों को अलग-अलग ढंग से लागू करती हैं। कुछ रत्न प्रयोगशालाएं वृद्धि का गठन करने के लिए केवल तेल या बहुलकों की उपस्थिति पर ही विचार करती हैं। अन्य प्रयोगशालाएं, तेल के निशानों की अनदेखी कर सकती हैं यदि पदार्थ की उपस्थिति रत्न के रूप में भौतिक दृष्टि से वृद्धि न करता हो.

यह देखते हुए कि सभी पन्नों की एक बहुत बड़ी तादाद का प्रशोधन किया जाता है जैसा कि ऊपर वर्णित है और इस तथ्य पर ध्यान देते हुए कि गुणवत्ता की दृष्टि से एक समान दिखाई देने वाले दो रत्न वास्तव में प्रशोधन के स्तर की दृष्टि से एक दूसरे से काफी अलग हो सकते हैं, एक बेशकीमती पन्ने को खरीदने का विचार कर रहे एक उपभोक्ता को एक सम्मानित रत्न-वैज्ञानिकी प्रयोगशाला से प्राप्त प्रशोधन सूचना की मांग करने की एक अच्छी सलाह दी जाती है। अन्य सभी कारकों के समान होने पर, "मध्यम " के रूप में वर्गीकृत वृद्धि स्तर वाले उच्च गुणवत्ता वाले एक पन्ने की लागत, "नहीं " के रूप में वर्गीकृत किए गए एक समान दिखाई देने वाले रत्न से 40–50% कम होना चाहिए.

पन्नों के प्राप्ति-स्थल[संपादित करें]

विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में प्रदर्शित स्पेनी पन्ना और स्वर्ण झुमका.

प्राचीन काल में पन्नों को मिस्रवासियों द्वारा और ऑस्ट्रिया में खनन करके निकाला किया गया था।[7][8]

पन्ने का एक दुर्लभ प्रकार, जिसे ट्रैपिच पन्ना के नाम से जाना जाता है, जो कभी-कभी कोलंबिया के खानों में पाया जाता है। एक ट्रैपिच पन्ना एक 'स्टार' पैटर्न प्रदर्शित करता है; इसमें काले कार्बन की अशुद्धताओं के किरणों जैसी तिल्लियां होती हैं जो पन्ने को छः-नोंक वाला एक रेडियल पैटर्न प्रदान करता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] पन्ने कोलंबिया के तीन मुख्य पन्नों के खनन क्षेत्रों: मुज़ो, कोस्कुएज़ और चिवोर, से आते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] पन्ने अन्य देशों, जैसे - अफ़ग़ानिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, ब्राज़ील, बुल्गेरिया, कनाडा, चीन, मिस्र, इथियोपिया, फ़्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, कज़ाखस्तान, मैडागास्कर, मोज़ाम्बिक, नामीबिया, नाइजीरिया, नॉर्वे, पाकिस्तान, रूस, सोमालिया, दक्षिण अफ़्रीका, स्पेन, स्विट्ज़रलैंड, तंज़ानिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, ज़ाम्बिया और ज़िम्बाब्वे, में भी पाया जाता है।[9] अमेरिका में, पन्ने कनेक्टिकट, मोंटाना, नेवादा, उत्तर कैरोलिना और दक्षिण कैरोलिना में पाए गए हैं।[9] वर्ष 1998 में युकोन में पन्नों की खोज की गई.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कृत्रिम पन्ना[संपादित करें]

पन्ने की षट्कोणी संरचना का प्रदर्शन

पन्ना एक दुर्लभ और अनमोल रत्न है और, इसीलिए, कृत्रिम या कृत्रिम पन्ने के विकास के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया गया है। जलतापीय और प्रवाह-वृद्धि कृत्रिम दोनों तरह के पन्नों का उत्पादन किया गया है और रंगहीन बेरिल पर अतिवृद्धि स्तर पर एक पन्ने के उत्पादन के लिए एक विधि विकसित की गई है। वाणिज्यिक दृष्टि से सफल पहली पन्ना संश्लेषण प्रक्रिया, कैरोल चैट्हम की प्रक्रिया थी। चूंकि चैट्हम के पन्ने में किसी भी तरह का जल नहीं होता है और वैनेडेट, मोलिब्डेनम और वैनेडियम के निशान तक नहीं होते हैं, इसलिए एक लिथियम वैनेडेट प्रवाह प्रक्रिया को शायद शामिल किया जाता है। प्रवाह पन्नों के अन्य बड़े उत्पादक पियरे गिल्सन सीनियर थे, जो वर्ष 1964 से बाज़ार में हैं। गिल्सन के पन्ने आम तौर पर प्राकृतिक रंगहीन बेरिल बीज बीजों से विकसित होते हैं जो दोनों तरफ से ढंक जाते हैं। वृद्धि प्रति माह 1 मिमी की दर से होता है, सात महीने की एक विशिष्ट वृद्धि 7 मिमी मोटे पन्ने के रवे के उत्पादन का फल प्रदान करती है।[10] गिल्सन ने 1980 के दशक में एक जापानी कंपनी को अपना उत्पादन प्रयोगशाला बेच दिया था, लेकिन उसके बाद से ही उत्पादन रूका हुआ है और वर्ष 1989 में सैन फ़्रांसिस्को में आए भूकंप के बाद से यही हाल चैट्हम की प्रयोगशाला का भी है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]जलतापीय कृत्रिम पन्ने IG फ़ार्बेन, नैकेन, टायरस और दूसरों की देन हैं, लेकिन प्रथम संतोषजनक वाणिज्यिक उत्पाद, ऑस्ट्रिया के इन्सब्रुक के जोहान लेचलीट्नर का उत्पाद था, जो 1960 के दशक में बाज़ार में दिखाई दिया था। इन रत्नों को शुरू में "एमेरिटा" और "सीमरल्ड्स" नामों के तहत बेचा गया और इन्हें प्राकृतिक रंगहीन बेरिल पत्थरों के शीर्ष पर पन्ने की एक पतली परत के रूप में विकसित किया गया था। यद्यपि मूल प्रक्रिया के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन फिर भी ऐसा माना जाता है कि लेचलीट्नर के पन्नों को अम्ल परिस्थितियों में विकसित किया गया था।[कृपया उद्धरण जोड़ें] बाद में, वर्ष 1965 से 1970 तक, लिंडे के यूनियन कार्बाइड विभाग ने जलतापीय संश्लेषण द्वारा पूरी तरह से कृत्रिम पन्ने का उत्पादन किया। उनके पेटेंट (US3,567,642 और US3,567,643) के अनुसार, क्रोमियम (जो रंजक के रूप में प्रयुक्त होता है) को अवक्षेपण से बचाने के लिए अम्लीय परिस्थितियां आवश्यक हैं। इसके अलावा, यह महत्वपूर्ण है कि सिलिकॉन-युक्त पोषक तत्वों को केन्द्रकीकरण से बचाने और बीज के रवों में वृद्धि को सीमित करने के लिए अन्य अवयवों से दूर रखना चाहिए. वृद्धि, संवहन की सहायता से प्रसार-प्रतिक्रिया वाली एक प्रक्रिया द्वारा होती है। आज जलतापीय पन्नों का सबसे बड़े उत्पादक रूस का टायरस है। वे पन्नों का संश्लेषण करने में सफल हुए हैं जिनकी रासायनिक संरचना कोलंबिया के क्षारीय निक्षेपण वाले पन्नों के समान ही होती हैं, इसलिए इन्हें "कोलंबियाई निर्मित पन्ने" या "टायरस निर्मित पन्ने" कहते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्राकृतिक बनाम कृत्रिम निर्धारण करते समय पराबैंगनी प्रकाश की संदीप्ति को एक पूरक परीक्षण माना जाता है क्योंकि कई, लेकिन सब नहीं, प्राकृतिक पन्ने पराबैंगनी प्रकाश के समक्ष अक्रिय होते हैं। कई कृत्रिम भी UV अक्रिय होते हैं।[11]

कृत्रिम पन्नों को अक्सर "निर्मित" के रूप में संदर्भित किया जाता है, क्योंकि इनकी रासायनिक और रत्न-वैज्ञानिकी संरचना, इनके प्राकृतिक प्रतिरूपों के समान ही होती है। U.S. की संघीय व्यापार आयोग (FTC) के इस सन्दर्भ में बहुत सख्त विनियम हैं कि किसे "कृत्रिम" रत्न कहा जा सकता है और किसे नहीं. FTC का कहना है: "§ 23.23(c) किसी भी औद्योगिक उत्पाद का वर्णन करने के लिए किसी भी प्राकृतिक रत्न के नाम के साथ "प्रयोशाला-विकसित," "प्रयोगशाला-निर्मित," "[निर्माता नाम]-निर्मित," या "कृत्रिम" शब्द का प्रयोग करना तब तक अनुचित या भ्रामक है जब तक ऐसे औद्योगिक उत्पाद में इनके नाम के अनुसार आवश्यक रूप से एक समान दृष्टिगत, भौतिक और रासायनिक गुण उपलब्ध न हो."[12]

प्रवाह-विकसित कृत्रिम पन्नों में अस्पष्ट घूंघट-जैसे अंतर्वेशनों का होना आम बात हैं।

अलग-अलग संस्कृतियों के पन्ने और पन्ना विद्या[संपादित करें]

गचाला एमरल्ड दुनिया के सबसे बड़े रत्न पन्नों में से एक है, [27] पर. यह रत्न 1967 में कोलंबिया के गचाला के ला वेगा डे सन जुआन खान में पाया गया था।इसे डी.सी. के वॉशिंगटन के स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूशन के राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में रखा गया है।

पन्ना को मई महीने में जन्म लेने वालों का पारंपरिक जन्म-रत्न के साथ-साथ वृष, कर्क और कभी-कभी मिथुन के ज्योतिष-चिह्न का पारंपरिक रत्न माना जाता है। पन्नों से संबंधित अनेक विलक्षण उपाख्यानों में से एक 16वीं सदी के इतिहासकार ब्रैंटम का उपाख्यान था जिन्होंने कई प्रभावशाली पन्नों को स्पेनी पन्नों के रूप संदर्भित किया जिन्हें कोरटेज़ के तहत लैटिन अमेरिका से वापस यूरोप में लाया गया था। कोरटेज़ के सबसे उल्लेखनीय पन्नों में से एक पर निम्नलिखित अवतरण को उत्कीर्ण किया गया था: Inter Natos Mulierum non sur-rexit mayor (जिसका हिंदी अर्थ है - एक औरत से उत्पन्न उनमें से एक महान आदमी नहीं हुआ है। XI, 11), जो बपतिस्मा-दाता जॉन को संदर्भित करता था। ब्रैंटम ने इस उत्कीर्णन को प्रकृति की इतनी सुंदर और सरल उत्पाद का पवित्र वस्तु दूषक माना और इस कृत्य को कोरटेज़ की बेशकीमती मोती (जिसे उन्होंने ए ब्यूटीफुल एण्ड इन कॉम्पेयरेबल पर्ल नामक एक रचना समर्पित की) के नुकसान और इस कृत्य के तुरंत बाद मरने वाले फ़्रांस के राजा चार्ल्स IX की मौत का भी कारण माना.[13]

कुछ संस्कृतियों में, पन्ना 55वें शादी की सालगिरह का पारंपरिक उपहार है। इसे 20वें और 35वें शादी की सालगिरह के एक रत्न के रूप में भी प्रयोग किया जाता है।

बाइबिल के ऑथराइज़्ड किंग जेम्स वर्शन, एक्सोडस 28:18 और 39:11 में, "एमरल्ड" (पन्ने) यहूदियों के उच्च पादरी के कवच के कीमती रत्नों में से एक के रूप में सूचीबद्ध है; लेकिन आधुनिक सर्वसम्मति यही है कि यह संभवतः एक गलत अनुवाद है। (होशेन देखें.)

आयरलैंड को अक्सर, खासकर अमेरिका में, "एमरल्ड आइल" (पन्ना टापू) के रूप में संदर्भित किया जाता है।

एल. फ्रैंक की द वंडरफुल विज़र्ड ऑफ़ ओज़ में जिस शहर में जादूगर का शासन है, वह पन्नों का बना है, इसीलिए एमरल्ड सिटि अर्थात् पन्ना शहर कहलाता है। श्रृंखला की छठी किताब का नामकरण इसी के नाम पर किया गया है।

पन्ना मूल
गचाला एमरल्ड कोलंबिया
चॉक एमरल्ड
बाहिया एमरल्ड ब्राज़ील

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

चित्रशाला[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. हर्ल्बट, कॉर्नेलियस एस. जूनियर और कैमर्लिंग, रॉबर्ट सी., 1991, जेमोलॉजी, पृष्ठ. 203, जॉन विले एण्ड सन्स, न्यूयॉर्क
  2. Fernie M.D., W.T. (1906). Precious Stones for Curative Wear. John Wright. & Co.. 
  3. Harper, Douglas. "emerald". Online Etymology Dictionary. http://www.etymonline.com/index.php?term=emerald. 
  4. क्रुक और बॉल एड्स., टैवरनियर, जे.बी. द सिक्स वॉइजिज़, खंड II, पीपी.44, 58
  5. वाइज़, आर. डब्ल्यू., सीक्रेट्स ऑफ़ द जेम ट्रेड, कॉनोइसियोर्स गाइड टू प्रेसियस जेमस्टोन्स, ब्रुन्सविक हाउस प्रेस, (2001), पीपी.108
  6. आभूषण, कीमती धातु और कांस्य उद्योग की मार्गदर्शिकाएं
  7. गियूलियानी एट अल. (2000): "प्राचीन काल से ऑक्सीजन समस्थानिक और पन्ना व्यापार मार्ग." गैस्टन गियूलियानी, मार्क चौडिससन, हेनरी-जीन श्यूब्नेल, डैनियल-एच. पियट, क्लेयर रोलियन-बार्ड, क्रिश्चियन फ़्रांस-लानोर्ड, डिडियर गियर्ड, डैनियल डे नार्वेज़, बेंजामिन रोंडीयू. साइंस, 28 जनवरी 2000, पीपी. 631-633.
  8. गियूलियानी एट अल. (2000b): "La route des emeraudes anciennes." गैस्टन गियूलियानी, मिशेल हयूज़, मार्क चौडिससन. पॉर ला साइंस, नवंबर 2000, पीपी 58-65.
  9. http://www.mindat.org/min-1375.html प्राप्ति-स्थलों के आंकड़े के साथ मिनडैट
  10. नैसाऊ, के., 1980, जेम्स मेड बाइ मैन, जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ अमेरिका, ISBN 0-87311-016-1
  11. हर्ल्बट, कॉर्नेलियस एस. जूनियर और कैमर्लिंग, रॉबर्ट सी., 1991, जेमोलॉजी, पी. 81, जॉन विले एण्ड सन्स, न्यूयॉर्क
  12. आभूषण, कीमती धातु और कांस्य उद्योग की मार्गदर्शिकाएं
  13. Kunz, George Frederick (1915). Magic of Jewels and Charms. Lippincott Company.  पृष्ठ. 305

संदर्भ[संपादित करें]

  • कूपर, जे.सी. (एड.) (1992). ब्रेवर्स मिथ एण्ड लेजेंड . न्यूयॉर्क: केसल पब्लिशर्स लिमिटेड ISBN 0-304-34084-7.
  • सिंकंकस, जॉन (1994). एमरल्ड एण्ड ऑदर बेरिल्स . जियोसाइंस प्रेस. ISBN 0-8019-7114-4
  • हर्ल्बट, कॉर्नेलियस एस.; क्लेन, कॉर्नेलिस (1985). मैनुअल ऑफ़ मिनरलॉजी (20वां संस्करण). न्यूयॉर्क: जॉन विले एण्ड सन्स. ISBN 0-471-80580-7
  • वेंस्टीन, माइकल (1958). द वर्ल्ड ऑफ़ ज्वेल स्टोन्स . शेरीडेन हाउस.
  • नैसाऊ, कर्ट (1980). जेम्स मेड बाइ मैन . जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ अमेरिका. ISBN 0-87311-016-1
  • अली, सलीम एच. (2006). द एमरल्ड सिटी: ब्राज़ील में पन्ना खनन (+अन्य देशों में रत्न खनन) http://www.uvm.edu/envnr/gemecology/brazil.html
  • वाइज़, रिचर्ड डब्ल्यू., सीक्रेट्स ऑफ़ द जेम ट्रेड, द कॉनोइसियोर्स गाइड टू प्रेसियस जेमस्टोन्स (2001), ब्रुन्सविक हाउस प्रेस. ISBN 0-9728223-8-0. वेबसाइट: [1]
  • बॉल, वी. और क्रुक, डब्ल्यू., ट्रेवल्स इन इण्डिया बाइ जिन बैप्टिस्ट टैवरनियर, ओरिएंटल रिप्रिंट कॉर्पोरेशन, नई दिल्ली, भारत.

बाहरी लिंक[संपादित करें]