सुरेश कुमार खन्ना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
सुरेश कुमार खन्ना
The Minister of Urban Development, Uttar Pradesh, Shri Suresh Khanna meeting the Union Minister for Water Resources, River Development and Ganga Rejuvenation, Sushri Uma Bharti, in New Delhi on June 21, 2017.jpg
जी

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
दिसम्बर 1989
चुनाव-क्षेत्र शाहजहाँपुर

जन्म शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी
शैक्षिक सम्बद्धता जी॰ एफ॰ कॉलेज, शाहजहाँपुर
लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ
व्यवसाय राजनीति
धर्म हिन्दू

सुरेश कुमार खन्ना (अंग्रेजी: Suresh Kumar Khanna, जन्म: 1954) भारतीय जनता पार्टी के एकमात्र ऐसे राजनेता हैं जिन्होंने शाहजहाँपुर शहर से उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव 1989 से 2017 तक लगातार 8 बार जीता।[1] शहर में उनकी लोकप्रियता को देखते हुए भाजपा ने उन्हें सन् 2004 में शाहजहाँपुर जिले से लोक सभा का चुनाव लड़ाया जिसमें उन्हें केवल 16.34% मत प्राप्त हुए। शाहजहाँपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से सन् 2004 में सांसद का चुनाव हारने के बाद उन्होंने विधायक के रूप में ही राजनीति में रहना पसन्द किया। वे सुरेश खन्ना के नाम से ही अधिक लोकप्रिय हैं।

संक्षिप्त जीवनी[संपादित करें]

58 वर्षीय सुरेश खन्ना का जन्म सन् 1954 में शाहजहाँपुर शहर के दीवान जोगराज मुहल्ले में कान्ति देवी[2] और रामनारायण खन्ना के यहाँ हुआ था। उन्होंने स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात् 1977 में लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ से एलएल॰बी॰ किया। वे अविवाहित हैं और दीवान जोगराज (शाहजहाँपुर) स्थित पैतृक निवास में अपने भाई के परिवार के साथ रहते हैं। वे स्वयं को पूर्णकालिक राजनीतिक कार्यकर्ता ही मानते हैं।[3] वे उत्तर प्रदेश सरकार में नगर विकास मन्त्री हैं।

राजनीतिक सफर[संपादित करें]

सुरेश खन्ना छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहे। छात्र राजनीति के बाद उन्होंने सन् 1980 में शाहजहाँपुर की नगर विधान सभा का चुनाव लोक दल के प्रत्याशी के रूप में लड़ा था किन्तु कामयाब नहीं हुए। इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और 1989 में भाजपा के टिकट पर उसी सीट से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज़ की।[4]

इस जीत के बाद उनका राजनीतिक कद बढ़ता ही गया और 1991 के चुनाव में वे फिर से विधायक चुने गये और राज्य मन्त्री बने। 1993, 1996, 2002 में भी उन्होंने चुनाव जीता और सरकार में मन्त्री बने। 2003 में मायावती के नेतृत्व वाली सरकार में भी राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रहे. 2004 से 2007 तक सुरेश कुमार खन्ना बीजेपी विधानमंडल दल के सचेतक पद पर रहे [5]| 2007 के विधान सभा चुनाव में भी सुरेश खन्ना का विजय रथ कोई भी पार्टी रोक नहीं सकी।

उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में खन्ना की अच्छी पकड़ है। इस समय सुरेश खन्ना उत्तर प्रदेश विधान मण्डल में भाजपा के मुख्य सचेतक है। शाहजहाँपुर की जनता में भी वह काफी लोकप्रिय हैं। इसी का नतीजा है कि लगातार आठवीं बार शाहजहाँपुर से नगर विधायक हैं।

2022 में फिर दुबारा से सुरेश खन्ना ने शाहजहाँपुर सीट से 9313 मतों से जीत दर्ज की। उन्होंने SP के Tanveer Khan को हराया।[6]

हनुमत धाम[संपादित करें]

शाहजहाँपुर शहर के बिसरात घाट पर खन्नौत नदी के बीचोबीच स्थित 104 फुट ऊँची हनुमान की विशालकाय मूर्ति सुरेश खन्ना की ही देन है। इसको बनाने का संकल्प उन्होंने तभी ले लिया था जब वे उत्तर प्रदेश सरकार में मन्त्री थे। इससे पहले शहीद उद्यान व स्वामी विवेकानन्द पब्लिक लाइब्रेरी का निर्माण भी सुरेश खन्ना इसी शहर में करा चुके हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि भारतवर्ष की यह सबसे बड़ी हनुमानजी की प्रतिमा है।[7] वैसे अंग्रेजी विकिपीडिया पर इस विशाल मूर्ति का उल्लेख इस लेखमें किया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Shahjahanpur Assembly Seat: बीजेपी के सुरेश खन्ना लगा पाएंगे जीत का 'नहला'?". आज तक (hindi में). अभिगमन तिथि 2022-05-24.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  2. "खन्ना की माता की अंत्येष्टि में उमड़ी भीड़". दैनिक जागरण. 30 अप्रैल 2012. मूल से 19 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  3. "SURESH KUMAR KHANNA(Criminal & Asset Declaration)" [सुरेश कुमार खन्ना (अपराध व सम्पत्ति सम्बन्धी घोषणा)] (अंग्रेज़ी में). माईनेता डॉट इन्फो. मूल से 21 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  4. "शाहजहाँपुर के नेता". आईबीएन खबर. मूल से 21 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  5. "Shahjahanpur Assembly Seat: बीजेपी के सुरेश खन्ना लगा पाएंगे जीत का 'नहला'?". आज तक (hindi में). अभिगमन तिथि 2022-05-24.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  6. "Shahjahanpur, Uttar Pradesh Assembly Election Results 2022 Live Updates: Shahjahanpur विधानसभा सीट पर BJP ने SP को हराया". आज तक (hindi में). अभिगमन तिथि 2022-05-24.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  7. "विसरात घाट पर होंगे पवन पुत्र के दर्शन". अमर उजाला. 10 जुलाई 2013. मूल से 23 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]