भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान is located in भारत
मद्रास
(चेन्नई)
दिल्ली
(नई दिल्ली)
गुवाहाटी
कानपुर
खड़गपुर
बम्बई
(मुंबई)
रुड़की
भुवनेश्वर
गांधीनगर
हैदराबाद
इंदौर
जोधपुर
मण्डी
पटना
रोपड़
(रूपनगर)
वाराणसी
पुराने आई आई टी हरे रंग से एवं नए आई आई टी लाल रंग से प्रदर्शित हैं
आई आई टी खड़गपुर का मुख्य भवन

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान यानि आई आई टी (अंग्रेज़ी: Indian Institute of Technology) भारत के १६ स्वायत्त तकनीकी शिक्षा संस्थान हैं। ये संस्थान भारत सरकार के द्वारा स्थापित किये गये "राष्ट्रीय महत्व के संस्थान" हैं। ईसवी सन २००६ के अनुमान के अनुसार सभी आई आई टी में मिलाकर १७,००० पूर्व-स्नातक तथा १३,००० स्नातक छात्र हैं। आई आई टी के वर्तमान तथा पूर्व छात्रों को आईआईटियन कहते हैं। भारत में सोलह आई आई टी हैं :

इतिहास[संपादित करें]

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों की स्थापना का इतिहास ईसवी सन १९४६ को जाता है जब जोगेंद्र सिंह नें भारत में उच्च शिक्षा के संस्थानों की स्थापना के लिए एक समिति का गठन किया। नलिनी रंजन सरकार की अध्यक्षता में गठित समिति नें भारत भर में ऐसे संस्थानों के गठन की सिफ़ारिश की। इन सिफ़ारिशों को ध्यान में रखते हुए पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना कलकत्ता के पास स्थित खड़गपुर में १९५० में हुई। शुरुआत में यह संस्थान हिजली कारावास में स्थित था। १५ सितंबर १९५६ को भारत की संसद नें "भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान अधिनियम" को मंज़ूरी देते हुए आई आई टी को "राष्ट्रीय महत्व के संस्थान" घोषित कर दिया।

इसी तर्ज़ पर अन्य आई आई टी की स्थापना बंबई (१९५८), मद्रास (१९५९), कानपुर (१९५९), तथा नई दिल्ली (१९६१) में हुई। असम में छात्र आंदोलन के चलते तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गान्धी नें असम में भी एक आई आई टी की स्थापना का वचन दिया जिसके परिणामस्वरूप १९९४ में गुवाहाटी में आई आई टी की स्थापना हुई। सन २००१ में रुड़की स्थित रुड़की विश्वविद्यालय को भी आई आई टी का दर्जा दिया गया।

आई आई टी की महत्ता[संपादित करें]

आई आई टी में शिक्षित अभियंताओं तथा शोधार्थियों की पहचान पूरे भारत और कुछ हद तक, अमेरिका में भी है। यद्यपि, यह पहचान मुख्यतः उन अभियंताओं से है जिन्होने यहाँ से बी टेक की डिग्री ली है। आई आई टी की प्रसिद्धी के कारण, भारत में इंजीनियरिंग की पढाई करने का इच्छुक प्रत्येक विद्यार्थी इन संस्थानों में प्रवेश पाने की 'महत्वाकांक्षा' रखता है। इन संस्थानों में स्नातक स्तर की पढाई में प्रवेश एक संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) के आधार पर होता है। यह परीक्षा बहुत कठिन मानी जाती है और इसकी तैयारी कराने के लिये देश भर में हजारों 'कोचिंग क्लासेस्' चलाये जा रहे हैं। आई आई टी तन्त्र की कभी कभी आलोचना की जाती है कि भारत की गरीब जनता के पैसे से इसमें पढकर निकलने वाले पैसा कमाने के लालच में देश छोडकर यूएसए या किसी अन्य देश में चले जाते हैं, जिसके कारण इससे भारत को अपेक्षित लाभ नहीं मिल पाया है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

समाचार[संपादित करें]