सुरेश कुमार खन्ना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुरेश कुमार खन्ना
जन्म शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
अन्य नाम सुरेश खन्ना
शिक्षा स्नातक
एलएल॰बी॰
शिक्षा प्राप्त की जी॰ एफ॰ कॉलेज, शाहजहाँपुर
लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ
व्यवसाय राजनीति
प्रसिद्धि कारण हनुमत धाम
राजनैतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
धार्मिक मान्यता हिन्दू
माता-पिता
  • कान्ति देवी
  • रामनारायण खन्ना

सुरेश कुमार खन्ना (अंग्रेजी: Suresh Kumar Khanna, जन्म: 1954) भारतीय जनता पार्टी के एकमात्र ऐसे राजनेता हैं जिन्होंने शाहजहाँपुर शहर से उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव 1989 से 2017 तक लगातार 8 बार जीता।[1] शहर में उनकी लोकप्रियता को देखते हुए भाजपा ने उन्हें सन् 2004 में शाहजहाँपुर जिले से लोक सभा का चुनाव लड़ाया जिसमें उन्हें केवल 16.34% मत प्राप्त हुए। शाहजहाँपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से सन् 2004 में सांसद का चुनाव हारने के बाद उन्होंने विधायक के रूप में ही राजनीति में रहना पसन्द किया। वे सुरेश खन्ना के नाम से ही अधिक लोकप्रिय हैं।

संक्षिप्त जीवनी[संपादित करें]

58 वर्षीय सुरेश खन्ना का जन्म सन् 1954 में शाहजहाँपुर शहर के दीवान जोगराज मुहल्ले में कान्ति देवी[2] और रामनारायण खन्ना के यहाँ हुआ था। उन्होंने स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात् 1977 में लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ से एलएल॰बी॰ किया। वे अविवाहित हैं और दीवान जोगराज (शाहजहाँपुर) स्थित पैतृक निवास में अपने भाई के परिवार के साथ रहते हैं। वे स्वयं को पूर्णकालिक राजनीतिक कार्यकर्ता ही मानते हैं।[3] वे उत्तर प्रदेश सरकार में नगर विकास मन्त्री हैं।

राजनीतिक सफर[संपादित करें]

सुरेश खन्ना छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहे। छात्र राजनीति के बाद उन्होंने सन् 1980 में शाहजहाँपुर की नगर विधान सभा का चुनाव लोक दल के प्रत्याशी के रूप में लड़ा था किन्तु कामयाब नहीं हुए। इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और 1989 में भाजपा के टिकट पर उसी सीट से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज़ की।[4]

इस जीत के बाद उनका राजनीतिक कद बढ़ता ही गया और 1991 के चुनाव में वे फिर से विधायक चुने गये और राज्य मन्त्री बने। 1993, 1996, 2002 में भी उन्होंने चुनाव जीता और सरकार में मन्त्री बने। 2007 के विधान सभा चुनाव में भी सुरेश खन्ना का विजय रथ कोई भी पार्टी रोक नहीं सकी।

उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में खन्ना की अच्छी पकड़ है। इस समय सुरेश खन्ना उत्तर प्रदेश विधान मण्डल में भाजपा के मुख्य सचेतक है। शाहजहाँपुर की जनता में भी वह काफी लोकप्रिय हैं। इसी का नतीजा है कि लगातार आठवीं बार शाहजहाँपुर से नगर विधायक हैं।

हनुमत धाम[संपादित करें]

शाहजहाँपुर शहर के बिसरात घाट पर खन्नौत नदी के बीचोबीच स्थित 104 फुट ऊँची हनुमान की विशालकाय मूर्ति सुरेश खन्ना की ही देन है। इसको बनाने का संकल्प उन्होंने तभी ले लिया था जब वे उत्तर प्रदेश सरकार में मन्त्री थे। इससे पहले शहीद उद्यान व स्वामी विवेकानन्द पब्लिक लाइब्रेरी का निर्माण भी सुरेश खन्ना इसी शहर में करा चुके हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि भारतवर्ष की यह सबसे बड़ी हनुमानजी की प्रतिमा है।[5] वैसे अंग्रेजी विकिपीडिया पर इस विशाल मूर्ति का उल्लेख इस लेखमें किया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "SURESH KUMAR KHANNA 'S Profile" [सुरेश कुमार खन्ना का इलेक्शन प्रोफाइल] (अंग्रेज़ी में). पार्टी एनालिस्ट डॉट कॉम. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  2. "खन्ना की माता की अंत्येष्टि में उमड़ी भीड़". दैनिक जागरण. 30 अप्रैल 2012. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  3. "SURESH KUMAR KHANNA(Criminal & Asset Declaration)" [सुरेश कुमार खन्ना (अपराध व सम्पत्ति सम्बन्धी घोषणा)] (अंग्रेज़ी में). माईनेता डॉट इन्फो. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  4. "शाहजहाँपुर के नेता". आईबीएन खबर. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.
  5. "विसरात घाट पर होंगे पवन पुत्र के दर्शन". अमर उजाला. 10 जुलाई 2013. अभिगमन तिथि 22 अक्टूबर 2013.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]