हिन्दुस्तान (समाचार पत्र)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दैनिक हिन्दुस्तान हिन्दी का दैनिक समाचार पत्र है। यह १९३२ में शुरु हुआ था। इसका उद्घाटन महात्मा गांधी ने किया था।

१९४२ का भारत छोड़ो आन्दोलन छिड़ने पर `हिन्दुस्तान' लगभग ६ माह तक बन्द रहा। यह सेंसरशिप के विरोध में था। एक अग्रलेख पर ६ हजार रुपये की जमानत माँगी गई। देश के स्वाधीन होने तक `हिन्दुस्तान का मुख्य राष्ट्रीय आन्दोलन को बढ़ावा देना था। इसे महात्मा गाँधी व काँग्रेस का अनुयायी पत्र माना जाता था। गाँधी-सुभाष पत्र व्यवहार को हिन्दुस्तान' से अविकल रूप से प्रकाशित किया।

हिन्दुस्तान' में क्रांतिकारी यशपाल की कहानी कई सप्ताह तक रोचक दर से प्रकाशित हुई। राजस्थान में राजशाही के विरुद्ध आंदोलनों के समाचार इस पत्र में प्रमुखता से प्रकाशित होते रहे। हैदराबाद सत्याग्रह का पूर्ण `हिन्दुस्तान' ने समर्थन किया।

देवदास गाँधी के मार्गदर्शन में इस पत्र ने उच्च आदर्शों को अपने साथ रखा और पत्रकारिता की स्वस्थ परम्पराएँ स्थापितकी। गाँधीजी के प्रार्थना प्रवचन पं जवाहरलाल नेहरूसरदार वल्लभ भाई पटेल के भाषण अविकल रूप से `हिन्दुस्तान' में छपते रहे। दैनिक `हिन्दुस्तान' का पटना (बिहार) से भी संस्करण प्रकाशित हो रहा है।

प्रकाशन स्थल[संपादित करें]

यह समाचार पत्र उत्तर भारत में प्रकाशित होता हैं। यह दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, पटना, भागलपुर, राँची, देहरादून तथा चंडीगढ़ से एक साथ प्रकाशित होता है।

कुल पाठक संख्या[संपादित करें]

इसकी पाठक संख्या ९४ लाख है।

हिन्दुस्तान के संपादक[संपादित करें]

रतनलाल जोशी,

चंदू लाल चंद्राकर,

विनोद कुमार मिश्र,

हरिनारायण निगम,

आलोक मेहता एवं

अजय उपाध्याय।

मृणाल पांडे

आज कल दैनिक हिन्दुस्तान के प्रमुख सम्पादक श्री शशि शेखर जी है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

संजीवनी बिहार, आईना समस्तीपुर