अनिल अंबानी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अनिल अंबानी ( ४ जून, १९५९ को जन्मे ) एक भारतीय व्यवसायी हैं। ६ अक्तूबर २००७ को उनके पास ४२ अरब अमरीकी डालर मूल्य की संपत्ति है, जिसके अनुसार वे विश्व के ६ठे सबसे धनी व्यक्ति हैं। प्रतिशत के आधार पर वे विश्व के सबसे तेज गति से प्रगति करने वाले बहु-अरब-डॉलर वाले समृद्धशाली व्यक्ति हैं क्योंकि उनकी संपत्ति १ वर्ष में तीन गुनी हो गई[1] अनिल अंबानी रिलायंस कैपिटल और रिलायंस कम्युनिकेशंस के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक और रिलायंस एनर्जी तथा पूर्व में रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के उप अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक थे। रिलायंस इंडस्ट्रीज में उनकी व्यक्तिगत हिस्सेदारी ६६% है।[2]

जीवन परिचय[संपादित करें]

अनिल के स्वर्गीय पिता धीरूभाई अंबानी द्वारा स्थापित रिलायंस समूह भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक घराना है। उनकी माता कोकिलाबेन अंबानी है। उनका विवाह टीना मुनीम अंबानी से हुआ है जो १९८० के दशक के प्रारम्भिक समय की एक प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री थी, और जिनसे उन्हें दो पुत्र, जय अनमोल तथा जय अंशुल हुए। अनिल अंबानी समूह की चार फर्मों -- रिलायंस कम्युनिकेशंस (RCOM), रिलायंस कैपिटल (RCL), रिलायंस एनर्जी (REL) और रिलायंस नेचुरल रेसौरसेस लिमिटेड (RNRL) में निवेशकों की कुल संपत्ति १,४२,३८४ करोड़ रुपए तक पहुँच गई है, जबकि प्रवर्तकों की कुल अनुमानित धारिता करीब ८७,००० करोड़ रुपये हैं. अनिल की ज्यादातर संपत्ति RCOM में इनके ६५% अंशों से बनी है, जिसका बाजार मूल्य १,०३,००० करोड़ रुपये हैं. उनके पास RCL में ५० प्रतिशत से अधिक (बाजार मूल्य २४,००० करोड़ रुपये), REL में ३५ प्रतिशत (बाजार मूल्य १२,७०० करोड़ रुपये) और RNRL में करीब ५४ प्रतिशत है, जिसका बाजार मूल्य करीब २,६०० करोड़ रुपए है।[3] अंबानी ने मुंबई विश्वविद्यालय से विज्ञान स्नातक की उपाधि प्राप्त की है तथा पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल से एमबीए की उपाधि प्राप्त की। इन दिनों वे व्हार्टन बोर्ड ऑफ़ ओवरसीअर्स के सदस्य हैं।

कार्यक्षेत्र[संपादित करें]

अंबानी सहायक प्रमुख कार्यकारी अधिकारी के रूप में १९८३ में रिलायंस में शामिल हुए और भारतीय पूंजी बाजार में अनेक वित्तीय सुधार लाने का श्रेय उन्हें जाता है. उदाहरण के लिए, वैश्विक अमानती प्राप्तियां, विनिमय तथा बांड के अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक निर्गम के साथ उन्होंने विदेशी पूंजी बाजारों में भारत की और से पहली घुसपेठ की. उन्होंने १९९१ के बाद, रिलायंस को विदेशी वित्तीय बाजारों से लगभग २ अरब अमरीकी डॉलर जुटाने के प्रयासों में निर्देशित किया; जनवरी १९९७ में १०० वर्षीया एक यंकी बांड निर्गम के साथ जो एक उच्चतम बिन्दु था, जिसके बाद लोग उन्हें एक वित्तीय जादूगर समझने लगे. उन्होंने रिलायंस समूह को भारत की अग्रणी वस्त्र, पेट्रोलियम, पेट्रोरसायन, बिजली और दूरसंचार कंपनी के रूप में इसकी वर्तमान स्थिति तक प्रशस्त किया। अनिल उत्तर प्रदेश विकास परिषद (यह परिषद अब रद्द कर दिया गया है) के सदस्य थे. वे DA- IICT गांधीनगर के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के अध्यक्ष हैं और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के सदस्य भी हैं. वे इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के सदस्य हैं.वे केन्द्रीय सलाहकार समिति, केन्द्रीय विद्युत विनियामक आयोग के एक सदस्य भी हैं.जून २००४ में, समाजवादी पार्टी के सहयोग से अनिल भारतीय संसद में, राज्य सभा- ऊपरी सदन के एक स्वतंत्र सदस्य के रूप में चुने गए। मार्च २००६ में, उन्होंने इस्तीफा दे दिया। हाल ही में अपने भाई मुकेश अंबानी के बाद खरबपतियों की पुस्तक में उनका भी नाम दर्ज हुआ है. उनकी १५ साल के लंबे कैरियर में अनिल का नाम उनकी वर्तमान पत्नी सहित अनेकों तारिकाओं के साथ जोड़ा गया है। वे फिल्म सितारे अमिताभ बच्चन के एक करीबी दोस्त हैं। मनोरंजन उद्योग में उनकी प्रमुख उपलब्धियों में एक है, फ़िल्म निर्माण एवं वितरण में सलंग्न मल्टीप्लेक्स कंपनी एडलैब्स (Adlabs) का अधिग्रहण, जो मुंबई के इकलौते गुंबद थियेटर के मालिक है। ३ अगस्त २००८ को, अंबानी इंग्लिश प्रीमियर लीग टीम, यूनाईटेड न्यूकासेल के अधिग्रहण के २३० मिलियन पाउंड के एक सौदे[4] में एक प्रमुख प्रतियोगी के रूप में उभरे।

पुरस्कार[संपादित करें]

  • २००४ के लिए प्रतिष्ठित प्लेत्ट्स ग्लोबल एनर्जी अवार्ड्स हेतु सीईओ ऑफ़ दी इयर घोषित किए गए.
  • सितंबर २००३ में 'एमटीवी यूथ आइकोन ऑफ़ दी इयर' चुने गए.
  • बॉम्बे मैनेजमेंट एसोसिएशन द्वारा अक्टूबर २००२ में 'दशक के उद्यमी पुरस्कार' से सम्मानित.
  • रिलायंस को इसके अनेकों व्यवसाय क्षेत्रों में विश्व स्तर पर अग्रणी रूप में स्थापित करने में इनके योगदान के लिए दिसम्बर २००१ में व्हार्टन इंडिया इकनॉमिक फोरम (Wharton India Economic Forum) (WIEF) द्वारा पहले भारतीय व्हार्टन अलुमिनी अवार्ड से पुरस्कृत.
  • भारत की प्रमुख व्यापार पत्रिका बिजनेस इंडिया द्वारा दिसम्बर १९९७ में 'बिज्नेस्स्मन ऑफ़ दी इयर १९९७ ' पुरस्कार से सम्मानित.

== शीर्षक ==fytsusydshjusysud

विविध[संपादित करें]

यह भी देखिए[संपादित करें]


  1. 07billionaires cz lk 0308gainers slide.html

बाह्य सूत्र[संपादित करें]