मुकेश अंबानी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मुकेश अंबानी

मुकेश अंबानी (जन्म 19 अप्रैल, 1957 में यमनमें) एक भारतीय व्यवसायी हैं और लगभग 43 अरब डॉलर की निजी सम्पत्ती के साथ दुनिया के पांचवें सबसे अमीर आदमी (richest man) हैं। वे रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के अध्यक्ष (chairman), प्रबंध निदेशक (managing director) और कंपनी के सबसे बडे शेयर धारक (shareholder) हैं। यह भारत में निजी क्षेत्र (private sector) की सबसे बड़ी तथा फोर्च्यून ५०० (Fortune 500) कंपनी है।[1] रिलायंस इंडस्ट्रीज में उनकी व्यक्तिगत हिस्सेदारी 48 % है।[2] उनकी संपत्ति का मूल्य (फोर्ब्स के अनुसार) 43 अरब अमेरिकी डॉलर है, जिस से वे एशिया के सबसे अमीर आदमी साबित होते हैं।[3]

मुकेश और उनके छोटे भाई अनिल (Anil) रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक स्वर्गीय धीरू भाई अम्बानी (Dhirubhai Ambani) के बेटे हैं। मुकेश इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की टीम मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के मालिक भी हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

मुकेश अम्बानी की स्कूली शिक्षा अबाय मोरिस्चा स्कूल (abaay morischa school)] मुंबई में हुयी तथा कैमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री (bachelor's degree) उन्होंने UDCT से प्राप्त की. बाद में मुकेश एमबीए (MBA) करने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University) गए किन्तु पहले वर्ष के बाद ही उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी.[4]

कैरियर[संपादित करें]

मुकेश अम्बानी ने १९८१ में रिलायंस में काम संभाला और रिलायंस के पुराने ढर्रे के टेक्सटाइल कारोबार को पॉलिएस्टर फाइबर और फिर पेट्रोकेमिकल में आगे बढाया. इस प्रक्रिया में उन्होंने ६० नयी, विश्व स्तर की, विभिन्न तकनीकों से युक्त निर्माण सुविधाओं की रचना को निर्देशित किया, इस से रिलायंस की जो उत्पादन क्षमता १० लाख टन प्रति वर्ष भी नही थी वह १ करोड़ २० लाख टन प्रतिवर्ष हो गयी।

उन्होंने ने जामनगर (Jamnagar) (गुजरात, भारत) में बुनियादी स्तर की विश्व की सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफायनरी की स्थापना की. वर्तमान में इसकी क्षमता ६६०,००० बैरल प्रति दिन है यानी ३ करोड़ ३० लाख टन प्रति वर्ष. १००००० करोड़ (crore) रुपयों (लगभग २६ बिलियन अमरीकी डॉलर) के निवेश से बनी इस रिफायनरी में पेट्रोकेमिकल, पावर जेनरेशन, पोर्ट तथा सम्बंधित आधारभूत ढांचा है।

मुकेश अम्बानी ने भारत की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनियों में से एक रिलायंस कम्युनिकेशंस (Reliance Communications) (पूर्व में रिलायंस इंफोकॉम) लिमिटेड को स्थापित किया। हालांकि, दोनों भाइयों में अलगाव होने के बाद रिलायंस इंफोकॉम अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (Anil Dhirubhai Ambani Group) में चली गयी। अगर दोनों भाई अलग नही हुए होते और मुकेश प्रेजिडेंट बने रहते तो उनकी कुल संपती ८५ बिलियन डॉलर होती और वे धरती पर सबसे ज़्यादा अमीर आदमी होते, वह भी एक बड़े अन्तर से. अंबानी के नेतृत्व में, रिलायंस ने अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी (subsidiary) रिलायंस रीटेल (Reliance Retail) के अंतर्गत खुदरा बाज़ार में प्रवेश किया।

इनकी अगुआई में रिलायंस रीटेल ने डीलाईट स्टोर की नयी चेन भी लॉन्च की है। और नोवा केमिकल्स (NOVA Chemicals) के साथ रिलायंस रीटेल को ऊर्जा सक्षम बनने हेतु इस आशय का अनुबंध भी किया है।

अम्बानी इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की टीम मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के मालिक हैं, जो 2013 में फाईनल में पहुँच पायी. इन्होने मुंबई में धीरू भाई अम्बानी इन्टरनेशनल स्कूल की स्थापना भी की है।

परिवार[संपादित करें]

मुकेश अंबानी भारत के सबसे प्रखर उद्योगपति स्वर्गीय धीरूभाई अंबानी (Dhirubhai Ambani) के पुत्र हैं। धीरूभाई अंबानी एक भारतीय (Indian) उद्यमी एवं रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के संस्थापक थे।

इनके भाई अनिल अम्बानी (Anil Ambani) रिलायंस अनिल "धीरूभाई अम्बानी" समूह (Anil Dhirubhai Ambani Group) के प्रमुख हैं। यह समूह दूरसंचार, बिजली, प्राकृतिक संसाधनों, बुनियादी सुविधाओं और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में काम करता है। पिता की मृत्यु के बाद दोनों भाईयों में अति प्रचारित कहा-सुनी हुयी, जिसके बाद रिलायंस समूह दो भागों में विभाजित हो गया।

मुकेश अम्बानी की पत्नी नीता अम्बानी रिलायंस इंडस्ट्रीज के सामाजिक एवं धर्मार्थ कार्यो को देखती हैं। उनके तीन बच्चे हैं: आकाश, ईशा और अनंत.

मुकेश अम्बानी इस वक्त दुनिया का सबसे महंगा घर बनवा रहे हैं। इसकी कीमत २ अरब डॉलर है।[1]मुंबई के व्यापारिक क्षेत्र में यह २७ फ्लोअर वाला ६० मंजिला स्काई स्क्रेपर होगा. शायद इसे एंटीलिया (Antilia) कहा जाए.

इनका परिवार गुजरात के मोध बनिया (Modh Bania) समुदाय से ताल्लुक रखता है। उनकी माता का नाम है कोकिला बेन अम्बानी

उपलब्धियां[संपादित करें]

  • एन डी टी वी द्वारा कराये गए सार्वजनिक चुनाव में साल २००७ के बिज़नसमैंन ऑफ़ दा ईयर चुने गए।
  • यूनाईटेड स्टेटस-इंडिया बिज़नस कौंसिल (USIBC) ने वाशिंगटन में २००७ में "ग्लोबल विज़न" के लिए लीडरशिप अवार्ड दिया. फ्ह्स्र्त्ब्

स्फ्ग्र्य्ह्ह्य्व्४ग मैन्ह्न्

  • इंडिया टुडे के मार्च २००४ अंक में द पॉवर लिस्ट २००४ में लगातार दुसरे साल पहला स्थान हासिल किया।
  • जून २००७ में भारत के पहले Trillionaire चुने गए।
  • गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों "चित्रलेखा पर्सन ऑफ़ द ईयर --२००७" पुरस्कार प्राप्त किया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी सम्बन्ध[संपादित करें]