सदस्य वार्ता:Satyamkiwi/बिहार की संस्कृति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बिहार संस्कृति का नृत्य

परिचय[संपादित करें]

भारत पुरे दुनिया भर मे अपने सभ्यता एव संस्कृति के लिये प्रचलित है। यह देश अनेक संस्कृति एव सभ्यताओ का मेल है। यह देश कई राज्याओ के जुटता से बना हुआ है। बिहार राज्य भी उनमे से हि एक है। बिहार की संस्कृति इसी मेल का एक प्रमुख हिस्सा है। बिहार की संस्कृति काफी विशाल एव ज्वलंत है। यह भिन्न तरह के साहित्य, नाटक, एव पर्व का मेल है। बिहार राज्य एक बहुत हि विविध राज्य है। और इसकि संस्कृति मे इसकि विविधता स्वत: हि दिखाई देती है।

इतिहास[संपादित करें]

बिहार भारत देश के पुर्विये दिशा मे स्थित है। इसका इतिहास इसकि पहचान बनाता है। हमारे देश मे सरण लेने वाले पहले राजा ने इसि राज्य को अपनी भूमि बनाई।उनका नाम चन्दर्गुप्त मौर्य था, जिन्होने मौर्य सम्राज्य कि स्थापना कि। इसि सम्राज्य ने महान राजा अशोक एव चानक्या जैसे व्यक्तित्व को जन्म दिया। जिनकी बुधि एव प्रबलता दोनो हि चकित कर देने वाली थी। इसी धरती पर हमने महात्मा बुध को ग्ग्यान की प्राप्ति हुई। जो कि बाद मे पुरे विश्व ने सुना और सिखा। जैन धर्म के अन्तिम एव सबसे सफल तिर्थन्कार महावीर की जन्मभुमि भी बिहार हि है। बिहार ने कितने ही वीरो को भी जन्म दिया।कुन्वर सिन्ह उनमे से एक है।भारत देश के पहले रास्त्रापति डा राजेन्द्र प्रसाद भी यन्ही के थे। इस राज्य ने कितने ही लेखक और कवि दिये है। शनकर दयाल सिन्ह, नागारजुना, मधुकार सिन्ह इनमे से एक है।

भाषा[संपादित करें]

हिन्दी,मैथली एव उर्दु बिहार की मुख्य भाषा है, परन्तु यहा ज्यादा लोग भोजपुरी एव मगही बोलते है। पहले यह अफवा थी कि भोजपुरी हिन्दी से हि बनी भाषा है,परन्तु अब इस बात का पता चला है कि ये मगध सम्राज्य कि भाषा है। इसमे बेगाली, अस्समेसे और उरीया का भी अन्श पाया जाता है। शहरो मे लोग हिन्दी को हि अपनी भाषा समक्षते है, पर गावो मे लोग हिन्दी को द्वितिय भाषा समक्षते है।

पर्यटक स्थल[संपादित करें]

वर्तमान काल मे बिहार कि झलक उतनी अच्छी है। लोगो के ख्याल मे बिहारी बदमाश माने जाते है।हमारी साक्षरता पुरे देश मे सबसे कम है, और हमारा स्वभाव थोरा देहाती मालुम होता है। हमारे राज्य मे अवसर कि कमी होने के कारण यन्हा के लोग अकसर नौकरी के तलाश मे बाहर जाते है। मेहनती होने के कारण हम अपने काम मे काफी अच्छा कर लेते है, पर इससे अक्सर वन्हा के लोगो को परेशानी होने लगती है। बात-विचार करने के तरीके मे कमी होने के कारण हम इस क्लश को मिटाने मे और भी असक्ष्म रह जाते है। पर्यटक स्थल के रुप मे यन्हा नालन्दा है, यह वह पोराणिक स्थल है ज्न्हा ञान का महास्रोत 'नालन्दा महाविद्यालय' की स्थापना हुई थी। यन्हा राजगीर है, जो की पहाडो की वादियो दे घिरा हुआ है। यन्हा गर्म पानी का क्षरना भी है। महात्मा बुध का महा स्तुप, माहावीर स्तुप, गया कुछ और प्रसिध स्थल है।

पर्व[संपादित करें]

यह राज्य अपने विविध तरह के पर्व एव त्योहारो के लिये काफी प्रचलित है।छट इसका सबसे मह्त्वपूर्न पर्व माना जाता है। इसकी धार्मियता बडी ज्यादा है। इस पर्व मे लोग सुर्य भगवान की पुजा करते है। यन्हा होली को भी हर्शो-उल्लास से मनाया जाता है। यॅहा के पर्व यहा के जन-जीवन एव परम्परा से काफी प्रभावित है। हमारे यन्हा की अनेक विशेशताओ मे से एक विशेशता 'सोनपुर मेला' है। यह मेला पुराने राजाओ के जमाने से चला आ रहा है। यह एक बडे ही अनोखे तरह का मेला है। इसमे सभी तरह के जानवर मिलते है। एक समय मे तो इसमे इन्सानो का भी व्यापार होता था। बाद मे सरकार ने इसे बन्द करवा दिया। इस राज्य से अनेक नदिया भी गुजरती है। जैसे गगा, यमुना आदि।

विशेषता[संपादित करें]

हमारा पेहनावा धोती और कुर्ता है। महिलाए साडी को पौराणिक मानती है। ज्यादातर जनसन्ख्या क्रिशि से अपने जिवनशैली को पालता है। जट-जतिन नामक नृत्य यहा काफी प्रसिद्ध है। हमारे यहा भिन्न तरह के स्थानीय संगीत पाये जाते है। जिसमे मुख्त: डोलक, तबला एव होरमुनियम जैसे संगीत साधन का प्रयोग होता है। बिहार मे हस्तशिल्पकारी का भी काफी प्रचलन है। मधुबनी चित्र पुरे विश्व मे प्रसिद्ध है।

नाटक[संपादित करें]

बिदेसिया एक तरह का नृत्य नाटक है। यह बिहार के परम्परा का मुख्य हिस्सा है। बिहारी ठाकुर नामक व्यक्ति ने इस नाटक की स्थापना कि थी। झिजियान, झुमरी, पैका ये कुछ और नाटक काफी प्रचलित रुप से बिहार मे प्रदर्शित कि जाती है।

भोजपुरी[संपादित करें]

'भोजपुरी' यहा की फिल्म जगत को दिया हुआ एक नाम है। आज के जमाने मे यह फिल्म जगत काफी उच्चाईयो को छु रहा है। इस जगत ने कितने ही अनोखे कलाकार तथा अभिनेता दिय है। इसके संगीत की प्रसिद्धता पुरे देश मे फैल रही है। मनोज बाजपेयी, सत्रुधन सिन्हा इनमे से हि कुछ एक है।

संदर्भ[संपादित करें]

<रेफ>http://www.indianetzone.com/photos_gallery/63/A_Classical_Dance_in_Bihar.jpg<रेफ> <रेफ>http://www.thisismyindia.com/bihar/bihar-culture.html<रेफ> <रेफ>http://www.iloveindia.com/states/bihar/culture.html<रेफ> <रेफ>http://www.indtravel.com/bihar/culture.html<रेफ> <रेफ>http://www.bharatonline.com/bihar/culture.html<रेफ>